बुधवार, फ़रवरी 10, 2010

एक कहानी: एक कविता

जाने किस आहट से नींद खुल जाती है.कोई थकान नहीं, शायद नींद पूरी हो गई. खिड़की के बाहर झांकता हूँ. सफेद रात. जहाँ तक नजर जाती है, बरफ ही बरफ और रुई के फाहे की तरह गिरती लहराती बरफ अभी भी थमी नहीं है.

घड़ी पर नजर डालता हूँ. ३ बज कर १० मिनट. अब फिर से सोने की कोशिश करना याने सुबह ५ बजे शुरु होने वाली दिनचर्या बिगाड़ना. रसोई में जा कर एक कप गर्म काली कॉफी बना लाता हूँ और फिर सामने कम्प्यूटर. ऐसे ही शुरु होती है अधिकतर दिनचर्या.

कुछ यहाँ वहाँ की खबरें. आँख लगने से आँख खुलने के बीच बदली दुनिया की ताजा तरीन जानकारी. कोई खास नहीं. शायद लोगों के मरने जीने, कुछ बलात्कार, कुछ घोटाले, कुछ मजबूर किसानों की आत्महत्या सभी तो इस दौर में कुछ खास नहीं के दायरे में आ ठहरी हैं. जाने क्यूँ पढ़ता हूँ यह खबरें. क्या देखना चाहता हूँ जिस दिन कह सकूँ कि हाँ, कुछ कुछ खास समाचार है. कुछ भी तो समाचारों के नाम पर अब विचलित नहीं करता.

कभी सोचता हूँ कि क्या मेरी संवेदनाएँ मर गई हैं लेकिन फिर नजर पड़ती है कुछ कहानियों पर, कुछ आलेखों पर जो भीतर तक झकझोर जाते हैं तो एक विश्वास जागता है कि नहीं, अभी जिन्दा हूँ मैं और साथ जिन्दा है मेरी संवेदनाएँ.

snowing

ऐसे जी विचारों के उतार चढ़ाव में नजर पड़ती है उद्धव जी पर छपी कहानी ’आरती’ पर. सधी हुई शुरुवात बाँध लेती है. छोटी सी कथा और गहराई इतनी कि डूबा ले गई दो जन्मों की सोच में. कहानी वो जो सोचने को मजबूर करे और कुछ नये भावों को जन्म दे. बस, बह निकले चन्द शब्द एक रुप ले:

एक अमर प्रेम,
एक रुढ़ीवादी समाज,
एक संस्कार
माँ बाप
का सम्मान,
धन लोलुपता,
मान्यतायें,
समर्पण..
त्याग.

एक समझौता
एक इन्तजार
एक विश्वास,
एक आस्था
पुनर्जन्म की,
एक अव्यक्त वादा,
एक निर्वहन,
एक तपस्या.

एक अहसासने वाला
धड़कता दिल,
एक संवेदना,
एक कलम
शब्दों की
बेजोड़ ताकत,
संप्रेषण,
एक लेखक
कशमकश,
श्रृद्धा.

एक पाठक
नम आँखें
आवाक,
स्तब्द्ध चेहरा
और
सन्न मानसिक हालात!!

-समीर लाल ’समीर’

Indli - Hindi News, Blogs, Links

90 टिप्‍पणियां:

RaniVishal ने कहा…

Bhavanao ke antradwand ka bahut rumani bakhan kiya hai aapane..Aabhar!
Saadar
RaniVishal

खुशदीप सहगल ने कहा…

ख़बर की दुनिया से वास्ता है...हादसे में जितने ज़्यादा लोग मरते हैं, उतनी ही ख़बर बड़ी और बढ़िया हो जाती है...यानि संवेदनाएं भी अब धंधे का सच बन गई है...

जय हिंद...

dhiru singh {धीरू सिंह} ने कहा…

सच मे सम्वेदनाये मर रही है . ह्रदयविदारक घटनाये भी उद्देलित नही करती जब तक अपने पर ना बीते

सतीश पंचम ने कहा…

बर्फ ही बर्फ...ऱूई के फाहे....वाह।

खुशदीप सहगल ने कहा…

ख़बर की दुनिया से वास्ता है...हादसे में जितने ज़्यादा लोग मरते हैं, उतनी ही ख़बर बड़ी और बढ़िया हो जाती है...यानि संवेदनाएं भी अब धंधे का सच बन गई है...

