गुरुवार, फ़रवरी 25, 2016

नमस्कार का चमत्कार

कुछ लोग नमस्कार करने में पीर होते हैं और कुछ नमस्कार करवाने में. नमस्कार करने वाले पीर, चाहे आपको जाने या न जाने, नमस्ते जरुर करेंगे. कुछ हाथ जोड़ कर और कुछ सर झुका कर, शायद उनको मन ही मन यह शान्ति प्राप्त होती होगी कि अगले को नमस्ते किया है और उसने जबाब भी दिया है याने वो पहचानने लगा है और साथ वालों पर उसकी पहचान की धाक पड़ेगी.
नमस्कार करवाने वाले पीर, सीधे चलते चलते, इतना स्टाइल में धीरे से सर को झटकते हैं और कभी कभी सिर्फ आँख को कि मानो आपको नमस्ते कर रहे हों और जब आप पलट कर नमस्ते करते हो तो इतनी जोर से जबाबी नमस्ते करते हैं जैसे कि पहल आपने की हो. अक्सर वो अपनी वापसी नमस्ते के साथ हाल भी पूछते नजर आ जाते हैं कि कैसे हो? और बिना जबाब सुने आगे भी बढ़ चुके होते हैं अगले नमस्ते के इन्तजार में. इस केटेगरी में नेता बनने की पहली पायदान पर खड़े बहुतेरे शामिल रहते हैं और उससे उपर की पायदान वाले तो इसी पायदान से गुजर कर निकले हैं तो उनकी तो खैर आदत हो गई है.
वैसे नमस्कार, प्रणाम, चरण स्पर्श आदि पहले कभी आदर, अभिवादन के सूचक रहे होंगे किन्तु समय के साथ साथ मात्र पहचान और नाम जमाने की औपचारिकता मात्र रह गये हैं. नेताओं को उनके चेले इतनी तत्परता से चाचा कह कर चरण स्पर्श करते हैं जितनी जोर शोर से उन्होंने अपने चाचा की तो छोड़ो, कभी अपने पिता जी का भी न किया होगा.
इन नेताओं के चेलों को भी पता होता है कि चाचा को चरण स्पर्श करवाना कितना पसंद है. अतः जब आप जैसे किसी को उनसे मिलवाने ले जाते हैं तो आपकी रीढ़ की हड्डी का जाने कौन सा हिस्सा, चाचा से मिलवाते हुए, पीछे से दबाते हैं कि आप थोड़ा सा झुक ही जाते हो और चाचा, एकदम से, खुश रहो के आशीष के साथ पूछते हैं –बोलो, काम बोलो. कैसे आना हुआ?
और इन सबके आगे एक जहाँ और भी याद आता है. पहले हम किसी को पसंद करते थे और पसंद पसंद करते प्यार कर बैठते थे. याने किसी को लाइक करना लव करने की पहली पायदान होती थी..तब के जमाने में लड़का लड़की को, लड़की लड़के को लाइक करके धीरे धीरे लव तक का सफर पूरा किया करते थे. अब तो खैर लड़का लड़की का फार्मूला भी आवश्यक न रहा. कोई भी किसी को लाइक करके लव तक का सफर कर सकता है.
ये सब दुनियावी बातें अब सड़क से उठकर इन्टरनेट पर आ पहुँची है मगर व्यवहार वैसा का वैसा ही है. मगर यहाँ लाइक, मात्र लव का गेट वे न होकर नमस्कार, प्रणाम और चरण स्पर्श आदि सबका पर्याय बन चुका है.
फेसबुक पर यदि कोई आपकी फोटो को, लिखे को या पोस्ट को लाइक करे तो कतई ये न समझ लिजियेगा कि उसे आप बहुत पसंद आ गये...आपका फोटो फिल्म स्टार जैसा है और आपका लेखन बहुत उम्दा है...इनमें से अधिकतर ने तो उपर बताई किसी एकाध वजह से पसंद किया होता है और वो भी चूँकि फेसबुक एक क्लिक मात्र में लाइक कर की अद्भुत क्षमता प्रदान करता है - बस इससे ज्यादा कुछ भी नहीं. अन्यथा यदि लिखकर बताना होता कि आप को लाइक किया है तब देखते की कितने सही में लाइक करते हैं.


