गुरुवार, जुलाई 22, 2010

हर शाख पर उल्लू बैठा है

शाम को टहलने निकलता हूँ लगभग ४५ से ५० मिनट के लिए. शुद्ध हवा मिल जाती है. मन बहल जाता है और स्वास्थय पर भी अगर अच्छा नहीं, तो कम से कम बुरा प्रभाव तो नहीं ही होता है.

वैसे भी यहाँ पूरे शहर भर सड़क के किनारे किनारे वाक वे बने रहते हैं और हम जैसे जो शहर से थोड़ा दूर रहने वाले, रहवासी इलाकों में तो हरियाली, पार्क आदि से इन वाक वे पर चलना बहुत सुखद अनुभूति होता है.

कुछ चित्र संध्या भ्रमण के दौरान लिए गये.

रास्ते में रोज एक खरगोश मिल जाता है. मैने उसका नामकरण भी कर दिया है ’चीकू’.

शायद बचपन में पढ़ी चंपक का असर रहा हो इस नामकरण में. मुझे तो लगता है कि चीकू जान गया है कि कब मैं उसके एरिया से निकलूंगा. कोने में बैठा इन्तजार करते ही मिलता है. बस, देखेगा और फुदक फुदक कर अपनी खुशी जाहिर करेगा.

कई दिन से सोचता था कि अपने इस दोस्त की तस्वीरें ली जाये तो एक दिन कैमरा लेते गया साथ में. बड़ी खुशी खुशी तस्वीरें खिंचवाईं चीकू ने. डरता तो बिल्कुल ही नहीं है. जान गया है कि ये मारेंगे नहीं, बस, और क्या चाहिये.

आज देखा कि उसने दो प्यारे प्यारे बच्चे दिये हैं. दोनों चलने लग गये हैं मगर अभी जरा डरपोक हैं. पास जाओ तो छिप जाते हैं. शायद दो चार दिन में जानने लगेंगे.

क्या नाम रखूँ उनका??

आज एक अजीब बात देखी. आज तो क्या, देख बहुत समय से रहा था, जाना आज. यहाँ बहुत सारे घरों के सामने उल्लू की मूर्ति या पेन्टिंग लगी होती है दरवाजे पर.

बड़ी उत्सुकता थी जानने की कि आखिर उल्लू क्यूँ बैठालते हैं घर के सामने. घर का सामना तो शो रुम सा ही हुआ, उसी को देखकर तो अंदाज लगेगा कि दुकान में घुसा जाये या नहीं. मगर ज्ञात हुआ कि नहीं, घर के सामने से जो हिस्सा घर को रिप्रेजेन्ट करता है अगर वहाँ से उल्लू दिखे तो वह बहुत शुभ माना जाता है. समॄद्धि आती है. नाम होता है.

 

मेरे देश की संसद में बैठे राजनेता भी मेरे देश को रिप्रेजेन्ट करते हैं और जहाँ तक उल्लू बैठालने का सवाल है, उसमें हमने कोई भूल नहीं की. पूरे ५५० बैठाये हुए हैं. फिर आखिर समृद्धि क्यूँ नहीं आ रही है.

जरुर यह इन लोगों का अंध विश्वास होगा. उल्लू है ये भी.  मेरे समझाने से थोड़ी न समझेंगे. जिस दिन धोखा खायेंगे, खुद समझ जायेंगे मगर तब कुछ कर पाने की स्थितियाँ नहीं बचेंगी.

हम ही क्या कर पा रहे हैं.

शायद इनके यहाँ इस श्लोक के पाठ का ज्ञान नहीं है:

बरबाद-ए-गुलिस्तां करने को बस एक ही उल्लू काफी था,
हर शाख पर उल्लू बैठा है, अंजाम-ए-गुलिस्तां क्या होगा.

Indli - Hindi News, Blogs, Links

107 टिप्‍पणियां:

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

मेरा ख़्याल है कि भारत का उदाहरण देकर, आपको अब ये बात अपने आस-पास के लोगों को बता ही देनी चाहिये कि उनकी धारणा में कोई दम नहीं है :)

Aparna Manoj Bhatnagar ने कहा…

schitr karara vyagngy! shandaar prastuti.

अजय कुमार ने कहा…

सटीक व्यंग्य ।

हास्यफुहार ने कहा…

आपका आलेख गहरे विचारों से परिपूर्ण होता है।

संगीता पुरी ने कहा…

मेरे देश की संसद में बैठे राजनेता भी मेरे देश को रिप्रेजेन्ट करते हैं और जहाँ तक उल्लू बैठालने का सवाल है, उसमें हमने कोई भूल नहीं की. पूरे ५५० बैठाये हुए हैं. फिर आखिर समृद्धि क्यूँ नहीं आ रही है.
बहुत सटीक कटाक्ष !!