जय हिंद...

Arvind Mishra ने कहा…

सन्न मानसिक -समीर लाल ’समीर’
अनुप्रास तो ग्रेट है ....कहानी भी पढता हूँ फुरसत से .

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

ये कविता बहुत कुछ कहती है। पहाड़ों पर हुई बर्फबारी का असर इधर यहाँ तक पहुँचा है। रात मेनगेट को ताला लगाने गया तो हवा तेज और ठंडी थी। आज सुबह सूरज के अभी तक दर्शन नहीं हुए हैं। हवाओं ने कोहरे और बादलों का सृजन किया है।

राजेश स्वार्थी ने कहा…

आपका हर अंदाज जुदा होता है.

मुनीश ( munish ) ने कहा…

I share ur concern !

Vivek Rastogi ने कहा…

विवेकानंद जी का एक वक्तव्य याद आ जाता है कि एक व्यक्ति को दुर्घटना में जख्म हो गया था, उनके सामने तो संवेदना से वे रो पड़े। सबने पूछा आप रो क्यों रहे हैं, आपको जख्म थोड़े ही हुआ है उसे हुआ है। विवेकानंद जी ने कहा कि मेरी संवेदनाएँ अभी तक जीवित हैं और मुझे उसकी संवेदना, दर्द महसूस होता है।

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

सच्ची दुनिया का वास्ता आज बहुत ही कठिन है..लोग अपने स्वार्थ और लालच के लिए भावनाएँ मार रहें हैं..आज के दौर का एक सही चित्रण चंद शब्दों में बहुत मार्मिक ढंग से प्रस्तुत किया आपने...चंद लाइनों में भाव विभोर कर डाले...

वाणी गीत ने कहा…

उस कहानी ने अंतस को जितना द्रवित किया ...आपकी कविता से उससे अधिक मन में श्रद्धा भर गयी ...
...हम एक दूसरे की भावनाओं , अभिव्यक्ति और सप्म्प्रेषण से कितना जुड़ जाते हैं कि कई बार लगता है कि
क्या सच ही यह सिर्फ आभासी दुनिया है ...!!

यशवन्त मेहता "सन्नी" ने कहा…

आहत होने से कुछ नहीं बदलने वाला,
अफ़सोस जताने से भी कुछ नहीं बदलने वाला
जब तक हम "कुछ नहीं बदलने वाला" जैसी सोच रखेगें
तब तक सवेदनाऎं हमें सतायेंगी

Devendra ने कहा…

सुंदर पोस्ट.

योगेश स्वप्न ने कहा…

bahut sunder abhivyakt kiya hai aapne kahani padhkar upje khayalon/bhavnaon ko.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

कविता में रवानी है,
उमड़ती इक कहानी है!
जहाँ सम्वेदनाएँ है-
वहाँ कायम जवानी है!

कविता और कथा का ताल-मेल
सुन्दर रहा!

वन्दना ने कहा…

samvednayein marne bhi lagein to unhein jivit rakhna hoga ........bahut hi khoobsoorti se abhivyakt kiya hai.

संजय भास्कर ने कहा…

आपका हर अंदाज जुदा होता है.

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत सुंदर और उत्तम भाव लिए हुए.... खूबसूरत रचना......

दिगम्बर नासवा ने कहा…

संवेदनाएँ मरती नही है ..... इसका सबूत तो खैर आपकी रचना ही बता रही है जो उद्वेलित हो कर लिखी है .... अगर संवेदनाएँ न हों तो ऐसा लिखना आसान नही ....... और अगर पाठक की नम आँखें हैं तो संवेदना भी है ......

