सोमवार, अगस्त 01, 2011

तुम धड़कन पढ़ना जानती हो....

अक्सर अकेले में डायरी के पीले पड़ गये सफहों से गुजरने का भी मन कर आता है. गांव के पीले सूखे खेत में अक्सर ही घूमता रहा  हूँ मैं. नंगे पैर. चलने में करीचियों की चुभन और  दर्द का मीठा सा अहसास. आदत में शुमार बातों की कोई खास वजह नहीं होती, बस यूँ ही...वो गीत सुनते:

यूँ ही दिल ने चाहा था, रोना रुलाना...
तेरी याद तो बन गई एक बहाना...

रुकता है सफहों को पलटने का सिलसिला-ठीक उस कोरे पन्ने पर आकर, जो किसी भी भरे पन्ने से भी ज्यादा भरा सा लगता है..अलिखित इबारतों की एक लड़ी शरीर पर रेंगती लाल डंक वाली चीटियों की सिहरन लिए..पन्ने के .बीचों-बीच एक हल्की सफेदी थामे गोलाकार निशान...याद आता है वो लम्हा, जब कैद कर लिया था इस पन्ने ने, तुम्हारी आंसू की उस बूँद को- जो टपकी थी उस वक्त  जब मेरी डायरी पर झुकी तुम मुझसे नजरे चुराती कह रही थी..अलविदा. अब शायद अगले जनम में मुलाकात हो. कहा था तुमने  कि हम वादा करें कि अब कभी नहीं मिलेंगे इस जनम में..... याद है? 
उस रात एक तारा टूटा था छत पर उत्तर की दिशा में, और हम निहारते रहे थे उसे ओझल.होने तक .बिना कुछ मांगे. अपने हिस्से के आगे कुछ भी छीन लेना तुम्हें कब पसंद था भला. सो छूट गये वो दो हाथ भी थमने के पहले...ढहा सपनो का ताजमहल बनने के पहले...बस्स!! इतना ही!! 

शायद, शब्दों  ने जो गुंजाईश दी, बस उन्हीं बैसाखियों पर टंगे निकल पड़ा मै , निपट अकेला तन्हाईयों के जंगल में..कहाँ रह पाई तुम भी अपने आपको अपने वादे पर अटल....रोज तो चली आती हो याद बनके मेरे सपने में...नींद से जागने का मन नहीं होता..... दुनिया सोने नहीं देती. मैं जाग  नहीं पाता तो लोग अक्सर ही दीवाना नाम दिये जाते हैं..मुझे बुरा नहीं लगता ये नाम भी.

कभी तो मन करता है  कि लिखूँ उसी पन्ने पर एक कविता...तुम्हारे तुम होने की या तुम्हारे गुम होने की.....

शिव कुमार बटालवी याद आने लगते हैं:

एक कुड़ी जेदा नाम मोहब्बत...
गुम है...गुम है...गुम्म है!!!!.......

girl

वो तुम्हारी बातों की वसीयत..जिसे थामें चला आया हूँ, उन बैसाखियों पर टंगा इतनी दूर, उम्र के इस पड़ाव पर..जहाँ से अब बस धुँधलका ही नज़र आता है..आगे भी और मुड़ कर देखूँ तो पीछे भी - यादों की गहरी वादियों में.. रोक देती है मुझे- भरे पन्ने को फिर से भरने को. चाहूँ तो भर दूँ...एक नया जाम....पर खुमार...उन यादों का..उस रात से चढ़ा,,,.रोक देता है. तब ऐसे में टपका देता हूँ एक बूँद और अपने आँसू की उस पन्ने के कोने पर...और इन्तजार करता हूँ कि कब वो मिल जाये उस निशान से, जिसे छोड़ गई थी तुम और कैद कर लिया था मेरी डायरी के  कोरे पन्ने ने.

कभी तो मिलन होगा...हमारा न सही..इन बूँदों का ही सही. एक तसल्ली काफी है..मधुर मिलन की...बैसाखियों को किनारे रख- चिर निद्रा में सुकून से लीन होने के पहले!! लब पर मुस्कान लिए...
एक विचार उठता है फिर उसी कोने से..कहता है- पगले, हर कविता लिखी जाये ये जरुरी तो नहीं...भाव यूँ भी अपना सफर तय करना जानते है..उनकी अपनी तरंगे हैं. छोड़ मोह कि- कुछ लिख डाल और बहने दे उन भावों को..उनके अपने प्रवाह में..हट जा किनारे और देख साक्षी भाव से उन्हें प्रवाहित होता..एक महा मिलन का उत्साह लिए..सागर में जा समाहित होने की उमंग....छल रहित....छल छल कल कल की धुन बजाता....जोड़ कान उस धुन से...नाच कि एक उत्सव है आज!! एक महोत्सव..महा मिलन की आस का....सावन में झूलती गोरी की मद मस्त पैंगें...और वो सखियों के संग नाचते हुए उठती कज़री की धुन!!

