गुरुवार, मार्च 12, 2009

होली पर यह हालत हो ली!!!

देखिये, क्या क्या न बनें हम भी सनम, आपकी खातिर: हा हा!!! जिसका जैसे मन आया, होली पर रंगता चला गया और हम रंगाते चले गये. मजा बहुत इस ब्लॉगरी होली में इस साल.


ताऊ के दर पर:


ताऊ: जय हो!


साहित्य शिल्पी पर योगेश समदर्शी की नजर:


योगेश भाई: वाह!!


मित्र द्वारा ईमेल पर भी लटका दिये गये:


अब तो: ब्लॉग बना लो!


मास्साब पंकज सुबीर के मुशायरे में:


मास्साब: क्या खूब सजाया!!



मास्साब के मुशायरे में नाम मिला समीरा लल्ली कनाडा वाली उड़ने वाली तश्तरी और फिर हमने जो गज़ल पढ़ी, जिसका मिसरा दिया गया था: तुम्हारे शहर के गंदे, वो नाले याद आते हैं - वो तो सुनते जाईये (हालांकि आप में से बहुत से लोगों ने तो मुशायरे में ही सुन ली होगी.)



तुम्हारे शहर के गंदे, वो नाले याद आते हैं
नहाते नंगे बच्चों के रिसाले याद आते हैं

था ऐसा ही तो इक नाला, तुम्हारे घर के आगे भी
हमें उसके ही किस्से अब, वो वाले याद आते हैं

तुम्हें छेड़ा था हमने बस ज़रा सा ही तो, नाले पर
पिटे फिर जिनके हाथों से वो साले याद आते हैं

तुम्हारा घर था बाज़ू से, नज़र दीवार से आता
हमें उस पर लगे, मकड़ी के जाले याद आते हैं.

हाँ छिप कर पेड़ के पीछे, नज़र रखते थे हम तुम पर
तुम्हारे गाल गुलगुल्ले, गुलाले याद आते हैं.

नशा नज़रों का तुम्हारा, उतारा बाप ने सारा
हमें रम का मज़ा देते, दो प्याले याद आते हैं

मिटा दी हर रुकावट हमने, अपने बीच की सारी
लगाये बाप ने तुम पर जो ताले, याद आते हैं

अँगूठी तुमको पीतल की, टिका कर उसने भरमाया
जो तुमने हमको लौटाए, वो बाले याद आते हैं

चली क्या चाल तुमने भी, जो कर ली गै़र संग शादी
हमें गुज़रे ज़माने के, घोटाले याद आते हैं.

जिगर को लाल करने को, गुलाल दिल पे था डाला
चलाए नज़रों से तुमने, वो भाले याद आते हैं

अँधेरी रात थी वो घुप्प और बिजली नदारत थी
’समीर’ भागे थे जिन रस्तों से, काले याद आते हैं

--समीर लाल ’समीर’ Indli - Hindi News, Blogs, Links

79 टिप्‍पणियां:

Himanshu Pandey ने कहा…

गजल तो वहीं पढ़ ली थी, और सारी फोटो भी । पर आपके भिन्न-भिन्न रूपों का एक साथ दर्शन अच्छा लगा ।

अनाम ने कहा…

सिवाय कसमसाने के मैं क्या कर सकता हूँ? आप मेरे होली राडार पर थे और शीर्षक की हद से भी बाहर थे, लेकिन कमबख्त मेरा ज़मूरा आपका चेहरा पहचानने से इंकार कर रहा था!

अब इतना समय नहीं बचा था कि आपके चेहरे का मेकअप कर पाता :-)
इसलिए चूक गये वरना, आज हमारा नाम भी यहाँ होता :-D

अनूप शुक्ल ने कहा…

सुन्दर! जैसे करम करेगा वैसे फ़ल देगा भगवान!

दिनेशराय द्विवेदी ने कहा…

वाह आप को तो बहरूपिया बना डाला!

