बुधवार, अगस्त 20, 2008

अंदर की बात!!!

आज आपके मास्साब छुट्टी पर है इसलिए आज आपकी निबंध की क्लास मैं लूँगा. मैं छात्रों को बता रहा हूँ. आज का विषय है: ’अंदर की बात एवं बाहर की बात’

क्या आप में से कोई छात्र इस विषय पर कुछ कह सकता है?

’सर, परिभाषा तो नहीं मगर उदाहरण से बता सकता हूँ.’ यह वही छात्र है जिसने पिछली बार निबंध में टॉप किया था.

मैं बहुत खुश हुआ कि अगर उदाहरण से बता देगा तो परिभाषा सिखाना तो बहुत आसान हो जायेगा.
’सर, आपने अभी कहा कि मास्साब छुट्टी पर हैं, यह बाहर की बात है और असल में मास्साब को छुट्टी पर भेजा गया है क्यूँकि उन पर हमारे निबंध चुरा कर छापने की इन्क्वायरी चल रही है, यह अंदर की बात है.’

चुप रहो-मैं मास्साब की बची खुची इज्जत पर डांट का पैबंद लगाने की मित्रवत कोशिश करता हूँ. तुम लोग बस शारीफ लोगों को बदनाम करना जानते हो.

अब मैं उनको बोलने का मौका न देते हुए परिभाषा पर आ जाता हूँ:

दरअसल, बाहर की बात वह होती है जो अंदर से आती है बाहर सबको बतलाने के लिए और सामन्यतः उसी के द्वारा भेजी जाती है, जिसके विषय में बात है. अंदर की बात सामन्यतः बाहर से बाहर के लिए आती है और सामन्यतः अंदर से टूटे हुए व्यक्ति द्वारा भेजी जाती है.

उदाहरण के लिए, संसद में चमका चमका कर दिखाया गया कि हमें १ करोड़ घूस दी गई. यह बाहर की बात कहलाई एवं यह उन्हीं के द्वारा कही गई जिन्हें घूस मिली. इसमें अंदर की बात यह है कि घूस दरअसल २५ करोड़ मिली और यह बात उसने बताई जिसने घूस दिलवाने के लिए अंदर के आदमी का काम किया-देयता और ग्रेहता के बीच सेतु के समान.
मगर सर हमने तो सुना था कि अंदर की बात अक्सर अफवाह होती है! यह फिर वही विद्व छात्र पूछ रहा है.

बेटा, अंदर की बात स्वभाववश अफवाह जैसी ही लगती है किन्तु अफवाह और अंदर की बात के बीच एक बारीक धागे जैसी लकीर का विभाजन है इसे ज्ञानी लोग समझ जाते हैं और मौका देख कर किनारा कस लेते हैं जैसे अडवानी जी ने इस घूस कांड में किया. अफवाह अक्सर कोरी बकवास होती है जबकि अंदर की बात मूलतः ठोस. अतः यह अंतर करना सीखना परम आवश्यक है और यह मात्र अनुभव से आ सकता है. जिस तरह घाघ नेता बनने की कोई किताबी पाठशाला नहीं है, बस अनुभव से बना जा सकता है, ठीक वैसे ही इसे पहचानने के लिए भी मात्र अनुभव की ही आवश्यक्ता है.

जैसे उदाहरण के तौर पर अमरीका का कहना कि इराक के पास वेपन ऑफ मास डिस्ट्रक्शन हैं, यह बाहर की बात थी असल में अंदर की बात यह थी कि इराक के पास तेल के लबालब कुएं थे, जिस पर अमरीका की नजर थी.

एक अन्य उदाहरण के माध्यम से यह बात समझने की कोशिश करो कि अडवानी जी चिल्ला रहे थे कि परमाणु करार नहीं होना चाहिये, यह बाहर की बात थी यानि मात्र जनता के लिए दिखावा. पुख्ता बात यह थी कि होना तो चाहिये मगर हमारे शासन काल में, न कि कांग्रेस के.

बाहर की बात है मनमोहन सिंग कहते है यह परमाणु संधि देश हित में है. इसमें अंदर की बात का विशिष्ट उदाहरण है कि मैडम ने ऐसा कहने को कहा है बाकि तो मनमोहन सिंग को खुद नहीं मालूम कि किसके हित में है. यह अपने आप में एक विचित्र उदाहरण है.

