सोमवार, मई 25, 2009

मैं अनाथ हुआ!!


आज कुछ भी भूमिका बाँधने की न तो इच्छा है और न ही जरुरत!!


सीधे पढ़िये मनोभाव, बड़े अजीब से हैं:

जाने क्या सोचता रहता हूँ?

माँ
नही रही...

और

पिता जी..

उन्होंने कत्ल कर दिया..

अपने जीने की

चाहत का...

बतौर सजा,

कर लिया

कैद

खुद को

खुद के भीतर...

एक अँधेरी काल कोठरी में..

और


पाल ली एक नफरत

जिन्दगी से...


बना ली

एक दूरी

हर शख्स से...

किन्तु

मैं..?

मैं तो

जिन्दा हूँ अभी....

और

वो

होते हुए..

नहीं रहे!!

-मैं अनाथ हुआ!!

-समीर लाल ’समीर’ Indli - Hindi News, Blogs, Links

72 टिप्‍पणियां:

Ravi Srivastava ने कहा…

वाह!!! भावनाओं का कितना सजीव चित्रण किया है आप ने... और कितनी संजीदगी है इन लाइनों में.. सचमुच मजा आ गया...समीर लाल जी उर्फ़ उड़न तस्तरी जी.
एक शिकायत है...पहले तो आप रुक-रुक कर 'मेरी पत्रिका ' पर उतर भी जाते थे पर अब तो आप की उड़न तस्तरी कभी उड़कर इधर नहीं आती.

गिरिजेश राव ने कहा…

आयु बढ़ने के साथ ही वृद्ध जन कुछ अलग से होते जाते हैं. ऐसा मैंने भी अनुभव किया है. साथी की मृत्यु ही नहीं बहुतेरे कारण होते हैं.

बहुत तेजी से बदलती दुनिया और सोच के साथ ताल मेल न बिठा पाने के कारण वृद्ध आज परिवार के साथ रहते हुए भी अकेले हैं. आवश्यकता है उन्हें समझने और उनके साथ थोड़ा समय बिताने की.

आप की भावुक कविता से जुदा यह मुद्दा ध्यान में आया. सोचा पोस्ट कर दूँ ताकि और लोग पढ़ें और समझें.

धन्यवाद्

RAJ SINH ने कहा…

अब रवि जी आप भी कमाल करते हैं . कितना उडें . अब तश्तरी ही हैं .कोई जम्बो जेट नहीं .न पवन पुत्र . थोडा यार सुस्ताने भी दो . उड़ने की भी लिमिट है .

आयेंगे बयार से झोंका बन मिले गें .

समीर जी हम तो कहते हैं थोडा सुस्ती लो कुछ दिन .

Arvind Mishra ने कहा…

ओह ! पर यह आपके साथ ही नहीं है -धैर्य रखें ! आपके समान दुःख वाले भी हैं ! जीवन इसी का नाम है ! जो लेता ज्यादा है देता काफी कम !

Kashif Arif ने कहा…

वाह !! समीर जी, मज़ा आ गया! बहुत अच्छा लिखा है....भावनाऒ को इससे अच्छा कागज़ पर नही उतारा जा सकता है...

Tarun ने कहा…

भाव तो खूब हैं उनके लिये क्या कहूँ, लेकिन ये एक रि-साईकल प्रोसेस है यही सोचकर मन को दिलासा देना पड़ता है सभी को। डाक का इंतजार कर रहा हूँ।

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

बहुत सुंदर रचना है। स्पष्ट यथार्थ है। आप की श्रेष्ठ काव्य रचनाओं में से एक।

बालसुब्रमण्यम ने कहा…

जीवन की गाड़ी समय आने पर सबकी रुक ही जाती है। इसमें हमारा कोई वश नहीं चलता।

Dr. Amar Jyoti ने कहा…

मर्मस्पर्शी!

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

मैं

जिन्दा हूँ अभी....

