रविवार, जुलाई 19, 2009

हम तो थक गये अब!!!!

थक गये भाई पूछ पूछ कर.

जिसको देखो बस एक लाईन बोल कर भाग जाता है कि साहित्य नहीं रचा जा रहा है ब्लॉग पर.

मगर कोई ये बताने तैयार ही नहीं कि आखिर साहित्य होता क्या है, क्या है इसकी परिभाषा और हमें क्या करना होगा कि साहित्य रच पायें. बहुत बार और बहुत जगह जाकर पूछा, रिरिया कर पूछा, गिड़गिड़ा कर पूछा मगर जैसे ही पूछो कि आखिर साहित्य है क्या, भाग जाते हैं. बताते ही नहीं..मानो सरकार बता रही हो कि भारत का विकास हो रहा है. पूछो कहाँ, तो भाग जाते हैं? आप खुद खोजो.

अरे, हम खुद ही खोज या जान पाते तो आपको इतना कहने की तकलीफ भी न देते कि साहित्य नहीं रचा जा रहा है. रच ही रहे होते और तब आप इतना बोलने के पहले ही भाग लिये होते. प्रेम चन्द के गुजर जाने का दुख आज से पहले कभी इतना ज्यादा नहीं हुआ. वो होते तो उनसे पूछ लेते.

बहुत शोध किया. यहाँ वहाँ पढ़ा. एक दो वीरों ने इसे परिभाषित करने की नाकाम कोशिश भी की. पिछले वाक्य में नाकाम अंडरलाईन मानें. कर नहीं रहे बस आप मानें. जब वो बिना ’साहित्य क्या है’ बताये बता सकते हैं कि ’यह साहित्य नहीं है’ तो हम भी बिना अंडर लाईन लगाये बता दे रहे हैं कि नाकाम शाब्द अंडारलाईन है. इस पर भी मन न भरा हो तो और लो, बोल्ड भी है.

भारत के विकास को लेकर सोचता हूँ कई बार इसी तरह. किसको विकास मानूँ: बढ़्ती मँहगाई को, अवय्वस्था में आये इजाफे को, बिजली पानी की अनुपलब्धता की बढ़ती दर को, गिरते सेन्सेक्स को, एकता कपूर के सीरियलस में बढ़ते एक्स्ट्रा मेरिटल अफेयरर्स को, बढ़ती किसानों की खुदकुशी को या फिर बढ़ती नेताओं की ढिटाई और उनके बढ़ते भ्रष्टाचार को.

जैसे साहित्य की परिभाषा हो वैसे ही कोई ज्ञानी बता जाता है कि भारत भी विकास की राह पर है. विनती बस इतनी सी है कि बम्बई, दिल्ली, कलकत्ता, मद्रास और बैंगलोर को ही भारत मानें और उसकी भी पाँच प्रतिशत आबादी को. विकास के आंकलन में कृप्या ट्रेफिक जाम, बिजली, पानी आदि को रोड़ा न बनायें, वह इस आंकलन में शामिल नहीं है. यह सब सामन्य परिस्थियाँ हैं जिसके आप सब आदी हैं. इसमें सिर्फ मॉल, कॉल सेन्टर (प्राफिट वाले) अंबानी लेवल के उद्योगपति, अमर सिंग लेवल के नेता, लीलावति अस्पताल का वी आई पी एरिया, बिना गिरा हुआ दिल्ली मेट्रो का भाग, अम्बे वेली पूणे का रहवासी इलाका, बिग सिनेमा, नेता घराने के नव नेता, मल्लिका सेहरावत, मुटुकनाथ जूली कथा, कानून की धारा ३७७, ब्रेन मैपिंग, चन्द्र यान के साथ चाँद और फिज़ा कथा, मकाओ में अंग्रेजी में हुआ भारतीय हिन्दी सिनेमा का समारोह, चीयर बालायें (२०-२० कुछ दिन इस लिस्ट से अलग किया गया है), पेज ३ पार्टियाँ एवं विजय मलैय्या, आदि आदि को शामिल माना जाये. देखिये, भारत कितना विकास कर गया है.

कहते हैं जल्दी ही विकसित भारत में व्यक्ति को नाम की बजाय यूनिक नम्बर आईडेन्टिटी से जाना जायेगा. अरे, जहाँ इंसान परेशान हो कर चन्द रुपये में किडनी बेच दे रहा है, वहाँ नम्बर कब तक सहेजे रहेगा? पुलिस की गोली से मरेगा कोई और जेब से प्राप्त आई डी से मृत दर्ज होगा कोई. खैर, उम्मीद तो अच्छे की ही होना चाहिये, तब अच्छा ही होगा.

तो ऐसे ही मानने न मानने के चक्कर में, पत्रिकाओं के गरिष्ट ओह नो!! वरिष्ट साहित्यिक संपादकों से संबंधो के आभाव में, आलोचकों और अनेक साहित्यकारों के कम्प्यूटर ज्ञान के आभाव में, ब्लॉग पर साहित्य नहीं रचा जा रहा है विषय पर सारे ब्लॉगर चिंतित हैं.

चिंता है तो कभी न कभी निवारण भी होगा ही, यही एक आशा की किरण है जो जिन्दा रखे है इस अफलातूनी लेखन को.

खैर, जो अब तक प्राप्त जानकारी के आधार पर एक बुद्धु ब्लॉगर (साहित्यकारों के नज़रिये से) की परिकल्पना है साहित्य के बारे में, उसे देखें:

साहित्य

अब जो है, जैसा है. वैसा है.

हमने अपनी तरफ से कोशिश की है यह बता पाने की कि कविता क्या है. कुछ हद तक तो बता ही पाये होंगे, आप देखिये.


कविता क्या है ?

