बुधवार, फ़रवरी 17, 2010

सहेजने का महत्व: विल्स कार्ड भाग ९

पहले की तरह ही, पिछले दिनों विल्स कार्ड भाग १ , भाग २ , भाग ३ ,भाग ४ , भाग ५ भाग भाग और भाग को सभी पाठकों का बहुत स्नेह मिला और बहुतों की फरमाईश पर यह श्रृंख्ला आगे बढ़ा रहा हूँ.

(जिन्होंने पिछले भाग न पढ़े हों उनके लिए: याद है मुझे सालों पहले, जब मैं बम्बई में रहा करता था, तब मैं विल्स नेवीकट सिगरेट पीता था. जब पैकेट खत्म होता तो उसे करीने से खोलकर उसके भीतर के सफेद हिस्से पर कुछ लिखना मुझे बहुत भाता था. उन्हें मैं विल्स कार्ड कह कर पुकारता......)

भाव कब किस वक्त किस रुप में आयेंगे, कोई नहीं जानता. बस, एक कवि या लेखक उन्हें शब्द रुप दे देता है और बाकी लोग उसे वैसे ही भूल जाते हैं, जैसे वो आते हैं.

कभी कोई घटना, कोई दृष्य, कोई मौसम, कुछ भी एक नये भाव को जन्म देता है. कभी उन्हें विल्स कार्ड पर उतार लिया करता था, फिर माँ के जाने के साथ सिगरेट छूटी तो किसी भी कागज के टुकड़े पर उतारने लगा. जब कभी भी चूका, वो विचार कभी लौट कर नहीं आता. उन्हें सहेजना होता है.

वैसे ही जैसे जीवन में रिश्तों को प्रगाढ़ करने के मौकों के महत्व को, सफलता के मौकों को, सहेजना होता है..बस, जरा चूके और वो फिर नहीं लौटते. बच रहता है एक खोया खोया अहसास और कुछ चूक जाने का अपराध बोध.

सोचता हूँ कितना साम्य है मन में उठते भावों और इनमें. जीवन में सहेजने का कितना महत्व है. शायद सफल जीवन की यही कुँजी है.

pen

जिन भावों को सहेजा, वो आज मेरी धरोहर हैं. खंगालता हूँ उन्हें और लौट पड़ता हूँ उस वक्त में. कभी एक मुस्कराहट उठती तो कभी आँसू. जो भी हो, एक सुखद अहसास देती हैं. बस, उन्हीं में कुछ:

-१-

कल रात

चाँद ने शरारत से

मुझे ताका...

और

मेरी उस लाल डायरी में

आ छिपा

बिल्कुल

तुम्हारी तरह...

फिर रात अँधेरी गुजरी.

-२-

रात काली

मावस की,

मुझे

कोई फर्क नहीं पड़ता...

तुम्हारे बाद

अब कोई

तलाश बाकी नहीं!!

-३-

पाई है किताबों से

तालीम

चलाने की नौकरी...

और

बाहर उसके

सीख रहा हूँ रोज

कुछ नया

हर कदम

एक नई तालीम

जीवन से

जीवन चलाने की...

आधा अधूरा

यह पाठ

कब पूरा होगा??

-४-

याद है तुमको

जब बरसों पहले

सार्दियों में तुम मुझको

चली गई थी छोड़ कर

उस बरस

गिर गया था

आँगन वाला

आम का पेड़

और

बच रहा था

एक ठूंठ!!

देखता हूँ

इतने बरसों बाद

अबकी

उसमें कुछ हरी हरी पत्तियाँ निकल आई हैं..

क्या तुम आने को हो?

-५-

पत्थर से पानी निकालने
की
जुगत में
उसने छैनी जमा
जैसे ही हथौड़ा चलाया
नौसिखाया था
पानी तो नहीं निकला..
अपने हाथ पर उसने
एक गहरा जख़्म पाया...

-६-

कड़े परिश्रम के बाद मिली
चिलचिलाती धूप में
माथे से बहती पसीने की धार..

कर्मों के प्रतिफल की आशा में
शुष्क कंठ के लिए
खारे पानी की बौछार...

-७- (बरसों बाद किसी कागज के टुकड़े पर उतरा)

चंद सीढ़ियाँ नीचे उतर कर

मेरे घर के तहखाने में

एक पुराना

सितार रहता है..

गूंगा है,

कुछ बोलता नहीं.