खुशदीप सहगल ने कहा…

चीकू के बच्चों के नाम....हनी-बनी...

इन उल्लुओं ने ही तो पूरे देश को हुड़कचुल्लू बना रखा है...

जय हिंद...

ललित शर्मा ने कहा…

प्रश्न का जवाब भी पूरे 545 उल्लु ही देगें।
जिसका इंतजार 63 बरसों से हो रहा है।

जब ये उल्लु हो गए तो असली उल्लुओं के रोजगार की समस्या खड़ी हो जाएगी। अगर लक्ष्मी जी पता चल गया।

जय जोहार

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

पैसा तो बेहिसाब है पर विकास नहीं। उल्लू तो धन का प्रतीक है न कि विकास का।

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

लक्ष्मी जी की कृपा बस उल्लुओं तक ही सीमित रह जाती है...जब तक उल्लू बीच में है बाकी के पास कुछ नही आने वाला..कुछ नेक उल्लुओं की ज़रूरत है,रही बात गुलिस्ता के अंजाम की तो वो तो हम सब भलीभाँति देख ही रहें है...बढ़िया सुंदर और मजेदार प्रस्तुति....धन्यवाद

Arvind Mishra ने कहा…

वाह ! चीकू के पुत्तर पुतरी को मीकू मिनी कहकर नामकरण संस्कार कराएं -
याहं उल्लू नहीं गिद्ध बैठते है -उल्लू तो बिचारा सोझ और बुद्धिमान पक्षी हैं !

seema gupta ने कहा…

बरबाद-ए-गुलिस्तां करने को बस एक ही उल्लू काफी था,
हर शाख पर उल्लू बैठा है, अंजाम-ए-गुलिस्तां क्या होगा.

"संध्या भ्रमण के हरे भरे चित्र बेहद मनभावन लगे, और चीकू और भी प्यारा...."

regards

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

sair ko jate hue khargosh to hume bhee dikta hai bhoora hai safed nahee.
Ullu ki bhali kahee aji Lakmi ji ka wahan hai gadi parked hai to malkin bhee ander hee hongi na ?

रंजन ने कहा…

समीर भाई, इन उल्लुओं को उल्टा टांगना (लटकाना) पड़ेगा तो समृधि आएगी...

चीकू मस्त है..

राजेश स्वार्थी ने कहा…

आप घूमने निकले या नहाने, हर जगह कुछ न कुछ तलाश ही लेते हैं कटाक्ष करने को. ग्रेट सेन्स ऑफ ऑबजर्वेशन.

डॉ टी एस दराल ने कहा…

समीर जी , लगता है वहां मनुष्यों के साथ साथ जानवरों को भी संगी साथी कम ही नज़र आते हैं ।
सुन्दर तस्वीरों ने तो मन मोह लिया ।
समृद्धि क्यों नहीं आ रही है ?
समृद्धि तो है लेकिन --इसका एक ज़वाब आज की हमारी पोस्ट पर ।

DR. PAWAN K MISHRA ने कहा…

आज तो उल्लू अपनी बरादरी में कहते होगे हर शाख में आदमी टंगा है अंजामे उजाडिस्तान क्या होगा. समीर जी कभी कनाडा और अमेरिकी लोगो के व्यवहारों पर अपनी कलम चलाये.
बेहतरीन प्रस्तुति

योगेश शर्मा ने कहा…

ye lekh chehre par muskuraahat chod gayaa ....lekin janaab uloo to kafee samajhdaar panchee hai...rajnetaaon ko uloo kehnaa bechaare kee touheen hogi

Rajendra Swarnkar ने कहा…

समीरजी भाई साहब ,
नमस्कार !
पोस्ट तो रोचक है ही , आप जहां हैं , वहां के चित्र देख कर और भी आनन्द आया ।
खरगोश के बच्चों का नामकरण शीघ्र करलें … पार्टी हो जाए इस बहाने ।
… लेकिन , शर्तिया अपने उल्लू दुनिया के हर प्रजाति के उल्लुओं से आगे हैं उल्लूपन में ।
साथ ही उल्लू के पट्ठे भी …


व्यंग्य की धार बहुत पैनी है >
बधाई !


