रविवार, अप्रैल 25, 2010

दिखावे की दुनिया..

अर्थी उठी तो काँधे कम थे,
मिले न साथ निभाने लोग
बनी मज़ार, भीड़ को देखा,
आ गये फूल चढ़ाने लोग...

दुनिया दिखावे की हो चली है. कोई भी कार्य जिसमें नाम न मिले, लोग न जाने- कोई करना ही नहीं चाहता. दिखावा न हो तो बस फिर मैं!!

जिस भी कार्य में मेरा फायदा हो, वो ही मैं करुँगा. संवेदनशीलता मरी. साथ मरी सहनशीलता. अहम उठ खड़ा हुआ दस शीश लेकर. एक कटे और दस और खड़े हो जायें. कोई झुकना ही नहीं चाहता. कोई सहना ही नहीं चाहता.

छोटी छोटी बातें, जो मात्र चुप रह कर टाली जा सकती हैं, वो इसी अहम के चलते इतनी बड़ी हो जाती हैं कि फिर टाले नहीं टलती.

कब और कैसे सब बदला, नहीं जानता मगर बदला तो है.

कुछ दिन पहले किसी बहाव में एक रचना उगी थी:

tree1

 

दो समांतर रेखायें
साथ चल तो सकती हैं..
अनन्त तक..
लेकिन
मिल नहीं सकती...
मिलने के लिए उन्हें
झुकना ही होगा..

आओ!!
थोड़ा मैं झुकूँ
थोड़ा तुम झुको!!

यूँ तो
तुमसे मिलने की चाह में
मैं पूरा झुक जाऊँ
लेकिन
डर है कि
अधिक झुकने की
इस कोशिश में
टूट न जाऊँ मैं कहीं...

और
तुम्हें तो पता होगा!!
टूटे हुए वृक्ष सूख जाया करते हैं!!

-समीर लाल ’समीर’

-आज बस इतना ही!!

Indli - Hindi News, Blogs, Links

127 टिप्‍पणियां:

दिनेशराय द्विवेदी ने कहा…

जीवन का बहुत अनमोल सूत्र।
झुके बिना सहजीवन कहाँ!

Sadhana Vaid ने कहा…

सच कहा है आपने ! अपने अहम को सर्वोपरि रखना आज के इंसान की सबसे बड़ी फितरत हो गयी है ! बहुत सच्ची और अच्छी पोस्ट ! कविता भी बहुत पसंद आयी !

M VERMA ने कहा…

आओ!!
थोड़ा मैं झुकूँ
थोड़ा तुन झुको!!
समीर जी कृपया तुन को तुम कर लें.
झुकना तो होगा, पर मिलन के लिये ---- टूटने के लिये नहीं.
बेहतरीन रचना की बधाई

अजय कुमार ने कहा…

शानदार जीवन दर्शन ।


नेट की समस्या थी इसलिये ब्लाग जगत से दूर था

Khushdeep Sehgal ने कहा…

दो समानन्तर रेखायें,
साथ चल तो सकती हैं..
अनन्त तक..
लेकिन,
मिल नहीं सकती...
मिलने के लिए उन्हें,
झुकना ही होगा..

गुरुदेव, आज जीवन का सार दे दिया आपने...

जय हिंद...

कनिष्क कश्यप ने कहा…

The few lines has solved the problem that was eating up my brain..
Thanks BIG BOSS!

स्वप्निल तिवारी ने कहा…

bas anad aa gaya sir........... :) behad achhi rachna....

बेनामी ने कहा…

बढ़िया कविता है समीर जी,
अहंकार लगभग सारे क्लेशों की जड़ है।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

दो समानन्तर रेखायें
साथ चल तो सकती हैं..
अनन्त तक..
लेकिन
मिल नहीं सकती...
मिलने के लिए उन्हें
झुकना ही होगा..

जीवन का पाठ पढ़ाती
इस सुन्दर रचना के लिए बधाई!

इंदु पुरी गोस्वामी ने कहा…

मेरे साथ भी चल रही थी एक रेखा
एकदम समानांतर रेखा सी
मैंने कहा झुको मत ,मेरे करीब आ जाओ
वो करीब आई थोड़ी मैं करीब हुई
दूरी घटती गई
मैंने इतनी घटा दी कि दोनों
एक दुसरे में समा गई
समानांतर न रह
बन चुकी थी दो से एक रेखा
न कोई टूटा न कोई बिखरा
बस छोड़ दी थी दोनों ने जिद
अलग अलग होने की कि
जो अपना है उसके सामने कैसे अहम ?
जो अपना नही उससे कैसा अहम?
नाचती है दोनों रेखाए अब
अनन्त तक साथ हो गया न उनका.
वादा भी है कि रेखा-खंड नही होंगे
हम कभी भी .
और अब नही सताता है डर उन्हें भी टूटने,बिखरने और सूख जाने का

अमिताभ मीत ने कहा…

बहुत सही समीर जी.