कविता है,

शब्दों मे व्यक्त
भावों की अभिव्यक्ति
जीने की शक्ति
समाज की संरचना
मानवियता की रचना
ईश्वर की अर्चना
कुरितियों पर वार
आशा का संचार

कविता है
मन के भाव
कड़ी धूप में
पेड़ की छांव
संजोये हुए अहसास
और गहरे अँधेरे में
चमकती हुई आस

कविता है
संस्कृति की वाहक
भ्रांतियों की निवारक
और क्षुब्ध ह्रदय में
चेतना की कारक

कविता है
एक समर्पण
दिल का सच्चा दर्पण
निस्सीम ऊँचाई
अंतहीन गहराई

कविता
मिटाती है संशय
बढ़ाती है
आदि से अंत का परिचय
जगाती है निश्चय
और
अमावस में
लाती है सूर्योदय

कविता है
पूर्ण सॄष्टि
लौकिक और
अलौकिक दृष्टि

इसका रचयिता कवि

कभी हँसाता
कभी गुदगुदाता
तो
कभी रुलाता
सूरज की सीमा
के पार ले जाता
फिर भी
अक्सर
भूखा ही सो जाता

-समीर लाल ’समीर’

नोट:
१. कोई भी प्रोफेशनल कार्टूनिस्ट इसे हमारे द्वारा किया गया उनके क्षेत्र का अतिक्रमण न मानें, ये कोशिश तो हम साहित्य के क्षेत्र में करेंगे. :)

२. यह आलेख कल के लावण्या जी के आलेख के पहले ही लिख गया था और इसलिये उसकी विषय वस्तु यह यह कतई प्रभावित नहीं है. Indli - Hindi News, Blogs, Links

109 टिप्‍पणियां:

मैथिली ने कहा…

कार्टून बहुत मज़ेदार है जी
अब हमारी भी समझ में आगया कि सड़कों के साइन बोर्ड को साहित्य कहते है

रविकांत पाण्डेय ने कहा…

ओह! तो यहां बड़े-बड़े दिग्गज भी ये पूछ रहे हैं कि साहित्य क्या है? अब अपना क्या होगा? ऐ मेरे दिल कहीं और चल, इस चमन में अब अपना गुज़ारा नहीं
कविता है
पूर्ण सॄष्टि
लौकिक और
अलौकिक दृष्टि
सही कहा।

डॉ टी एस दराल ने कहा…

भारत में विकास का बहुत खूबसूरत विश्लेषण किया है समीर जी. आप विदेश में रहकर देश के बारे में इतनी जानकारी रखते हैं, इतना तो यहाँ रहने वाले भी नहीं सोच पाते.
आपकी कविता तो लाज़वाब है. यूँ कहिये आपने हमारे भी मन की बात कहदी.
आज शायद सबसे पहले आप के ब्लॉग पर आने का अवसर मिला है.

dhiru singh { धीरेन्द्र वीर सिंह } ने कहा…

जो रचनाये लेखको से सरकार खरीद कर छापती है उसे साहित्य कहते है . और जो आम आदमी की समझ में न आये और उसकी समीक्षा लिखी जाए वह ही साहित्य कहलाता है

Vinay ने कहा…

अजी थक गये पर कविता ज़ोरदार लिख दी है!
---
गुलाबी कोंपलें

अजय कुमार झा ने कहा…

साहित्य ..हाय मैं तो अब तक इस शब्द का मर्म समझे बगैर ही हिंदी और अंगरेजी की हजार पुस्तकें पढ़ गया .....अब तो नहीं पहुँगा जी..बिलकुल भी नहीं एक लाइन भी नहीं..न न जोर मत डालिए..क्या कह रहे हैं..मुझे इस जन्म में पता ही नहीं चलेगा की साहित्य क्या है..तो फिर इस भरोसे में यदि पढ़ना छोडा तो हो गया बंटाधार ..चलिए फिर ठीक है ..मैं दोनों .अजी ब्लॉग और साहित्य को ..दाल चावल की तरह मिक्स करके पढूंगा...फिर तो हजम होगा न ..

कविता की परिभाषा गजब की है...

विवेक रस्तोगी ने कहा…

हम भी तो ढूँढ़ रहे हैं कि कोई तो बताये ये ब्लोग को साहित्यिक कैसे बनाया जाये ? आपको मिले तो हमें भी बताइयेगा ।

Gyan Darpan ने कहा…

हम भी यहाँ साहित्य की परिभाषा ढूंढ़ते ढूंढ़ते ही आये था शायद बाबा समीरानंद के आश्रम में ही मिल जाए | हाँ भारत जरुर विकास कर रहा है देखिए न कैसे विकसित देशों की पाश्चात्य संस्कृति की बराबरी करने में लगा है |

संगीता पुरी ने कहा…

ब्‍लाग में साहित्‍य नहीं रचा जा रहा .. तो क्‍या हुआ .. कुछ तो रचा जा रहा है .. चलते रहें .. थक जाने से कैसे काम चलनेवाला ?

Arvind Mishra ने कहा…

समीर जी हम भी थक गए हैं अ़ब तक बताते बताते की साहित्य वही नहीं है जो हिन्दी विभागों की चारदीवारी में भाखा जाता है और चंद हिन्दी साहित्य (?) के डिग्रीधारी उसका कलेवर बनाते बिगाड़ते हैं ! चिट्ठा साहित्य क्यों ऐसे साहित्य की बराबरी की कुंठा पाले !

वाणी गीत ने कहा…

कविता की इतनी कवितामय व्याख्या पहले कभी नहीं पढ़ी !!
धन्यवाद !!

अमिताभ मीत ने कहा…

किस लफड़े में पड़े हैं भाई साहब .... बढ़िया लिख रहे हैं ..... लिखते रहिये ....

और "कविता क्या है" ..... बहुत सुन्दर लिखा है. बहुत ही बढ़िया.

Kajal Kumar's Cartoons काजल कुमार के कार्टून ने कहा…

ओपन सोर्स से डरा माइक्रोसोफ़्ट जैसी हरकतें करता रहता है, ब्लागज़ को देखकर-सुनकर वैसी ही हरकतें करते रहते हैं ये बेचारे खिसियाए से तथाकथित साहित्यकार.

इंटरनेट की ताकत से डरे बैठे हैं..अब खंभा न नोचें तो क्या करें.

दिनेशराय द्विवेदी ने कहा…

चिंता है तो कभी न कभी निवारण भी होगा ही,
आप चिंता बनाए रखें।
चीजें जैसे चल रही हैं हमेशा नहीं चल सकतीं। उन्हें बदलना होगा।

अविनाश वाचस्पति ने कहा…

टिप्‍पणियां जो सैकड़ों की संख्‍या में आयें
वो भी साहित्‍य ही कहलायें
जिससे लिखने वाले
और पढ़ने वालों का हित सध जाए
वही साहित्‍य कहा जाए।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

समीर लाल जी!

अभिव्यक्तियों का नाम,
शब्दों का आयाम,
लो बन गया साहित्य,
सुन्दर-सुखद-ललाम।

साहित्य क्या है?
कविता क्या है?
यह आज ही जाना।

बढ़िया पोस्ट है,
आभार,

संजीव गौतम ने कहा…

अरे! आपने तो बडा गम्भीर विषय छेड दिया.बडे बडे विद्वान आज तक एक सर्वमान्य परिभाषा नहीं दे पाये. अरे साहब ये तो नेति-नेति है. उन विद्वानों से बहुत अच्छी परिभाषा तो आपने अपनी कविता के माध्यम से बता दी.