माँ जिन्दा थी

तब बजाया करती थी...

अब घर में

कोई सुर नहीं सजते!!

-समीर लाल ’समीर’

Indli - Hindi News, Blogs, Links

108 टिप्‍पणियां:

खुशदीप सहगल ने कहा…

आने वाला पल,
जाने वाला है,
हो सके तो इसमें ज़िंदगी बिता दो,
पल ये जो जाने वाला है,
आने वाला पल,
जाने वाला है...

जय हिंद...

Arvind Mishra ने कहा…

सहेजते सवारते रहिये इन बिखरे बेशकीमती मोतियों को -
मुझे इनकी चमक सुखद अहसास कराती रही है -जाने पहचाने बिम्ब
,सितार, माँ ..भुत खूब

RaniVishal ने कहा…

सहेजने कि मह्त्ता तो विदित ही थी ....आज आपने इसे सिद्ध भी कर दिया! आपने जो सहेजा हमारे लिये भी मुल्यवान बना....आभार!!
http://kavyamanjusha.blogspot.com/

दीपक 'मशाल' ने कहा…

Ab ghar me koi sur nahin sajte...
sajenge kaise?? jab sangeet ki devi hi nahin raheen..

har kshanika apne aap me ek sampoorna kavya sangrah hai...
Jai Hind... Jai Bundelkhand...

Devendra ने कहा…

जीवन में रिश्तों को प्रगाढ़ करने के मौकों के महत्व को, सफलता के मौकों को, सहेजना होता है..बस, जरा चूके और वो फिर नहीं लौटते. बच रहता है एक खोया खोया अहसास और कुछ चूक जाने का अपराध बोध.
.........एकदम सच्ची और दिल को छूने वाली बात लिखी है आपने.
........कागज के टुकड़ों पर उतारे गए हरपल के एहसास बेहद खूबसूरत हैं.
..देखता हूँ इतने बरसों बाद अबकी उसमें कुछ हरी हरी पत्तियाँ निकल आई हैं.. क्या तुम आने को हो?....
...वाह!...आनंद आ गया.

राजेश स्वार्थी ने कहा…

समीर जी

जाने क्यूँ, कविता प्रेमी न होने के बावजूद भी आपकी कवितायें मुझे पसंद आती हैं. आपको बधाई.

Kusum Thakur ने कहा…

"जीवन में रिश्तों को प्रगाढ़ करने के मौकों के महत्व को, सफलता के मौकों को, सहेजना होता है..बस, जरा चूके और वो फिर नहीं लौटते. "

बिल्कुल ठीक कहा है आपने .

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

"याद है तुमको

जब बरसों पहले...."

यह अपने साथ की दूसरी सभी कविताओं कहीं अलग मुस्कुराती सी खड़ी दिखी. :-)

seema gupta ने कहा…

तुम्हारे बाद

अब कोई

तलाश बाकी नहीं
" behd khubsurat prstuti, ye panktiyan barbas hi dil ko bha gyi"

regards

वाणी गीत ने कहा…

रात काली मावस की ...बरगद में उगी नन्ही पत्तियां ....माँ के बाद गूंगा सितार ...
ये क्षणिकायें मुझे बहुत पसंद आई ...!!

ललित शर्मा ने कहा…

हमने सहेजा तिनका तनका मनका
लेकिन उन्होने तोल दिया भंगारी को

सहेजा हुआ बचा पाना भी एक कठिन काम है।
शुभकामनाएं

निर्मला कपिला ने कहा…

अब कोई तलाश बाकी नही------ समीर जी आदमी की तलाश तो कभी खत्म नही होती --- मगर रचनायें बहुत अच्छी लगी। विल कार्ड्स बेशकीमती हैं सहेजते रहिये। धन्यवाद्

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

सच में कभी कभी ऐसा लगता है हैं की जिस चीज़ को एक नज़रअंदाज कर देता है उसी घटना को एक कवि या लेखक कितनी सुंदर भावनात्मक अभिव्यक्ति बना देता है..पहले भी आपकी विल्स कार्ड की अभिव्यक्ति पढ़ चुका हूँ यादों का एक बेहतरीन संकलन है जिसमें सुंदर सुंदर भाव सिमटे हुए हैं...आपके भाव चीज़ों को देखने और परखने का नज़रिया सब सर आँखों पर यह चीज़ें आपको एक बढ़िया लेखक, बढ़िया कवि, बढ़िया ब्लॉगर्स और इन सबसे बढ़ कर एक बढ़िया नेक इंसान के रूप में प्रस्तुत करती है....अपने इस शिष्य का भी प्रणाम स्वीकार करें....