शस्वरं पर भी आपका हार्दिक स्वागत है , आइए…
- राजेन्द्र स्वर्णकार
शस्वरं

वाणी गीत ने कहा…

उन्हें बैठाने वाले भी तो हम ही हैं..मतदान के समय यदि हम उल्लू नहीं बने तो कुछ हो सके ...

चित्र बहुत ही खूबसूरत हैं ...

चीकू के बच्चे चिंकी , मिंकी ...

VICHAAR SHOONYA ने कहा…

उल्लू दरवाजे पर है का मतलब है कि लक्ष्मी देवी घर के भीतर हैं यानि समृधि ही समृधि. और हर शाख पर उल्लू उल्लू को बैठाएंगे तो अति का परिणाम भुगतेंगे. एक घर एक उल्लू ठीक हैं और एक house पर ५२५ उल्लू बहुत बुरा. ये तो अति कि भी अति हो गयी.... कि मैं झूट बोलियाँ....

AlbelaKhatri.com ने कहा…

sameer ji !

aapki chinta vaajib hai lekin bhaarat me hamne ullu nahin ullu ke patthe baitha rakhe hain isliye aapko vo parinam nahin mil raha hai jo milna chahiye.......

sanyog se koi ullu hai bhi toh voh mere jaisa kaath ka ullu hai..........ha ha ha ha ha ha

कुमार राधारमण ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
कुमार राधारमण ने कहा…

तभी मैं सोचूं कि क्यों उल्लू को रात में ही उड़ने लायक बनाया गया। दिन में ज़रूरत ही नहीं थी। पहले से ही काफी भरे पड़े हैं।

Bhavesh (भावेश ) ने कहा…

एक उत्कृष्ट लेख. आपने प्रश्न किया है कि "पूरे ५५० उल्लू बैठाये हुए हैं. फिर आखिर समृद्धि क्यूँ नहीं आ रही है". Well.. समृद्धि तो हुई है लेकिन केवल इन उल्लुओ की हुई है. तभी तो आज देश को आजाद हुए ६३ साल ही हुए है और केवल स्विस बैंको में हमारे देश के ७० लाख करोड रूपये काले धन के रूप में जमा पड़े है जो वहाँ पर जमा बाकि सभी देशो के कुल जमा पैसे से ज्यादा है. मानेंगे न तरक्की हुई है. वैसे चीकू खरगोश का पढ़ते ही मुझे भी एकदम चम्पक की याद आ गई :-)

Abhishek Neel ने कहा…

यह जानकार अच्छा लगा कि कनाडा में भी उल्लू समृद्धि का प्रतीक है - कुछ उसी तरह जैसे भारत में यह पक्षी लक्ष्मीजी का वाहन है. वैसे ये घर भारतीय मूल के लोगों के हैं या किसी और देश के लोगों के?

एक बात और - चिकू ने अगर दो बच्चे दिए हैं तो वो शायद मादा होगी ना? पर आपने तो उसे अपने पोस्ट में पुरुष की तरह संबोधित किया है. ;-)

honesty project democracy ने कहा…

उल्लू को रात में दीखता है इसलिए हमारे देश के उल्लू उस दिन कुछ जरूर अच्छा करेंगे जिसदिन से सूर्योदय होना बंद हो जायेगा ,इन ऊल्लुओं का तब तक हमलोगों को ही कुछ सोचना होगा ...

बेनामी ने कहा…

,और जहाँ तक उल्लू बैठालने का सवाल है, उसमें हमने कोई भूल नहीं की. पूरे ५५० बैठाये हुए हैं. फिर आखिर समृद्धि क्यूँ नहीं आ रही है.,

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

खरगोश, खरगोश के बच्चों से लेकर उल्लू तक की पूरी कथा बाँच ली है श्रीमन्!
--
बरबाद चमन को करने को
बस एक ही उल्लू काफी है!
--
हर शाख पे उल्लू बैठा है,
अन्जामे गुलिस्ताँ क्या होगा?
--
जाने भी दीजिए साहिब!
उल्लू तो सम्पन्नता की निशानी है!