बदरा....गरज बरस तू आज.....

झकझोरते ख्यालात ...थमीं सी कलम....एक और बूँद उस आँसू की-- जो प्रवाहित कर गई सारे भाव बिना लिखे तुम्हारे पढ़ने को...बांच लोगी तुम...मुझे पता है...सुन तो सब लेते है लेकिन तुम धड़कन पढ़ना जानती हो!!! एक अनजान मोड़ पर थमी कहानी...जिसका कोई सारांश नहीं..इन्तजार करती है तुम्हारी उन नीली पनीली आँखों से तकती नज़रों का..

मिलोगी जब
इस बार
घूमेंगे हम
हरियाली के आगोश में
हाथ मे हाथ थामें
भीगेंगे उस
दूध झरने के
नीचे 
और थक कर चूर
बैठ किसी भरे पेड़ के नीचे
तने से पीठ टिकाये मैं
और मुझ से टिकी तुम...
बँद आँख
सपनों की दुनिया का 
वो पूरा चाँद देखते .....
मत करना उम्मीद मुझसे कि
कुछ गुनगुनाऊँगा मैं...
याद है तुमने कहा था उस रात 
मुझसे दूर जाते
कितना बेसुरा हूँ मैं...
-मैं फिर तुम्हें खोना नहीं चाहता...

-समीर लाल ’समीर’

Indli - Hindi News, Blogs, Links

75 टिप्‍पणियां:

रश्मि प्रभा... ने कहा…

एक विचार उठता है फिर उसी कोने से..कहता है- पगले, हर कविता लिखी जाये ये जरुरी तो नहीं...भाव यूँ भी अपना सफर तय करना जानते है..उनकी अपनी तरंगे हैं. छोड़ मोह कि- कुछ लिख डाल और बहने दे उन भावों को..उनके अपने प्रवाह में..हट जा किनारे और देख साक्षी भाव से उन्हें प्रवाहित होता..bejod bhaw

Akanksha~आकांक्षा ने कहा…

भावपूर्ण अभिव्यक्ति..सुन्दर लगी..बधाई.

Vijai Mathur ने कहा…

अतीत की यादों की मर्मांतक अभिव्यक्ति ।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत भावप्रणव पोस्ट!

Khushdeep Sehgal ने कहा…

आंख से छलका आंसू,
और जा टपका शराब में,
दिल में चुभा जो कांटा,
वो जा निकला गुलाब में...

जय हिंद...

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

प्यार के एहसास में सनी नेह की बँधी डोर न जाने कब तक लिखवाती रहेगी..बेचारे इस दिवाने को भी पता नहीं...जमाना चाहे हमको कहे दिवाना,पर क्या फर्क पड़ता है..यही एहसास तो है जो आज ना होकर भी हमारे खुद के होने को अस्तित्व दे रहा है..लाजवाब लिखा है आपने....बहुत सुंदर।

सतीश सक्सेना ने कहा…

बहुत प्यारा लिखते हो समीर भाई !
शुभकामनायें !

Apanatva ने कहा…

ye bhav pravah to itna gahra tha ki dubo gaya.........

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ ने कहा…

कैसे तारीफ करूँ समझ न आए...बहुत-बहुत बधाई

ब्लॉ.ललित शर्मा ने कहा…

एक कुड़ी जेदा नाम मोहब्बत...
गुम है...गुम है...गुम्म है!!!!

गुमशुदा की तलाश में कब से भटक रहे हैं, इश्तिहार भी लगवा दिया, पर पता न चला। कहीं मिले तो बताएं, और पते पर पहुंचाएं।:)

शुभकामनाएं

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

बहुत बढ़िया सर ।
----
आपकी एक पोस्ट की हलचल आज यहाँ भी है

वाणी गीत ने कहा…

सिर्फ एक शब्द ...लाज़वाब !

मीनाक्षी ने कहा…

हम अक्सर अपनी डायरी के पन्नों को खोल कर बन्द कर देते हैं और आप लिख जाते हैं.... बेहद खूबसूरत सपनीला लेख

Babli ने कहा…

बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण प्रस्तुती! लाजवाब पोस्ट!