Rohit Singh ने कहा…

यही टूटने का डर झुकने नहीं देता....क्योंकी हम झुके तो क्या, तुम झुके तो क्या..दोनो को ही कुछ न कुछ अहम तोड़ना होगा, तभी समानातर चलती पटरियां मिलेंगी....वरना कुछ नहीं...

Amitraghat ने कहा…

"लकीरों के माध्यम से बड़े-बड़े दर्शन प्रतिपादित किये गये हैं आज आपने भी उसमे गहरी बात जोड़ दी..."

गिरिजेश राव, Girijesh Rao ने कहा…

मान गए श्रीमन्
कई लोगों के लिए यह लेख मार्गदर्शक होगा।
'समानन्तर' नहीं 'समांतर' होता है। बहुत से लोग समानांतर भी कहते पाए गए हैं।
'तुम तो जानती हो!!' की जगह 'तुम्हें तो पता होगा' होने पर अर्थ व्यापक हो जाता। मैं 'जानती हो' पर ही अटक गया हूँ :)

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

जीवन में यदि यही समझ में आ जाये कि कौन सी बात छोटी और कौन सी बड़ी तो अहं के टकराव न केवल घट जायेंगे वरन उनकी तीव्रता भी कम हो जायेगी । अपनी छोटी सी पीड़ा जब औरों के व्यथा-सिन्धु से बड़ी लगे तो ईश्वर ही रक्षा करे ।
बातें टालना और न टलने की स्थिति में झुकना, इन्ही दोनों से सौहार्दता संभव है ।
अच्छा बिन्दु और कविता ।

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

छोटी छोटी बातें, जो मात्र चुप रह कर टाली जा सकती हैं, वो इसी अहम के चलते इतनी बड़ी हो जाती हैं कि फिर टाले नहीं टलती.


bahut satik post likhi apne. apaki har post kuchh na kuchh sandesh chhod jaati hai. shubhakamanae.

ramram.

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

आज के समाज का यही चेहरा हो गया है..उन्हे हर छोटे-छोटे बातों में भी नाम और पैसे और शोहरत चाहिए तभी वो किसी ज़रूरत मंद के लिए कोई कदम उठाते है.....कविता के माध्यम से बहुत ही बेहतरीन बात कह गये आप....सच में बेहतरीन है आप को सोच और आप की रचनाएँ...धन्यवाद समीर जी इन्हे पढ़ कर हम भी बहुत कुछ नया सीख जाते है.....बहुत बहुत धन्यवाद

दिलीप ने कहा…

toote hie vriksha sookh jaya karte hain....jaise bhautiktavaadi drishtikod badh raha hai...dikhava badh raha hai...bahut khoob kaha Sameer ji

P.N. Subramanian ने कहा…

"टूटे हुए वृक्ष सूख जाया करते हैं" बहुत ही गंभीर पर खूबसूरत.

Pankaj Upadhyay (पंकज उपाध्याय) ने कहा…

समान्तर रेखाये कब मिली है.. जैसे कभी धरती और आसमान नही मिलते.. सिर्फ़ एक आभासी मिलाप होता है.. गणित मे कहते है कि समान्तर रेखाये भी इनफ़ाइनाईट पर जाकर मिलती है.. अब वो किसने देखा है जैसे किसी ने क्षितिज़ पर धरती-आसमान मिलते नही देखा...

हमारा भी बचपन का नज़रिया क्षितिज के बारे मे..

श्यामल सुमन ने कहा…

बिना झुके, बिना सामंजस्य के सहज जीवन जीना मुश्किल है। बहुत खूब समीर भाई।

कभी जिन्दगी ने मचलना सिखाया
मिलीं ठोकरें तो सम्भलना सिखाया

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

थोड़ा मैं झुकूँ
थोड़ा तुम झुको!
.....
डर है कि
अधिक झुकने की
इस कोशिश में
टूट न जाऊँ मैं कहीं..

--वाह! इशारों ही इशारों में बड़ी बात कह दी आपने और वह भी इस नायाब कविता में....
..जितनी भी तारीफ की जाय कम है।

ब्लॉ.ललित शर्मा ने कहा…

सत्यवचन
जीवन का बहुमुल्य सुत्र
समझ ले तो मानुष
ना समझे तो अमानुष

शुभकामनाएं

seema gupta ने कहा…

अर्थी उठी तो काँधे कम थे,
मिले न साथ निभाने लोग
बनी मज़ार, भीड़ को देखा,
आ गये फूल चढ़ाने लोग...