Ratan Singh Shekhawat ने कहा…

लेकिन अपने यहां तो सडक किनारे घुमने का मतलब प्रदुषण से अपना स्वास्थ्य खराब करना

सतीश पंचम ने कहा…

खूबसूरत तस्वीरें और बेहतरीन वाकावली :)

ऐसी वाकावलीयों के हम भी मुरीद हैं....चलते चलते कई ख्याल आस पास के माहौल को देख ...लोगों को देख मन में आते जाते रहते है।

सुंदर पोस्ट।

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

जो भी प्यार से मिला हम उसी के हो लिए की तर्ज़ पर आप हर किसी को अपनाते चलते हैं रास्ता फिर चाहे जो भी हो ...चीकू भी आपका हो लिया और उल्लू की तरफ आप आकर्षित हो गए :)
चीकू के बच्चो के नाम चिका चीकी रख दे ..बहुत नाम जुड़ गए आपके पास इस लिस्ट में .वोटिंग करे अब इसकी :)

महफूज़ अली ने कहा…

उल्लू तो बेचारा फिर भी बारह घंटे सोता है.... और हमारे देश के सो-कॉल्ड उल्लूज़ तो चौबीस घंटे सोते हैं.... इसलिए हमारे देश का विकास नहीं हो पा रहा है... अब तो ब्यूरोक्रेट्स भी उल्लूज़ की कैटेगरी में आ गए हैं....

आप दोनों बच्चों के नाम ... पीकू और टीकू रख दीजिये...

sada ने कहा…

बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

JHAROKHA ने कहा…

aapka lekh jaisa main likhti aa rahi hun har baar ek naveevn vicharoon ko janm deta hai.vyangytmak put liye aapke hamesh kisi nakisach se rubaru karvaata hai.bahut shandaar prastuti.
poonam

सहसपुरिया ने कहा…

SAHI HAI...

shikha varshney ने कहा…

उल्लू का फंदा तो गज़ब दिया है ...
और चीकू के बच्चों का नाम - चेरी ,बेरी :)

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

:) :)
वाह क्या व्यंग है ५५० उल्लू...

निर्मला कपिला ने कहा…

सटीक व्यंग । वैसे ये तो आपने बताया ही नही कि उल्लू के बच्चे लडकियाँ हैं या लडके? नामकरण तो तभी होगा और किस राशी पर रखना है अगर राशी नही पता तो जन्म समय, शहर का अक्षाँश रेखाँश बता दें नामकरण हो जायेगा। ऐसे व्यंग के उपहार स्वरूप मुफ्त मे नाम बतायेंगे। बधाई ।

anjana ने कहा…

उल्लू के जरिये सही कटाक्ष किया है।
चीकू और चित्र सुन्दर है। बाकि नाम मीकू टीकू कैसा है :-)

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

रोचक पोस्ट है...बधाई...

सत्यप्रकाश पाण्डेय ने कहा…

गज़ब का व्यंग,
बढ़िया (अच्छा) है।
आभार...

डॉ० कुमारेन्द्र सिंह सेंगर ने कहा…

यहाँ शाख पर नहीं दरवाजे पर दिख रहा है...
जय हिन्द, जय बुन्देलखण्ड

रवि कान्त शर्मा ने कहा…

संसार में हर व्यक्ति दूसरे को उल्लू बनाने का प्रयत्न करता है लेकिन वह यह नहीं जानता है कि वह स्वयं को ही उल्लू बना रहा है।......

rashmi ravija ने कहा…

बड़ी मनमोहक तस्वीरें हैं...आपके संध्या भ्रमण के
चीकू के बच्चों के नाम तो इतने सारे मिल गए....अब हम भी बताने लगे तो आप दुविधा में पड़ जाएंगे..
ये उल्लुओं वाला व्यंग्य बहुत करारा रहा...

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

जब गुलिस्तां के मुकद्दर में ही उल्लूओं का साथ बदा हो तो फिर भला कोई इसमें कर भी क्या सकता है :)




महाराज!चर्चा मंच पे जरा आज की चर्चा बाँच लीजिएगा :)

वन्दना ने कहा…

बरबाद-ए-गुलिस्तां करने को बस एक ही उल्लू काफी था,
हर शाख पर उल्लू बैठा है, अंजाम-ए-गुलिस्तां क्या होगा.
शायद इसके बाद कहने को कुछ बचा ही नही।

नीरज जाट जी ने कहा…

चीकू से लेकर उल्लू तक। क्या बात है॥

महामंत्री - तस्लीम ने कहा…

इशारों इशारों में आपने बहुत कुछ कह दिया।
………….
अथातो सर्प जिज्ञासा।
संसार की सबसे सुंदर आँखें।

बेनामी ने कहा…

समीर साहब ,
पिछली टिपण्णी में सिर्फ आपका ही लिखा उद्घृत किया अपना कमेन्ट देना तो भूल गया ; ये ५५० उल्लू नहीं है , उल्लू के पठ्ठे है .