बालसुब्रमण्यम लक्ष्मीनारायण ने कहा…

व्यंग्य जोरदार है - बिना गिरा हुआ दिल्ली मेट्रो का भाग - खास पसंद आया!

सुशीला पुरी ने कहा…

आपको शायद ''गर्भनाल'' पत्रिका में पढ़ा है .........बहुत बहुत बधाई .

समयचक्र ने कहा…

२१ वी सदी में हमारे देश में व्यक्ति की किडनी का भी यूनिक आईडेन्टिटी नम्बर होगा .सचमुच आज भावुक कर देने वाली पोस्ट है क्या कहें साहित्य और साहित्यकारों की मानसिकता को ? अपने राम ब्लागिंग में अपने विचार अभिव्यक्त करते रहें यही सबसे बड़ी उपलब्धि और आत्मसंतुष्टि होगी....... आपकी पोस्ट पर बहुत लिखने का मन हो रहा है पर समय हो रहा है जाने का बाद में फिर से पढूंगा . आभार. शुक्रिया धन्यवाद. ..... पर थकिये नहीं

समयचक्र ने कहा…

२१ वी सदी में हमारे देश में व्यक्ति की किडनी का भी यूनिक आईडेन्टिटी नम्बर होगा .सचमुच आज भावुक कर देने वाली पोस्ट है क्या कहें साहित्य और साहित्यकारों की मानसिकता को ? अपने राम ब्लागिंग में अपने विचार अभिव्यक्त करते रहें यही सबसे बड़ी उपलब्धि और आत्मसंतुष्टि होगी....... आपकी पोस्ट पर बहुत लिखने का मन हो रहा है पर समय हो रहा है जाने का बाद में फिर से पढूंगा . आभार. शुक्रिया धन्यवाद. ..... पर थकिये नहीं

समयचक्र ने कहा…

२१ वी सदी में हमारे देश में व्यक्ति की किडनी का भी यूनिक आईडेन्टिटी नम्बर होगा .सचमुच आज भावुक कर देने वाली पोस्ट है क्या कहें साहित्य और साहित्यकारों की मानसिकता को ? अपने राम ब्लागिंग में अपने विचार अभिव्यक्त करते रहें यही सबसे बड़ी उपलब्धि और आत्मसंतुष्टि होगी....... आपकी पोस्ट पर बहुत लिखने का मन हो रहा है पर समय हो रहा है जाने का बाद में फिर से पढूंगा . आभार. शुक्रिया धन्यवाद. ..... पर थकिये नहीं

समयचक्र ने कहा…

२१ वी सदी में हमारे देश में व्यक्ति की किडनी का भी यूनिक आईडेन्टिटी नम्बर होगा .सचमुच आज भावुक कर देने वाली पोस्ट है क्या कहें साहित्य और साहित्यकारों की मानसिकता को ? अपने राम ब्लागिंग में अपने विचार अभिव्यक्त करते रहें यही सबसे बड़ी उपलब्धि और आत्मसंतुष्टि होगी....... आपकी पोस्ट पर बहुत लिखने का मन हो रहा है पर समय हो रहा है जाने का बाद में फिर से पढूंगा . आभार. शुक्रिया धन्यवाद. ..... पर थकिये नहीं

कुश ने कहा…

साहित्य का तो पता नहीं कार्टूनित्य में आपका लोहा मानना पड़ेगा..

Astrologer Sidharth ने कहा…

और लो यह बोल्‍ड भी है पर हंसी शुरू हुई और साइनबोर्ड तक आते आते तो मैं हंसी के मारे औंधा हो गया।
वैसे अभी साहित्‍य के लिए काफी इंतजार करना पड़ेगा ब्‍लॉगिंग को, जब तक पुराने मठाधीश यहां नहीं पहुंच जाते। :)

नई तकनीक ने तो बेड़ा गर्क कर दिया है। :)

Astrologer Sidharth ने कहा…

एक बात और समीर भाई थकिए मत ऊर्जा बनाए रखें। कभी भी टंकी पर चढ़ने की नौबत आ सकती है। थक गए तो चढ़ेंगे कैसे ?

mehek ने कहा…

कविता है
मन के भाव
कड़ी धूप में
पेड़ की छांव
संजोये हुए अहसास
और गहरे अँधेरे में
चमकती हुई आस
waah bahut khub,cartoon satik:):)

मुकेश कुमार तिवारी ने कहा…

श्री समीर जी,

सादर वन्दे,

बहुत ही सटीक प्रश्न है कि साहित्य क्या होता है? शायद ब्लॉग्स को कोसने वाले भी इस प्रश्न का उत्तर दे पाने में बगलें झांकने लगे या गलने लगे(महाभारत कालीन एक यक्षकथा के संदर्भ से)।

यह एक सतही सोच या पुरातनपंथी नज़रिया है जो साहित्य को कभी सुलभ नही होने देता उसे व्याकरण, वाद, शैली और भाषा की बेड़ियों से जकड़ कर रखता है और रचनाकार को अपना दास बनाकर रचना को अपने आँगन नचवाना पसंद करता है।

मैं व्यक्तीगत तौर पर यह मानता हूँ कि अभिव्यक्ती की स्वतंत्रता जो हमारे मौलिक अधिकारों में निहित है अब कहीं जाकर मिल पायी है, दुनिया के प्रथम ब्लॉगर को मेरा कोटि-कोटि नमन। ब्लॉग है; नही तो इस आपा-धापी से भरे प्रतिस्पर्धा के युग में ना जाने कितनी जिन्दगियाँ अपने विचारों को व्यक्त ना कर पाने के अपराधबोझ से दबी अवसाद का शिकार हो जाती।

कविता की नवेली परिभाषा के लिये साधुवाद और ब्लॉगर्स की अगुवाई के लिये शुक्रिया।

सादर,

मुकेश कुमार तिवारी

http://www.yoursaarathi.blogspot.com/ ने कहा…

'Sahitya' Dayitva hai!
Manav aur manavata ke udhaar evam uthann; manas ke parishkar evam parivardhan hetu abhivyakt koi bhi bhav 'Sahitya' hota hai!
Sahityik sakriyata ke liye kuch anshdaan mera bhi hai ...aap mere blog par use paa sakte hain...pata hai:
http://www.yoursaarathi.blogspot.com/
Aaapka
Neelesh Jain
Mumbai

Anil Pusadkar ने कहा…

अप्प्न को भी नई पता ये ह्टेला साहित्य किधर मिलता है?पता लगे तो बताना दो चार किलो अप्प्न भी खरीद लेगा।

संजय बेंगाणी ने कहा…

साहित्य जो है वह है. ब्लॉग का अपना महत्त्व है और ताकत भी. विवाद ही समझ से बाहर है, जब विद्याएं दो है.