अब आप ही देखिये, वो तो एक एक करके सौ जगह पसंद बिखरा कर चले गये मगर जब इन सौ लोगों ने जब पलट नमस्ते में इनकी तस्वीर या पोस्ट लाइक की, तो वहाँ एक साथ सौ लाइक दिखने लगे और जनाब हो लिए सेलीब्रेटी टाईप. ऐसे लोग आपको लाइक करने तभी आते हैं जब इन्होंने अपनी टाईम लाईन पर कुछ नया पोस्ट किया हो और उन्हें लाइक की दरकार हो.
इनका संपूर्ण दर्शन मात्र इतना है कि मैं तेरी पीठ खुजाता हूँ, तू मेरी खुजा!!
इन फेसबुकिया लतियों को इन लाइकों से वही उर्जा प्राप्त होती है जैसी इन फूहड़ चुटकुले बाज कवियों को तालियों से, इन छुटभय्यिया नेताओं को भईया जी नमस्ते से और इन सड़क छाप स्वयंभू साहित्यकारों को सम्मानित होने से भले ही उस सम्मान को कोई जानता भी न हो!!
आप देख ही रहे हैं कि आपसे उर्जा प्राप्त किए इन कवि सम्मेलनों की हालत, इन छुटभय्यिये नेताओं की हरकतें और साहित्यिक सम्मानों के नाम पर गली गली खोमचेनुमा दुकानें. ध्यान रखना, यह समाज के लिए कतई हितकर नहीं है.
तो जरा संभलना, जहाँ फेसबुक पर लाइक करना एक लत बन जाती है वहीं यह अपने आपको सेलीब्रेटी सा दिखाने का नुस्खा भी है.
इसका इस्तेमाल अपने विवेक के साथ करें वरना इस लत से आपका जो होगा सो होगा मगर समाज का ये स्वयंभू सेलीब्रेटी बंटाधार करके रख देंगे.

-समीर लाल ’समीर’
Indli - Hindi News, Blogs, Links

19 टिप्‍पणियां:

Devi Nangrani ने कहा…

SACH hai SACH ke siwa kuch nahin..likhne kaandaaz bahuut achaaaa lagaaaa....shubhkamnayein

Manish Yadav ने कहा…

अरे वाह चाचा!! रीढ़ की हड्डी का झुकाव स्वीकार करें.. :D
कानपुर में नमस्कार पर एक प्रयोग किये थे... सचमुच चमत्कारी परिणाम मिले.. आप तो चचा हैं.. हमसे ज्यादे अनुभवी हैं.. ;)

Satish Saxena ने कहा…

आनंद दायक नमस्कार ....

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (27-02-2016) को "नमस्कार का चमत्कार" (चर्चा अंक-2265) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

ब्लॉग बुलेटिन ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, " परमार्थ से बड़ा सुख नहीं - ब्लॉग बुलेटिन " , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

Laxmi Gupta ने कहा…

बहुत उम्दा लेखन है और इस कथन में फेसबुक के लाइक से कुछ अधिक वज़न है।

जसवंत लोधी ने कहा…

बहुत बहुत शुभकामनाएं ।
Seetamni. blogspot. in

Dr.Bhawna ने कहा…

bahut achha lekh bahut bahut badhai..

Digamber Naswa ने कहा…

वजन चाहे जिसका जितना हो ... ऊओर्जा चाहे इत्ती सी बात पे मिले .... पर सावधान तो हर हालात में रहना चाहिए ...
कहाँ हो आजकल ... क्या कर रहे हो ...

rohitash kumar ने कहा…

बात तो एकदम सही कही है। वैसे प्यार में लाइक का जमाना बहुत तेजी से चल रहा है। लाइक है तो चलो झप्पी डालते हैं, रात गुजारते हैं, बस सुबह तू अपने रस्ते, मैं अपने रस्ते..।

मीनाक्षी ने कहा…

नमस्कार का चमत्कार लाजवाब :)

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

इसका इस्तेमाल अपने विवेक के साथ करें वरना इस लत से आपका जो होगा सो होगा मगर समाज का ये स्वयंभू सेलीब्रेटी बंटाधार करके रख देंगे.....
व्यंगात्मक बिंदु से शुरू होक्रर कितने सार्थक विचार तक आ पहुंची यह पोस्ट, एक मनोवैज्ञानिक विश्लेषण सा है यह ... पढ़कर अच्छा लगा...LIKE

PBCHATURVEDI प्रसन्नवदन चतुर्वेदी ने कहा…

बेहतरीन अभिव्यक्ति....

soni garg goyal ने कहा…

कई दिन से लिंक सेव किया हुआ था पढ़ा आज है !!!!
नमस्ते का सार्थक चित्रण 👍👍

Hemant Sharma ने कहा…

अच्छा और सार्थक लेखन

Shanti Garg ने कहा…

सार्थक व प्रशंसनीय रचना...
महाशिवरात्रि पर्व की शुभकामनाएँ!!
मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका स्वागत है।

संजय भास्‍कर ने कहा…

बहुत उम्दा बहुत दिनों बाद आना हुआ ब्लॉग पर प्रणाम स्वीकार करें

Rupesh verma ने कहा…

बहुत खूब जनाब

वाणी गीत ने कहा…

चमत्कार को नमस्कार!
पिन चुभोने की आपकी अदा सदाबहार है! :)