बुधवार, मार्च 17, 2010

शब्दचित्र कलाकृति हैं..

कहते हैं शब्दचित्र कलाकृति हैं, हृदय में उठते भावों के रंग से कलम की कूचि से कागज पर चित्रित.

कवि, शब्दों को चुनता है, सजाता है, संवारता है और उन्हें एक अनुशासन देता है कि शब्द अपने वही मायने संप्रषित करें जिनकी उनसे अपेक्षा है.

हर शब्द नपा तुला, रचना को संतुलित रखता और अन्य शब्दों के साथ मिल कर, अपनी गरिमा को बरकरार रखते हुए, पूरी रचना को एक आकृति प्रदान करता.

काव्य सृजन एक कला है और कवि एक कलाकार.

akshar

ऐसे में न जाने क्यूँ मेरे साथ अक्सर अनहोनी सी बात हो जाती है, तब सोचता हूँ कि जाने कैसे होते होंगे वो कलाकार:

शब्द
जब निकल जाते हैं
मेरे
मेरे होठों के बाहर
तो बदल लेते हैं
अपने मानी
सुविधानुसार
समय के
और परिस्थित के साथ

शब्दों के अर्थ
फिर बदलते हैं
पढ़ने वाले की
सोच के साथ
उसकी
इच्छानुसार
उफ़..........
मेरे शब्द
शब्द नहीं
आदमी बन गए हैं

-समीर लाल ’समीर’

कौन जाने सिर्फ मेरे साथ ही ऐसा होता है? मेरे साथ तो अनहोनी धटनाओं की फेहरिस्त है, आदत सी है मुझे इनके साथ जीने की:

ladys

आज अजनबी सी लग रही थी

अपनी परछाई..

बस, ऐसे में

न जाने क्यूँ..

तुम याद आई!!

-मौसम बदल रहा है...
देर शाम धूप नहीं रहती अब!!

-समीर लाल ’समीर’

Indli - Hindi News, Blogs, Links

98 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

"काव्य सृजन एक कला है और कवि एक कलाकार"

इससे बढ़िया परिभाषा और क्या होगी!

"उफ़..........
मेरे शब्द
शब्द नहीं
आदमी बन गए हैं"

वाह...!
आदमी भले ही आदमी न बने
मगर शब्द अवश्य आदमी बनते जा रहे हैं!
शब्दों का मानवीकरण बहुत सुन्दर रहा!

संजय भास्कर ने कहा…

आपके लेखन ने इसे जानदार और शानदार बना दिया है....

संजय भास्कर ने कहा…

कहते हैं शब्दचित्र कलाकृति हैं, हृदय में उठते भावों के रंग से कलम की कूचि से कागज पर चित्रित. कवि, शब्दों को चुनता है, सजाता है, संवारता है और उन्हें एक अनुशासन देता है कि शब्द अपने वही मायने संप्रषित करें जिनकी उनसे अपेक्षा है.

bilkul sahi kaha sir ji aapne

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

सुंदर भावात्मक प्रस्तुति...कवि की यही कोशिस रहती है की अपनी बात को सही दिशा में, सही शब्द और सही भाव से प्रस्तुत करें...शब्द की कलाकृति ही है सब को कुछ आपने यहाँ प्रस्तुत किया..बेहतरीन भाव..बधाई

RaniVishal ने कहा…

"काव्य सृजन एक कला है और कवि एक कलाकार"
आदरणीय,
आज आपने मनोभावों को कुछ इस तरह से कहा की ....आपके शब्दों में बस खो ही गए !
बहुत अच्छा और बहुत सच्चा सृजन ..धन्यवाद !

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

सुंदर भावाभिव्यक्ति है। शब्द एक संयोजन में प्रयोग करने के उपरांत भी स्वतंत्र होते हैं। लोग उन का अपने अनुसार अर्थ करते हैं।

योगेश स्वप्न ने कहा…

donon shabd chitra anupam aur prastuti .......wah.

खुशदीप सहगल ने कहा…

दिल की आवाज़ भी सुन,
मेरे फ़साने पे न जा,
मेरी नज़रों की तरफ़ देख,
ज़माने पे न जा...