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` ने कहा…

समीर भाई,
प्यार से अगर लोग मज़ाक करते हैँ तब हम खुले मन से हँसकर आगे बढ लेते हैँ पर मेरे ब्लोग पर आकर देखेँ :-(
मन उदास हो गया मेरा !
स स्नेह,
- लावण्या

Arvind Mishra ने कहा…

क्या क्या न बनें हम भी सनम, आपकी खातिर !


काश वे अब भी समझ जाते इस प्राणेर व्यथा को !

और गजल ने तो मानों गदर ही सियापा कर दिया
कितने ही जख्मों को कुरेदा मगर बेसाखता हंसा दिया !
अब उपसंहार !
खूब रही ठिठोली ये चिट्ठाजगत की होली
न भीगा किसी का नाडा न भींगी किसी की चोली
मनी फिर भी ये होली,गांठे हुईं मन की ढीली
ठहाके लगे हैं जम के न गुजरी किसी पे खाली पीली

पंकज सुबीर ने कहा…

इस बार तो ये सुझाव आया है कि इस बार के मुशायरे में हासिले मुशायरा शेर न चुन कर हासिले मुशायरा शायरा को चुना जाये और उस पे भी अधिकांश लोग समीरा लल्‍ली को पूर्व में ही वोट कर चुके हैं । सच कहूं तो आप पर ये ड्रेस फबी भी खूब क्‍या लग रहे हैं आप । आज शताब्‍दी से दिल्‍ली निकल रहा हूं और कल वहां पुस्‍तक का विमोचन है । 15 को वापस आऊंगा ।

अनाम ने कहा…

होगा।

अनाम ने कहा…

उड़नतश्‍तरी हो न
तो कभी वहां
कभी यहां रहे
कहां कहां न रहे
पर आसमान में
फंसे रहे पर
वहीं पर मत
लटके रहना
खजूर मत बनना।
पर योग ये
अच्‍छा है
ज्‍यादा करेगा
तो स्लिम होगा।

dhiru singh { धीरेन्द्र वीर सिंह } ने कहा…

आप तो कमाल लगे /लगी इस होली मे . लेकिन आपके अपने लगाए फोटो मे इत्त्ने गोरे क्यों नजर आ रहे /रही हो . बुरा न मानो होली थी

संत शर्मा ने कहा…

तुम्हें छेड़ा था हमने बस ज़रा सा ही तो, नाले पर
पिटे फिर जिनके हाथों से, वो साले याद आते हैं

bahut achcha aur hasyaspad.

seema gupta ने कहा…

अँगूठी तुमको पीतल की, टिका कर उसने भरमाया
जो तुमने हमको लौटाए, वो बाले याद आते हैं
" ha ha ha ha ha ah ha ha ha ha chaa gye sir ji aap......."

Regards

मुंहफट ने कहा…

समीर भाई ऐसा गुलाल
जैसे धूल में फैलीं सुबहें हजार.
वाह-वाह.

Anurag Harsh ने कहा…

यह तो ब्‍लागर्स का आपके प्रति स्‍नेह है, जनाब, इस प्‍यार के लिए आपको शुभकामनाएं व बधाई

Anil Pusadkar ने कहा…

हम्को तो आपके गुलगुले से,
गोल-गोल गाल याद आते है।

होली है।

नीरज गोस्वामी ने कहा…

आपकी तो "जहाँ जायीयेगा हमें पायीयेगा..." वाली हालत हुई है इस होली में...हर जगह छाये हुए हैं आप....जय हो.
ग़ज़ल तो बिलकुल आप जैसी ही है...धांसू...हालाँकि आपने भी हमारी तरह रिस्क लिया है...ससुराल वाले या प्रेमिका के बारे में कह कर...
"होली की आड़ में सालों का तो बैंड बजाया जाता है...."
(गीत: घूंघट की आड़ से दिलबर का...से प्रेरित)
नीरज

रंजू भाटिया ने कहा…

सुपर हिट हो जी आप ..खूब होली खेले हर रंग में आप और हर रंग में खूब जंचे :)

अनाम ने कहा…

वाह समीर भाई वाह..
सबने आपको खुब सजाया.
पर हमको तो घुघट वाला रुप भाया

होली की शुभकामनाऐं..