रौशन जसवाल विक्षिप्त ने कहा…

नमस्‍कार । बहुत सुन्‍दर ।

Parul ने कहा…

sir ullu dhan ka prateek hai aur desh ke ullu to ghane dhani hai.. :)

Gagan Sharma, Kuchh Alag sa ने कहा…

समीर जी,
उल्टा है सब, उन साढे पांच सौवों ने अपने सामने करोंडों बैठा रखे हैं और देखिए कैसे समृद्धि उनके घरों में घुटने तुड़वा कर जा बैठी है।

पी के शर्मा ने कहा…

वाह वाह वाह
बड़ा सटीक व्‍यंग्‍य है

शहरोज़ ने कहा…

बरबाद-ए-गुलिस्तां करने को बस एक ही उल्लू काफी था,
हर शाख पर उल्लू बैठा है, अंजाम-ए-गुलिस्तां क्या होगा.

अजय कुमार झा ने कहा…

उडन जी ,
फ़ोटो कमाल है सांध्य भ्रमण का ।

दुनु खरगोश का बचवा का नाम ...टुट्टु लट्टू रख दीजीए ....

और उल्लू वाली बात से एक बात याद आया ..........यहां अब सब रिटायरमेंट के फ़िराक में हैं ....आप वहां की सरकार से कहिए न कि यहां से उल्लू ले जाएं ..चाहे तो उलटा लिटाएं ..या पकाएं खाएं .........its all yours .....

हा हा हा हा हा

राज भाटिय़ा ने कहा…

मेरे देश की संसद में बैठे राजनेता भी मेरे देश को रिप्रेजेन्ट करते हैं अजी अब तो इन मै कई उल्लू के पठ्टे भी आ गये है...फिर आखिर समृद्धि क्यूँ नहीं आ रही है.यह तो मेन उळ्ळू से पूछे जी वो ही पूछ कर जबाब देगा

श्याम कोरी 'उदय' ने कहा…

...तस्वीरें सुन्दर हैं!!!

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

मेरे देश की संसद में बैठे राजनेता भी मेरे देश को रिप्रेजेन्ट करते हैं और जहाँ तक उल्लू बैठालने का सवाल है, उसमें हमने कोई भूल नहीं की. पूरे ५५० बैठाये हुए हैं. फिर आखिर समृद्धि क्यूँ नहीं आ रही है......हा....हा....हा.....समीर जी ....अच्छी खासी रचना में भी आप ठिठोली नहीं छोड़ते .....आपकी रचना की यही तो खासियत है .....!!

चीकू की तसवीरें बहुत प्यारी हैं .......बच्चों का नाम चुन्नू -मुन्नू रख दीजिये मैंने बचपन में अपनी बिल्लियों के बच्चों का रखा था ......

हाँ चुन्नू मुन्नू की भी तसवीरें लगिएगा .....!!

असीम ने कहा…

बहुत ही सुन्दर व्यंग है जो हास्य का पुट लेते हुए भी यथार्थ के करीब है

kshama ने कहा…

Aapka lekhan hamesha behad badhiya hota hai...aur zyada kya kahun?

गौतम राजरिशी ने कहा…

देश की समृद्धि नहीं हो रही है उसमें कितना उन चुने हुये उल्लूओं का दोष है और कितना उन उल्लूओं को चुनने वालों का- ये बहस का विषय है सरकार। वैसे पोस्ट बड़ा दिलकश लगा।

चंपक की अच्छी याद दिलायी आपने। चिकु के बाल-बुदरुक का नाम चिटु-निटु रहे तो कैसा हो। चंपक से ही साभार... :-)

Yogesh Mittal ने कहा…

ऐसे उल्लूओ को हमने ही वहाँ बैठाया है।
अब हम ही उन्हे उल्लू कहेंगे तो हम कौन कहलाएंगे?

वे उल्लू नही है उन्होने तो जनता को उल्लू बनाया है
झूठी मूठी बाते बनाकर अपना आधिपत्य जमाया है।

मनोज कुमार ने कहा…

यह प्रस्तुति बहुत अच्छी रही।

Madhu chaurasia, journalist ने कहा…

व्यंगवाण के तीर तथाकथित दोनों ही उल्लूओं को लग जाए तो परिस्थिति वाकई बदल जाएगी...
लेकिन सर ये भारत है यहां के नेता सुधरनेवाले कहां हैं..? जनता चाहे जितना भी ठोक बजाकर उन्हें वहां भेजे...संसद की कुर्सी मिलते ही वो रंग बदलना बखूबी जानते हैं....