ऐसा ही अपवाद एक और है कि जब अंदर की बात कई बार अंदर से ही धीरे से बाहर करवा दी जाती है बाहर वाले के द्वारा जो अंदर का आदमी होता है-जैसे कि अडवानी जी नहीं चाहते कि मायावती प्रधान मंत्री बने.

मगर सर, यह बात तो बाहर से बाहर आई थी, बालक कुतहलवश पूछ रहा है.

हाँ मगर भिजवाई तो अंदर ही से थी, मैने बताया.

अन्य भारतीय समस्यायों के जंजाल में फंसी आम जनता जिस तरह इन नेताओं की चालों और बयानों से कन्फ्यूज होकर चुप बैठ जाती है, कुछ वैसे यह छात्र भी अपनी कुर्सी पर वापस बैठ गया.

इसी तरह अपवादवश कभी बाहर की बात बाहर से ही अंदर वाला बाहर वालों के लिए अंदर के व्यक्ति के द्वारा कहलवा देता है जिसका उम्दा उदाहरण अटल जी के समस्त संदेश स्व. महाजन जी द्वारा प्रसारित किए जाना था.

अब बालक और ज्यादा कन्फ्यूज था, शायद किसान होता तो आत्महत्या कर लेता मगर सारांश में इतना समझ पाया कि बाहर की बात झूठी और अंदर की बात सच्ची, अगर अफवाह न हुई तो और अफवाह और अंदर की बात के बीच भेद करना अभी उसके लिए बिना अनुभव के संभव नहीं.

फिर भी हिम्मत जुटा कर वो पूछ ही लेता है कि फिर वो मास्साब की चोरी की इन्क्वायरी वाली बात तो अंदर की बात कहलाई.

मुझे जबाब नहीं सुझता और मैं सर दर्द का बहाना बना कर निकल लेता हूँ यह कहते हुए कि जब तुम्हारे मास्साब आ जायें, तो उनसे पूछ लेना. Indli - Hindi News, Blogs, Links

82 टिप्‍पणियां:

mahashakti ने कहा…

अंदर की बात बाहर आ रही है,लीकेज ठीक करवा लीजिए :)

दिनेशराय द्विवेदी ने कहा…

कौन अंदर की और कौन बाहर की हम समझ नहीं पाए। आप समझे? तो बताएँ ठीक से।
एवजी क्लास के 40 मिनट कटे वही बहुत।

Anil Pusadkar ने कहा…

bahar ki baat ye hai ki sab aapki waise hi tarif karenge jaise main kar raha hun,aur under ki baat ye hai ki main bhi us vidvaan chhatra ki tarah confusiya gaya hun.wah sameer jee maaza aa gaya sach me,ye sach hai,wo under waali baat darasal afwah thi

कुश एक खूबसूरत ख्याल ने कहा…

बाहर की बात तो ये है की मज़ा आ गया आपको पढ़कर.. बढ़िया लेख रहा.. और अंदर की बात तो ही ही ही.... आप जानते ही है..

seema gupta ने कहा…

मुझे जबाब नहीं सुझता और मैं सर दर्द का बहाना बना कर निकल लेता हूँ यह कहते हुए कि जब तुम्हारे मास्साब आ जायें, तो उनसे पूछ लेना.

" ha ha ha ha तभी तो कहा है न जिसका काम उसी को साजे ......."

great to read Regards

Lovely kumari ने कहा…

प्रथम आने वाली स्टुडेंट की चर्चा ......धासु च फांसू रचना :-)

ALOK PURANIK ने कहा…

मास्साब के खिलाफ साजिश चलरेली है। मास्साब छुट्टी पे नहीं हैं. मास्साब के बच्चे बहुत बदमाश टाइप हैं, आखिर ट्रेन्ड किसने किया है।
उनसे संभल कर रहें।

सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी ने कहा…

अंदर की बात ये है कि यह पोस्ट पढ़ते-पढ़ते मुझे ऑफिस की देर हो रही है; इसलिए एक ही बार पढ़ पाया और एक बार में पूरा बोध नहीं हो पाया। ...बाहर की बात ये है कि अगर शुरू में टिप्पणी नहीं पहुँची तो सैकड़ों के बीच में बिला जाऊंगा।
तो लिजिए, मेरी ओर से-
“ग़जब लिखा है सर जी...”