आज आपके ब्लोग का फिड अपडेट नहीं हुआ!

मीत ने कहा…

समीर सर, सच में आप वो उस हवा के झनके की तरह हो, जिसकी ठंडक अपने चेहरे पर महसूस करने के लिए हर कोई तरसता है...
मीत

संजय बेंगाणी ने कहा…

हर रूप में गजब ढा रहें हैं....

mamta ने कहा…

अरे ये क्या !
लगता है ब्लॉग पर बहुत होली हुई है । :)

कुश ने कहा…

ये उड़ने वाली तश्तरी तो बड़ी कमाल लग रही है..

ALOK PURANIK ने कहा…

क्या केने क्या केने

Ashish Khandelwal ने कहा…

वाह जी वाह.. आप एक रूप अनेक.. नीचे वाले फोटो में तो आप इतने अच्छे लग रहे हैं कि लावारिस में अमिताभ, बाजी में आमिर, आंटी नंबर वन में गोविंदा और चाची 420 में कमल हासन भी नहीं लगे थे.

Sanjeet Tripathi ने कहा…

wah wah, kya andaz hai.

happy wali holi aapko bhi!

222222222222 ने कहा…

यह तो गजब ही हो गया समीरजी। क्या खूब।

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

तुम्हें छेड़ा था हमने बस ज़रा सा ही तो, नाले पर
पिटे फिर जिनके हाथों से वो साले याद आते हैं

बहुत शानदार लग रहे हो जी आप तो.:) हर रुप मे सवा सोलह आना सही हो आप.

लगता है अब आपको माडलिंग कि तैयारी शुरु कर देनी चाहिये. वैसे हमने आपके लिये कोई पेकेज देखना शुरु कर दिया है.:)

अब आने वाली रंगपंचमी की अग्रिम बधाई,

Gyan Dutt Pandey ने कहा…

गदर हैण्डसम है स्लिम-ट्रिम टिप्पणी वाला बाबा!

--- चमेली जान!

Pt. D.K. Sharma "Vatsa" ने कहा…

समीर जी, ऎसी होली तो साल के बारह महीने और तीस दिन होनी चाहिए....पूरी तरह से प्रेममयी..

राजा कुमारेन्द्र सिंह सेंगर ने कहा…

SUBHAANALLAAAAAAAAAAAAAAAH.............

Vineeta Yashsavi ने कहा…

is holi mai to aapke kai saare chehre dekhne ko mil gaye...

P.N. Subramanian ने कहा…

अब तो आप कनाडा जाना स्थगित कर संसद सदस्य के लिए पर्ची भर दो. जीत सुनिश्चित है

संध्या आर्य ने कहा…

बहुत खुब समीर जी
आप हर रंग मे अनोखे लगे

G M Rajesh ने कहा…

janch rahe ho
majaa aa gaya

ghughutibasuti ने कहा…

जाकि रही भावना जैसी
उड़नतश्तरी तिंह देखही तैसी।
बहुत बढ़िया रहे सब रूप।
घुघूती बासूती

संजय तिवारी ने कहा…

चाचा हर जगह छाये हुऎ हो

Unknown ने कहा…

यही तो सबका प्यार है ।

L.Goswami ने कहा…

अच्छा हुआ आपने अपनी सारी तस्वीरें यहाँ लगा दी. इससे पता चलता है आप हर जगह छाये हुए हैं ब्लॉग जगत में.

naresh singh ने कहा…

क्या आप सचमुच पिट गये थे । हो सकता है मोटापे कि वजह से भाग नही पाये हो । चित्र सुन्दर है फ्रेम करवाकर ड्राइंग रूम मे जरूर लगा ले ।

pallavi trivedi ने कहा…

प्रभु के हर रूप को प्रणाम है पर समीरा लल्ली के आगे तो नत मस्तक हो गए हैं.....

Yogesh Verma Swapn ने कहा…

wah sameer ji,in chitron men zyada khoobsurat lag rahe ho, badhai.