वक्त इनसान पे ऐसा भी कभी आता है,
राह में छोड़ के साया भी चला जाता है,
दिन भी निकलेगा कभी,
तू रात के आने पे न जा,
मेरी नज़रों की तरफ़ देख,
ज़माने पे न जा...

जय हिंद...

आभा ने कहा…

मेरे शब्द
शब्द नहीं
आदमी बन गए हैं.बहुत सुन्दर..

मुंहफट ने कहा…

बदल लेते हैं
अपने मानी
सुविधानुसार
समय के
और परिस्थित के साथ

Mansoor Ali ने कहा…

आपकी रंगारंग अनुभूतियों का एक और शब्द-चित्र, मार्मिक लगा. एक पुराना शेर यूँ याद हो आया है:-

''दश्ते तन्हाई में खुश्बूए हिना किसकी थी,
साया दीवार पे मैरा था सदा किस की थी?''

मैंने भी आपकी कल्पना की ' तश्तरी' पर 'उड़ान' भरी तो ये एहसास मन में उभरा, पेश है:-

शब्दों के अनजान चेहरे,
धुंधलके में ऐसे उभरे,
जैसे मैं, गुम हो गया हूँ!
और तुम हो पास मैरे.

हट गए है सारे पहरे,
फासले सब मिट गए है,
वक्त और घड़िया सिमट कर,
कर रही है अपने फेरे.

तुम खमोशी की जुबां में,
निष्कपट संवेदना से,
ख़ुद को प्रकट कर रही हो,
डाल कर बांहों के घेरे.

-mansoor ali hashmi
http://aatm-manthan.com

मुंहफट ने कहा…

शब्द...
बदल लेते हैं
अपने मानी
सुविधानुसार
समय के
और परिस्थित के साथ ............

समीर भाई,
गहन, सार्थक पक्तियां कई सांकेतिकों से रू-ब-रू करा जाती हैं। या कहिए कि सृजन से आत्मालोचन तक सहज ही ले जाती हैं। अच्छी रचना है तीखी और सार्वकालिक। भांति-भांति के शब्दार्थ लिए हुए। बधाई।

संगीता पुरी ने कहा…

आजकल आपके पोस्‍ट गहरे भाव लिए होते हैं !!

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

आज अजनबी सी लग रही थी

अपनी परछाई..

बस, ऐसे में

न जाने क्यूँ..

तुम याद आई!!
कमाल की लाइनें,एक -एक शब्द-भाव बेहतरीन.

Dr. Smt. ajit gupta ने कहा…

एक संक्षिप्‍त पोस्‍ट लेकिन असर लघुकथा जैसा। सच है कि हम जब शब्‍दों का हम उपयोग करते हैं तो उसके मायने लोग अपने हिसाब से लगाते हैं। आपने आदमी का उदाहरण बहुत ही सटीक दिया है। परिस्थिजन्‍य बदलने वाले। बेहद सार्थक पोस्‍ट।

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

आज अजनबी सी लग रही थी

अपनी परछाई..

बस, ऐसे में

न जाने क्यूँ..

तुम याद आई!!

-मौसम बदल रहा है...

वाकई मौसम भी बडी अजीब चीज है. सुंदर सोच के लिये साधुवाद.

रामराम.

पी.सी.गोदियाल ने कहा…

आज अजनबी सी लग रही थी

अपनी परछाई..

बस, ऐसे में

न जाने क्यूँ..

तुम याद आई!!

-मौसम बदल रहा है...
देर शाम धूप नहीं रहती अब!!

Sameer ji kee jai ! Bahut khoob !!

गिरीश बिल्लोरे ''पॉडकास्टर'' ने कहा…

Ab kya misal doon

यशवन्त मेहता "फ़कीरा" ने कहा…

"काव्य सृजन एक कला है और कवि एक कलाकार"

sach kaha apne

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

शब्द आदमी बन गये हैं...
क्या खूब कल्पना है.

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

शब्द आदमी बन गये हैं...
क्या खूब कल्पना है.

Ram Krishna Gautam ने कहा…

"आज अजनबी सी लग रही थी

अपनी परछाई..

बस, ऐसे में

न जाने क्यूँ..

तुम याद आई!!"




Wow! Exelent Sir!!!