Dr. Chandra Kumar Jain ने कहा…

समीर साहब,
न ये बाहर की
और न अन्दर की बात है,
यह तो ब्लॉग धुरंधर की नई सौगात है.
कितने मुद्दे और कितने रंग दे जाते हैं आप
और...और होंगे साब...आप तो बस आप हैं !
==================================
आभार
डा.चन्द्रकुमार जैन

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

पता नही यह बात दिमाग से बाहर हो गई है इस बार :) अब जब हमें मास्साब [यानी आप मिलंगे ] तो आपसे यह समझेंगे ..:)फिलहाल क्लास बंक कर रही हूँ :)

rakhshanda ने कहा…

मान गए आपको समीर जी,वाह, क्या कहानी है...वैसे अन्दर की कौन और बाहर की कौन, ये आप हमें बताएं...अंत में इतना कहूँगी की अंदाज़ आपका वैसे ही जुदा है...

Gali-koocha ने कहा…

maine aaj pahli bar aapko padha. Aap bahut uchch likhte hain.

संजय बेंगाणी ने कहा…

क्या व्यू रचा है, अन्दर बाहर का. आखिर अन्दर की बात बाहर आ ही गई, मगर बाहर बाहर से ही.

बहूत खुब लपेटा मास्टरजी को :) और उसी बहाने बाकियों को.

रंजन गोरखपुरी ने कहा…

अंदर अंदर बहुत कडवी बातें समा गई... और बाहर बाहर हम हंसते ही रह गए!!
मान गए साहब!! समस्या यही है कि वो अंदर की बात ठोस हैं या अफ़वाह... खैर अनुभव से समझ लेंगे... :)

सुशील कुमार छौक्कर ने कहा…

क्या खूब सच कहीं अंदर की बात बाहर की बात।

पंगेबाज ने कहा…

लीक ठीक से नही कर पा रहे है जी .हमे ठेका दे दे १००% लीक होने की २५०% गारंटी :)

बेनामी ने कहा…

अन्दर की बात कभी बाहर की हो जाती है और बाहर की बात कब अन्दर की बात थी पता ही नहीं चला… मैं बहुत कन्फ़्यूज्ड हूँ…

संगीता पुरी ने कहा…

बाहर की बात झूठी और अंदर की बात सच्ची, अगर अफवाह न हुई तो और अफवाह और अंदर की बात के बीच भेद करना किसी के लिए संभव नहीं। आप बच्चों को सिखाने चले हैं।

संजीव कुमार सिन्हा ने कहा…

बहुत ही रोचक और दिलचस्‍प अभिव्‍यक्ति।

अनुराग ने कहा…

ओर confuse हो गया हूँ...दुबारा attend करूँगा तब समझ आयेगा .....

pallavi trivedi ने कहा…

पहले आप ये बताएं की इतनी सारी अन्दर की बातें आप कहाँ से निकाल लाये?

राज भाटिय़ा ने कहा…

समीर जी आप इस अंदर ओर बाहर की बात मे सभी की निकार भी खीच रहे हे, ओर साथ साथ मे मुकर भी रहे हे, भाई इस ४०,४५ मिनट की कलास मे तो हमारा खोपडा ही घुम गया,
धन्यवाद

G M Rajesh ने कहा…

kathin hai tah tak jaana fir use likhna aur sabko samjhana agar apsi talmel khoob hota to koi dhokha na tha

Arvind Mishra ने कहा…

इस अन्दर बाहर का नतीजा रहा कि मास्साब कॉ सिरदर्द हो गया .लगता है ये बातें कई दिनों से ब्लॉगर के दिमाग में उमड़ घुमड़ रही थीं आज बाहर आ गयीं -अभी भी कुछ अन्दर होंगीं उन्हें भी जल्दी बाहर करिये क्योंकि बाहर की कई बातें अन्दर होनें को बेताब हो रही होंगीं .यह तो बने क्या बात जहाँ बात बनाए न बने वाली परम्परा की पोस्ट हो गयी !यह भी खूब रही !

prabhakar ने कहा…

क्या बात है सर....
अब मुझे भी इस तरह से देखने का ज्ञान मिला।
आभारी रहूँगा।

अशोक पाण्डेय ने कहा…

कन्‍फ्यूज हो गया। चला आत्‍महत्‍या करने .. :)