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

'हर कविता लिखी जाये ये जरुरी तो नहीं...'
और हर कविती पूरी हो जाये यह भी कहाँ ज़रूरी है !

सुज्ञ ने कहा…

भावों के अथाह सागर में लगवाते है आप डुबकियाँ!!
प्रतीको से साक्षात कर देते है हमारी अनुभूतियाँ !!

पन्ने के .बीचों-बीच एक हल्की सफेदी थामे गोलाकार निशान...याद आता है वो लम्हा, जब कैद कर लिया था इस पन्ने ने, तुम्हारी आंसू की उस बूँद को- जो टपकी थी उस वक्त जब मेरी डायरी पर झुकी तुम मुझसे नजरे चुराती कह रही थी..अलविदा.

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

अलग सी अपनी बात कहती एक सुन्दर पोस्ट जो बीते समय को फिर से अपने पास रोक कर रखने की उम्मीद जगाती है ...............सफ़र तय करना जरुरी है फिर वह चाहे किस तरह से भी प्रवाहित हो .....बेहतरीन

डॉ टी एस दराल ने कहा…

एकांत में बैठकर सोचने लगें तो सभी के जीवन में ऐसी कहानियां बनती बिगडती होंगी .
बहुत मार्मिक रूप में प्रस्तुत किया है आपने .
बेशक सपनों की दुनिया हकीकत की दुनिया से ज्यादा सुनहरी होती है .

मथुरा कलौनी ने कहा…

समीर जी पोस्‍ट पढ़ कर आनंद आ गया। बहुत ही नफासत से नाजुक यादों को कुरेदा है।

निवेदिता ने कहा…

समीर जी , आपकी भावनायें एकदम नि:शब्द कर गयीं ......... गद्य में भी कविता के कोमलतम भावों को प्रवाहित कर दिया ...... आभार !

rashmi ravija ने कहा…

बारिश का मौसम तो यहाँ है..पर असर आप पर ज्यादा दिख रहा है...:)
ख़ूबसूरत गद्य को कॉम्प्लीमेंट करती हुई प्यारी सी कविता...

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

खूबसूरत यादें सावन की हरियाली की तरह ताज़ी...

kshama ने कहा…

बदरा....गरज बरस तू आज.....

झकझोरते ख्यालात ...थमीं सी कलम....एक और बूँद उस आँसू की-- जो प्रवाहित कर गई सारे भाव बिना लिखे तुम्हारे पढ़ने को...बांच लोगी तुम...मुझे पता है...सुन तो सब लेते है लेकिन तुम धड़कन पढ़ना जानती हो!!! एक अनजान मोड़ पर थमी कहानी...जिसका कोई सारांश नहीं..इन्तजार करती है तुम्हारी उन नीली पनीली आँखों से तकती नज़रों का..
Uf!!

बेनामी ने कहा…

Mitt gaye maree umeed ke tara harf magar
aaj tak tarey khatoon say taree kushboo na gayee.
(not mine)

Puran chand

Gyandutt Pandey ने कहा…

गजब है रूमानियत!
अब पढ़ने को मिल रहा है जब यह भूल सा गया हूं कि कुड़ी कैसी होती है! :(

डॉ.वीणा श्रीवास्तव ने कहा…

जब -जब अंतर्मन में झांको एक ऐसा शब्दकोष खुल जाता है जिसमें शब्द और भाव एक साथ निर्झर होते हैं बस शर्त वही है ...की आप अंतर्मन की धड़कन पढ़ना जानते हों .बहुत-बहुत बधाई .

दिगम्बर नासवा ने कहा…

उफ़ .... तुम भी न ... क्या गज़ब करते हो समीर भाई ... साधना भाभी और तुम्हारी फोटो गुज़र गयी नज़रों के सामने से ... और कौन कमबख्त कहता है तुम बेसुरे हो ....

मान जाऊंगा..... ज़िद न करो ने कहा…

हर पंक्ति दिल को चीरती हुई निकली जाती है.... हर शब्द , हर पंक्ति भावनाओं के सागर में गोते लगाने को मजबूर करती है....
-आकर्षण

PRIYANKA RATHORE ने कहा…

bahut khoobsurat abhivyakti...aabhar

संजय भास्कर ने कहा…

लाजवाब लिखा है आपने....बहुत सुंदर...समीर जी

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

Vaanbhatt ने कहा…

क्या बात है...ये दर्द बड़े गहरे से निकला है...डायरी के सफ़ेद पन्नों में गुम दास्तान...बहुत ही संजीदा लेखन...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

एक और बूँद उस आँसू की-- जो प्रवाहित कर गई सारे भाव बिना लिखे तुम्हारे पढ़ने को...बांच लोगी तुम...मुझे पता है...सुन तो सब लेते है लेकिन तुम धड़कन पढ़ना जानती हो!