संगीता पुरी ने कहा…

वाह !!! सुंदर सुंदर रूप ...क्‍या खूब लग रहे हैं।

Puja Upadhyay ने कहा…

इन सब पर एक असली होली वाला फोटो भी लगा देते. गंदे नालों के बारे में तो मुशायरे में ही पढ़ लिया था...यहाँ पर्सनल साधुवाद दे देते हैं...अब बड़ों से ही तो सीखते हैं न :)

Anita kumar ने कहा…

समीरा लल्ली सुंदर लग रही हैं और गजल तो गजब की कहती हैं।

समयचक्र ने कहा…

भाई समीरजी
सादर अभिवादन
आप अपनी पोस्ट में जिस तरह संजीदगी के बखूबी हास्य का सम्मिश्रण कर देते है जो पोस्ट की गरिमा को चार चाँद लगा देता है और मजेदार रोचक बना देता है साथ ही आपका सरल मधुर स्वभाव से परिपूर्ण टिप्पणियां सभी को आपके ब्लॉग "उड़नतश्तरी " की और आकर्षित करता है . होली पर्व की हार्दिक शुभकामना
आभारी हूँ आपका
महेंद्र मिश्र
जबलपुर

अजय कुमार झा ने कहा…

he golmol gudgudaate praanee aap nischit hee is prithvi lok ke nahin hain kintu jis bhee lok se aapkaa ye pushpak vimaan yahan blog jagat par laind hua hai wo lok dhanya hai. aur aapkaa yahan hona bhaarat ke chaand par pahunchne se badee baat hai.

राजीव थेपड़ा ( भूतनाथ ) ने कहा…

अब हम भी कुछ कहें.....????वाह...वाह.....वाह....वाह.....वाह......वाह.....वाह.....वाह....वाह....वाह...वाह.....वाह....वाह.....वाह......वाह.....वाह.....वाह....वाह....वाह...वाह.....वाह....वाह.....वाह......वाह.....वाह.....वाह....वाह....वाह...वाह.....वाह....वाह.....वाह......वाह.....वाह.....वाह....वाह...

राजीव तनेजा ने कहा…

बढिया है....जमे रहें

कुन्नू सिंह ने कहा…

:))))))))))))))))))))
ये क्या कर लिये हैं। एकदम एक्सपर्ट हो गै हैं फोटो ईडीट करने मे.

होली की बधाई! और हां मिठाई भेज दिजीयेगा :)

कुन्नू सिंह ने कहा…

:))))))))))))))))))))
ये क्या कर लिये हैं। एकदम एक्सपर्ट हो गै हैं फोटो ईडीट करने मे.

होली की बधाई!

दिलीप कवठेकर ने कहा…

आपको और पूर्ण परिवार को होली की शुभकामनायें.

हमेशा की तरह आपकी पोस्ट में व्यंग के साथ साथ मन के अंतरंग रंगों के भी दर्शन होते है.

इन्दौर आने की याद है ना?्सिर्फ़ हमारे लिये ही नही , ताऊ को ढूंढने के लिये!!!

Archana Chaoji ने कहा…

समीर जी ,हमेशा की तरह हर ब्लोग पर छा गये,
और सुबीर जी " समीरा लल्ली " बनाकर बाजी मार गये ।

बवाल ने कहा…

हा हा हा हा ! कौन टाइप के लग रए हो आर आप ? होली में । हा हा ।

गिरीश बिल्लोरे मुकुल ने कहा…

jai ho jai ho

सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी ने कहा…

अँगूठी तुमको पीतल की, टिका कर उसने भरमाया
जो तुमने हमको लौटाए, वो बाले याद आते हैं


वाह! काफी कुछ कर गुजरे हैं जनाब...?

राज भाटिय़ा ने कहा…

समीर जी आप की गजल की तरह से आप के सारे चित्र भी अति सुंदर लगे, आप ने बहुत मानी इस बार होली, चलिये आईये ओर हमे फ़िर बताना भारत की होली की बाते, हमारे लिये तो सपना ही है.
धन्यवाद

Manish Kumar ने कहा…

बढ़िया रहा ये रंग भी वो नाले वो साले वाह वाह :)

डॉ .अनुराग ने कहा…

क्या कहे इ समीर लाल तो बहुत भाये मन को...साल भर ऐसा रंग काहे नहीं चढाते अपने ऊपर....गजल भी बहार में है....ध्यान दीजिये बेहर नहीं बहार कहा है

रश्मि प्रभा... ने कहा…

bahut khoob.......