" दिखावे की इस दुनिया का सही चित्रण.....इन पंक्तियों में ख़ास कर एक व्यथा छुपी है......"
regards

राजकुमार ग्वालानी ने कहा…

दिखावें के चक्कर में ही तो बर्बाद हा रही है दुनिया। जिसके पास कुछ नहीं है, वह सब कुछ होने का दिखावा करता है, जिसके पास सब कुछ है, वह कुछ न होने का दिखावा करता है

अमित ने कहा…

न कुछ था तो खुदा था ...
कुछ न होता तो खुदा होता ..
डुबोया मुझको होने ने...
न होता मै तो क्या होता !!
-इसी मै से पगलाई दुनिया में आपकी कविता और ये विचार सुकून देते हैं

नीरज मुसाफ़िर ने कहा…

वाह जी वाह!
टूटे हुए वृक्ष सूख जाया करते हैं!!
बिल्कुल सही

रोहित ने कहा…

agar insaan jhukna sikh jaye to bahut had tak uski sthithi me badlav sambhav hai.
par aisa ab hote ab nahi dikhta kyonki yaha har koi apne samne wale se bada najar aana chahta hai.
bahut acchi lagi rachna....
regards-
#ROHIT

ZEAL ने कहा…

...........छोटी छोटी बातें, जो मात्र चुप रह कर टाली जा सकती हैं, वो इसी अहम के चलते इतनी बड़ी हो जाती हैं कि फिर टाले नहीं टलती.........

So true...

"Speech is silver but silence is gold"

जितेन्द़ भगत ने कहा…

न केवल सहजीवन के लि‍ए बल्‍कि‍ सहअस्‍ति‍त्‍व के लि‍ए भी यह अनि‍वार्य सोपान है। बहुत सुंदर।

dhiru singh { धीरेन्द्र वीर सिंह } ने कहा…

जिन पेडो मे लोच नही होती वह भी टूट के सूख जाते है .

डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali) ने कहा…

आदरणीय समीरजी....

आप सच कह रहे हैं.... संवेदनशीलता अब मर चुकी है..... जिस कार्य में नाम ना मिले अब वो कार्य कोई नहीं करना चाहता....स्वार्थ हावी हो चुके हैं... सहनशीलता अब गुज़री बात हो चली है... झूठा अहम् अब ज़िन्दगी का हिस्सा बन चुका है....

सुंदर कविता के साथ यह पोस्ट दिल को छू गई.....

सादर

महफूज़.

Akanksha Yadav ने कहा…

यूँ तो
तुमसे मिलने की चाह में
मैं पूरा झुक जाऊँ
लेकिन
डर है कि
अधिक झुकने की
इस कोशिश में
टूट न जाऊँ मैं कहीं...

...बहुत खूब, बात भी- सन्देश भी !!

Akshitaa (Pakhi) ने कहा…

बहुत सुन्दर लिखा अंकल जी...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

समन्वय के लिए झुकना ज़रूरी है...बहुत अच्छी सीख देती सुन्दर प्रस्तुति..

Alpana Verma ने कहा…

'अधिक झुकने की
इस कोशिश में
टूट न जाऊँ मैं कहीं... '

-एक---किसी भी रिश्ते में समझोते इंसान को एक हद्द तक ही सीधा रख पाते हैं...अन्यथा उसका टूटना स्वाभाविक है..

-दूसरा -कहीं तो इसी टूटने के डर से व्यक्ति झुकना ही नहीं चाहता..

इस कविता में एक सच्ची सही बात कही गयी है.

SANJEEV RANA ने कहा…

bahut khoob

Nipun Pandey ने कहा…

और
तुम्हें तो पता होगा!!
टूटे हुए वृक्ष सूख जाया करते हैं!!

वाह वाह गुरु देव !
एक और नया जीवन सूत्र अपने अनूठे अंदाज में समझा दिया आपने .....:):)

बहुत बहुत धन्यवाद यूँ लिखते रहने के लिए ...:)

हेमन्त वशिष्ठ ने कहा…

समीर जी शायद इसी मानसिकता के चलते ही समानांतर रेखाएं अनन्त तक नहीं मिल पाती हैं...

पी.सी.गोदियाल "परचेत" ने कहा…

यूँ तो
तुमसे मिलने की चाह में
मैं पूरा झुक जाऊँ
लेकिन
डर है कि
अधिक झुकने की
इस कोशिश में
टूट न जाऊँ मैं कहीं...

Bahut khoob !

सुशीला पुरी ने कहा…

लाजवाब !!!!!!