और

वो

होते हुए..

नहीं रहे!!

-मैं अनाथ हुआ!!

एक यथार्थ अभिव्यक्ति. शुभकामनाएं.

रामराम.

Archana ने कहा…

इसे पढ कर जो कुछ मेरे मन में आया वो----

जिंदा हूँ अभी----

मेरे बच्चों के पिता नहीं रहे
पर मैं अपना गला घोंट न पाई
मैने कत्ल कर दिया
अपनी तमाम हसरतों का
और बतौर फ़र्ज
उठा लिया खुद को भी अपनी गोदी में
अब भी पकडी हूँ हाथ अपने बच्चों के
इसी डर से कि वे भटक न जाएं कहीं
चलती रही हूँ,चल रही हूँ और चलना है मुझे
जब तक कि मंज़िल न पा जाउं कहीं
खुदा से भी कर न पाई कभी शिकायत
कि जिन्दा हूँ अभी !!!

कुश ने कहा…

अद्भुत !!

संजय बेंगाणी ने कहा…

वाह !! समीर जी, मज़ा आ गया!

थोड़े को घणा समझे. अगले के दर्द पर मजा आता है!!!? ऐसा कवितापन शायद ही समझ में आए अपने को.

sada ने कहा…

भावनाओं को बहुत ही सजीव रूप दिया है आपने ।

रंजन ने कहा…

बहुत सुन्दर चित्रण..

अजित वडनेरकर ने कहा…

अब तक पढ़ी उम्दा रचनाओं में शुमार करता हूं इसे।
वाह!!! बेहतरीन अभिव्यक्ति...

मीत ने कहा…

मर्म का अखिती पड़ाव है यह...
बहुत ही भावुक...
मीत

कंचन सिंह चौहान ने कहा…

aap ki yahi adaa hai, jo aap ka mureed banaati hai..!JAB HANSATE HAI TO HANS NAHI RUKTI AUR JAB BHAVUK KARATE HAI HAI TAB SANVEDANAEN..!

डॉ .अनुराग ने कहा…

जीवन एक यथार्थ को उकेरती शब्द रचना ....
जाने क्यों किशोर कुमार याद आये .जब उन्होंने अपनी छवि के विपरीत एक सीरियस मूवी 'दूर गगन की छाँव में "बनायीं ...लोगो को हज़म नहीं हुई .....यहाँ भी हैरानी है की इस दुःख भरी कविता पे लोगो को मजा कैसे आ सकता है ?क्या आपकी छवि आडे आती है आपकी रचनाओ में समीर जी ?

दिगम्बर नासवा ने कहा…

समीर भाई.................आज बहुत ही उदास दिख रहे हो भैया.............कितना सजीव लिखा है ........और कितनी भावनाएं हैं इस कविता में...........ये कोई कविता नहीं...एक दस्तावे है जीवन की सत्य का.....अक्सर ऐसा होता है......जीवन संगिनी नहीं होने पर.........चुप सा हो जाता है पुरुष.......अपने आप में खो जाता है ......सही उतारा है शब्दों के केनवास पर जीवन का यथार्थ

"मुकुल:प्रस्तोता:बावरे फकीरा " ने कहा…

पीडा ही तो सृजन की बुनियाद है आह ! से उपजी इस कविता को प्रणाम

ज्ञानदत्त पाण्डेय | Gyandutt Pandey ने कहा…

ओह! नैराश्य भी कितना रचनात्मक हो सकता है - यह कविता का सृजन प्रमाण है।

Dhiraj Shah ने कहा…

मैंने अभी अभी ब्लोगिंग करना शुरु किया है . मै हिंदी का vidyarthi भी नहीं , पर हिंदी साहित्य पड़ने का शौख भी है , मै एक photographer हु आप की उड़न तस्तरी में अनाथ हुआ में, जाने क्या सोचता रहता हु ......
की फोटो व आलेख देख कर, किसी के उदासी का रहस्य भी जानना भी मुस्किल हो गया है

शोभना चौरे ने कहा…

aapke mnobhav ajeeb se nhi hai par saty ke njdeek hai .bdlti pristhiya
bdlta privesh ham sab mhsus kar rhe hai aur ham bhi usi ka hissa ban rhe hai .