Shiv Kumar Mishra ने कहा…

बाहर से पोस्ट पढ़कर लगा कि पोस्ट अन्दर की बात के बारे में है. अन्दर जाकर देखा कि बाहर जो लगा वो अन्दर नहीं है. आख़िर अन्दर की बात हमेशा बाहर की बात से जुदा होती है. मसलन अन्दर की बात ये है कि ये पोस्ट किसी मास्साब को बदनाम करने की साजिश का नतीजा है. ये अलग बात है कि बाहर से ऐसा नहीं दिखाई दिया. बाहर से तो यही लगा कि अन्दर की बात वही है जो बाहर से दिखाई दी. लेकिन अन्दर की बात कुछ और निकली. इस अन्दर और बाहर की बात के चक्कर में मास्साब बेचारे मारे गए. आज अन्दर की बात का पता चला कि निबंध छापने के आरोप में मास्साब के ऊपर इंक्वाईरी बैठी है.

कब वो दिन आएगा जब बाहर और अन्दर की बात एक ही होगी.

शोभा ने कहा…

हा हा हा बहुत अच्छे समीर जी
मुझे तो कुछ समझ नहीं आया। मैं भी बस उसी विद्यार्थी की तरह सोचती हूँ। सुन्दर व्यंग्य है। बधाई स्वीकारें।

मैथिली गुप्त ने कहा…

अन्य भारतीय समस्यायों के जंजाल में फंसी आम जनता जिस तरह इन नेताओं की चालों और बयानों से कन्फ्यूज होकर चुप बैठ जाती है, कुछ वैसे यह छात्र भी अपनी कुर्सी पर वापस बैठ गया.

अच्छा भिगो कर मारा है.

डा. अमर कुमार ने कहा…

.



ई अंदर के बात..बाअर के बात क्क्या करना जी ?
अइयो..ओन्नोल्युलूऽ ..ऽऽ
एक्क बात बोलने का, नाज्जि..
अइयो अंदर बोलो..याफेर बाअर बोलो


वइसे येब्भी सैकड़ा टिप्पणी पोस्ट होयेंगा जी

Laxmi N. Gupta ने कहा…

बड़ी गहरी बात कह गए हैं, भाई। अति रोचक और गहरे सत्य से भरी।

Ila's world, in and out ने कहा…

मान गये सब्स्टीटुयूट गुरुजी को.अंदर बाहर की सारी पोल खोल दी.

P. C. Rampuria ने कहा…

गुरुजी इब यो ताऊ तो थारी क्लास तैं कितै
जा भी नही सकदा ! मैं तो बाबू के लट्ठ तैं
डरके इत थारी क्लास मैं ही बैठ्ठ्या २ बात
नै समझण की कोशीश कर रहा हूँ ! समझ
आ ज्यागी त टिपणी म लिख देंगे ! नही
त आपणी बुद्धि किम्मै मोटी सै ! वैसे
मोटी बात या सै के पढण मै मजा आण
लाग रया सै !

Manish Kumar ने कहा…

bhai ye andar bahar ke chakkar mein andar ka bahar aur bahar ka andar aa raha hai. Dhanya bhag prabhu aapke jaise shikshak hum jaison ke palle nahin pade :)

डॉ० कुमारेन्द्र सिंह सेंगर ने कहा…

संसद में चमका चमका कर दिखाया गया कि हमें १ करोड़ घूस दी गई. यह बाहर की बात कहलाई एवं यह उन्हीं के द्वारा कही गई जिन्हें घूस मिली. इसमें अंदर की बात यह है कि घूस दरअसल २५ करोड़ मिली और यह बात उसने बताई जिसने घूस दिलवाने के लिए अंदर के आदमी का काम किया-देयता और ग्रेहता के बीच सेतु के समान.
वह क्या बात है अन्दर-बाहर की, कितनी अन्दर, कितनी बाहर.........????????

Alag saa ने कहा…

अंदर-बाहर रोज ही घटे कोइ समझ ना पाये,
बलिहारी समीर जी, जो अर्थ दिया समझाये।

Lavanyam - Antarman ने कहा…

बिलकुल सच लिखा है आपने और
" समझनेवाले समझ गये हैँ,
ना समझे वो , अनाडी है ! "
:-))
- लावण्या

रश्मि प्रभा ने कहा…

par andar ki baat to wahi hui na,jo us topper ne puchha?
bahut achhe dhang se samjhaya......

अभिषेक ओझा ने कहा…

बस देखने का कोण और नजरिया अलग है.. घुमा-फिरा के बात तो एक ही है... और इस घुमा-घुमा के कही गई बात को हम समझ तो गए ही !

