रविवार, मार्च 01, 2015

अदृश्य दृश्य

दफ्तर आते जाते अक्सर ही ट्रेन की उपरी मंजिल में बैठ जाता हूं. घोषित ’शांत क्षेत्र’ है अर्थात आपसी बातचीत, फोन आदि की अनुमति नहीं है. अक्सर मरघट की सी शांति की बात याद आती है इस जगह. मगर जब आप किसी से बात नहीं कर रहे होते तो मन के भीतर ही भीतर कितनी सारी बातचीत कर रहे होते हैं यह देखने वाले जान ही नहीं सकते. ऐसी बातें जो यूँ तो शायद ही कर पायें कभी मगर दोनों पात्र खुद ही के भीतर आपस में प्रश्न उत्तर करते, झगड़ते, विवाद करते, जबाब माँगते, उलझन सुलझाते, हँसते और जाने क्या क्या और एकाएक आप खुद को डपट देते हैं कि ये क्या पागलपन है, खुद ही उलझे हो अपने भीतर ही भीतर बातचीत में खुद को भ्रमित करते उसी स्वनिर्मित भ्रम की दुनिया में जो तुमने खुद ही गढ़ ली है बिना कुछ देखे, बिना कुछ जाने.

खुद की झिड़की सुन सकपकाया सा देखने लगता हूँ खिड़की से बाहर. भागती इमारतें, पेड़, सड़के और ठहरा हुआ मैं. भागती ट्रेन के भीतर बैठे यही अहसास कि सब कुछ भाग रहा है और थिर हूँ मैं और थमा हुआ है वक्त मेरा कि एकाएक नजरों की सामने से भागती इमारतें, पेड़ सब बदल जाते हैं कुछ चेहरों में, कुछ ऐसे स्थानों में जो यादों में कहीं दफन हैं और फिर बातचीत का सिलसिला शुरु- वही प्रश्न उत्तर, वही झगड़े, वही विवाद, वही उलझाव सुलझाव, हँसी ठहाके, क्रुदन, खुशबू का अहसास, साथ गुजारे पल और फिर वही खुद को खुद की झिड़की. चेहरे के बदलते भाव और फिर वही खिड़की के बाहर दिखते बदलते अदृश्य दृश्य.

कोई भीड़ में तन्हा और कोई अकेला ही भीड़..समय वही..वक्त का तकाजा जुदा जुदा..

nut_balancing

डंडी से ढोल पीटता बाप

और दो बाँसों के बीच

बँधी रस्सी पर

संभल संभल पर खुद को संभालती

डगमग डगमग करतब दिखाती

परिवार के पेट की खातिर

मैली कुचैली फ्राक में छोटी नटनी गुड़िया..

तालियाँ बजाते तमाशबीन...

याद करता हूँ नजारा

और

उतर पड़ता हूँ मन के भीतर

यादों की डोर पर

संभल संभल कर कदम जमाते

कुछ दूर चलने की नाकाम कोशिश

सुनाई देती है खुद की झिड़क

और लौट आता हूँ फिर अपनी

आज की दुनिया में..

कल फिर इन्हीं राहों से गुजरने के लिए...

-समीर लाल ’समीर’

 

चित्र साभार मित्र प्रशांत के ब्लॉग से

Indli - Hindi News, Blogs, Links

31 टिप्‍पणियां:

अकुभा ने कहा…

भीड़ व शोर के जंगल में मन घुटता है। भटकता है। एक संवाद के लिए तरसता है। ख़ामोशी में यह संवाद संम्भव हो पाता है। यही वह समय होता है जब अंदर की दुनिया का दृश्य स्पष्ट दिखता है।

सच तो यह है कि यदि एक दिन में कुछ घंटे ख़ामोशी का साथ न मिले तो मैं मानसिक संतुलन ही खो बैठूँ।

Mansoorali Hashmi ने कहा…

सफर करते-करते, जब भी लिखा है, ग़ज़ब किया है. अंतर्द्वंद और अदृश्य को ख़ूब चित्रित किया है.

दिनेशराय द्विवेदी ने कहा…

जब मन होता है शान्त,
सरोवर की तलहटी में
विश्राम करते
कच्छप की तरह
दिखने लगती हैं
स्मृतियाँ,

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

बहुत बढ़िया लिखा है आपने ,

वाकई एकांत में खुद से संवाद होता है ।

Digamber Naswa ने कहा…

देर तक इस माहोल में रहना मुश्किल होता है ... कुछ संवेदनाएं कुछ पल को ही ठीक लगती हैं ... पर ईटा महसूस कर पाना भी अस्सं नहीं होता हर इंसान को ...