अभिषेक ओझा ने कहा…

पिछले कुछ पोस्टों से भावनाएं और यथार्थ थोक के भाव उड़ेली जा रही हैं !

राज भाटिय़ा ने कहा…

दिल के बहुत करीब लगी आप की यह कविता, जेसे मेरे लिये ही लिखी गई हो.
धन्यवाद

maandarpan ने कहा…

bhut hi achchhi rachna
aap itni badi badi batain itni sahajita se kah dete hai ki andar tak hil jate hai
bhut hi pyari rachna

रंजीत ने कहा…

man bhing gaya, dil jaise deh se nikalne kee koshish kar raha hai.

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` ने कहा…

:-(( अब क्या करेँ ?
जीवन का ये भी कटु सत्य है -
भावाभिव्यक्ति यथार्त से भरी रही नीर भरी बदली सी ही !
- लावण्या

अनिल कान्त : ने कहा…

bahut achchhi rachna hai

SWAPN ने कहा…

bhavnaon ka sajeev chitran kiya hai sameer ji, aaj ka yatharth hai. bahut sundar abhivyakti.

रंजना ने कहा…

क्या टिपण्णी करूँ........

अद्भुद !!!

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

एक यथार्थ परक सुंदर रचना .

अखिलेश चंद्र ने कहा…

bahut khoob Samir ji!

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

एक बात तो माननी पडेगी कि आपके पास संवेदनाएं और लफ्ज दोनों का ही खजाना है।

Manish Kumar ने कहा…

behtareen lagi aapki ye rachna

निरन्तर- महेन्द्र मिश्र ने कहा…

बहुत ही भावुक कर देने वाली प्रस्तुति . इस रचना पर क्या टीप दूं शब्द खोजे नहीं मिल रहे है .

ओम आर्य ने कहा…

फिर से नतमस्तक!

नारदमुनि ने कहा…

main to dar gya tha, anath hone ke dar se. sukr hai sab thik hai. narayan narayan

poemsnpuja ने कहा…

sach itna kadva kyon hota hai. aapke har shabd ko ghat-te dekh rahi hoon.

विनीता यशस्वी ने कहा…

Samir ji ye kavita to dil ko bahut gahre tak chhu gayi...

अनूप भार्गव ने कहा…

Life must go On .....
सुन्दर कविता .....

PRAN SHARMA ने कहा…

AAPKEE KAVITA "MAIN ANAATH HUA"
TEEN BAAR PADH GAYAA HOON MAIN.
TEENON BAAR HEE EK NAYE DARD KAA
AABHAAS HUA HAI.CHAND PANKTIYON
MEIN HEE AAPNE MAHAKAVYA RACH DIYA
HAI JIS TARAH USTAD SHAYAR NAWAAB
MIRZA KHAN"DAAG" NE APNE IS SHER
MEIN MAHAKAVYA RACHAA THAA---
FALAK DETA HAI JINKO AESH
UNKO GAM BHEE HOTE HAIN
JAHAN BAJTE HAIN NAQQAARE
WAHAN MAATAM BHEE HOTE HAIN
AAPKEE IS POOREE KAVITA MEIN
KASHISH HAI,MITHAAS HAI ,ENGLISH
POET SHALLEY KEE IS PANKTI KEE
BHANTI---"OUR SWEETEST SONGS ARE
THOSE THAT TELL OF SADDEST THOUGHTS"

●๋• सैयद | Syed ●๋• ने कहा…

क्या कहूँ ......
......................मर्मस्पर्शी.