परमजीत बाली ने कहा…

समीर जी,आपकी रचना के भावों को समझने के लिए "आरती" को पढ़ ना बहुत जरूरी लगा...आप का लिखा भी बहुत गहरे तक छू गया।धन्यवाद।

मोहिन्दर कुमार ने कहा…

सुन्दर भाव भरी रचना...मन को छूती हुई.. एक कोमल मन ही निकल सकती है

मेरे शब्दों में

"किसी के लिये अजनबी का आंसू रखता है मायने
और कोई जां लेकर भी न कभी शर्मसार होता है"

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

एक समझौता
एक इन्तजार
एक विश्वास,
एक आस्था
पुनर्जन्म की,
एक अव्यक्त वादा,
एक निर्वहन,
एक तपस्या.


वाह, लाजवाब अंदाज है.

रामराम.

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

मनुष्य तभी तक जीवित है जब तक उसके अंदर संवेदनायें हैं.

BAL SAJAG ने कहा…

bhawnaye jab shabd ka rup leti hai to asrra ki khushbu fijayo men failati hai.....

रश्मि प्रभा... ने कहा…

kahani,kavita dono ka jawaab nahi

Parul ने कहा…

mujhe to lagta hai sanmvednayen khtm hoti ja rahi hai..

अजय कुमार झा ने कहा…

कहानी और कविता में से किसे बेहतर कहूं या कि किसके लिए कहूं कि उसने ज्यादा द्रवित किया , अभी तय नहीं कर पाया हूं । आपको इन दिनों पढना एक अलग अनुभव दे रहा है

M VERMA ने कहा…

एक विश्वास जागता है कि नहीं, अभी जिन्दा हूँ मैं और साथ जिन्दा है मेरी संवेदनाएँ.'
संवेदनाओ का मरना और संभावनाओ का मरना आदमी के मौत से भी भयानक होता है.
संवेदनाओं को जिन्दा रखना ही होगा : खुद मे भी औरों में भी

shikha varshney ने कहा…

katha main bhi kavya sa anand hai or kavita ke to kehne hi kya.

रंजना ने कहा…

हमेशा की तरह लाजावाब करती हुई पोस्ट....

'अदा' ने कहा…

कहानी और कविता दोनों ही लाजवाब हैं...
आभार..

Mired Mirage ने कहा…

हर बार की तरह रंग मे भंग डालता हुआ मेरा प्रश्न तो होना ही था ! क्या नायिका की कोई अर्धविक्षिप्त या अन्य दोषयुक्त कोई दूर की बहन, भाँजी न थी? न भी थी तो कोई गाँव की ऐसी लड़की तो रही ही होगी। क्या नायक से भी कोई त्याग करवाकर उसे महान नहीं बनाया जा सकता या महानता केवल स्त्रियों के हाथ आती है?
खेद सहित,
घुघूती बासूती
वैसे आह बर्फ, वाह बर्फ ! विवरण पढ़कर मन खुश हुआ।
घुघूती बासूती

amit ने कहा…

बाकी सब तो ठीक है जी लेकिन नींद पूरी लेनी चाहिए। अपनी नींद यदि पूरी न हो तो दिन की वाट लग जाती है, सारा दिन सुस्ती से भरा रहता है! :)

दीपक 'मशाल' ने कहा…

Hamesha ki tarah hi bemisaal..
Jai Hind... Jai Bundelkhand...

chetanajha ने कहा…

जब तक संवेदना के खत्म होने की पीड़ा सताती है तब तक वह खत्म कैसे हो सकती। आपकी संवेदना यंू ही बरकरार रहे, इस शुभकामना के साथ..

chetanajha ने कहा…

जब तक संवेदना के खत्म होने की पीड़ा सताती है तब तक वह खत्म कैसे हो सकती। आपकी संवेदना यंू ही बरकरार रहे, इस शुभकामना के साथ..

chetanajha ने कहा…

जब तक संवेदना खत्म होने की पीड़ा सताती है तब तक वह खत्म हो ही नहीं सकती। आपकी संवेदना यंू ही बरकरार रहे, इसी शुभकामना के साथ

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

जीवन के रहते ही संवेदनाएँ जिन्दा रहती है ... आभार

chetanajha ने कहा…

जब तक संवेदना खत्म होने की पीड़ा सताती है तब तक वह खत्म हो ही नहीं सकती। आपकी संवेदना यंू ही बरकरार रहे, इसी शुभकामना के साथ