बहुत सुन्दर .. अतीत के पन्ने पलट कर रख दिए हैं ... अच्छी प्रस्तुति

pooja goswami ने कहा…

तुम्हारे तुम होने की या तुम्हारे गुम होने की.....

भावुक कर देने वाली बेहद खूबसूरत रचना.....
बधाई...

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

@यूँ ही दिल ने चाहा था, रोना रुलाना...
तेरी याद तो बन गई एक बहाना...
बहुत खूब भाई जी.

sandeep sharma ने कहा…

एक कुड़ी जेदा नाम मोहब्बत...
गुम है...गुम है...गुम्म है!!!!.......

:) har bar ki tarah NIce Post...

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बहुत लाजवाब लेख, खुली आंख से देखे सपने ही अपने होते हैं, बंद आंखों मे तो सपनों पर भी किसी और का वश है. इसलिये आंखे खुली रखकर सपने देखना ही समझदारी है.

रामराम

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

जब सुर ही साथ छोड़ बैठे हों तो क्या खोना क्या पाना? वह तो लय वापस आने के बाद पता लगता है कि क्या पाना था?

POOJA... ने कहा…

master... truly...
mai aur kuch kah saku itni badi bhi nahi...

devendra gautam ने कहा…

जज़्बात अगर मोती की शक्ल अख्तियार कर लेते और उन्हें धागे में पिरोकर माला बनायीं जाती तो तो वह ठीक आपके इस आलेख जैसी होती. इधर कुछ दिनों से आप बहुत ज्यादा जज्बाती होते जा रहे हैं. जज्बों की नदी में तैरना अच्छा है. इसमें गोते लगाने से भी बहुत कुछ मिल जाता है लेकिन उसमें बह जाना खतरनाक है..वैसे लिखने वाला तैरकर निकल जाये और पढने वाला लहरों के थपेड़ों में गुम हो जाये. इसका खतरा ज्यादा है.

PRAN SHARMA ने कहा…

TUMAREE YAAD HEE TUMSE BHALEE HAI
JO GAM MEIN SAATH DENE AA GAYEE HAI

YAADEN HAMESHA KUCHH N KUCHH APNE
SAATH LAATEE HAIN .MARMIK ABHIVYAKTI KE LIYE BADHAAEE AAPKO.

गिरीश"मुकुल" ने कहा…

bahut खूब दादा
वाह क्या बात है

रचना दीक्षित ने कहा…

बहुत ही भावनात्मक. बहुत खूब. बधाई.

Navin C. Chaturvedi ने कहा…

तने से पीठ टिकाये मैं
और मुझ से टिकी तुम...

वाह क्या कल्पना है समीर भाई| जय हो|

sushma 'आहुति' ने कहा…

बहुत बहुत खुबसूरत....

Dr.Bhawna ने कहा…

हर कविता लिखी जाये ये जरुरी तो नहीं...भाव यूँ भी अपना सफर तय करना जानते है..उनकी अपनी तरंगे हैं...

Bavon ki ye tarnagen,safar bahut acha taya kiya aapne..gahri chaap,rachna bhi anmol...hardik badhai..

रूप ने कहा…

सपनों की दुनिया का
वो पूरा चाँद देखते .....
मत करना उम्मीद मुझसे कि
कुछ गुनगुनाऊँगा मैं...
याद है तुमने कहा था उस रात
मुझसे दूर जाते
कितना बेसुरा हूँ मैं...
-मैं फिर तुम्हें खोना नहीं चाहता...
बेसुरेपन की धुन तुम क्या जानो,

दिल से निकले आह की अंगड़ाई है

समीर जी भाव -विभोर कर दिया आपने , बधाई !

Priyankaabhilaashi ने कहा…

क्या खूब लिखा है..!! लाजवाब..!!!

Suman ने कहा…

वाह सर जी,
मेरे पास शब्द कम है तारीफ में
समूची पोस्ट काव्यमय है भावविभोर कर दी ..

सुन तो सभी लेते है तुम धड़कन पढना जानती हो
बेहद सुंदर.... धड़कन पढने वाले लोग बहुत शानदार होते है !