मीत ने कहा…

कार्टून का जवाब नहीं...
और उससे भी ज्यादा अच्छी है आपकी रचना....
मीत

Dr. Ravi Srivastava ने कहा…

समीर जी, वाकई आपने बहुत अच्छा लिखा है। आशा है आपकी कलम इसी तरह चलती रहेगी और हमें अच्छी -अच्छी रचनाएं पढ़ने को मिलेंगे, बधाई स्वीकारें।

…Ravi Srivastava

Sulabh Jaiswal "सुलभ" ने कहा…

हम क्यूँ साहित्य की व्याख्या साहित्यकारों की तरह करें या विश्लेसकों की तरह खोजें. हमे तो आदत सी हो गयी है साथ साथ साहित्य रस लेने की. क्षमा करे, हम तो ऐसे कवि / लेखक हैं, हमे तो हर जगह साहित्य नज़र आता है.

- जैसे की राईटर बनाम कंप्युटर

सदा ने कहा…

कभी हँसाता
कभी गुदगुदाता
तो
कभी रुलाता
सूरज की सीमा
के पार ले जाता
फिर भी
अक्सर
भूखा ही सो जाता

बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों में व्‍यक्‍त किया आपने, आभार्

Batangad ने कहा…

क्या समीर भाई आप भी।
मैं बताता हूं साहित्य क्या है। हम दिन भर जो बकबकाते रहते हैं वही साहित्य है। बस सलीके से लिखा जाए। और, लिखा तो आजकल सबकुछ सलीके से ब्लॉग पर ही जा रहा है। तो, अब थकिए मत और लिखिए। हमारा आपका लिखा साहित्य है। अभी कोई नहीं मान रहा हम भी जब प्रेमचंद्र की तरह निपट जाएंगे या बुढ़ऊ साहित्यकार हो जाएंगे तो, सब मान लेंगे।
अब देखिए ई सब लिखने पे भी कोई 'साहित्यकार' विरोध न जता दे।

डॉ .अनुराग ने कहा…

लो जी आपने भी साहित्य की एक श्रेणी" व्यंग्य "लिख दिया !

चंद्रमौलेश्वर प्रसाद ने कहा…

साहित्य वो हवा है जिसे सब महसूस कर रहे हैं पर पकड़ नहीं पा रहे हैं.....और इस लाइन के बाद हम भाग रहे हैं...:)

Abhishek Ojha ने कहा…

विकास और साहित्य की असली नब्ज पकड़ ली आपने तो :)

दिगंबर नासवा ने कहा…

साहित्य क्या है ये तो कोई भी नहीं बता पायेगा............ जो कहता है बस वो ही बता सकता है तो अपने आप को बेवकूफ बना रहा है........... साहित्य भी प्रेम की तरह है जिसको परिभाषित करना सूरज को दीपक दिखाना है.......... कार्टून लाजवाब है

P.N. Subramanian ने कहा…

कविता क्या है यह तो समझ में आ गयी. अब देखें कहाँ से साहित्य पर शोध प्रबंध प्राप्त होता है.

Unknown ने कहा…

उम्मीद है...
कि कभी तो ऐसा दिन आएगा जब साहित्य-ब्लोगित्य साथ साथ बोला जायेगा....
शुभकामनायें....
www.nayikalam.blogspot.com

Unknown ने कहा…

उम्मीद है...
कि कभी तो ऐसा दिन आएगा जब साहित्य-ब्लोगित्य साथ साथ बोला जायेगा....
शुभकामनायें....
www.nayikalam.blogspot.com

प्रवीण शुक्ल (प्रार्थी) ने कहा…

नमस्कार समीर आज आप ने बहुत ही अच्छा विषय उठाया आप की इन चार लेनो ने ही सारा हाल वयान कर दिया चार पंक्तिया लिखना चहुँ गा इन पर माफ़ करना
भारत के विकास को लेकर सोचता हूँ कई बार इसी तरह. किसको विकास मानूँ: बढ़्ती मँहगाई को, अवय्वस्था में आये इजाफे को, बिजली पानी की अनुपलब्धता की बढ़ती दर को, गिरते सेन्सेक्स को, एकता कपूर के सीरियलस में बढ़ते एक्स्ट्रा मेरिटल अफेयरर्स को, बढ़ती किसानों की खुदकुशी को या फिर बढ़ती नेताओं की ढिटाई और उनके बढ़ते भ्रष्टाचार को.
आयो हम आज भारत के विकाश की बात करते है ,,
कुछ गाली खुद को और कुछ उन पर भी धरते हैं ...
विजली पानी का पता नहीं महगाई भर पूर मिले
बढा अव्यवस्था का आलम, संसेक्स भी खूब गिरे .
यहाँ किसान खुदकुशी करते अपनी बर्बादी पे ..
हुडदंग मचा है ड्रामो में बिन शादी की शादी पे ,,
बजट बाँट बन्दर की नाई घर में जा छिपाते है ,,
भर आते ही भर्ष्टाचार भर्ष्टाचार चिल्लाते है ,,,

सादर
प्रवीण पथिक
9971969084

Shiv ने कहा…

बेहतरीन पोस्ट है. कार्टून तो गजबे है. विकास और साहित्य, दो बिलकुल अलग विषय एक ही जगह....ऐसा एक ब्लॉगर ही कर सकता है.

Murari Pareek ने कहा…

भारत विकाश हर क्षेत्र में हो रहा है " बढ़्ती मँहगाई, अवय्वस्था में आये इजाफे, बिजली पानी की अनुपलब्धता की बढ़ती दर, गिरते सेन्सेक्स, एकता कपूर के सीरियलस में बढ़ते एक्स्ट्रा मेरिटल अफेयरर्स, बढ़ती किसानों की खुदकुशी, बढ़ती नेताओं की ढिटाई और उनके बढ़ते भ्रष्टाचार. ये हैं विकाश !
साहित्य वही जो शादियों बाद भी पढा जा सके संगमरमर पे खुदवा दें क्या? क्योंकि पोथी पानडे शादियों बाद कहाँ से मिलेंगे |

ताऊजी लठ्ठ वाले ने कहा…

चिंता है तो कभी न कभी निवारण भी होगा ही, यही एक आशा की किरण है जो जिन्दा रखे है इस अफलातूनी लेखन को.