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

भाव कब किस वक्त किस रुप में आयेंगे, कोई नहीं जानता. बस, एक कवि या लेखक उन्हें शब्द रुप दे देता है और बाकी लोग उसे वैसे ही भूल जाते हैं, जैसे वो आते हैं.

हमेशा की तरह उतकृष्ट विल्स कार्ड निकला ये भी. पर आज के आलेख के साथ शुरु में दिया गया सुत्र परम सुत्र है. लेखन कर्म के लिये बेहतरीन सुत्र. जिज्ञासुओं को ध्यान देना चाहिये.

रामराम.

संगीता पुरी ने कहा…

वैसे तो बहुत भावपूर्ण हैं सारे के सारे .. पर मुझे जो बहुत अच्‍छा लगा ये ...

याद है तुमको

जब बरसों पहले

सार्दियों में तुम मुझको

चली गई थी छोड़ कर

उस बरस

गिर गया था

आँगन वाला

आम का पेड़

और

बच रहा था

एक ठूंठ!!

देखता हूँ

इतने बरसों बाद

अबकी

उसमें कुछ हरी हरी पत्तियाँ निकल आई हैं..

क्या तुम आने को हो?

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

रोमांचित करने वाली बेशकीमती यादें जो विल्स कार्ड पर उतर आई हैं. बेहतरीन प्रस्तुतिकरण शानदार कविताओं के रूप में

पी.सी.गोदियाल ने कहा…

रात काली

मावस की,

मुझे

कोई फर्क नहीं पड़ता...

तुम्हारे बाद

अब कोई

तलाश बाकी नहीं!!

वाह, अति सुन्दर समीर जी !

Dr. Smt. ajit gupta ने कहा…

समीरजी, आपको जैसे-जैसे पढ़ रही हूँ वैसे-वैसे ही आपकी फैन बनती जा रही हूँ। आपकी पोस्‍ट दिखती नहीं कि माउस वहीं पर क्लिक कर देता है। बहुत ही संजीदा कविताएं। आपको ढेर सारी बधाइयां।

kshama ने कहा…

चंद सीढ़ियाँ नीचे उतर कर

मेरे घर के तहखाने में

एक पुराना

सितार रहता है..

गूंगा है,

कुछ बोलता नहीं.

माँ जिन्दा थी

तब बजाया करती थी...

अब घर में

कोई सुर नहीं सजते!!
Kya kuchh nahee kah dala aapne...

गौतम राजरिशी ने कहा…

मेरा वाला ये है:-
"कल रात चाँद ने शरारत से मुझे ताका... और मेरी उस लाल डायरी में आ छिपा बिल्कुल तुम्हारी तरह... फिर रात अँधेरी गुजरी"

बहुत खूबसूरत पंक्तियां हैं सरकार- हर बार की तरह।

बवाल ने कहा…

चंद सीढ़ियाँ नीचे उतर कर मेरे घर के तहखाने में एक पुराना सितार रहता है..
गूंगा है, कुछ बोलता नहीं.
माँ जिन्दा थी तब बजाया करती थी...
अब घर में कोई सुर नहीं सजते!!

बवाल ने कहा…

क्या बात कही लाल साहब आँखें नम हो गईं।

संजय बेंगाणी ने कहा…

पहली वाली पसन्द आयी.

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

आपके लिखे यह विल्स कार्ड संजो के रखने लायक है इनके भाव ,लफ्ज़ बहुत देर तक दिल पर अपनी दस्तक देते रहते हैं आज वाले भाग में माँ ...माँ जिन्दा थी तब बजाया करती थी... अब घर में कोई सुर नहीं सजते!!क्या तुम आने को हो ...विशेष रूप से याद रहेंगे ..शुक्रिया

कंचन सिंह चौहान ने कहा…

पत्थर से पानी निकालने
की
जुगत में
उसने छैनी जमा
जैसे ही हथौड़ा चलाया
नौसिखाया था
पानी तो नहीं निकला..
अपने हाथ पर उसने
एक गहरा जख़्म पाया...

हम्म्म्म... पत्थर से पानी की तलाश में अक्सर ही हो जाता है ऐसा....!!