G M Rajesh ने कहा…

webduniya मुख पृष्ठ>>फोटो गैलरी>>धर्म संसार>>त्योहार>> होली के रंग भगोरिया के संग ! (Holi - Bhagoriya Festival Photogallery)
log on kare aur
bhagoriyaa ke drushyo se avgat ho le

अनाम ने कहा…

होली का असली मजा इस गजल में आया.

anurag ने कहा…

आपकी जिंदादिली काबिल-ए - तारीफ है. होली की बिलेटेड शुभकामनायें.

नितिन | Nitin Vyas ने कहा…

घूंघट और दाढ़ी... यही अपने आप में एक गज़ल है।

होली की शुभकामनायें

हें प्रभु यह तेरापंथ ने कहा…

गजब

रंजना ने कहा…

Haa Haa Haa Haa....

ek se badhkar ek E-ROOP sajaya aapne..

Aur nalon ka safar to waah.Bhagwaan kare yah bhi E-Naala hi ho,sachchi wala nahi...

Unknown ने कहा…

वाह तस्वीरें देखकर तो मजा ही आ गया। बहुत खूब।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

Sameer भाई
क्या रूप हैं नए नए ............majaa aa गया, कविता तो Pankaj जी के blog पर padhe थी

आपको और parivaal को bilated होली की shubh kaamnaayen

अनाम ने कहा…

वाह!! क्या बनाया है इस होली ने आपको!!
:)

Alpana Verma ने कहा…

बडे खुशकिस्मत हैं समीर जी आप..इतने रूप रंग मिल गए...क्या बात है!
चली क्या चाल तुमने भी, जो कर ली गै़र संग शादी
हमें गुज़रे ज़माने के, घोटाले याद आते हैं.

ही ही ही --होली पर आप को बहुत कुछ याद आ रहा है..बढ़िया है!
बधाई इतने रूप रंगों में होलिअवातरी होने पर...

Dr.Bhawna ने कहा…

बहुत सारे रंग देखे आपके...

निवेदिता ने कहा…

mama ji aap taiyar huwe achchhe lag rahe hai.
aapki photo bariya hai.

प्रदीप कांत ने कहा…

तुम्हें छेड़ा था हमने बस ज़रा सा ही तो, नाले पर
पिटे फिर जिनके हाथों से वो साले याद आते हैं

अच्छी ह्जल...

Rajmani ने कहा…

udan tashtri per lagatar nazar banye hue hoon. achha masala derahe hai . yadi ho sake to hamre blog lok mangal per bhe kush nazare inayat kare . Mahra sahib aap se railyatra main hue bhent ke kisse sunnate nahi thakte ahi.
Rajmani

बवाल ने कहा…

बार बार पढ़ रहे हम बार बार मज़ा आता है सर जी क्या लिखा है वाह वाह!

बवाल ने कहा…

अँधेरी रात थी वो घुप्प और बिजली नदारत थी
’समीर’ भागे थे जिन रस्तों से, काले याद आते हैं
हा हा हा आप और भागे थे ?

Abhishek Ojha ने कहा…

वाह जी वाह !

अनाम ने कहा…

वाह वाह, सब एक से बढ़कर एक कलाकारी के नमूने हैं, ही ही ही!! :D

SHUAIB ने कहा…

आपके लेख पढ पढ के हंस्ता था आज पहली बार आपके चित्र देखकर खूब हंसा।
होली की बधाई

विजय तिवारी " किसलय " ने कहा…

sameer jee,
main to aalekh aur tippaniyon men hi kho gaya hoon
abhi to ian sab par bhi chintan karna hai,
waakai prem aur kalam hee hai jo aapko is mikaam tak laayee hai
- vijay