सागर ने कहा…

khubsurat ehssao ko kitni sehjta se prstut kiya hai aapne... bhaut khub...

vidhya ने कहा…

बहुत भावप्रणव पोस्ट!

Dr.Ashutosh Mishra "Ashu" ने कहा…

बैठ किसी भरे पेड़ के नीचे
तने से पीठ टिकाये मैं
और मुझ से टिकी तुम...
बँद आँख
सपनों की दुनिया का
वो पूरा चाँद देखते ..... bade hi santulit andaz mein shabdon ka istemal karte hain ..lagata hai aap jo kuch likh rahe hain ham uske sakshi hain..sadar pranam ke sath

मनोज कुमार ने कहा…

आपको पढना सदैव अच्छा लगता है। इसबार भी।

विष्णु बैरागी ने कहा…

आपकी यह पोस्‍ट पढ कर मेरे मन की बात, श्रीसूर्यभानु गुप्‍त के इस शेर के जरिए पूरी होती है -

यादों की इक किताब में कुछ खत दबे मिले
सूखे हुए दरख्‍त का चेहरा हरा हुआ

Dr Varsha Singh ने कहा…

very nice meaningful creation.

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

खूब .... रूमानी भावों की गहरी अभिव्यक्ति

indu puri ने कहा…

'एक बूँद और अपने आँसू की उस पन्ने के कोने पर...और इन्तजार करता हूँ कि कब वो मिल जाये उस निशान से,'
ओह यह तो आत्मा और परमात्मा के अद्भुत मिलन सा है एकदम अशरीरी. बिना प्यार किये कोई प्यार की गहन अनुभूति को इस तरह शब्दों में नही ढाल सकता.
जाने ...आप जैसे विद्वान लेखकों को शब्दों के खेल में माहिर भी देखा है मैंने.किन्तु आप????नही .शब्दों से खेलते नही आप.खेल ही नही सकते.आप 'उन' लेखकों जैसे नही हो सकते दादा!
प्यार का पावन अद्भुत और खूबसूरत रूप देखा है मैंने आपकी रचनाओं में.
विचलित कर देती है ऐसी रचनाये मुझे.क्यों बुरी तरह रोने लगती हूँ मैं?????और भगवान से कहती हूँ 'इन्हें इस जनम में दूर किया.अगले जन्म में ऐसा मत करना.मिला देना.इन दो आंसुओ की बूंदों की तरह. सचमुच दिल को छू लेने वाला लिखते हो दादा कभी कभी तो.दुष्ट हो.मैं यहीं से आपके मन की उथल पुथल को देखती हूँ और....भीगी हुई आँखों को भी.ऐसा न किया करो दादा! हम कठपुतलियाँ हैं.हम लिखते हैं.हमारा ???कोई और लिखता है.

अजय कुमार ने कहा…

priytam kee madhur yaad ,wirah kee vedanaa ,sundar abhiwyakti.

anu ने कहा…

अतीत की यादो के सफ़र में हम भी आपके साथ ...घूम आये
इस अतीत के पन्नो में छुपे राज़ को हम भी कहीं काफिले के
रूप में हम साथ ले आये ....बंद है कुछ पन्ने मेरी भी जिन्दगी के .....
अनु .......

बी एस पाबला ने कहा…

भावुक कर देने वाली रचना

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

aapme shab-dar-shabd dusre ke bheetar kahin gahre me sama jane ka hunar maalum hai aur jab post khatam hoti hai to nikalna mushkil ho jata hai.

uff....lekin nikalna to padta hai.

bheegi si chader samite.

रवि धवन ने कहा…

सर, बहुत अच्छा लगा आज आपको पढ़कर। मन नहीं कर रहा हटने को। बार-बार पढऩे को जी कर रहा है।

Surendra shukla" Bhramar"5 ने कहा…

आदरणीय समीर लाल उड़न तश्तरी जी --सुन्दर लेख व् सशक्त रचना काफी कुछ कहती सन्देश देती हुयी -बीते लम्हे याद आते हैं तो मन ....
शुक्ल भ्रमर 5

याद आता है वो लम्हा, जब कैद कर लिया था इस पन्ने ने, तुम्हारी आंसू की उस बूँद को- जो टपकी थी उस वक्त जब मेरी डायरी पर झुकी तुम मुझसे नजरे चुराती कह रही थी..अलविदा. अब शायद अगले जनम में मुलाकात हो. कहा था तुमने कि हम वादा करें कि अब कभी नहीं मिलेंगे इस जनम में.....