महावीर ने कहा…

कविता के लिए कुशल शिल्पी बनना होता है जिससे शब्दों को तराश कर, उन्हें मूर्तरूप दे सकें, उनकी जड़ता में अर्थपूर्ण प्राणों का संचार कर सकें और पंक्तियों में अपने भावों, उदगारों, अनुभूतियों के उमड़ते हुए सैलाब को बूँद में सागर के समान समेट कर भर सकें।
यह अद्भुत गुण आपकी कविता में स्पष्ट लक्षित हैं। भावनाओं का सजीव चित्रण!
बधाई।

राजेश स्वार्थी ने कहा…

बहुत भावुक और संवेदनाओं से परिपू्र्ण अभिव्यक्ति. मन भारी हो गया.

AlbelaKhatri.com ने कहा…

zindgi se badi sazaa hi nahin,
zurm kya hai...pataa hi nahin
atne hisson me bat gaya hoon main
mere hisse me kuchh bacha hi nahin
NOOR SAHEB KA YAH SHE'R main aaj aapke naam karta hoon sameerji, this is really really great!!!
aapne kavya aur kavyakar ka bhed mita diya hai....kavita ko moortiman khada kar diya hai...MERI BADHAI SWEEKAR KAREN

नरेश सिह राठौङ ने कहा…

बहुत ही सार्थक और यथार्थ चित्रण किया है ।

सुमन्त मिश्र ‘कात्यायन’ ने कहा…

एकाकी संवेदनाओं को इतनी शिद्द्त से महसूस करना, शायद इसीलिए पुत्र को आत्मज कहा गया है।

अनूप शुक्ल ने कहा…

जबर कविता, जबरियन कविता।

Nirmla Kapila ने कहा…

लगता है आज आपखुद तो उदास हैण ही हमे भी रुलाने का इरादा है मार्मिक रचना है आभार और शुभकामनायें

मुकेश कुमार तिवारी ने कहा…

समीर जी,

आप केई इस कविता के लिये कोई शब्द नही है, स्पंदन महसूस किया जा सकता है, कविता नही बल्कि यथार्थ को बयां किया है।

हम अपने आस-पास देख सकते हैं कि किसी एक जाने के बाद दूसरा अपनेआप को मार लेता है, और उदासियों को गले लगा लेता है।

मार्मिक चित्रण, सुश्री निर्मला कपिला जी की बात से पूरी तरह सहमत हूँ, कविता जैसे जैसे दिमाग से दिल में उतरती है, आँखें छलछला उठती हैं।

सादर,

मुकेशन कुमार तिवारी

नीरज गोस्वामी ने कहा…

फलक देता है जिनको ऐश
उनको ग़म भी होते हैं
जहाँ बजते हैं नक्कारे
वहां मातम भी होते हैं

प्राण साहेब ने इस शेर के माध्यम से सब कुछ कह दिया है...एकाकी पन की जो तस्वीर आपने उकेरी है वो विलक्षण है...और क्या कहूँ...वाह.
नीरज

निर्झर'नीर ने कहा…

Sameer ji

pahle to bandhaii swikaren

E-next aapki vistrit charcha hui hai..jo sacchai se ru-b-ru karati hai sabko
chha to aap pahle se hi rahe the lekin ab to aap is tarah chaa gaye ho jaise savan mein mansooni badal chaa jate hai.

बना ली

एक दूरी

हर शक्स से...

khoobsurat bhaav ko gine hue shabdo mai khoobsurti se pirona aapki kalam khoob jaanti hai..

marmsparshi kavita

Pyaasa Sajal ने कहा…

adbhut!!