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

कभी सोचता हूँ कि क्या मेरी संवेदनाएँ मर गई हैं लेकिन .................................... एक विश्वास जागता है कि नहीं, अभी जिन्दा हूँ मैं और साथ जिन्दा है मेरी संवेदनाएँ.''
यही जीवन है,बेहतरीन पोस्ट रही यह भी.

indu puri ने कहा…

mired mirage ji! रंग का मजा कई गुना बढ़ जाता है जब साथ में भंग भी हो .
कितना खूबसूरत सवाल किया आपने ! आपके हिम्मत की दाद दूंगी
यहाँ लोग 'ठकुर सुहाती ' ही बोलते हैं
कोई तो हो जो 'हिला देने ' वाला बोले ,
सीखने सिखाने को प्रेरित करने वाला बोले
हाँ ,मेरे मन भी आक्रोश है नायक के लिए ...
पर ये बलिदान की बेदी पर चढ़ जाना इतना आसान भी नही होता.
,बहुत दम,बहुत हिम्मत चाहिए .
ठेस नही पहुंचा रही मैं किसी को , क्षमा करें
और स्वयम से पूछे-' है इतनी हिम्मत?'
माना कि वो नायक आप ही थे/ हैं ,क्या करते ?
महानता स्त्रियों के हाथ में आती है?
नही,उनमे वो हिम्मत,साहस,गुण है कि महान बन जाये या बना दी जाये.
बहुत छला गया इस के नाम पर औरत को ....
बिरले ही थे अंगुलियों पर गिन लिए जाने जितने ही ऐसे पुरुष ,पर औरतें ?
तभी तो 'वो' पुरुष नही और आप लोग...????????
पर आपके व्यूज़ ?? प्रणाम आपको

मनोज कुमार ने कहा…

बेहतरीन। बधाई।

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

एक पाठक
नम आँखें
आवाक,
स्तब्द्ध चेहरा
और
सन्न मानसिक हालात!
कमाल का उपसंहार...

नीरज मुसाफिर जाट ने कहा…

समीर जी, आनन्द आ गया आपसे बात करके.

rashmi ravija ने कहा…

kahani aur kavita dono hi bas laazabaab hain....ye andaaz-e-bayaan ,taarif-e-kabil hai..

हर्षिता ने कहा…

कहानी और कविता दोनों ही लाजवाब हैं।

अनामिका की सदाये...... ने कहा…

sameer ji. maine bhi padhi thi aarti wali kahani. aur aapne apne shabdo me jo kahani par vichar diye unse bhi sehmat hu...lekin mujhe is kahani me dhan lolupta kahi nazer nahi aayi. ha.n mana ki mata-pita ko shayed dahej ki lolupta hogi..lekin jinhone tyag kiya unke liye dhan koi mayne nahi rakhta tha. bas aadhe aaye to unke sankar,maa-baap k prati samman aur ankho k ansu.
kalam dwara shabdo ki bejod takat se lekhak ne(Indu ji ne) bahut kuchh urek diya hai jo kahani ko safalta pradaan karta hai.

boletobindas ने कहा…

संवेदना बड़ी अजीब हो गई है..या हम मालूम नहीं..संवेदनाहीन तो नहीं हुआ है शायद मन..पर वो भी नफा नुकसान अनायास तोल लेता है हमारे सोच पाने से पहले ही..कई बार जब संवेदना जगती है तब तक जिसके लिए जिस समय जगना हो, वो खत्म हो जाती है..ठीक वैसे ही जैसे रोगी को दवा दो दिन बाद दी हो..

साधवी ने कहा…

बहुत बढ़िया लेख. कविता कमाल की है.

Kusum Thakur ने कहा…

कहानी और कविता दोनों ही अपने आप में बेहतरीन !!

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` ने कहा…

Bahut achchee praveeshtee rahee ...

ab aapke diye link bhee dekhtee hoon

महफूज़ अली ने कहा…

कहानी और कविता संवेदनशील है.... उद्वेलित करती.... खूबसूरत रचना....

आज ही गोरखपुर से आया हूँ.... आजकल समय ही नहीं मिल पा रहा है....