ये कही है लाजवाब बात..कारवां चलता रहे..एक दिन मंजिल मिल हि जायेगी. शुभकामनाएं

रामराम.

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

चिंता है तो कभी न कभी निवारण भी होगा ही, यही एक आशा की किरण है जो जिन्दा रखे है इस अफलातूनी लेखन को.

ये कही है लाजवाब बात. चलते रहें..मंजिल तो एक रोज मिल ही जायेगी. शुभकामनाए.

रामराम.

Akanksha Yadav ने कहा…

ब्लोगर समीरानंद जी अगर थक जायेंगे, तो इतनी रोचक पोस्ट तथा टिप्पणियां कौन देगा. थकान दूर कीजिये एवं "शब्द-शिखर" पर इस बार "ठग्गू के लड्डू और बदनाम कुल्फी'' का आनंद लेकर अलमस्त हो जाइये.

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

बहुत विकास हो रहा है, दाल सौ रुपये किलो पहुंचने वाली है और किसान फिर भी आत्महत्या करते रहेंगे.

Atmaram Sharma ने कहा…

निदा फाज़ली की यह कविता हाल ही में डॉ. सुधा ओम ढींगरा के नये ब्लॉग पर टिप्पणी के साथ पेस्ट की थी, आपकी पोस्ट पढ़कर यहाँ भी संलग्न करने से खुद को रोक नहीं पा रहा हूँ. बहुत माफी के साथ.

लिखो कि
चील के पंजों में
साँप का सर है

लिखो कि
साँप का फन
छिपकली के ऊपर है

लिखो कि
मुँह में उसी छिपकली के
झींगुर है

लिखो कि
चेंवटा झींगुर की
दस्तरस में है

लिखो कि
जो भी यहाँ है किसी
क़फस (पिंजरा) में है

लिखो कि
रंग है जो भी नज़र में
कच्चा है

जो एक दर्द है साँसों में
वो ही सच्चा है

ये एक दर्द ही
संघर्ष भी है ख्वाब भी है
लिखो कि
ये ही अँधेरों का
माहताब भी है.

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

लो इत्ती सी बात। साहित्य वो जो पढ कर सुनाया जा सके, समझाया ना जा सके। सरकारी मान दिला सके, पर पाठक ना जुटा सके।
शायद भागने वालों को किसी ऐसी चीज की जरुरत हो।

शेफाली पाण्डे ने कहा…

कविता है
मन के भाव
कड़ी धूप में
पेड़ की छांव
संजोये हुए अहसास
और गहरे अँधेरे में
चमकती हुई आस
mujhe to ye bahut hee achchhee lagee...baki bahas par nazar hee nahi padtee...

संजय सिंह ने कहा…

अच्छा साहित्य, सुन्दर कविता और देश का विकाश?........ आपने तो कमाल कर दिया है. आपकी लेखनी के बस में ही हैं इन तीनो को एक साथ जोड़ना और सुद्ध्र रूप देना. बहुत अच्छा लिखे हैं.

श्रद्धा जैन ने कहा…

Aap bhi kamaal hai
sahitya kya hai aakhir aapne dhoondh hi nikala sadar baazar wala photo hahaha

कभी हँसाता
कभी गुदगुदाता
तो
कभी रुलाता
सूरज की सीमा
के पार ले जाता
फिर भी
अक्सर
भूखा ही सो जात

kavita kya hai wo bhi bakoobi samjha diya

aap waqayi ustaad hai

रंजू भाटिया ने कहा…

आप कैसे थक सकते हैं जी ..चलते चलो ..कविता शानदार लगी आपकी ..साहित्य तो जुड़ ही गया है साथ इस लेख के :)

राजा कुमारेन्द्र सिंह सेंगर ने कहा…

इस सवाल पर तो हम भी बहुत परेशान हैं कि साहित्य कहते किसे हैं?
क्या कहानियाँ, कविजायें, गजल, लेख आदि ही साहित्य की निशानी हैं?
लेखों की बात करें तो समाचार-पत्रों, पत्रिकाओं में छापते राजनैतिक लेख भी क्या साहित्य की श्रेणी में आते हैं? यदि ऐसा है तो देश में सभी साहित्यकार हैं।
वैसे इस पर आप कह सकते हैं-
कोउ नृप होए हमें का हानि,
बेचो दूध मिला के पानी।

विवेक सिंह ने कहा…

आपको इतना परिश्रम करते देखकर मेरा साहस नहीं होता आपको ब्लॉगर कहने का,

आप साहित्यकार हो जी साहित्यकार ! जो आपको ब्लॉगर कहे उसे हमारा नाम बता देना !

मुनीश ( munish ) ने कहा…

Very valid and contemporary questions have been raised in ur post . One may differ on the answers ,but one thing is certain that those always wanted to express in the realm of literature ,they have a very potent and powerful weapon in the form of blogging .
As laptops become more affordable, we shall witness another powerful wave of literature.Now is the time for u to inspire new talent by giving them awards.

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

कविता है
एक समर्पण
दिल का सच्चा दर्पण
निस्सीम ऊँचाई
अंतहीन गहराई..........
बहुत बेहतरीन लिखा है समीर जी.मैं उन लोंगों से पूछना चाहता हूँ कि साहित्य रचने से उन्हें कौन रोक रहा है ,क्यों नहीं रचते वे साहित्य.

निर्मला कपिला ने कहा…

ओह तो क्या हम अब तक झख मार रहे थे जब पत्रिकाओं मे छपते थे तब तो साहित्य ही था अब ये साहित्य नही? आप ने तो लिखने का उत्साह ही नश्त कर दिया मगर मेहर्बानी होगी जब पत चले तो हमे जरूर बता दें तब तक कविता कहानी लिख कर दिल बहला लेते हैं कविता की परिभाशा एक दम मुकम्मल है
कविता है
एक समर्पण
दिल का सच्चा दर्पण
निस्सीम ऊँचाई
अंतहीन गहरा लाजवाब्

अनिल कान्त ने कहा…

मैंने पाया है कि ये विदेश में रहने वाले भारतीय अपने देश भारत की बहुत चिंता करते हैं....क्यों ना करें आखिर भारत में रहने वाले तो बिल्कुल करते ही नहीं