nilesh mathur ने कहा…

भैया अब चीकू के बच्चों का नामकरण संस्कार कर ही दीजिये बहुत से सुझाव भी आ चुके हैं, हमें ज़रूर बुलाइएगा इसी बहाने टोरंटो घुमने का मौका मिल जाएगा!

anju ने कहा…

aap badi paini nazar rakhte hain.yeh canada ke ullu ki kahani aaj samajh aayi.mujhe lagta tha shayad yeh asians ke ghar honge kyunki north east main bhi joot se banai gayi ullu ki aakriti log apne darwaje ke bahar lagate hain .

sanu shukla ने कहा…

मेरे देश की संसद में बैठे राजनेता भी मेरे देश को रिप्रेजेन्ट करते हैं और जहाँ तक उल्लू बैठालने का सवाल है, उसमें हमने कोई भूल नहीं की. पूरे ५५० बैठाये हुए हैं. फिर आखिर समृद्धि क्यूँ नहीं आ रही है.
बढ़िया व्यंग है !

समृद्धि इसलिए नही आ रही है भाईसाहब क्यूंकी इन उल्लुओं ने लक्ष्मी मैया को स्विस बॅंक का रास्ता दिखा दिया है...हा हा हा

Stuti Pandey ने कहा…

क्लिंचर - मेरे देश की संसद में बैठे राजनेता भी मेरे देश को रिप्रेजेन्ट करते हैं और जहाँ तक उल्लू बैठालने का सवाल है, उसमें हमने कोई भूल नहीं की. पूरे ५५० बैठाये हुए हैं. फिर आखिर समृद्धि क्यूँ नहीं आ रही है.

बिहार सांसद ने अभी ताज़ा ताज़ा उधाहरण पेश किया है!

Stuti Pandey ने कहा…

बिहार सांसद = बिहार विधानसभा

साधवी ने कहा…

करारा झटका धीरे से.

अभिषेक ओझा ने कहा…

एक उल्ल्लू बैठाना होता है :) अब ५५० थोड़े न.

बेचैन आत्मा ने कहा…

चलिए उल्लू को कहीं तो सम्मान मिला..!

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

हा हा हा ! एकदम सही कहा आपने ... पर शायद हमने केवल उल्लू ही नहीं कुछ बन्दर और कुछ गधे भी पाले हुए हैं

Divya ने कहा…

.
बहुत सुन्दर व्यंग !,

लेकिन डर है कहीं माँ लक्ष्मी ने सुन लिया तो वह भी एक पोस्ट ड़ाल देंगी आपके खिलाफ। आजकल लोग मुद्दे से ज्यादा अपने अहंकार को बड़ा समझने लगे हैं, और बहुत शीघ्र व्यक्तिगत हो जाते हैं और देश की गरिमा ठन्डे बसते में चली जाती है ।

आभार इस सुन्दर पोस्ट का।
.

swaarth ने कहा…

दो नये जन्मे शिशु खरगोश - अब तो शायद चीकू भी चीकी हो जायेगा, चीकू किसी बालक खर्गोश के काम आ सकता है :)

वैसे सारे उल्लू ही नहीं है लुटियेन्स की कल्पना से उपजी बिल्डिंग में बैठे महानुभावों में और जो उल्लू हैं उन्हे लक्ष्मी ने भरपूर समृद्धि से नवाजा है सो उल्लू ने अपना नाम सार्थक रखा है और लक्ष्मी जी को इन साहिबान के दरवाजे पर लेकर गया है। अब तो इन सबको बहुत अच्छा वेतन और तमाम भत्ते मिलते हैं और सहुलियतों का तो कहना ही क्या।
यह और बात है कि ये समृद्धि को नीचे और लोगों में फैलने नहीं दे रहे हैं शाख पर बैठे हुये ही ऊपर ही ऊपर लपक लेते हैं सब कुछ |

राम त्यागी ने कहा…

आज तो कई जानवरों से मिला दिया ....नेताओं को भी हमने ही बिठाया है,या तो वोट डालते नहीं या फिर गुडों को देते हैं.

Mansoor Ali ने कहा…

हो गुलिस्ताँ की खैर शाखों पर,
उल्लूओं का निवास देखा है।
======================

लाद कर संसद चले, 'बंजारे'* किस्मत देश की, [*सौदागर]

साथ में 'बिरयानी' के अब, पा रहे वो सूप है.

arvind ने कहा…

मेरे देश की संसद में बैठे राजनेता भी मेरे देश को रिप्रेजेन्ट करते हैं और जहाँ तक उल्लू बैठालने का सवाल है, उसमें हमने कोई भूल नहीं की. पूरे ५५० बैठाये हुए हैं. फिर आखिर समृद्धि क्यूँ नहीं आ रही है. .....vaajib savaal...teekha chot.