"RAM"

sangeeta swarup ने कहा…

शब्दों के अर्थ पढने वालों की सोच के साथ बदलते हैं....बहुत सटीक बात....सुन्दर प्रस्तुति ....बधाई

kshama ने कहा…

Shabchitr kalakruti hai...! Koyi doray nahi....lekhak/kavi dono kalakar..yah bhi utnahi sahi...."उफ़..........
मेरे शब्द
शब्द नहीं
आदमी बन गए हैं"
Nishabd kar diya aapne!

Prem Farrukhabadi ने कहा…

आज अजनबी सी लग रही थी
अपनी परछाई..
बस, ऐसे में
न जाने क्यूँ..
तुम याद आई!!

कमाल की लाइनें,भाव बेहतरीन.

boletobindas ने कहा…

शब्द नहीं एक कराह होती है जो अक्सर निकल जाती है और शब्दों का रंग ले लेती है ..... पर जब अपने ..शब्द नहीं
आदमी बन गए हैं ....तो सिर्फ ठगा ही रह जाता है इंसान.....

seema gupta ने कहा…

आज अजनबी सी लग रही थी

अपनी परछाई..

बस, ऐसे में

न जाने क्यूँ..

तुम याद आई!!

-मौसम बदल रहा है...
देर शाम धूप नहीं रहती अब!!

" बेहद नाजुक और कोमल अभिव्यक्ति........."
regards

shikha varshney ने कहा…

"काव्य सृजन एक कला है और कवि एक कलाकार
क्या बात कह दी आपने ..और कविता तो बहुत ही सुन्दर है

रश्मि प्रभा... ने कहा…

शब्दों के अर्थ
फिर बदलते हैं
पढ़ने वाले की
सोच के साथ
उसकी
इच्छानुसार
उफ़..........
bhawnayen alag alag kainwas per alag arth lekar ubharti hai.......shabd ek hote hain, unke arth badalte hain....yahi satya hai aur yun kahen ek tarah ki jeet bhi aur kabhi haar bhi !

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर परिभाषा दी आप ने, आप की कलम को सलाम

CS Devendra K Sharma ने कहा…

shabd ko shabdon me bahot achhe se piroya hai

CS Devendra K Sharma ने कहा…

utkrishta rachna hai sirji

tanik hame bhi aashirwad dijiyega!!!

अमिताभ श्रीवास्तव ने कहा…

shbd ko omkaar kahaa gayaa he yaani omkaar hi pratham shbd mana gayaa he..jab vo pratidhvnit hota he to vaayu ke sang apna aakaar banaataa he, jiski jeise ichha jesa bhaav..use us roop me prapt hota he to yah sach likha he aapne ki
मेरे होठों के बाहर
तो बदल लेते हैं
अपने मानी
सुविधानुसार
समय के
और परिस्थित के साथ शब्दों के अर्थ
fir yah likhna ki-
मेरे शब्द
शब्द नहीं
आदमी बन गए हैं
aadmi aaj knha he? aour agar shabd aadmi ban jaate he to yah uska safal jeevan mana jaayegaa.../ me aadami shbd ko usake poore imaandaar purushaarth se leta hu..lihaza aapke shabd kisi omkaar se kam nahi.

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

आज अजनबी सी लग रही थी

अपनी परछाई..

ये आपकी परछाई तो नहीं समीर जी .......

कार वाली की तो नहीं .....अरे वही जिसे अपनी कार के आईने से देखते रहे थे बड़ी देर तक ...और .वो कमबख्त बिना बताये मुड़ गयी थी उसे रस्ते जिस और आप नहीं मुड़ पाए थे ......????

मौसम तो यूँ ही बदलते रहते हैं ......आज नहीं तो कल होगी .....!!

दोनों ही नज्में बेहतरीन ....दूसरी वाली कुछ ज्यादा अच्छी लगी .....!!

AlbelaKhatri.com ने कहा…

bahut khoob !

chitra ki baat

kavita ke sath

rashmi ravija ने कहा…

शब्दों के अर्थ
फिर बदलते हैं
पढ़ने वाले की
सोच के साथ
उसकी
इच्छानुसार
बहुत ही सटीक कहा है....

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

शब्दों के अर्थ पढ़ने वाले की सोच के अनुसार बदलते रहते हैं .... बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .....