कल ही एक पुराने जानकार को कहते सुना कि यार भारत हमें बहुत प्यारा है और भारत में ये है, भारत ऐसा है, भारत वैसा है....क्या करें अगर पापी पेट का सवाल ना होता तो हम भी भारत में ही रहते...
भारत की सरकार ऐसा कर रही है, भारत की सरकार वैसा कर रही है ....(अगर हम सरकार होते तो ऐसा कर देते) ...हम उनको देख कर मुस्कुरा दिए

"वैसे आपने कविता बहुत अच्छी लिखी है"

Udan Tashtari ने कहा…

@ अनिल कान्त जी

आपके मन जो विचार आया, वह नया नहीं है, बहुतों के मन में आता है और वो बातें सुन इसी तरह मुस्कराते भी हैं..:) मुस्कराना तो खैर स्वास्थय के लिए हमेशा ही अच्छा माना गया है-

घर से एक भाई किसी भी वजह से अगर बाहर चला जाये, तो भी रहता तो परिवार का सदस्य ही है. परिवार की, घर की चिन्ता, परेशानी के विषय में सोचना उसका भी अधिकार होता है. जो घर में रह रहे हैं, वो तो परेशानियों से जूझने में ही परेशान हैं, कम से कम बाहर वाला परेशानियों का आंकलन तो कर ही सकता है.

दर्द यहाँ भी उतना ही होता है बल्कि दूरियों की चोट एडीशनल है, वजह मजबूरी हो या स्वतः का निर्णय, दूरी तो दूरी ही है और परिवार और अपना वतन भी अपना ही है.

इस अधिकार पर तो हमारा जन्म सिद्ध अधिकार रहेगा ही.

आपके मन में विचार उठा तो सोचा, निराकरण करता चलूँ. आशा है अपनी बात कह पाया हूँ.

आशा है अन्यथा न लेंगे..मैने भी नहीं लिया है. वैसे इस विषय पर तो बहुत अधिक विस्तार से लिखने की क्षमता रखता हूँ.. :)

Pt. D.K. Sharma "Vatsa" ने कहा…

सच में आज तो हम भी थक ही गए। तभी तो रात के साढे ग्यारह बजे टिप्पणी करने आए हैं:)

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

समीर जी ,
जो कहते हैं ब्लॉग जगत में साहित्य नहीं रचा जाता .....उनसे कहें की भई वे हमें एक साहित्यिक ब्लॉग बना कर दिखाये ताकि हम उनसे कुछ सीख सकें ....!!

कविता की लाजवाब परिभाषा की है आपने ....!

Prem Farukhabadi ने कहा…

समीर भाई ,
अपने जो साहित्य की परिभाषा की है उसमें काफी दम है.मैं तो यही मानता हूँ की जिससे समाज का प्रतियक्ष या अप्रतियक्ष रूप से हित साधता हो उसे साहित्य कह सकते हैं.आपकी कविता भी जानदार बन गयी है बधाई !एक बात और कहता चलूँ आपकी शैली आपकी भाषा लेखन की विशालता एवं विषय की रोचकता किसी को भी बांधे रखने में सक्षम है.और क्या कहूं आप अद्वितीय हैं.

Prem Farukhabadi ने कहा…

समीर भाई ,
आपने जो साहित्य की परिभाषा की है उसमें काफी दम है.मैं तो यही मानता हूँ की जिससे समाज का प्रतियक्ष या अप्रतियक्ष रूप से हित साधता हो उसे साहित्य कह सकते हैं.आपकी कविता भी जानदार बन गयी है बधाई !एक बात और कहता चलूँ आपकी शैली आपकी भाषा लेखन की विशालता एवं विषय की रोचकता किसी को भी बांधे रखने में सक्षम है.और क्या कहूं आप अद्वितीय हैं.

प्रिया ने कहा…

koi kuch bhi bole....koi fark nahi padta....abhi sahitya ko paribhashit karne ki baat kahe to hazaar ban jayegi aur ek bhi sahi nahi.....Desh, Kaal, Samaj, haalat ke hisaab se rachna ka srijan hota hain..... Marne ke baat hi jayada sahityakaar yaad kiya jata hain..... Galib ko kya diya duniya ne..... Prem chand ne jinke liye likha wo kitna jante hain prem chand ko....Jinke pass waqt jayad hain wo aalochna karke kaat lete hain..... Anyways... Aapka subject bhi badiya hain... aur rachna bhi lajawaab

Rakesh Singh - राकेश सिंह ने कहा…

नमस्कार समीर भाई ,
साहित्य क्या है ? इसको शब्दों की परिभाषा मैं बंधना उतना ही कठिन है जितना प्यार को कुछ पंग्तियों मैं बांध देना | हिंदी ब्लॉग जगत मैं कुछ लेखन तो निश्चित तौर पे साहित्य है किन्तु ऐसे ढेर सारे लेखन मिलेंगे जिसे साहित्य नहीं कहा जा सकता | और यदि वैसे लेखन को साहित्य कहा जाये तो मुझे ये कहने मैं कोई गुरेज नहीं की हिन्दी ब्लॉग, साहित्य के स्तर को घटिया बनने वाला है |

आपकी भारत के विकास को लेकर सोच ग़ज़ब की है | सरल सब्दों मैं बहुत सुंदर लिखा है |

यूनिक नम्बर आईडेन्टिटी पे भी आपकी सोच वाजिब है |

कविता क्या है तो बहुत सुंदर है | अपनी ऊर्जा बनाये रखें और इसी लगन से हिंदी ब्लॉग जगत की शोभा बढ़ते रहें |

धन्यवाद

Dr. Sudha Om Dhingra ने कहा…

समीर जी,
यह प्रश्न सुनकर-सुनकर तो मैं भी थक गई...
और यह भी कि ब्लाग्स में साहित्य कहाँ है ?
आप का हल ....हा -हा
कविता का भाव बहुत सुंदर है..
कभी हँसाता
कभी गुदगुदाता
तो
कभी रुलाता
सूरज की सीमा
के पार ले जाता
फिर भी
अक्सर
भूखा ही सो जाता

Prem ने कहा…

कविता क्या है -पर कुछ पंक्तियाँ हमनें भी लिखी थीं ,आपनें पढ़ी होंगी ,पर आपका जवाब नहीं ,आपनें तो सारी सृष्टि ही समेट दी उसमे । बहुत सुंदर । साहित्य पर लेख साहित्य ज़रूर है । मेरी रचनाएँ पढने का शुक्रिया

Urmi ने कहा…

बहुत बढ़िया लगा आपका पोस्ट! ख़ूबसूरत रचना के साथ साथ शानदार और मज़ेदार कार्टून बेहद पसंद आया!