ALOK PURANIK ने कहा…

सरजी क्या कहें मां और बाप पर कित्ता भी लिखें, कम सा ही मालूम होता है।
आपकी चिंताओं के साथ संवेदना है।
कई बार अनकहे में बहुत कहा होता है, सो समझिये कि अनकहे में कह रहे हैं इस बार।

पंकज सुबीर ने कहा…

समीर जी कहते हैं न कि अमेरिका तो पहले से ही वहां था फिर क्‍यों कहा जाता है कि उसकी खोज कोलम्‍बस ने की । दरअसल में कोलम्‍बस ने खोज नहीं की थी उसने तो अमेरिका को बाकी की दुनिया से मिला दिया था । तो आपकी इन कविताओं में जो अद्भुत रूप सामने आ रहा है उसका श्रेय थोड़ा तो शिवना प्रकाशन की टीम को जायेगा ही कि उन्‍होंने एक नये समीर लाल को लोगों से मिलाया । ये कविता भी पूर्व की ही तरह है । आप सही ट्रेक पर हैं उसी पर रहें ।

संजय तिवारी ’संजू’ ने कहा…

bahubadiyaa likha hai her gar ki kahaane kuch alg nhi hai

Science Bloggers Association ने कहा…

आपके चाहने वाले जब इतने ढेर सारे हों, तो फिर आपने आपको अनाथ कैसे कह सकत हैं।

-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

साधवी ने कहा…

मैने बहुत करीब से महसूस किया है इन स्थितियों को. ऐसा लगा कि चलचित्र देख रही हूँ.

dhiru singh {धीरू सिंह} ने कहा…

अचानक अनाथ होना ........ इससे बड़ा कष्ट शायद ही कोई हो

hem pandey ने कहा…

कुछ ऐसी ही वेदना इस शख्स की भी है.

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

वाह,क्या भावनाएँ है आपकी, अद्भुत रचना,समीर जी,

माँ नही रही,

पिता का सहारा भी गया,

वो हर इशारा भी गया,

जो हमसे चुपके से कान मे,

कहता था,बेटा
अभी तो छत है,

क्यों बारिश मे भींगने
की भय पाले बैठे हो,

पर आज सोचता हूँ,

तो मन कचोटता है,
दिलो पर साँप लोटता है,

अब नही है कोई दिल तो तसल्ली देने वाला,

पर हाँ एक बार और,
नही दिखता कोई ठौर,

वो बचपन की बातें तो हमे
बारिश से बचा लेती है,

पत्थरों से बने कठोर महलो मे,
बरसात की बूंदे हमे छू नही पाती,

पर वो बातें घनघोर बादल से
हमारे जेहन मे घूमड़ने लगते है,

और आँसूओं के सैलाब हमारे आँखों मे
उमड़ने लगते है.

venus kesari ने कहा…

कविता बहुत भावुक कर गई, दिल को छु गई


आपका वीनस केसरी

anupam mishra ने कहा…

आपकी उड़न तश्तरी तो कमाल की है दादा

G M Rajesh ने कहा…

vo hote hue nahi rahe

ye aapki ajab kahaani maine kaiiyon ki jubaani suni
baap ne unhe baap hone ka ehsaas dilaayaa
beti ke hone par pitaa ne sab jutaayaa magr
beta hote hi mastaayaa kabhi uski tarakki ka khayaal n kiya kyonki jaise wo the

anitakumar ने कहा…

दुखती रग पर हाथ रख रही है ये कविता।

स्वप्न मंजूषा शैल ने कहा…

दिल के बहुत करीब लगी आप की यह कविता |
मर्मस्पर्शी!

स्वप्न मंजूषा शैल ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
Amarjeet Singh ने कहा…

बहुत बढ़िया

अमरजीत सिंह
http://hotamar.in

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

"मैं..?

मैं तो

जिन्दा हूँ अभी....

और

वो

होते हुए..

नहीं रहे!!

-मैं अनाथ हुआ!!"

मार्मिक पोस्ट।
श्रद्धांजलि।

Priya ने कहा…

sabne itna kuch kaha ki bolne ke liye kuch hai hi nahi......jeevan ki sachchai aur mrityu ki gahrai do ko hi bayan kiya aapne

" Sir, aapka real naam kya hain ?