M VERMA ने कहा…

कलाकार जब भावनाओं को आत्मसात करता है तब कला का जन्म होता है.
और फिर जो बात हो गयी वह अनहोनी कैसे?
अनहोनी तो वह बात है जो कभी हुई नहीं और कभी होगी नहीं.

-मौसम बदल रहा है...
देर शाम धूप नहीं रहती अब!!

-मौसम बदल रहा है...
शाम ढले भी
उनके चेहरे से धूप हटती नहीं

BAL SAJAG ने कहा…

shabd nahi aadami ban gaye hai.... kitani jiwantta hai shabdo men.........

BAL SAJAG ने कहा…

shabd nahi aadami ban gaye hai.... kitani jiwantta hai shabdo men.........

ललित शर्मा ने कहा…

शब्द की महिमा निराली है
चहुं ओर शब्द की लाली है
शब्दों के समीकरण बनते हैं
शब्दों से ही होती दीवाली है।

डॉ महेश सिन्हा ने कहा…

कवि और कविता
मैं और मेरी तन्हाई कुछ बातें करती हैं

Priya ने कहा…

jab se hamne aapko padhna shuru kiya hai ....ye rachna sab par bhaari hai ....bejod hai...han beshak उफ़..........
मेरे शब्द
शब्द नहीं
आदमी बन गए हैं

gazab!

सुमन'मीत' ने कहा…

कितना सही लिखा है आपने कलाकार की मन के भाव कलम से बाहर निकल कर जब दूसरों के सामने पहुंचते हैं तो उनके अनुसार ढल जाते हैं उनकी सोच के मुताबिक 1
सुमन’मीत’

'अदा' ने कहा…

आज कल बदले बदले से सरकार नज़र आते हैं...:)

मनोज कुमार ने कहा…

आपकी मान्यता पर गंभीरता से विचार करने की आवश्यकता है। यथार्थबोध के साथ कलात्मक जागरूकता भी स्पष्ट है।

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

शब्दों के अर्थ
फिर बदलते हैं
पढ़ने वाले की
सोच के साथ
उसकी
इच्छानुसार
उफ़..........
मेरे शब्द
शब्द नहीं
आदमी बन गए हैं
बहुत-बहुत सुन्दर. "बिखरे मोती" पढना चाहूं तो?

pushkar ने कहा…

बहुत ही सुंदर रचना है. आपके एक-एक शब्द को सलाम..................

प्रवीण शाह ने कहा…

.
.
.

"उफ़..........
मेरे शब्द
शब्द नहीं
आदमी बन गए हैं"

बहुत गहरे जाता हुआ आलेख,
आभार!

अनामिका की सदाये...... ने कहा…

ha.n mere saath bhi ye anjani si ghatna ghatTi hai...per aisa kyu hota hai....hamare shabd...shabd nahi...koi aur roop le lete hai...

per aisa kyu hota hai?????????

mujhe bhi jawab dena jo apko mil jaye to.

shukriya.

राजेश स्वार्थी ने कहा…

"उफ़..........
मेरे शब्द
शब्द नहीं
आदमी बन गए हैं"


-अद्भुत!

VIJAY TIWARI " KISLAY " ने कहा…

समीर जी
नमस्कार
बहुत ही उम्दा विचार हैं.
रचना भी अच्छी लगी.
-विजय तिवारी " किसलय "

अभिषेक ओझा ने कहा…

शब्द पन्नों पे उतरते ही बदल जाते हैं... नो डाउट !

अरविन्द चतुर्वेदी Arvind Chaturvedi ने कहा…

निस्सन्देह प्रत्येक सृजन कलात्मक होता है.
फिर चाहे काव्य हो या कथन.

प्रत्येक सृजन की अपनी एक कहानी भी होती है. कभी कभी तो दर्द भरी.

दीपक 'मशाल' ने कहा…

आँय,, लेकिन परछाई तो कौनो जनानी की लग रही है सर जी.. लिखा तो आज भी बढ़िया है, के भगवान झूठ ना बुलवाए.. कसम से

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` ने कहा…

समीर भाई
जब् कवि ऐसी पंक्तियाँ लिखता है
" बस, ऐसे में
न जाने क्यूँ..