अजय कुमार झा ने कहा…

आज चाहे हां कहिए चाहे ई तो आपको मानना ही पडेगा कि ई सब विल्स कार्ड का कवरवा सब दिखा के ही आप भौजी को सेंटी कर दिए होंगे ....बियाह के लिए ...ओह हम काहे नहीं पिए कभी विल्स ....गजब है ...ई अब का कहें कि कौन कौन जादे गज़ब है ...एकदम से समझिए कि सब ठो ...कमाल है
अजय कुमार झा

सुशीला पुरी ने कहा…

लगता है आजकल कनाडा में भी वसंत अपने शबाब पर है .........गजब !!!!!!!! समीर जी 'विल्स कार्ड ' की याद तो सचमुच अनोखी है ....इतने ओरिजनल मोती बहुत गहरे जाने पर ही मिलते हैं .

अरूण साथी ने कहा…

इतने बरसों बाद

अबकी

उसमें कुछ हरी हरी पत्तियाँ निकल आई हैं..

क्या तुम आने को हो?

बहुत खुब बॉस

अरूण साथी ने कहा…

बहुत खुब एकदम बोले तो झक्कास काजल जी. पर लगता है कि कहीं कोई सपना तो नहीं देख लिया था जो वास्तविकता भांप गए।

अमिताभ मीत ने कहा…

This is typical YOU. NONE ELSE.... NO ONE ELSE.

रंजन ने कहा…

कड़े परिश्रम के बाद मिली
चिलचिलाती धूप में
माथे से बहती पसीने की धार..

कर्मों के प्रतिफल की आशा में
शुष्क कंठ के लिए
खारे पानी की बौछार...


बहुत खूब...

दिगम्बर नासवा ने कहा…

कल रात चाँद ने शरारत से मुझे ताका...
और मेरी उस लाल डायरी में आ छिपा
बिल्कुल तुम्हारी तरह...
फिर रात अँधेरी गुजरी

वाह समीर भाई ... हमने भी देखा था ... कल चाँद आसमान पर नही था ... शायद आपकी डायरी के रस्ते भाभी के माथे पर साज रहा होगा ... लाजवाब लिखा है .... हर लम्हा अलग अंदाज़ लिए है ...

नीरज मुसाफिर जाट ने कहा…

उसमें कुछ हरी हरी पत्तियाँ निकल आई हैं..

क्या तुम आने को हो?
क्या बात है!!!!

shikha varshney ने कहा…

कितना साम्य है मन में उठते भावों और इनमें. जीवन में सहेजने का कितना महत्व है.
मूल मन्त्र कह दिया समीर जी ...
बहुत खुबसूरत भाव सहेजे हैं ..४ और आखिरी कविता विशेष रूप से बहुत पसंद आई

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

समीरलाल जी, आदाब
॒चांद....आ छिपा...बिल्कुल तुम्हारी तरह..
॒हर कदम..एक नई तालीम...जीवन से..
॒आम का पेड़...कुछ हरी हरी पत्तियाँ निकल आई हैं.. क्या तुम आने को हो?
॒अब घर में...कोई सुर नहीं सजते..
अनमोल....हर शब्द...हर भाव...दिल की गहराई में उतर जाने वाला.
आपको..आपके कलम और कलाम को
........................................सलाम...

ali ने कहा…

अब मुझे डर है कि अच्छा लिखने के लिए मित्रगण विल्स नेवी कट ना पीने लग जायें !

डाकिया बाबू ने कहा…

जब पैकेट खत्म होता तो उसे करीने से खोलकर उसके भीतर के सफेद हिस्से पर कुछ लिखना मुझे बहुत भाता था. उन्हें मैं विल्स कार्ड कह कर पुकारता.....मन गए आपकी रचनात्मकता को...यूँ ही आप ब्लोगर्स के सरताज नहीं हैं.

अन्तर सोहिल ने कहा…

माँ जिन्दा थी
तब बजाया करती थी...
अब घर में
कोई सुर नहीं सजते!!

प्रणाम

Mired Mirage ने कहा…

वाह! बहुत सुन्दर!
घुघूतीबासूती

रंजना ने कहा…

WAAH....WAAH....WAAH...

Akanksha~आकांक्षा ने कहा…

चीजों को सहेजें तो बहुत दूर तक काम आती हैं, आपने सहेजने के साथ-साथ लोगों के साथ शेयर भी किया...सुन्दर प्रयास !!