अनूप शुक्ल ने कहा…

बड़े नकारात्मक विचार हैं। साहित्य को पूरा फ़ाहित्य बना के छोड़ दिया। ऐसी उलट-पुलट बातों को कविता लिखने के चक्कर में ही बेचारे कवि बदनाम हो जाते हैं। करे कोई भरे कोई!

अनाम ने कहा…

hi... just dropping by!
http://www.fileafro.com
http://mobileandetc.blogspot.com
http://kantahanan.blogspot.com

अनाम ने कहा…

जो अपने भावों को लिखने की क्षमता रखता है वह साहित्यकार है

तो ब्लॉगरों ने कोई गुनाह किया है क्या :-)

तनु श्री ने कहा…

बहुत अच्छा लिखे हैं,आभार.

नीरज गोस्वामी ने कहा…

साहित्य और ब्लॉग की जंग तो मंदिर मस्जिद से भी भीषण हो चली है...छोडिये न...साहित्य हो न हो भावाभिव्यक्ति तो है ही...बस इतना काफी है...
जहाँ अच्छा लगे वहां टिपिया दो ,
जहाँ बुरा लगे वहां जाने दो....

{बतर्ज़ : मेरी बात के माने दो
जो अच्छा लगे उसे अपना लो,
जो बुरा लगे उसे जाने दो }
कविता बहुत अच्छी और सच्ची लिखी है आपने...बधाई.

नीरज

प्रशांत गुप्ता ने कहा…

साहित्य कि तो नहीं जानता पर देश के विकास का बहुत सही चित्रण किया है

पंकज सुबीर ने कहा…

समीर जी मेरे विचार में आप व्‍यर्थ ही परेशान हो रहे हैं । क्‍योंकि हमारे कहने और न मानने से कुछ नहीं होता । समय के क्रूर हाथों से निकल कर जो जिंदा बचेगा वो साहितय होगा । जो खत्‍म हो जायेगा वो साहित्‍य था ही नहीं । चाहे जो पत्रिकाओं में हो चाहे ब्‍लाग पर जो शेष रहेगा वो ही साहित्‍य होगा । समय की हवाएं जिसे समाप्‍त कर देंगीं वो साहित्‍य नहीं होगा ।

Alpana Verma ने कहा…

कविता बहुत ही अच्छी है और भारत के विकास पर जो बातें कही हैं वे भी सच के करीब हैं.
कार्टून मजेदार है..और थक गए कह कर जो व्यंग्य लिख दिया वह भी खूब है.

Vaibhav ने कहा…

ये भी बताइए कि इतनी मगजमारी करने के बाद पता चला "साहित्य क्या है?" या नहीं ????????

naresh singh ने कहा…

जो हमारे समझ मे नही आये वह उच्च कोटि का साहित्य है ।

yehmeriduniahai ने कहा…

चलिए....कम से कम आपका थकना तो सार्थक हुआ...वैसे भी हम जैसे लोग तो अब शायद सदर बाज़ार की राह ही पकडेंगे...ताकि साहित्य की खोज़ में कोई साहित्यिक रचना ही नसीब हो जाए...
वैसे जिसका अंत सही हो...यानी सही इति...तो साहित्य बन ही जाता है....फिर इसे भारत के विकास से जोड़ा जाए या फिर खुद के।

yehmeriduniahai ने कहा…

चलिए....कम से कम आपका थकना तो सार्थक हुआ...वैसे भी हम जैसे लोग तो अब शायद सदर बाज़ार की राह ही पकडेंगे...ताकि साहित्य की खोज़ में कोई साहित्यिक रचना ही नसीब हो जाए...
वैसे जिसका अंत सही हो...यानी सही इति...तो साहित्य बन ही जाता है....फिर इसे भारत के विकास से जोड़ा जाए या फिर खुद के।

PBCHATURVEDI प्रसन्नवदन चतुर्वेदी ने कहा…

समीर जी,
आप की चिन्ता जायज है....साहित्य ब्लाग पर भी है ये भला वो कैसे जान सकते हैं जिन्हें माउस पकड़ने भी नहीं आता...और समस्या ये है कि वही साहित्य के भाग्यविधाता बने बैठे है.....

गिरीश बिल्लोरे मुकुल ने कहा…

तो ऐसे ही मानने न मानने के चक्कर में, पत्रिकाओं के गरिष्ट ओह नो!! वरिष्ट साहित्यिक संपादकों से संबंधो के अभाव में, आलोचकों और अनेक साहित्यकारों के कम्प्यूटर ज्ञान के अभाव में, ब्लॉग पर साहित्य नहीं रचा जा रहा है विषय पर सारे ब्लॉगर चिंतित हैं.
आप का उपरोक्त कथन बिलकुल सही है,किसी भी स्थिति में तथाकथित साहित्यकार जो नेट का न नहीं जानते छिद्रान्वेषण में जुट जाते हैं

महामंत्री - तस्लीम ने कहा…

Kahne wale kahte rahenge, likhne wale likhte rahenge.
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

अमिताभ श्रीवास्तव ने कहा…

SAHITYA...
pachada he, jhagda he, lafada he..
bole to jise pata he vo bataye..ham kyu dimag khapaye..//itana sundar likhate he aap hame to isime maza aaye,,aour kya bataye..//
vese is gambhir vishaya ki vyakhya bhi kar li jaaye to koi na koi turram khaa nikal hi aayega jo 'sahitya kaat' ki upadhi se vishubhit hoga//dekhe koun nikalata he esa maha pandit?

Hill Goat ने कहा…

lovely read. i can see your heart and soul are still in india

Dr. Chandra Kumar Jain ने कहा…

कमल है साहब.
आप सचमुच बहुत डूब कर लिखते हैं,
पर पाठकों को उबार देते हैं.
==============================
डॉ.चन्द्रकुमार जैन

शोभना चौरे ने कहा…

itna steek aalekh aur utni hi sundar kavita ki vyakhya .ham to bhai abhari hai aapke jo aapne itni shjta se blog ke sahity ko, jo log sahity nhi mante unko nya sahity rchkar de diya hai .jeevan ki mushiklo me sukun de ,ak dusre ko aaps me jod de aise blog ke sahity ke pujari hai ham .
ham ye nhi jante ki itihas me darj hoge ya nhi vrtman me khush hai ham.
dhnywad

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

साहित्य साहित्य सब चिल्लाता है,
पर पूछो तो कोई नही बताता है,
व्याकरण और शब्द पर,
सब आवाज़ उठाता है,
और प्रेम की सच्ची अभियक्ति,
कोई नही समझ पाता है.