तुम याद आई!! "

तब दुनिया की भीड़ में होते हुए भी नितांत अकेला होता है ..वाह
स स्नेह,
- लावण्या

श्याम कोरी 'उदय' ने कहा…

उफ़..........
मेरे शब्द
शब्द नहीं
आदमी बन गए हैं
....बहुत सुन्दर,अदभुत अभिव्यक्ति!!!

Rambabu Singh ने कहा…

मन में हिलकोरे ले रहे उदगार ही सृजन करता है कवि को फिर उनके द्वारा कहा गया एक एक शब्द बिलकुल अलग अलग लोगों के लिए अलग अलग मायने रखता है | एक रामायण का अंश है " जाकी रही भावना जैसी, प्रभु मूरत देखि तिन तैसी"| आपके कलम से संजोया गया शब्द फिर उससे बना कविता वास्तव में एक जीता-जागता मानवीय चेहरा को प्रस्तुत करता है |
बहूत सुंदर प्रस्तुति |

नीरज गोस्वामी ने कहा…

काव्य सृजन एक कला है और कवि एक कलाकार.
वाह...लाख टके की बात कही है आपने...आपकी रचना भी इस से कुछ कम नहीं...

नीरज

nilesh mathur ने कहा…

समीर जी, शब्दों का खेल निराला है, लेकिन आप माहिर खिलाडी हो! आप के शब्द सटीक ही होते हैं, हम तो आप को पढ़कर प्रेरणा लेते हैं!

Dr.Bhawna ने कहा…

Kafi samaya bad aapke blog par aana hua .par aana safal hua eak alag trha ki rachna padhne ko mili...shabdon ki yahi to karamat ha..sameer ji bahut2 badhai..

Akanksha~आकांक्षा ने कहा…

उफ़..........
मेरे शब्द
शब्द नहीं
आदमी बन गए हैं
...कविता की सुन्दर व्याख्या और आज के दौर में बदलती कविता की सुन्दर पड़ताल..वाकई लाजवाब !!

_____________________
"शब्द-शिखर" पर - हिन्दी की तलाश जारी है

Sadhana Vaid ने कहा…

बहुत गंभीर और गहरी रचना ! आपकी कविता के सम्मोहन से बाहर निकालना आसान नहीं होता ! शायद रचना पढ़ने वाले के लिए भी शब्दों का अर्थ वही नहीं रह जाता जिस भावना के साथ कवि ने उसे रचा होता है ! तभी तो एक रचना का प्रभाव प्रत्येक पाठक पर भिन्न होता है ! बहुत ही सार्थक और सारगर्भित प्रस्तुति ! आभार एवं धन्यवाद !

नरेश सिह राठौङ ने कहा…

कविताओ की समझ नहीं है फिर भी कुछ ऐसा है जो आपकी पोस्ट को पढ़ने पर मजबूर कर देता है |

zeal ने कहा…

Life is nothing but accumulation of few words.

Lets live it !

इंदु पुरी ने कहा…

परछाई बन घुमती थी मेरे साथ साथ
तेरी यादे
नही भुला पाया तेरे अक्स को
इस कदर समाई मुझ में कि
परछाई मेरी भूल गयी मेरे जिस्म को
हर सूं बनती थी तेरे रूप में
खुश था कि तु साथ है हर घड़ी
खिलखिलाते देखा तुझे उस दिन
अजनबी लगने लगी मेरी परछाई मुझको
धूप प्यार की भी छंट गई अब तो
तुझे क्या कहूँ? जिसे मजबूरी समझता था
वो बेवफाई तेरी फितरत हो गई है
मैं मासूम शब्द सा हूँ आज भी
जी चाहा वो तेरी मर्जी -सा मायना बना लिया
जानता हूँ अब ये तेरी आदत हो गई है

dr ravi sharma ने कहा…

bahut badhiya post. shabdon ka achha chitran.

शोभना चौरे ने कहा…

आज अजनबी सी लग रही थी

अपनी परछाई..

बस, ऐसे में

न जाने क्यूँ..

तुम याद आई!!
man ko chooti gahn anubhuti,

Kamlesh Kumar Diwan ने कहा…

sameer ek antraal ke baad rachna dekhi abhivykti ke uchya star par vicharo ke saath rachnaye bahut kuch kahti hai ,jinhe samjhna jaroori hai.