Akanksha~आकांक्षा ने कहा…

"शब्द-शिखर" पर देखें- अंडमान में आम की बहार.

Mithilesh dubey ने कहा…

बस आप यू ही सहेजे हुए पल हमारे साथ बिखेरते रहिए ।

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

शायद जगजीत सिँह की ही कोई गजल थी..जिसकी ये दो पंक्तियाँ सुनी थी कि " याद है! कभी जो तुमने कागज पर एक पौधे का स्कैच बनाया था...आज बरसों बाद उसमें एक फूल आया है"...आज पता नहीं क्यूं बरबस ही ये पंक्तियाँ याद आ गई...हो सकता है कि शायद आपसे/आपकी इस पोस्ट से कोई ताल्लुक रखती हों......

साधवी ने कहा…

देखता हूँ

इतने बरसों बाद

अबकी

उसमें कुछ हरी हरी पत्तियाँ निकल आई हैं..

क्या तुम आने को हो?

-कितनी सुन्दर पंक्तियाँ.

योगेश स्वप्न ने कहा…

चंद सीढ़ियाँ नीचे उतर कर

मेरे घर के तहखाने में

एक पुराना

सितार रहता है..

गूंगा है,

कुछ बोलता नहीं.

माँ जिन्दा थी

तब बजाया करती थी...

अब घर में

कोई सुर नहीं सजते!!

wah , wills card men to wakai khazane bhare hain.

Parul ने कहा…

jindagi ko ye salaam bahut sundar hai!

rashmi ravija ने कहा…

तुम्हारे बाद

अब कोई

तलाश बाकी नहीं!!

बहुत ही सुन्दर है सारी क्षणिकाएं....बड़ी अच्छी आदत है आपकी...हमें भी सीखना होगा..जब जो विचार आए सहेज लिया और हमें नायाब पंक्तियाँ मिल गयीं

ज्ञानदत्त पाण्डेय Gyandutt Pandey ने कहा…

यही अन्तर है - आपने सहज सहेजा भावों को और हमने निरुद्देश्य गंवाया है सोचे को।
कभी कभी लगता है बहुत बरबाद कर लिया ईश्वर की दी गयी मेधा को!

HARI SHARMA ने कहा…

behatareen

kaash ham bhee aisaa kar paate

अजय कुमार ने कहा…

माँ जिन्दा थी

तब बजाया करती थी...

अब घर में

कोई सुर नहीं सजते!!


जबरदस्त है ,बधाई

डॉ टी एस दराल ने कहा…

सुन्दर संस्मरण , विल्स कार्ड्स के माध्यम से।
सभी रचनाएँ दिल को छूती हुई।

'अदा' ने कहा…

सचमुच जीवन में और कुछ आये न आये सहेजना आना ही चाहिए...
फिर चाहे वो रिश्ते हो या यादें..
बहुत खूबसूरत हैं सबकुछ हुजूर....
'खटरागन' थो ढूंढें नहीं मिला हमको...:)

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

रात काली

मावस की,

मुझे

कोई फर्क नहीं पड़ता...

तुम्हारे बाद

अब कोई

तलाश बाकी नहीं!!...

वाह,कमाल की लेखनी ...

JHAROKHA ने कहा…

चंद सीढ़ियाँ नीचे उतर कर

मेरे घर के तहखाने में

एक पुराना

सितार रहता है..

गूंगा है,

कुछ बोलता नहीं.

माँ जिन्दा थी

तब बजाया करती थी...

अब घर में

कोई सुर नहीं सजते!!

Sach kahaa hai aapane ----man ke bina ghar men koi sur naheen saja sakata----duniya men man hee to sab kuchh hai----.
Poonam

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

समीर भाई,
सभी रचनाएं एक से बढ़कर एक हैं. मगर निम्न पंक्तियों का कोई जवाब नहीं.
क्या तुम आने को हो?
और
अब घर में
कोई सुर नहीं सजते!!

अभिषेक ओझा ने कहा…

ओह ! बहुत बढ़िया !