P.N. Subramanian ने कहा…

भावुकता से परिपूर्ण सुन्दर पोस्ट.

Gaurav Srivastava ने कहा…

यूँ ही दिल ने चाहा था, रोना रुलाना...
तेरी याद तो बन गई एक बहाना...

लिखूँ उसी पन्ने पर एक कविता...तुम्हारे तुम होने की या तुम्हारे गुम होने की.....

मैं फिर तुम्हें खोना नहीं चाहता...

mridula pradhan ने कहा…

मत करना उम्मीद मुझसे कि
कुछ गुनगुनाऊँगा मैं...
याद है तुमने कहा था उस रात
मुझसे दूर जाते
कितना बेसुरा हूँ मैं...
-मैं फिर तुम्हें खोना नहीं चाहता...
wah......ekdam gazab ka likhe hain aaj to......

गिरधारी खंकरियाल ने कहा…

अतीत की आंसू की बूंद को वर्तमान के ब्लोटिंग पेपर से सोखने का शाश्क्त प्रयास

मेरा साहित्य ने कहा…

aapka likha gadya bhi itna kavyamay hota hai ki kavita hi lagta hai aap bahut hi sunder tarike se apni lekhni ke sang sabhi ko baha le jate hain
saader
rachana

shekhar suman ने कहा…

ओह्ह्ह !!! 68 कमेंट्स मिलने के बाद, मेरे 69वें कमेन्ट की वैल्यू मिलेगी या नहीं चाचू ???
हमको तो अच्छी लगी पूरी पोस्ट... बाकी सबकी टिप्पणियों में से थोडा थोडा मेरा भी समझ लीजिये... :)

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

मुंडिया इह तां दस् इह किहड़े उपन्यास दा हिस्सा है ....?
अब ये कौन सा उपन्यास लिखा जा रहा है समीर जी .....?
हमारी बुकिंग तो पहले से है .....

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

यादों के सफे पर टपकी वह आँसू की बूंद कितनी सहेज़ कर रखी है । भाव अपना सफर तय करना जानते हैं शायद तय करके मंजिल तक पहुँच भी गये हों ।
आज तो दर्दे दिल बयाँ कर डाला समीर जी ।

Mansoor Ali ने कहा…

प्यारी रचना, ख़ूब दर्द संजो कर रखा है आपने !

कुछ तो मजबूरियां रही होगी,
ख़्वाब बहते न आंसू बनकर यूं ?
---------------------------------
यह भी कहना चाहूँगा कि:-
"इक कड़ी जेदा नाम हिम्मत है,
गुम थी कहीं ! गुम थी कहीं !! गुम थी कहीं !!!

http://aatm-manthan.com

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

बहुत देर से इस पोस्ट पर रुक गया हूँ .. क्या कहूँ.. न शब्द है , और न ही मन और न ही कुछ और .. सब कुछ तो आपने अपने इस पोस्ट में समेट लिया है .
मन कही जाकर किसी waterfall के पास रुका हुआ है .. सांस किसी चादर पर ठहरी हुई .. शब्द किसी शहर में किसी का इन्तजार करते हुए.. सब कुछ ठहर गया है ..और गले में बहुत कुछ अटक गया है .. आँखों के किनारे पर पानी में किसी का नाम भी तैर रहा है ....भैय्या अब और न लिखा जायेंगा .. ऐसी पोस्ट्स मत लिखा करो सर जी ..

विजय .

Anjana (Gudia) ने कहा…

चलने में करीचियों की चुभन और दर्द का मीठा सा अहसास… zindagi ke raste bhi ese hi hain… nahi? ek hi line mein kitna kuch keh diya aapne…

नींद से जागने का मन नहीं होता..... दुनिया सोने नहीं देती. मैं जाग नहीं पाता तो लोग अक्सर ही दीवाना नाम दिये जाते हैं..मुझे बुरा नहीं लगता ये नाम भी.
Amazingly beautiful post, every line is profound, probably worth a whole post in itself…!

प्रियंका गुप्ता ने कहा…

सच ही तो कहा है...हर कविता लिखी जानी ज़रूरी भी नहीं...। किसी कविता सी ही बस सीधे मन की गहराइयों में उतरने वाली पोस्ट है यह...पोस्ट नहीं यादें...।
क्या कहूँ...यादों की गली में टहलने के लिए बधाई दूँ या बस खामोश रहूँ ???