सादर

महफूज़...

सुशीला पुरी ने कहा…

एक पाठक
नम आँखें
आवाक,
स्तब्द्ध चेहरा
और
सन्न मानसिक हालात!!

Ram Krishna Gautam ने कहा…

Perfect!


Regards

Ram Krishna Gautam

इष्ट देव सांकृत्यायन ने कहा…

भावपूर्ण रचना है.

KAVITA RAWAT ने कहा…

Bahut sundar bhavpurn prastuti ki liye badhai.
Mahashivratrik ki haardik shubhkamneyne

डॉ टी एस दराल ने कहा…

संवेदना कभी नहीं मरती।
हाँ संवेदनशील लोग ज़रूर कम हो गए हैं।
लेकिन फिर भी एक उम्मीद बची है आप जैसे लोगों से ।
अच्छी प्रस्तुति।

निर्मला कपिला ने कहा…

पहले आर्ती को पढा फिर पदम जी के ब्लाग पर आपका कमेन्ट देखा बस निशब्द हूँ आपकी संवेदनाओं की अभिवयक्ति पर शुभकामनायें

अमिताभ श्रीवास्तव ने कहा…

samvedna..marti nahi, bas knahi kisi kone me jad ho jaati he aour esi ghatna ka intjaar karti he jo use pighlaa de.../barf ki tarah.

Kajal Kumar ने कहा…

कई बार सोचता हूं कि शायद पुनर्जन्म की अवधारणा मन को समझाने का ही एक दूसरा तरीक़ा है

ज्योति सिंह ने कहा…

एक रुढ़ीवादी समाज,
एक संस्कार
माँ बाप
का सम्मान,
धन लोलुपता,
मान्यतायें,
समर्पण..
त्याग. एक समझौता
एक इन्तजार
एक विश्वास,
एक आस्था
पुनर्जन्म की,
bahut hi saarthak rachna kuchh baate man ko sochne ke liye vivash kar gayi kuchh chhoo gayi

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

समीरलाल जी आदाब
एक अमर प्रेम...
........नम आँखें
..आवाक....स्तब्द्ध चेहरा
और...सन्न मानसिक हालात.....

एक कहानी, एक कविता..
..आपकी क़लम से निकली
परिवेश की व्यथा..
ये संवेदनाएं आपके हमारे दिलों में हमेशा कायम रहें..

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

समीर जी,महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामना...हर हर महादेव!!!

बवाल ने कहा…

बाप रे बड्डे क्या ही ऊँची उड़ान है आपकी उड़न तश्तरी की। कितनी शाश्वत बातें हैं पोस्ट पर। हम क़ाइल हुए।

Babli ने कहा…

महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें!
बहुत बढ़िया लगा ! बधाई!

JHAROKHA ने कहा…

jab apne par beet ti hai tabi such ka ehsaas hota hai.ekdm saty vachan
poonam

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

आपकी ये पोस्ट तो सचमुच मन को उद्वेलित कर गई...बेमिसाल रचना!!!

neera ने कहा…

कविता कितना कुछ कह गई ..इतने कम शब्दों में...

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

शिवरात्रि (और ओलंपिक्स) की शुभकामनाएं! वेन डायर कहते हैं कि अखबार/टीवी/फिल्म में हम इतने अधिक (सिमुलेतिड) अपराध/हत्याएं देखते/भोगते हैं कि संवेदनाएं मरना अवश्यम्भावी है.

Kulwant Happy ने कहा…

समाचार क्यों पढ़ता हूँ, पता नहीं। सही फरमाया आपने। लेकिन कविता ठोस सच्चाई पेश करती है।

दिनेश शर्मा ने कहा…

सच्ची अभिव्यक्ति।

sanjay tiwari ने कहा…

सब कहत है कि अकेले आये है अकेले जायेगे ।
पर
सच तो ये है
दो के बिना को आता नही
चार के बिना कोई जाता नही

ओम आर्य ने कहा…

Thought provoking thoughts...