Kulwant Happy ने कहा…

सुबह खोला था, लेकिन बंद कर दिया था, क्योंकि मैं उसको आधा अधूरा नहीं पढ़ना चाहता था। अच्छी चीजों को फुर्सत में पढ़ना चाहिए। मुझे लगता है, सब की सब अच्छी थी, लेकिन कुछ तो उम्दा से भी परे थी।

राज भाटिय़ा ने कहा…

दिल के तारो को छू गई आप की यह रचना को शव्द धन्यवाद

संजय भास्कर ने कहा…

समीर जी

जाने क्यूँ, कविता प्रेमी न होने के बावजूद भी आपकी कवितायें मुझे पसंद आती हैं. आपको बधाई.

अरविन्द चतुर्वेदी Arvind Chaturvedi ने कहा…

एक से बढ़्कर एक सशक्त क्षणिकाएं.
हमारे मन को टटोलें
कहीं अन्दर तक छू जायें.
आपके विल्स कार्ड की मधुर याद दिलायें,
साथ ही कल्पना की एक अज़ब ऊंचाई तक ले जायें.

बधाई,
समीर भाई

लता 'हया' ने कहा…

SHUKRIA ,
AAPKI UDAN TASHTARI KI PAHUNCH KAHAN TAK HAI YE AAPKI SAATON RACHNAON NE SABIT KAR DIYA ,LIKED YOUR CARDS.

dhiru singh {धीरू सिंह} ने कहा…

बिखरे मोती की तरह सहेजे विल्स कार्ड भी छपने चाहिये किताब के रूप मे . दिल के आस पास है यह पंक्तिया .

देवेश प्रताप ने कहा…

जवाब नहीं ......बहुत सुन्दर पंक्तियों से सजाया है अपने ये कविता .

Prem Farrukhabadi ने कहा…

Sameer Bhai,
Bahut hi khoob. Badhai!
पत्थर से पानी निकालने
की
जुगत में
उसने छैनी जमा
जैसे ही हथौड़ा चलाया
नौसिखाया था
पानी तो नहीं निकला..
अपने हाथ पर उसने
एक गहरा जख़्म पाया.

अक्षिता (पाखी) ने कहा…

...तो अभी भी आप सिगरेट पीते हैं. सिगरेट पीना अच्छी बात नहीं है.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

वाह...!
विल्स कार्ड पर क्षणिकाएँ!
बहुत सुन्दर है जी!

आपने इन स्मृतियों को
बहुत करीने से संजो कर रखा है!

Dr. Mukul Srivastava ने कहा…

हम न समझे थे बात इतनी सी खवाब शीशे के और दुनिया पत्थर की
काश जिन्दगी के पलों को सहेजने की कला आप से सीख पाता
लेकिन जब जिन्दगी सिखाती है तो अच्छा ही सिखाती है

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

छोटी छोटी रचनाओं में जीवन का आनंद सा घोल दिया है आपने।
--------
संवाद सम्मान 2009
जाकिर भाई को स्वाईन फ्लू हो गया?

मनोज कुमार ने कहा…

मंत्रमुग्ध करती रचनाएं, एक-से-एक, सहेजने लायक।

डा० अमर कुमार ने कहा…


मेरे दिवँगत बाबा स्व. श्री नागेश्वर प्रसाद कहा करते थे..
" सकल वस्तु सँग्रह करहिं, आवहिं एकु दिन काम
समय पड़े पर ना मिले माटिहूँ खरचे दाम "


भाई जी, आप तो सोना सहेज़ कर रखे हो, हम्लोगों पर लुटाते जा रहे हो । फिर..
ऎसा डिस्क्लेमर टाइप शीर्षक देने की आवश्यकता आपको क्यों लगी ?

surya goyal ने कहा…

वाह समीर जी, क्या खूब लिखा है. बहुत`सही भी लिखा है की दिल में भाव किस वक्त और किस रूप में आ जाये, पता ही नहीं चलता. लेखक और कवि तो उन्हें सही शब्द दे देता है. ऐसा ही कुछ हाल मेरा है. आज कल पता ही नहीं चलता कब, कहा से और कैसे-कैसे भाव मन उठने लगते है. ऐसा कुछ होते ही कंप्यूटर के आगे बैठ जाता हूँ की कुछ गुफ्तगू कर ली जाये. अच्छी पोस्ट और लेखन के लिए मेरी बधाई स्वीकार करे. मेरी गुफ्तगू में शामिल होने पर शुक्रिया. आशा है समय-समय पर आते रहा करोगे और गुफ्तगू में भी साथ देंगे.
www.gooftgu.blogspot.com

Shiv Kumar Mishra ने कहा…

क्या-क्या लिख दिया है भैया? ऐसे-ऐसे खूबसूरत खयालात.
वाह!