Sulabh Jaiswal "सुलभ" ने कहा…

अनमोल रचना... सत्य से साक्षात्कार कराती...!

झुकना दोनों पक्ष के लिए है... वरना टूट कर कोई साथ कैसे चले.

mamta ने कहा…

जीवन का गूढ़ सत्य ।

kshama ने कहा…

Is sajeedgee ke aage kya kahun? Khamosh hun..

Arvind Mishra ने कहा…

किसे कहा टूटा वृक्ष आपने ,बताईये किसे कहा ?

Shiv ने कहा…

सच है. टूटे हुए वृक्ष सूख जाया करते हैं.
बहुत बढ़िया रचना है. अहम् किसी न किसी शक्ल में सामने आ जाता है. और उसे महत्व देनेवाले झुकने के लिए तैयार नहीं होते.

Creative Manch ने कहा…

"अर्थी उठी तो काँधे कम थे,
मिले न साथ निभाने लोग
बनी मज़ार, भीड़ को देखा,
आ गये फूल चढ़ाने लोग."


बहुत खूब
यही वास्तविकता है
वैसे भी कहते हैं कि भले लोगों के मित्र मरने के बाद ही प्रकट होते हैं
-
-
अधिक झुकने की
इस कोशिश में
टूट न जाऊँ
-
टूटे हुए वृक्ष सूख जाया करते हैं!!


अआह .......................
जिस तरह आप अपने शब्दों से गागर में सागर भरते हैं
यह अपने में कमाल है
--
-
आपको 'ब्लॉग पोस्ट संग्रह' के प्रकाशन के बारे में सोचना चाहिए

आभार

Apanatva ने कहा…

jhakjhor dene wala par saty yahee hai.......
Aabhar

संजय बेंगाणी ने कहा…

झुक सकने वाले वृक्ष टूटते कहाँ है? :)


सुन्दर प्रस्तुति.

Parul kanani ने कहा…

bahut hi anoothi abhivaykti..hamesha ki tarah :))

रश्मि प्रभा... ने कहा…

दो समांतर रेखायें
साथ चल तो सकती हैं..
अनन्त तक..
लेकिन
मिल नहीं सकती...
मिलने के लिए उन्हें
झुकना ही होगा..
waah

डॉ महेश सिन्हा ने कहा…

आत्म सम्मान और घमंड में भेद जरूरी है .
झाड़ियाँ जो तूफान झेल जाती हैं
बड़े दरख़्त उनमे ढेर हो जाते हैं

nilesh mathur ने कहा…

डर है कि
अधिक झुकने की
इस कोशिश में
टूट न जाऊँ मैं कहीं...
और
तुम्हें तो पता होगा!!
टूटे हुए वृक्ष सूख जाया करते हैं!!

वाह ! कमाल की पंक्तिया है !

vandan gupta ने कहा…

सभी रोगों की जड ये अहम ही तो होता है…………जिस दिन अहम रूपी काँटा अपने जीवन से निकालना आ जायेगा सच मे इन्सान ,इन्सान बन जायेगा।
बहुत ही सुन्दरता से शब्दों में बाँधा है भावों को।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

सत्य वचन महाराज !
इस जीवन दर्शन कों समझाने के लिए बहुत बहुत आभार !

वीनस केसरी ने कहा…

तुम्हें तो पता होगा!!
टूटे हुए वृक्ष सूख जाया करते हैं!!


बेहतरीन रचना

परमजीत सिहँ बाली ने कहा…

बहुत बेहतरीन रचना....समीर जी यदि थोड़ा -सा झुकना आ जाए तो जिन्दगी कितनी आसान हो जाती है..इसे तो जीवन मे उतारने के बाद ही महसूस किआ जा सकता है...पता नही कितने पाठक इस सुन्दर रचना पर अमल करने कि कोशिश करेगें.....आभार।

संगीता पुरी ने कहा…

समानांतर रेखाओं के बारे में कोई गणितज्ञ ही बता सकते हैं .. बस आपको विरोधाभासी कविता सुनाती हूं ....
सुना है
समानांतर रेखाएं
अनंत में जाकर मिल जाती हैं!
यदि यह सच है
तो मैं तुमसे अवश्‍य मिलूंगा !!

वैसे भावनाएं तो आपकी कविता की सुदर हैं !!

संगीता पुरी ने कहा…

समानांतर रेखाओं के बारे में कोई गणितज्ञ ही बता सकते हैं .. बस आपको विरोधाभासी रचना सुनाती हूं ....
सुना है
समानांतर रेखाएं
अनंत में जाकर मिल जाती हैं!
यदि यह सच है
तो मैं तुमसे अवश्‍य मिलूंगा !!

वैसे भावनाएं तो आपकी कविता की सुदर हैं !!