समयचक्र - महेद्र मिश्रा ने कहा…

बहुत बढ़िया बहुत अच्छा अपने मास्साब के दिल के अन्दर की बात बहार कर दी . मजा आ गया .

महेंद्र मिश्रा जबलपुर
हिन्दी ब्लॉग समयचक्र और निरन्तर

कुन्नू सिंह ने कहा…

आपको बहुत बहुत धन्यवाद! आपने बताया था की मेरा ब्लोग ब्लोगवानी पर नही है। सच ही कहें।
और मै ब्लोग्वानी पर रजीस्टर करने चला गया पर रजीसटर नही हूंवा।
चीट्ठाजगत पर मेरा ब्लोग है।

ये पोस्ट मै दो - दो बार पढा क्यो की बहुत दीमाग लगा कर लीखा है आपने।

Pallavi ने कहा…

सबने इतनी तारीफ कर दी कि लिखने को कुछ बाकी ही नहीं रहा। पढ कर मजा आ गया।

आभा ने कहा…

हमेशा की तरह बहुत ही रोचक और दिलचस्‍प कथन

आभा ने कहा…

हमेशा की तरह बहुत ही रोचक और दिलचस्‍प कथन

amar ने कहा…

'सब चलता है- हमें क्या!' की पलायनवादी मानसिकता को झकझोरती है यह रचना।

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

अन्दर की बात तो यह रही कि आप बहुत जबर व्यंग्यकार हैं! बधाई!

vijay gaur/विजय गौड़ ने कहा…

अंदाज पसंद आया। दिलचस्प है।

श्यामल सुमन ने कहा…

समीर भाई,
आपने बात कहने का जो तरीका चुना है कबीले तारीफ है. मजा आ गया.

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
www.manoramsuman.blogspot.com

ज़ाकिर हुसैन ने कहा…

बहुत शानदार वयंग्य!
पढ़ कर मज़ा आ गया
उम्मीद है आगे भी ऐसी मजेदार रचनाये पढ़ने को मिलेंगी

महामंत्री-तस्लीम ने कहा…

मास्साब की निबंध चोरी वाला मसला वाकई अंदर की बात है।

padma rai ने कहा…

बहुत बढिया लिखा है . बधाई !

padma rai ने कहा…

बहुत बढिया लिखा है . बधाई !

padma rai ने कहा…

व्यंग्य बढिया है . बधाई !

रंजन ने कहा…

"बाहर की बात बाहर से ही अंदर वाला बाहर वालों के लिए अंदर के व्यक्ति के द्वारा कहलवा देता है"

बहुत "confusion" है.. पर लाजबाब है..

Nitish Raj ने कहा…

अंदर बाहर के चक्कर में चक्कर आगया उस छात्र को भी और हमें भी इतनी बार तो अंदर बाहर कभी नहीं हुए।बाप रे...confuse fully confuse

Dr.R.P.DWIVEDI ने कहा…

आपका व्‍यंग्‍य बड़ा पैना है। क्‍लास जो आपने ल्रगाई है।अनूठी है।

Pragya ने कहा…

क्या बोलूं सर जी... शब्द नहीं हैं... क्या क्या सटीक उदहारण मार मार के समझाया है. बहुत खूब...
आपकी पोस्ट का हमेशा इंतज़ार रहता है..

Manish ने कहा…

अन्दर से बाहर और फिर बाहर से अन्दर आने मे बड़ा मज़ा आया।
वैसे सिर तो कुछ चकराया लेकिन ये समझ ज़रूर आया कि

अतीक अहमद और मायावती के बीच जो बातें हैं वो अन्दर की है या बाहर की …

अनुभव मिल गया लगता है :)

swati ने कहा…

भई,आप कबसे इतने पॉलिटिकल हो गए समीर भइया ? समझ के हिसाब से व्यंग्य समझ में कम आया किंतु बहुत ही पसंद आया

सतीश पंचम ने कहा…

हम तो कनफूजिया गये हैं, समझ ही नहीं आ रहा कौन अंदर और कौन बाहर , बडी बमचक है भाई।

vineeta ने कहा…

अन्दर और बाहर की बात में तो हम चक्र गये. हम तो सर खुजा रहे है और सोच रहे हैं की मास्साब आ जाए तो उन्ही से समझ लेंगे. लिखा अच्छा है लेकिन समझ में क्या आया इसकी गारंटी नही....हा हा हा हा