अमिताभ श्रीवास्तव ने कहा…

74 vi tippani/kagaz ke tukade me nahi apni dairy me utaar liye he aapke shabd, hu ba hu/

श्याम कोरी 'उदय' ने कहा…

...सुन्दर रचनाएं,सच कहा जाये "कुछ तो अनमोल" हैं !!!!

महफूज़ अली ने कहा…

जीवन में रिश्तों को प्रगाढ़ करने के मौकों के महत्व को, सफलता के मौकों को, सहेजना होता है....

biल्कुल सही कहा.....आपने....


कुछ बोलता नहीं.

माँ जिन्दा थी

तब बजाया करती थी...

इन पंक्तियों ने दिल को छू लिया....


मैं देरी से आने के लिए आपसे माफ़ी चाहता हूँ....


सादर

महफूज़...

sangeeta swarup ने कहा…

विल्स कार्ड नाम से समझ नहीं पाई थी कि यहाँ जिंदगी के फलसफे का खजाना मिलेगा....

एक एक रचना बहुत सुन्दर और गहरे भाव लिए हुए....ठूंठ पर पत्ते आने की बात बहुत कोमल भावों को दर्शा रही है....

सुन्दर रचनाएँ पढवाने के लिए आभार

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

देखता हूँ

इतने बरसों बाद

अबकी

उसमें कुछ हरी हरी पत्तियाँ निकल आई हैं..

क्या तुम आने को हो?

Ye chhoo gayi Sameer ji ......!!

ओम आर्य ने कहा…

याद है तुमको

जब बरसों पहले

सार्दियों में तुम मुझको

चली गई थी छोड़ कर

उस बरस

गिर गया था

आँगन वाला

आम का पेड़

और

बच रहा था

एक ठूंठ!!

देखता हूँ

इतने बरसों बाद

अबकी

उसमें कुछ हरी हरी पत्तियाँ निकल आई हैं..

क्या तुम आने को हो?


हाँ, बिलकुल !

मनोज कुमार ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति।
इसे 20.02.10 की चिट्ठा चर्चा (सुबह ०६ बजे) में शामिल किया गया है।
http://chitthacharcha.blogspot.com/

हिमांशु । Himanshu ने कहा…

चौथे की खूबसूरती ने तो मुग्ध कर दिया !
लघु-रत्न हैं यह ! आभार इनकी प्रस्तुति के लिये ।

Sundeep Kumar tyagi ने कहा…

समीर जी आप जैसा प्रेरणास्रोत मिल पाना भगीरथ को गंगा मिल जाने जैसा है कितनी निश्छ्ल सौम्यता सहेजे हैं आपके शब्द,जी करता है उड़न तश्तरी से उतरूँ ही नहीं।

usha rai ने कहा…

आप की कविताएँ अनमोल हैं
दिल में उतर जाती हैं और ,
एक कसक सी छोड़ जाती हैं !
फिर भी जिया जा सकता है !
भारत में अन्न जल का संकट पर
कविता लिखी है ,आपका ध्यान चाहूंगी !

KAVITA RAWAT ने कहा…

जीवन में रिश्तों को प्रगाढ़ करने के मौकों के महत्व को, सफलता के मौकों को, सहेजना होता है..बस, जरा चूके और वो फिर नहीं लौटते. बच रहता है एक खोया खोया अहसास और कुछ चूक जाने का अपराध बोध.
Bahut achhi prastuti ke liye dhanyavaad..

शरद कोकास ने कहा…

अभी बहुत से कार्ड ऐसे हैं जो लिखे जाने हैं /आपके लिये मिट्टी हो मेरे ये अनमोल खज़ाने हैं ।

संजय तिवारी ’संजू’ ने कहा…

एक से बढ़ कर एक दिल को छूती हुई.

अर्कजेश ने कहा…

रात काली

मावस की,

मुझे

कोई फर्क नहीं पड़ता...