संगीता पुरी ने कहा…

समानांतर रेखाओं के बारे में कोई गणितज्ञ ही बता सकते हैं .. बस आपको विरोधाभासी कविता सुनाती हूं ....

सुना है
समानांतर रेखाएं
अनंत में जाकर मिल जाती हैं!
यदि यह सच है
तो मैं तुमसे अवश्‍य मिलूंगा !!

वैसे भाव तो आपकी रचना की सुदर हैं !!

राज भाटिय़ा ने कहा…

आप ने बिलकुल सही कहा... धन्यवाद

दीपक 'मशाल' ने कहा…

chhoti-chhoti kavitaon me jeevan ke kitne rahasyon ko ughad dete hai aap??

rashmi ravija ने कहा…

अधिक झुकने की
इस कोशिश में
टूट न जाऊँ मैं कहीं... और
तुम्हें तो पता होगा!!
टूटे हुए वृक्ष सूख जाया करते हैं!!

बहुत खूब...इस अहम् ने ही तो सारे राहों पर तालेबंदी कर रखी है..

Unknown ने कहा…

सत्य वचन .........सुन्दर बात

सार्थक कविता

- अलबेला खत्री

chaibiskutt ने कहा…

laajwab sir ji..der se comments dene ke liye maafi chahta hun..is blog ki duniya me apni paidaish thoda jaldi ki hai isliye iske penchon se waaqif nai hun..meri hauslaafzai ke liye shukriya...

कबीर कुटी - कमलेश कुमार दीवान ने कहा…

समीर भाई आजकल समानान्तर रेखाओ मे से एक को लोग मिटा ही
देते है ।बहरहाल जिवन का गणित याद दिलाया है ,धन्यबाद।

कबीर कुटी - कमलेश कुमार दीवान ने कहा…

समीर भाई आजकल समानान्तर रेखाओ मे से एक को लोग मिटा ही
देते है ।बहरहाल जिवन का गणित याद दिलाया है ,धन्यबाद।

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

सौ बटा सौ...

अविनाश वाचस्पति ने कहा…

टूटने से चाहे घुल जायेंगे

पर मिल अवश्‍य जायेंगे

जैसे रलते हैं

जैसे मिलते हैं

बच्‍चे गिर गिर कर

गिरकर भी न वे टूटते हैं

वे जमीं पर रेंग रेंग
कर आपस में जुड़ते हैं

मन उनका सच्‍चा होता है

बिल्‍कुल चाहे कच्‍चा होता है

sandhyagupta ने कहा…

छोटी छोटी बातें, जो मात्र चुप रह कर टाली जा सकती हैं, वो इसी अहम के चलते इतनी बड़ी हो जाती हैं कि फिर टाले नहीं टलती.

Aapki baat se sahmat hoon.

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

दुनिया दिखावे की हो चली है. कोई भी कार्य जिसमें नाम न मिले, लोग न जाने- कोई करना ही नहीं चाहता. दिखावा न हो तो बस.....
बहुत ऊँची बात कह दी आपनें ,,दिल को छू गयी यह बात.

सम्वेदना के स्वर ने कहा…

आपकी कविता के लिए बेहतरीन लफ्ज़ भी छोटा पड़ जाता है..झुकना और टूटना एक साथ दिखा दिया आपने..

hem pandey ने कहा…

'डर है कि
अधिक झुकने की
इस कोशिश में
टूट न जाऊँ मैं कहीं...
और
तुम्हें तो पता होगा!!
टूटे हुए वृक्ष सूख जाया करते हैं!! '

- बात तो तभी बनेगी जब थोड़ा थोड़ा दोनों झुकें.

शेफाली पाण्डे ने कहा…

itne ne hee bahut kuchh kah diya...

Mansoor ali Hashmi ने कहा…

खूबसूरत सोच, ख़ूबसूरत रचना .
अना [अहं] पर एक शेर यूं याद आया :

अना का ज़हर जो पाऊँ का ख़ार था कबसे,
ज़रा सा झुक के बिल आखिर जबीं [पेशानी] से खींच लिया.

http://aatm-manthan.com

Asha Joglekar ने कहा…

और
तुम्हें तो पता होगा!!
टूटे हुए वृक्ष सूख जाया करते हैं!!

थोडा तुम झुको थोडा मै और उससे आगे फिर एक ही रेखा हो जाती है ।
सुंदर पोस्ट ।

निर्मला कपिला ने कहा…

िन समानान्तर रेखाओं का हिसाब भी अजीब है । मेरी एक कविता से कुछ पँक्तियाँ
चल रही है दोनो

मखमली सी चाहतें

और

और खार सी जिन्दगी

समानान्तर रेखाओं की तरह

दूरी बना कर।
मगर आपका सूत्र बहुत काम का है } काश कि ये रेखायें भी झुकना जान लेती। शुभकामनायें

राजेश स्वार्थी ने कहा…

आपके लेखन को तो बस नमन करने की मेरी औकात है. आप बहुत गजब लिखते हैं.