भावनाओं और विचार का संगम ही साहित्य हैं,
ग़रीबों के जख्म का मरहम ही साहित्य है,
कठोर और बड़े शब्द से वाह वाही लुटना नही,
जो बांट ले दूसरों का गम वही साहित्य है.


आपकी बात बहुत सच्ची लगी,
मन को भा गया,
आपके सुंदर विचार से हमे भी,
थोड़ा बहुत साहित्य आ गया.

Unknown ने कहा…

हम कुछ डर सा गया हू़. सबसे हम कहते फिरे हम साहित्य पढे बहुत, सो हम पढे लिखे. अब कौन सुसर बतायगो के प्रेम चन्द जो लिख गये ऊ साहित्य है कि नाही, ऐसे ही बच्चन वा भौत पढे कल काऊ हिन्द युग्म की अगली बैठक मे़ आके कह दे कि सहित्य वो ही है जाय हिन्दि के कठमुल्ला चौडे मे़ कह दे़ कि भाई ई साहित्य है. तब तक आगे पढना लिखना बन्द. ओर्कुटिन्ग चालो आहे.

admin ने कहा…

समीर जी, जो पढ़ा जाता है वह चाहे न चाहे साहित्य का ही हिस्सा होता है. अच्छा, घटिया सब बाद में तय होता है. पर आपकी परेशानी को देखकर एक नए चाँद के दिखने का खतरा लगने लगा है. यह अलग बात है कि यह कनाडा से दिखेगा. और हाँ, यह अपना नाम आपने दिलचस्प कर लिया है - समीर लाल उड़नतश्तरी वाले - इस खोजी नाम के लिए आपको बधाई

Gyan Dutt Pandey ने कहा…

बेहतरीन पोस्ट है| टिप्पणियां इतनी ज्यादा हैं कि निश्चय ही यह साहित्य नहीं है!

अर्कजेश ने कहा…

हम तो बड़ी देर से पहुंचे ! समस्या आपने बड़े विकट तरीके से उठाई है |
देखो बड़े भाई ! बात बस इतनी सी है कि साहित्य वही है जिसको साहित्यकार घोषित करे कि यह 'साहित्य' है और साहित्यकार उसको बोलते हैं जो साहित्य लिखता है |:)

amlendu asthana ने कहा…

Samir Zee sahitya ki chrcha se vikas ki pagdandi per bakhubi utren hain ap. mn ya atma ki abhiwyakti ko sahityavidon dwara banaye gye niyamon mein bandha nahi ja sakta. sahitya to mn aur atma ki sahaj abhiwyakti hai. jo shabd zeevan ko gune-bune aur hamare ander tak uter jye wohi sahitya hai. Apne kamal ka likha hai.

Unknown ने कहा…

इसका रचयिता कवि

कभी हँसाता
कभी गुदगुदाता
तो
कभी रुलाता
सूरज की सीमा
के पार ले जाता
फिर भी
अक्सर
भूखा ही सो जाता

बढिया ।
कार्टून भी मजेदार ।

रंजना ने कहा…

आपका आलेख पढना आरम्भ किया,हर वाक्य पर सहमति और दाद में सर हिलाए जा रही थी कि आपकी कविता मिल गयी पढने को.......बस थम कर रह गयी......

ऐसे लेखन और रचनाओं को सिर्फ इसलिए कि ये ब्लॉग पर लिखे जा रहे हैं,साहित्य नहीं कहा जायेगा........जो सोचते हैं,वो बड़े ही भ्रम में हैं.....

समय सिद्ध करेगा कि क्या साहित्य है और क्या नहीं.....

KK Yadav ने कहा…

Bahut lajwab likha...sochne par majbur kar diya.

मेरे ब्लॉग "शब्द सृजन की ओर" पर पढें-"तिरंगे की 62वीं वर्षगांठ ...विजयी विश्व तिरंगा प्यारा"

दिलीप कवठेकर ने कहा…

बहुत ही उच्च स्तरीय व्यंग!!

लगता है कि हरिशंकर परसाईजी की आत्मा नें परकाया प्रवेश कर लिया हो. अब ये उच्च कोटी का साहित्य नही तो क्या है?

लगे रहो समीरभाई...

कुछ तो लोग कहेंगे, लोगों का काम है कहना,
छोडो बेकार की बातों में, कहीं अगली पोस्ट नही छूट जाये...

सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी ने कहा…

अपना लिखा हुआ छपवा लीजिए, या न बन पाये तो कागज पर अपने हाथ से उतारकर झोले में रख लीजिए और प्रकाशकों मुद्रकों की ड्योढ़ी पर इसे लेकर घूम आइए। ससम्मान वापस भी कर दें तो भी वह साहित्य की श्रेणी में आ ही जाएगा। इंटरनेट पर ठेलकर आप इसे साहित्य की ‘चारदीवारी’ से बाहर कर रहे हैं।

आपका साहित्य ‘बिखरे मोती’ में सिमटा है...। क्या कहा? वह सब यहीं से लिया गया है? ओहो, हें हें, हें हें...।

sudhakar soni,cartoonist ने कहा…

majedaar cartoon

शिवम् मिश्रा ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.
शिवम् मिश्रा ने कहा…

समीर जी, मज्जा आ गया |
बढ़िया उडान |
वैसे ,धरती के इस जीव के ब्लॉग में रूचि लेने के लिए उड़न तस्तरी को बहुत बहुत धन्यवाद |

शिवम् मिश्रा ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.
Hari Shanker Rarhi ने कहा…

आज की दूरदर्शनी दुनिया में साहित्य एक बिजूका है.

स्वप्न मञ्जूषा ने कहा…

अब थकने के बाद अगर ये जलवा है तो फुल चार्ज में क्या करेंगे आप समीर जी...
न न थकने का नहीं, बस चलते रहने का, मतलब कलम चलते रहना का...
हम भी यही जानना चाहते हैं की साहित्य की परिभाषा क्या है ?
सुना तो था की समय के साथ-साथ साहित्य की परिभाषा भी बदलती जाती है, अब कोई लेटेस्ट परिभाषा का बाद ज्ञाता हो कृपया हम पर भी किरपायिगा...

रचना. ने कहा…

..जबलपुर मे ही एक मित्र से जबर्दस्ती एक किताब (नामी साहित्यकार की) ले ली थी...बडी चर्चित है पुस्तक इन दिनो..
पढी तो एक अजीब सी कसमसाहट पैदा कर गयी मन मे.. दुख नही हुआ मुझे कि मैने "साहित्य" नही पढा है.:)