Digamber Naswa ने कहा…

कभी तो आइये अपने ही ब्लॉग पर ...
(मतलब जल्दी जल्दी पोस्ट लगानी चाहिए ... फेसबुक से बहार ही दुनिया है )

शारदा अरोरा ने कहा…

खुद की झिड़की सुन सकपकाया सा देखने लगता हूँ खिड़की से बाहर....barbas hansi aa gai...ki jaise sochte hue bhi pakde gaye hon ..badhiya likha hai ji...

Vaanbhatt ने कहा…

यादें भी अजीब होतीं हैं...कुछ जब चढ़ जातीं हैं तो हफ़्तों नहीं उतरतीं...जब भी खाली हो दिल-दिमाग पर छायी रहतीं हैं और...सफर भले ही कितना मौन हो...अंदर फ़्लैश बैक सा चलता रहता है...सुन्दर रचना...

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

झक्कास....

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

ख़ामोशी एक सतह बन जाती है जब उभरने लगते हैं तमाम दृष्य जो डूबे होते हैं स्मृतियों के तल में - और आपकी लेखनी का कमाल चल-चित्र उकेरता चला जाता है.

PRAN SHARMA ने कहा…

Gadya Ho Yaa Padya Aapkee Lekhni
Khoob Chalti Hai . Bahut Khoob !

GYANDUTT PANDEY ने कहा…

भीड़ में भी रहता हूं, वीराने के सहारे।
जैसे कोई मन्दिर किसी गांव के किनारे।
- रमानाथ अवस्थी।

rohitash kumar ने कहा…

बात एकदम सही है....अकेले में इंसान ज्यादा बात करता है....ये अलग बात है कई चिंतन करते हैं..कई बात करते-करते चिंता करने लगते हैं

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

यह भाव मेरे भीतर भी जगे हैं। ट्रेन से आते जाते। भले हमारे सफर में कोई सन्नाटा नहीं। सिर्फ शोर है मगर मन उसी सन्नाटे में भटक जाता है।

गिरधारी खंकरियाल ने कहा…

आन्तरिक संवाद स्वात्ममन्थन की ओर ले जाता है।
प्रक्रिया सतत चलती रहती है।

ब्लॉग - चिट्ठा ने कहा…

आपको बताते हुए हार्दिक प्रसन्नता हो रही है कि हिन्दी चिट्ठाजगत में चिट्ठा फीड्स एग्रीगेटर की शुरुआत आज से हुई है। जिसमें आपके ब्लॉग और चिट्ठे को भी फीड किया गया है। सादर … धन्यवाद।।

ब्लॉग - चिट्ठा ने कहा…

आपको बताते हुए हार्दिक प्रसन्नता हो रही है कि हिन्दी चिट्ठाजगत में चिट्ठा फीड्स एग्रीगेटर की शुरुआत आज से हुई है। जिसमें आपके ब्लॉग और चिट्ठे को भी फीड किया गया है। सादर … धन्यवाद।।

Govt Jobs ने कहा…

Nice Article sir, Keep Going on... I am really impressed by read this. Thanks for sharing with us. Bank Jobs.

कहकशां खान ने कहा…

खामोश संवाद का सुंदर चित्रण।

Fiza Dawn ने कहा…

Bahut dino baad aayi aur wakai aapki likhi kavita sahi sabit hoti nazar aayeee... phir usi raah per laut ayeee mein :) accha laga aapko padhkar...

daad kabool karein

Fiza

हिंदी सुविचार ने कहा…

बहुत बढ़िया, आपका ब्लॉग बहुत पसंद आया. बहुत अच्छे अच्छे लेख है आपके ब्लॉग मैं मनपूर्वक धन्यवाद!

abhi ने कहा…

bahut badhiya likha hai!

सु-मन (Suman Kapoor) ने कहा…

ये सफ़र अक्सर बहुत कुछ याद दिला जाते हैं

Winconfirm ने कहा…

ye blog mujhe apke bite jivan ki yad dilata he !!!!ye post mene apne kuch dost ke sath bhi share kiya unhe bhi bhi bohot pasand aya thankss for the posting


http://winconfirm.com/category/motivational-videos-inspirational-videos/

arif khan ने कहा…

apka blog mujhe apne bite hue kal ki yaad dilata he or ap ke post ko mene apne kuch dosto ke sath bhi share kiya un sabhi ne bohot enjoy kiya thanks for the posting

Kaunquest (Ajay) ने कहा…

Bohat khoob..

Dr.Bhawna ने कहा…

Bahut khub! bahut bahut badhai...

gyanipadit ने कहा…

समीर जी,
बहुत बढ़िया लिखा आपने,keep it up,
धन्यवाद

राजेंद्र अवस्थी. ने कहा…

गज्ज़ब लिखा....वाह..

Ravi Shekhawat ने कहा…

बहुत बढ़िया लिखा है आपने

click here to Army,Airforce,Navy,police Jobs

Pawan Singh ने कहा…

मन को सुकून देने वाली एक ताज़ी हवा के झोंके की तरह हैं आपके ये संवाद कृपया जारी रखिये...