संजीव गौतम ने कहा…

बहुत बढ़िया. कहां दे मारा है. आनन्द आ गया।
हरजीत जी की कुछ ग़ज़लें पोस्ट की हैं देखियेगा.
उनके विषय में कुछ जानकारी हो तो बतायें-
http://kabhi-to.blogspot.com

girish pankaj ने कहा…

jab kabhi idhar aataa hu. tiipaniyon ki bhrmar hi pata hu. aapkaa avdaan adbhut hai. is nai post mey yatra-vritaant ka aanand aa gaya. bhashaa bhi achchhi hai. sadhi hui. heerak tippani ke roop mey prastut hai meri 75vi tippani...

jitendra ने कहा…

YOU ARE LIVEING IN HAVEN.

शोभना चौरे ने कहा…

उल्लू की तरह उनमे सामर्थ्य नहीं है की वो साक्षात् लक्ष्मी को अपने ऊपर बिठा सके ?

singhsdm ने कहा…

ओहो तो अब समझा आपकी सेहत का राज़.....रोज की इवनिंग वक और साथ में चीकू के दर्शन लाभ.....चीकू का परिवार बढ़ गया है....कुल मिलकर आपको दो नए नन्हे दोस्त भी मिल गए एन्जॉय कीजिये समीर साहब....! मासूमियत से सनी पोस्ट लिखने का धन्यवाद

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

sameer ji , deri se aane ke liye maafi .. lekh me vyangya acha ban padha hai aur aakhri para me to aapne ekdum sahi likha hai .. waah waah

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

अति सटीक व्यंग, बहुत शुभकामनाएं.

रामराम

नीरज गोस्वामी ने कहा…

हर शाख पे उल्लू बैठा है...सच कहा आपने लेकिन एक बात से चूक गए हमारे यहाँ उल्लू ज्यादा हैं और शाखें कम इसलिए शाखों पे बैठने के लिए उल्लूओं में घमासान होती रहती है...:))

केनेडा में लगता है लोग जानते हों की उल्लू लक्ष्मी की सवारी है...ढूंढती आई तो अन्दर भी आ ही जाएगी...और वहां के लोगों पर लक्ष्मी मेहरबान है ही इसमें क्या शक...??

घूमने के लिए ऐसे सपाट सुन्दर रास्ते यहाँ कहाँ फिर भी टेड़े मेडे रास्तों पर घूम-घूम कर आम भारतियों को विकट परिस्थितियों में से बच निकलना आ गया है...:))

चीकू हमारे बचपन के चम्पक के चीकू जैसा ही प्यारा है...उसके बच्चे मीकू टीकू होंगे...नहीं?

नीरज

vinay ने कहा…

सुन्दर प्रसतुति ।

डॉ महेश सिन्हा ने कहा…

चीकू --> मीकू पीकू
सवाल उलूक महाराज का लक्ष्मी वाहन.
कनाडा वाले तेज हैं वाहन बाहर रखते हैं, हमने घर के अंदर रखा हुआ है .

हास्यफुहार ने कहा…

उत्तम!

शिक्षामित्र ने कहा…

हमारी स्थिति किस बात का प्रतीक है- नियति को मान लेने का या खुद के घुन बन जाने का?

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

बाकियों को उल्लू बनाने की प्रक्रिया जारी है, पूरी होने पर समृद्धि आयेगी....

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

उल्लू कथा वाकई शानदार है। आपकी बात से पूरी सहमति।
--------
ये साहस के पुतले ब्लॉगर।
व्यायाम द्वारा बढ़ाएँ शारीरिक क्षमता।

Parul ने कहा…

yup..photo with new blog theme!:)

mehek ने कहा…

chiku behad sunder hai;)aur walk par li gayi pictures bhi waah.vaise rajniti se hum jaise log dur hi rehte hai:).

A_N_Nanda ने कहा…

आखिर क्या कहना चाहते हैं आप? क्या एक खरगोस उल्लू से अच्छा होता हैं? आप का बखान काफी मनोरंजक हैं ।
धन्यवाद।

ए एन नन्द
http://ramblingnanda.blogspot.com

sifer ने कहा…

बहुत खूब सर...