AKHRAN DA VANZARA ने कहा…

बढिया है....
मिलने के लिये झुकना होगा .... वाह !!!

---- राकेश वर्मा

Prem Farukhabadi ने कहा…

!!!

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

जो बृक्ष में लचीलापन नहीं है वो तूफान में टूट जाया करते हैं ...
आपका ये लेख एकदम सही है ...
सही सामंजस्य के बिना कोई रिश्ता नहीं टिक सकता है ...

अजित गुप्ता का कोना ने कहा…

टूटे हुए वृक्ष सूख जाया करते हैं। अच्‍छी अभिव्‍यक्ति है। सच कह रहे हैं आप संवेदनशीलता मरती जा रही है।

कुमार राधारमण ने कहा…

आधुनिकता का एक और दुष्परिणाम। कभी मनुष्य को ईश्वर के निकटतम बताया जाता था। मगर मनुष्य की यात्रा देखिए,वह फिर से बंदर बनने की ओर उऩ्मुख है। शिक्षा और विकास के समानान्तर यह अधोमुखी यात्रा न जाने उसे कहां ले जाएगी।

मनोज कुमार ने कहा…

नम्रता और मीठे वचन ही मनुष्य के सच्चे आभूषण होते हैं |

G Maurya ने कहा…

thoda mein jhukun, thoda tum jhuko.

---bahut hi vyaavharik baat kahi aapne.

दिगम्बर नासवा ने कहा…

टूटे हुए वृक्ष सूख जाया करते हैं ...

क्यों इतनी उदासी भरी है समीर भाई आज ... ये तो हक़ीकत है प्यार करने वाले झुकते हैं .. टूटने की हद तक तो देखो ... क्या टूटने देंगे वो ........

Piyush Aggarwal ने कहा…

अत्यंत भाव विभोर और मन को झकझोरने वाली रचना
बहुत खूब!

Reetika ने कहा…

kitni saralta se jeevan kesabse badhe sukh ki kunji di hai aapne!

Urmi ने कहा…

बिल्कुल सही कहा है आपने समीर जी! इंसान की असली पहचान उनके व्यव्हार से होती है! उम्दा पोस्ट!

Akshitaa (Pakhi) ने कहा…

अंकल इत्ती अच्छी-अच्छी बातें कैसे सोचते हो आप...

naresh singh ने कहा…

कविता बहुत पसंद आयी | वैसे देखा जाए तो आज तक न पसंद आने वाली कोई चीज आपने लिखी भी तो नहीं है |

दिनेश शर्मा ने कहा…

टूटे हुए वृक्ष सूख जाया करते हैं!! उत्तम! अतिउत्तम।

शरद कोकास ने कहा…

एक अच्छी बात कही आपने । ।
लेकिन कुछ होते है जो पहले सूखते है फिर टूटते है ।

neera ने कहा…

बेबस हैं नहीं बदल पाते इस बदली धारा की दिशा ...कविता सुंदर है जुड़ने, मुड़ने, टूट कर सब कुछ बदलने को मजबूर करती है...

neera ने कहा…

बेबस हैं नहीं बदल पाते इस बदली धारा की दिशा ...कविता सुंदर है जुड़ने, मुड़ने, टूट कर सब कुछ बदलने को मजबूर करती है...

संजय तिवारी ने कहा…

आप बहुत बढ़िया लिखते हैं, बधाई.

साधवी ने कहा…

हमेशा की तरह बहुत गहरी कविता और अच्छे विचार.

दीपक "तिवारी साहब" ने कहा…

आओ!!
थोड़ा मैं झुकूँ
थोड़ा तुम झुको!!

वाह क्या सुंदर बात कही है। लाजवाब।

लालों के लाल....इंदौरीलाल ने कहा…

जीवन के गूढतम सार को अभिव्यक्त करती इस रचना के लिये बहुत बधाई.

रामराम

लालों के लाल....इंदौरीलाल ने कहा…

विल्स कार्ड की किताब कब छप रही है? कृपया सूचित करें.

makrand ने कहा…

अनन्त तक..
लेकिन
मिल नहीं सकती...
मिलने के लिए उन्हें
झुकना ही होगा.. आओ!!
थोड़ा मैं झुकूँ
थोड़ा तुम झुको!!

बहुत सटीक औत सत्य लिखा है।

आशीष खंडॆलवाल ने कहा…

जीवन को समझाती सी पोस्ट. शुभकामनाएं.