तुम्हारे बाद

अब कोई

तलाश बाकी नहीं!!

shweta ने कहा…

well said....shweta

हर्षिता ने कहा…

कविता को बहुत सुन्दर पंक्तियों से सजाया है।शुक्रिया।

अजित वडनेरकर ने कहा…

जबर्दस्त है यह शृंखला। अंतिम तीन से वंचित था, सो आज पढ़ डालीं। धुआं धुआं चिंतन और उसके बाद विल्सकार्ड पर काव्य रचना। बहुत खूबसूरत रचनाएं।

कविता वह जो सबको समझ आए....मुझे सभी अनुभूतियां पसंद आईं।
एक ये भी-
रात काली मावस की, मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता... तुम्हारे बाद अब कोई तलाश बाकी नहीं!!

Babli ने कहा…

वाह बहुत सुन्दर पंक्तियाँ! बिल्कुल सही कहा है आपने! इस उम्दा रचना के लिए बधाई!

रचना ने कहा…

पाई है किताबों से

तालीम

चलाने की नौकरी...

और

बाहर उसके

सीख रहा हूँ रोज

कुछ नया

हर कदम

एक नई तालीम

जीवन से

जीवन चलाने की...

आधा अधूरा

यह पाठ

कब पूरा होगा??

bahut sunder sameer

uthojago ने कहा…

रात काली

मावस की,

मुझे

कोई फर्क नहीं पड़ता...

तुम्हारे बाद

अब कोई

तलाश बाकी नहीं!!
great need not to read any blogs

टी.सी. चन्दर T.C. Chander ने कहा…

इस तरह बीते पलों और भावनाभिव्यक्तियों को संजोना सबके बस का कहां! अभी और बहुत होगा पिटारे में...

anjana ने कहा…

बहुत हीं सुन्दर विचार प्रकट किया है आपने ।

अक्षिता (पाखी) ने कहा…

@ समीर अंकल..सबसे अच्छे अंकल है न!!

अपने सिगरेट पीना छोड़ दिया, इसलिए आप सबसे अच्छे अंकल हुए...पक्का.

राकेश जैन ने कहा…

superb!!! samvedna......

संजीव शर्मा ने कहा…

हर कार्ड संभालने लायक.

अजेय ने कहा…

लाल डायरी वाली भीतर चली गई. कभी कभी लिखी जाती हैं, ऐसी चीज़ें....

दीपक "तिवारी साहब" ने कहा…

याद है तुमको

जब बरसों पहले

सार्दियों में तुम मुझको

चली गई थी छोड़ कर

उस बरस

गिर गया था

आँगन वाला

आम का पेड़

बहुत खूबसूरत रचना.

ढपो्रशंख ने कहा…

तुम्हारे बाद

अब कोई

तलाश बाकी नहीं


बेहद लाजवाब!

makrand ने कहा…

बहुत शानदार रचना, बधाई हो अंकल.

सुलभ § सतरंगी ने कहा…

बहुद सुखद अहसास है सहेजना.
....सीख रहा हूँ रोज कुछ नया हर कदम एक नई तालीम जीवन से जीवन चलाने की...

मन भर आया.

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` ने कहा…

अब विल्स कार्ड की कवितायें कब प्रकाशित होंगीं ?
अंतिम कविता ने मन को छू लिया --
स स्नेह,
- लावण्या

Neeraj Shrivastava / Hyderabad, Bhopal, India ने कहा…

कविता कागज के टुकड़ों के साथ ही पलती है समीर जी... प्रेम कविताएँ दिल को छू गईं...
देखता हूँ इतने बरसों बाद
अबकी उसमें कुछ हरी हरी पत्तियाँ निकल आई हैं..
क्या तुम आने को हो?....

लाजवाब समीर जी...! बहुत शुभकामनाएँ...!

Neeraj Shrivastava / Hyderabad, Bhopal, India ने कहा…

कविता कागज के टुकड़ों के साथ ही पलती है समीर जी... प्रेम कविताएँ दिल को छू गईं...
देखता हूँ इतने बरसों बाद
अबकी उसमें कुछ हरी हरी पत्तियाँ निकल आई हैं..
क्या तुम आने को हो?....

लाजवाब समीर जी...! बहुत शुभकामनाएँ...!

Anjaan ने कहा…

क्या बात है, सर फिर से विल्स कार्ड की विस्मृत कर देने वाली पहेलीनुमा रचनाएं !
आदमी के मन को हिला के रख दिया ।

GHAZAL ने कहा…

Hello Sameer Lal ji. mai nishamadhulika site ki ek reader hu aur aapka khane me interest dekh kar raha na gaya aur aapke bare me pata laga hi liya. you r a amazing person....!