राजभाषा हिंदी ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति।
राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

M VERMA ने कहा…

पूरे ५५० बैठाये हुए हैं. फिर आखिर समृद्धि क्यूँ नहीं आ रही है.
कौन कहता है समृद्धि नही आती. कभी गये हैं आप इन उल्लुओं के घर !!

Manoj Bharti ने कहा…

बहुत तीखा व्यंग्य है , हमारे सांसदों पर ...बढ़िया पोस्ट ...आप तो अच्छे खासे प्रकृति प्रेमी हैं ।

उमेश महादोषी ने कहा…

'समीर लाल की उड़न तश्तरी... जबलपुर से कनाडा तक...सरर्रर्रर्र........... '..........शुरुआत ही ऎसी हो तो आगे क्या कहने .......... हल्के- फुल्के में खूब कह जाते हैं ...........बहुत दिलचस्प हैं............और हाँ , वो आपका प्यारा-सा दोस्त बहुत अच्छा लगा। अब तो दो नन्हें-मुन्ने भी हैं ........ आपको खूब मजा आ रहा होगा आजकल ...................

डा. अरुणा कपूर. ने कहा…

यहां भारत में उल्लूओं को भी सन्मान की नजर से देखा जाता है!.... अब देखिए न... माता लक्ष्मी जी का वाहन उल्लू ही तो है!..... खरगोश चीकू मजेदार है!

हमारीवाणी.कॉम ने कहा…

हमारीवाणी का लोगो अपने ब्लाग पर लगाकर अपनी पोस्ट हमारीवाणी पर तुरंत प्रदर्शित करें

हमारीवाणी एक निश्चित समय के अंतराल पर ब्लाग की फीड के द्वारा पुरानी पोस्ट का नवीनीकरण तथा नई पोस्ट प्रदर्शित करता रहता है. परन्तु इस प्रक्रिया में कुछ समय लग सकता है. हमारीवाणी में आपका ब्लाग शामिल है तो आप स्वयं हमारीवाणी पर अपनी ब्लागपोस्ट तुरन्त प्रदर्शित कर सकते हैं.

इसके लिये आपको नीचे दिए गए लिंक पर जा कर दिया गया कोड अपने ब्लॉग पर लगाना होगा. इसके उपरांत आपके ब्लॉग पर हमारीवाणी का लोगो दिखाई देने लगेगा, जैसे ही आप लोगो पर चटका (click) लगाएंगे, वैसे ही आपके ब्लॉग की फीड हमारीवाणी पर अपडेट हो जाएगी.


कोड के लिए यंहा क्लिक करे

शशिकान्त ओझा ने कहा…

बरबाद-ए-गुलिस्तां करने को बस एक ही उल्लू काफी था,
हर शाख पर उल्लू बैठा है, अंजाम-ए-गुलिस्तां क्या होगा. बहुत ख़ूब।

मगर
श्रीमान जी,
जहाँ तक हमें मालूम है कि यह शेर वास्तव में कुछ यूँ है-
बस एक ही उल्लू काफ़ी था, बरबाद फ़ज़ाएँ करने को
हर शाख पर उल्लू बैठा है, अंजाम-ए-गुलिस्ताँ का हुई है ?

आप चाहें तो अपने मित्र बवाल से तस्दीक कर सकतें। वो हैं कहाँ भाई आजकल ? होली के बाद से ही गुम हैं। खै़र आपका लेख बहुत ज़बरदस्त लगा। एकदम सटीक मार। रविवार को यश-भारत में छपा था। पढ़ा, बहुत अच्छा लगा, सो यहाँ टीप करने को आ गए। आभार।

abhay ने कहा…

mahadevi verma ki likhi huyi "Gillu" yaad dila di....

K.P.Chauhan ने कहा…

sabse pahle to main aapke janam din 29 july par aapko badhaai detaa hun ,aapko janamdin ki bahut bahut shubhkaamnaaen ,
HAR SHAAKH PE BAITHAA ULLU ,
kahte hain ki ullu ko raat me chamaktaa hai par jo ullu hamne paal rakhe hain unko to din, or raat ,me kabhi bhi nahin chamktaa to fir haminkaa naamkaran sanskaar kyon naa koi achchhee tithi dekhkar kar den ,aapse praarthnaa hai ki koi achchhaa saa proposal aap hi bhej den ham aapke shukrgujaar honge , dhanywaad sahit

mridula pradhan ने कहा…

bahot sunder baat hai.

kulwant happy ने कहा…

kai dinnon baad aapko pada achha laga.. mein net se door hoon... is liye... blog se bhi doori rahi...