हैपी ब्लागिंग

mehek ने कहा…

sach hi hai,hum sab hi shayad jis mein apna fiada ho us taraf khiche jate hai,bahut kum log hote hai jo dusron ke barien mein soche, magar hum ek baat kegh sakte hai,uadn tashtari ji mein ye gun maijud hai.dusron ki hamesha maddat karna.amen.
kaash in saan apni lalach par jara kabu kar paye,phir sab log shayad thoda thoda insaniyat ke bare mein sochne lage.
मिलने के लिए उन्हें
झुकना ही होगा.. आओ!!
थोड़ा मैं झुकूँ
थोड़ा तुम झुको!!
yahi shayad barabar hai,hai na.

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

दो समांतर रेखायें
साथ चल तो सकती हैं..
अनन्त तक..
लेकिन
मिल नहीं सकती...
मिलने के लिए उन्हें
झुकना ही होगा.. आओ!!
जिंदगी का फलसफा बता दिया आपने ... भावुक कर देने वाली रचना.. सुंदर...

रचना दीक्षित ने कहा…

दो समानन्तर रेखायें
साथ चल तो सकती हैं..
अनन्त तक..
लेकिन
मिल नहीं सकती...
मिलने के लिए उन्हें
झुकना ही होगा..
सुंदर कविता के साथ यह पोस्ट दिल को छू गई

Abhishek Ojha ने कहा…

मिलने के लिए झुकना होगा ... बहुत सही.

कुमार संभव ने कहा…

आओ!!
थोड़ा मैं झुकूँ
थोड़ा तुम झुको!!

यूँ तो
तुमसे मिलने की चाह में
मैं पूरा झुक जाऊँ
लेकिन
डर है कि
अधिक झुकने की
इस कोशिश में
टूट न जाऊँ मैं कहीं...
बेहतरीन लेकिन मै कहना चाहूँगा की अगर आप बहूत दिनों तक साथ समान्तर चले हैं तो उसकी तरफ झुकने से आप नहीं टूटेंगे .

बेनामी ने कहा…

अच्छी कविता, अच्छी सोच. झुकना मनुष्यता की निशानी है- इसीलिए किस बात की ऐंठ? समीर जी, आकाश की तरह झुकें, लेकिन झुकना स्वार्थ साधने के लिए नहीं.

बेनामी ने कहा…

अच्छी कविता, अच्छी सोच. झुकना मनुष्यता की निशानी है- इसीलिए किस बात की ऐंठ? समीर जी, आकाश की तरह झुकें, लेकिन झुकना स्वार्थ साधने के लिए नहीं.

समयचक्र ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति....आभार

डॉ टी एस दराल ने कहा…

डर है कि
अधिक झुकने की
इस कोशिश में
टूट न जाऊँ मैं कहीं... और
तुम्हें तो पता होगा!!
टूटे हुए वृक्ष सूख जाया करते हैं!!

बहुत सुन्दर बात कही है ।
बेहतरीन रचना ।

कडुवासच ने कहा…

.... बेहद प्रसंशनीय रचना !!!

Yogesh Sharma ने कहा…

समीर जी बहुत खूब ...पर हम झुकने के पहले ही टूटने की परवाह करेंगे तो शायद कभी झुक ना पायेंगे..बड़ी बात ये है कि अकड़ के न टूटें बस

बेनामी ने कहा…

aapki rachna ne sach mein kayi naye wichhaar diye mann ko...
sochne par majbur kar dene waali rachna...
bahut khub..
yun hi humein achhi rachnayein dete rahein...
-------------------------------------
mere blog par is baar
तुम कहाँ हो ? ? ?
jaroor aayein...
tippani ka intzaar rahega...
http://i555.blogspot.com/

मीनाक्षी ने कहा…

मैं ही मैं इस सृष्टि में , और कोई इस दृष्टि में
ऐसा भाव तो आज हर तरफ दिखाई देता है...शायद जीवन मूल्य दब से गए हैं..हाँ मरे नहीं.

KALAAM-E-CHAUHAN ने कहा…

यूँ तो
तुमसे मिलने की चाह में
मैं पूरा झुक जाऊँ
लेकिन
डर है कि
अधिक झुकने की
इस कोशिश में
टूट न जाऊँ मैं कहीं...