श्रद्धा जैन ने कहा…

एक पाठक
नम आँखें
आवाक,
स्तब्द्ध चेहरा
और
सन्न मानसिक हालात!!


bhaavnaaon nahi mari hai waqayi saboot aise hi dhoondhna padta hai

mujhe hamesha aashchary hota hai ki kaise khud ko samvedansheel kahne / samjhne wale log patthar ki tarah behave kar sakte hain

bahut sateek kavita hai ....... kisi ki mout dard ab krantikari badlaav nahi lata

Priya ने कहा…

kahne ko to aapki rachna mein kuch nahi hai....lekin fir bhi bahut kuch...Sach bolu to sameer sir...bilkul sunn rah gai....socha kuch likhoo ya fir yunhi chali jaoo....fir socha chalo keyboard par haath chalaoon....

रज़िया "राज़" ने कहा…

आप अपनी रचनाओं में जैसे जान डाल देते हैं।
एक लेखक
कशमकश,
श्रृद्धा. एक पाठक
नम आँखें
आवाक,
स्तब्द्ध चेहरा
और
सन्न मानसिक हालात!!वाह!!!!!वाह!!!

रचना दीक्षित ने कहा…

एक पाठक
नम आँखें
आवाक,
स्तब्द्ध चेहरा
और
सन्न मानसिक हालात!!

बहुत प्रभावशाली मार्मिक रचना सुंदर दिल को छूते शब्द .

राज भाटिय़ा ने कहा…

जब रात को नींद नही आती तो... फ़िर ऎसे ही ख्याल आ आ कर हमारी संवेदनाएं जगाते है, ओर फ़िर तरस भि आता है ओर गुस्सा भी आज के जमाने पर, लगता है अब भावनाये,संवेदनाएं भी बिकने लगी है, इंसान की कीमत जीरो है....कविता भी बहुत अच्छी लगी
धन्यवाद

दिलीप कवठेकर ने कहा…

आपकी कविताओं में एक छिपी हुई टीस सी है, जो ती ए नीमकश जैसे कलेजे में आधी गड़ जाती है, और हम बौराये रहते हैं कि क्या निकालें या रहने दें.

Akanksha~आकांक्षा ने कहा…

एक संवेदना,
एक कलम
शब्दों की
बेजोड़ ताकत,
...यूँ ही भावनाओं का समुन्दर बहता रहे...लाजवाब रचना !!

Akanksha~आकांक्षा ने कहा…

"शब्द-शिखर" पर सेलुलर जेल के यातना दृश्य....और वेलेंटाइन-डे पर "पहला प्यार" !
"शब्द-शिखर" पर आप भी आयें, रहेगा आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतजार !!

manav vikash vigan aur adhatam ने कहा…

ek kahaani aur kavita bhoot achhi hai aap kee tiparee mere blog per aayee thee par usake bad aapka asirvad nahi mila aap apane sujav dene kee kripa kare danyavad

Pushpa Bajaj ने कहा…

लाजबाब ! लिखने का अंदाज़ सबसे अलग.

abhivyakti ने कहा…

kahani kavitayen aawashyak manushya ko manushya banaaye rakhne ke liye uski samvedna jagaye rakhne ke liye .
bahut sunder prastuti ,badhai.

Kulwant Happy ने कहा…

आपका ब्लॉग यहाँ ब्लॉगवुड जोड़ दिया गया है शायद आपको जानकार खुशी हो। शायद न भी हो।

Pankaj Upadhyay ने कहा…

नम आखे
अनबोले बोल
आज़ाद आसू
अवाक
सन्नाटा

और पढ रहा हू आपकी पोस्ट...full of true emotions... you are a TRUE writer sir..purely emotional..

Apanatva ने कहा…

good post..asar chod gayee.....

Sadhana Vaid ने कहा…

आपके बहुत ही ख़ूबसूरत आलेख और भावपूर्ण कविता ने इतनी उत्सुकता जगा दी कि इनकी प्रेरक कहानी 'आरती' को पढ़ने का लोभ संवरण नहीं कर पा रही हूं | क्या आप इसकी लिंक मुझे दे सकते हैं ? आभारी रहूँगी |

Sundeep Shukla ने कहा…

Bahut achcha likha he.