SAMVEDANA KE SWAR ने कहा…

क्यों पीछा करते हैं आप ज़ुबान से निकली बात का
क्यों पीछे पड़े हैं आप मुख से निकले शब्दों के.
मुँह से निकली बात
दहलीज़ पार करने वाली कलजुग़ी औरत है
अग्नि परीक्षा देने भी नहीं आने वाली है वो
पता नहीं किस किस के हाथ लगेगी वो
मुँह से निकली बात
संसद में बैठा नेता है
हर बात के दस मतलब बतायेगा
और सभी को जायज़ ठहरायेगा.
शब्द तो होते ही आदमी हैं जन्म से
तभी तो जानवर बेज़ुबान होते हैं..
http://samvedanakeswar.blogspot.com

अजय कुमार झा ने कहा…

आजकल आपकी पोस्टों को पढने के बाद कुछ भी लिखने कहने का मन नहीं करता ..पोस्ट पर कहे शब्द मन में आत्मसात हो जाते हैं ..सोचता हूं कि फ़िर मैं क्या लिखूं ..जो कहना है अपने मन के भीतर ही ..मेरे शब्द ..आपके शब्द से मिल लिया करते हैं ...
अजय कुमार झा

शरद कोकास ने कहा…

शब्द जब आदमी बन जाते है तब उनका होना सार्थक हो जाता है ।

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

शब्द.....जब निकल जाते हैं
मेरे....मेरे होठों के बाहर
तो बदल लेते हैं....अपने मानी...सुविधानुसार
समय के....और परिस्थिति के साथ...

अकसर ऐसा ही होता है......
एक शायर ने यूं भी कहा है-
तर्के-तआलुकात का अंदाज़ देखिये,
वो भी सुना है उसने जो मैंने नहीं कहा.

अपूर्व ने कहा…

मौसम बदल रहा है...
देर शाम धूप नहीं रहती अब!!

शाम की परछाई का रहस्य भी अजीब होता है..दिन और रात के बीच का यह वक्त भी दिन की परछाई की तरह होता है.जो रात के अंधेरे मे विलीन हो जाती हो..और बस एक अजनबियत रह जाती है पास..खुद की शिनाख्त करने के लिये भी किसी रोशनी की जरूरत होती है..या अपने अंदर के अंधेरे को छुपाने के लिये शायद..
और शब्द आदमी से होते तो हैं..मगर एक फ़र्क रहता है..शब्द अमर होते हैं..
बहुत विचारयोग्य पोस्ट!!!

साधवी ने कहा…

आपकी दोनों रचनाएँ ही अद्भुत कलाकृति हैं-अपकी बात की पुष्टि करती हैं.

ठाकुर पदम सिंह ने कहा…

शब्द अंधे का हाथी हैं
जों भावनाओं की सम्पूर्णता में पकड़े ही नहीं जाते
और कोई शब्द किस पूर्णता के साथ संप्रेषित हो सकें यही तो सर्जक की सार्थकता है ...
आपकी रचना की संवेदनशीलता सदैव की तरह अद्भुत है

Babli ने कहा…

आज अजनबी सी लग रही थी
अपनी परछाई..
बस, ऐसे में
न जाने क्यूँ..
तुम याद आई!!
अद्भुत सुन्दर पंक्तियाँ! भावपूर्ण और उम्दा प्रस्तुती! बधाई!

रणविजय ने कहा…

ये कविता नहीं, भाव चित्र हैं। अपने ख़यालों की उड़ान को बेलगाम ही रहने दीजिएगा।

सुशीला पुरी ने कहा…

''ऐसे मे न जाने क्यूँ तुम याद आए '' समीर जी
लाजवाब !!!!

anjana ने कहा…

शब्दों के अर्थ मे छुपा दर्द उफ कोई शब्द नही है मेरे पास कहने को !!!!!!!!!

Pankaj Upadhyay (पंकज उपाध्याय) ने कहा…

कलाकारी ही है शब्दो को जन मानस तक पहुचाना...आपके शब्द तो सच मे artificial intelligence के साथ आते है.. आप जहा पहुचाना चाहते है, सीधे वही चोट करते है..

दोनो कविताये जबरदस्त..