Gyandutt Pandey ने कहा…

मास्साब की जांच रपट आ गयी? क्या निकला?

hum tum ने कहा…

kya likhoo aapne to nishabd kar diya.shandar kataksha.sidhe bhitar tak choobh jaanevaalaa.maja aa gaya.aise andar aur bahar ki baat ka sach bataenge to bhoochaal aa jayega.

hum tum ने कहा…

kya likhoo aapne to nishabd kar diya.shandar kataksha.sidhe bhitar tak choobh jaanevaalaa.maja aa gaya.aise andar aur bahar ki baat ka sach bataenge to bhoochaal aa jayega.

बेनामी ने कहा…

बहुत बढ़िया व्ययंग,बात ये है की बात अन्दर की हों या बाहर की बात तो बात होती है फिर आप से अच्छी बात और कौन बना सकता है बात ही बात में बात बता जाते है आप,आप की बात ही निराली है , वाह समीर जी क्या बात है

kabira ने कहा…

व्ययंग लेखन का शानदार नमूना ,हर तरफ बात ही बात

kabira ने कहा…

व्ययंग लेखन का शानदार नमूना ,हर तरफ बात ही बात

kabira ने कहा…

व्ययंग लेखन का शानदार नमूना ,हर तरफ बात ही बात

राजेंद्र माहेश्वरी ने कहा…

सत्य बोलना चाहिये, प्रिय बोलना चाहिये, सत्य किन्तु अप्रिय नहीं बोलना चाहिये । प्रिय किन्तु असत्य नहीं बोलना चाहिये ; YAH अंदर की बात HAI.

वर्षा ने कहा…

हर बार की तरह, मजा आ गया।

वर्षा ने कहा…

हर बार की तरह, मजा आ गया।

P. C. Rampuria ने कहा…

आदरणीय गुरुदेव ,
परिवार एवं इष्ट मित्रों सहित आपको जन्माष्टमी पर्व की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं ! कन्हैया इस साल में आपकी समस्त मनोकामनाएं पूर्ण करे ! आज की यही प्रार्थना कृष्ण-कन्हैया से है !

समयचक्र - महेद्र मिश्रा ने कहा…

jbpहनुमान जयंती के अवसर पर आपके द्वारा लिखी पोस्ट आज बेहद याद आ रही है .कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर आपके न सही आपके ब्लॉग के दर्शन कर लिए है. जन्माष्टमी पर्व के अवसर पर हार्दिक शुभकामना .

विक्रांत बेशर्मा ने कहा…

समीर जी अन्दर बाहर कि बात बताते बताते अमरीका से लेकर हमारे पि ऍम साहब कि पोल खोल दी आपने!

जन्माष्टमी कि हार्दिक शुभकामनाएं !!!

अभिषेक ने कहा…

बाहर की बात ये कि अछ्छा लिखा था, अन्दर की बात ये कि कुछ् समझ मे नही आया :(

नीरज गोस्वामी ने कहा…

हम तो पोलिटिकल इंसान हैं नहीं इसलिए बाहर की बात सुन कर अन्दर बिठा लेते हैं और फ़िर उसे अन्दर की बात कह कर बाहर सुना देते हैं...समझे आप? नहीं ना...हम भी कहाँ समझे हैं?
नीरज

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

Bhaee itanee saree tippaniyon ke peeche aur wo bhee sab kee sab +ve ,andar kee bat kya hai ?

Dr Prabhat Tandon ने कहा…

बाहर की बात है मनमोहन सिंग कहते है यह परमाणु संधि देश हित में है. इसमें अंदर की बात का विशिष्ट उदाहरण है कि मैडम ने ऐसा कहने को कहा है बाकि तो मनमोहन सिंग को खुद नहीं मालूम कि किसके हित में है. यह अपने आप में एक विचित्र उदाहरण है
बहुत सही !!! बेचारे मनमोहन!!

कविता वाचक्नवी ने कहा…

Andar se koi bahar na aa sake....

साधवी ने कहा…

आपको पढ़कर बहुत अच्छा लगता है. आप भी एक लेख से कितनी दूर तक चोट करते हैं.

shahroz ने कहा…

are baap re baap
chumbanpuraan

पंकज शुक्ल ने कहा…

कमाल का लिखते हैं..भाई। साधुवाद।

सादर,
पंकज