और
तुम्हें तो पता होगा!!
टूटे हुए वृक्ष सूख जाया करते हैं!

waah waah sammer jee umda nazm ....

pakad hi liya aapko blog par kabhee tashrref layea

kalaam-e-chauhan.blogspot.com par

संजय भास्‍कर ने कहा…

हमेशा की तरह आपकी रचना जानदार और शानदार है।

संजय भास्‍कर ने कहा…

सत्य वचन .........सुन्दर बात

Himanshu Mohan ने कहा…

शे'र अर्ज़ कर रहा हूँ, मेरा नहीं हैं इसलिए आप जी भर कर दाद दे सकते हैं -

झुकेगा वही, जिसमें कुछ जान है
अकड़ ख़ास मुरदे की पहचान है

और आपकी ओरिजिनल इतनी बढ़िया सोच की कविता को समझने और अपनाने से बेहतर क्या तारीफ़ का तरीक़ा होगा, अभी ये सोच रहा हूँ।

हिमांशु पन्त ने कहा…

वाह... मेरा कुछ भी कहना सूरज को दिया दिखने जैसा होगा... इसलिए बस नमन स्वीकार करें..

प्रिया ने कहा…

one word for poem " Ultimate"

ePandit ने कहा…

"डर है कि
अधिक झुकने की
इस कोशिश में
टूट न जाऊँ मैं कहीं..."


खूबसूरत अहसास।

आदेश कुमार पंकज ने कहा…

बहुत प्रभावशाली है |

Unknown ने कहा…

देर आया गुरूदेव, शायद दुरुस्त आया

अद्भुत, लाजवाब।

टूटे हुए पेड़ सूख जाया करते हैं

अर्थी उठी तो काँधे कम थे,
मिले न साथ निभाने लोग
बनी मज़ार, भीड़ को देखा,
आ गये फूल चढ़ाने लोग...

रंजू भाटिया ने कहा…

आज बहुत दिनी बाद आपका लिखा हुआ पढ़ा ,अभी तो इस पोस्ट से शुरुआत करी है ...शुरुआत और अंत में लिखी पंक्तियाँ ज़िन्दगी के सच से रूबरू करवाती है ...पर यह दुनिया तो वाकई दिखावे की है ..पिछले दिनों इस बात को गहराई से महसूस किया है ...

RAJ SINH ने कहा…

बंधू ' उड़न तश्तरी ' लाल ,

आपकी टिप्पणिओं की भीड़ में अक्सर सब कुछ कहा मिलता है ,जो हम भी कहना चाहते हैं ,तो हम अक्सर आपके वलय पर tangent बन ( सिर्फ पढ़ कर ) खिसक लेते हैं.( हाँ टिप्पणियां बढ़ावा देती हैं पर आपको क्या कमी )

लेकिन इस बार आपने कवि भाव से कुछ गणित समझाया जीवन का तो कुछ ' अनकही ' मेरी भी .

हाँ वक्त के हर मोड़ पर धरती पर अनजाने लोग समानान्तर ज़िन्दगी जीते समानान्त हो जाते हैं. कभी समान्तर भी . मुड जाएँ ,झुक जाएँ तो मिलन भी नशीब होता है ,अक्सर प्रीतिकर या अप्रीतिकर भी . तो एक सरल रेखा अक्सर कहीं किसी को कटती कटाती निकल जाती है तो किसी के समानांतर भी .कभी तेंजेंट ( मिले बिछुड़ गए )

ज़िन्दगी गणितीय 'सेट ' भी होती है .कभी किसी का ' सबसेट ' तो कभी अपने में अनगिनत ' सेट ' समोए ,या अलग भी .इसलिये सरल रेखा ( अहम् ,आदर्श या कुछ भी ) आनंद भी हो सकती है , दुःख भी या कि अभिशाप भी.

वलय ही शायद जीवन में जरूरी होता है मिलते मिलाते,कंटते kantaante ,कभी साथ साथ सहधर्मिता निभाते ,जीवन नृत्य का आनंद साथ उठाते तो कभी अलग धुन पे थिरकते ,सभी कुछ . तो कभी एक दूसरे वलय का ' असिम्तोड़ ' वलय ( मिलते मिलते रह जाते ) या रेखा ही सही ,बनते .

समझता हूँ फिर भी ,जीवन गणित के बहुत सारे सवाल अनुत्तरित रह जाने को अभिशप्त रह जाते हैं.

अब ज्यादा लिखूं तो आपकी कविता की समान्तर अकविता न बन जाये या तो गणितीय बोरियत या फिर बेकार साकार फलसफा .
तो बस ..........चलायमान रहना ही काफी है ,फिर ज़िन्दगी से जो मिले मुकद्दर की बात है .फलसफे की चादर कोई भी हो .

ZEAL ने कहा…

@- RAJ SINGH ....

All the neurons and axons started vibrating after reading your comment.

What a beautiful explanation of the two parallel lines in life.

tangent, circular, parabola and parallel....wow...

An unparallel comment indeed !

Accolades !