JHAROKHA ने कहा…

main bhi aader niya shastri ji ki
baatose puuri tarah sahamat hun वाह...
!
आदमी भले ही आदमी न बने
मगर शब्द अवश्य आदमी बनते जा रहे हैं!
शब्दों का मानवीकरण बहुत सुन्दर रहा
bahut hi badhiya likha hai aapane
poonam

Kulwant Happy ने कहा…

अद्भुत!

मेरे शब्द तो अक्सर काले थे,
बिल्कुल कौए जैसे,

फिर भी
उन्होंने कई रंग निकाल लिए/

विजय प्रकाश सिंह ने कहा…

यह बात तो बिल्कुल सत्य है कि हर पढ़ने वाले के अनुसार शब्दों के अर्थ बदलते रहते हैं ।

arun c roy ने कहा…

sir aapki ab tak jitni bhi kavita padhi hain...unme sarva shresth...
bahut gehri samvedna...bhav hain inme... gambhir kavita hai...

arun c roy ने कहा…

sir aapki ab tak jitni bhi kavita padhi hain...unme sarva shresth...
bahut gehri samvedna...bhav hain inme... gambhir kavita hai...

Amitraghat ने कहा…

बहुत सुन्दर.....और आप अमित्रघात पर आए आभार!
amitraghat.blogspot.com

Mayur Malhar ने कहा…

sirji maza aa gaya. SHABD NAHI AADMI BAN GAYE.

दिनेश शर्मा ने कहा…

शब्दों के अर्थ
फिर बदलते हैं
पढ़ने वाले की
सोच के साथ
उसकी
इच्छानुसार
उफ़..........
मेरे शब्द
शब्द नहीं
आदमी बन गए हैं ।

सुन्दर प्रस्तुति।

डॉ टी एस दराल ने कहा…

मौसम बदल रहा है...
देर शाम धूप नहीं रहती अब!

मौसम के इस बदलाव में ही जिंदगी की सच्चाई है।

मेरे शब्द
शब्द नहीं
आदमी बन गए हैं -

जी हाँ, आदमी का चरित्र अब ऐसा ही रह गया है।

Manish ने कहा…

आज अजनबी सी लग रही थी अपनी परछाई.. बस, ऐसे में न जाने क्यूँ.. तुम याद आई!!

:)
न जाने क्यूँ???!!!!

ज्योति सिंह ने कहा…

जब निकल जाते हैं
मेरे
मेरे होठों के बाहर
तो बदल लेते हैं
अपने मानी
सुविधानुसार
समय के
और परिस्थित के साथ शब्दों के अर्थ
फिर बदलते हैं
पढ़ने वाले की
सोच के साथ
उसकी
इच्छानुसार
उफ़..........
मेरे शब्द
शब्द नहीं
bahut khoob kah dala kala aur khoobsurati ke saath bhi ,sundar rachna

दिगम्बर नासवा ने कहा…

पहचानने की कोशिश कर रहा हूँ समीर भाई ... ये किसकी परछाई है ....

gauravsangtani ने कहा…

आज अजनबी सी लग रही थी अपनी परछाई..
बस, ऐसे में न जाने क्यूँ.. तुम याद आई!!

bahut khoob sir ji

kabeera khara bajar mein ने कहा…

Respect samirji
shabdo per apkee rachna behad achhee ban padi hai. Apkee rachnadhamita ka javab nahi hai. ye shabd nai chintan ka murta roop hi. Badhai.

Rakesh ने कहा…

wah...sameerlalji....bhaisaheb...kya baat hai...kya jagah aadmi sabd kaa estemaal kiya hai....wah wah ....
उफ़..........
मेरे शब्द
शब्द नहीं
आदमी बन गए हैं
sameer ji .....wah bahut der gunjegi ye panktiyan ...peecha nahi chodegi mera...wah wah

ज्ञानदत्त पाण्डेय Gyandutt Pandey ने कहा…

शब्द!
जिसमें हाथ तंग है, उसकी ही बात कर रहे हैं आप।


शब्त तीहा हो, आधा तक हो!
पर सम्प्रेषण में बाधा मत हो! :)

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

शब्द देते हैं मन के भावों को नया एहसास और दिल फिर यूँ ही अपने मायने रच देता है ..और वही सोच लेता है ..बहुत पसंद आई आपकी यह पोस्ट ..शुक्रिया