रविवार, जनवरी 24, 2010

विकलांगता

old1

 

लँगड़ी है दादा जी की छड़ी

दीवार का सहारा लिए खड़ी है

गूँगा है माँ का सितार

तहखाने के कोने में उदास पड़ा है

अँधी है बाबू जी की ऐनक

धूल खाती पुस्तकों की आलमारी में..

 

ढो रहा हूँ इनका अस्तित्व

मैं एकमात्र जीवित उत्तराधिकारी

टूटने को तत्पर

अपने झुकते काँधों पर..

 

मेरी अगली पुश्तें मुक्त होंगी

इस पुश्तैनी विकलांगता को

ढोने के अभिशाप से..

 

इसलिये कि वे जड़ों से बहुत दूर

बहुत दूर जा बसी हैं

एक ऐसी दुनिया में जिससे

मैं जुड़ नहीं पाया कभी

जिसका मुझे कोई अनुभव नहीं..

 

फिर भी मुझे विश्वास है

पूर्णता देने वाले इन स्मृतिचिन्हों के साथ

मैं रहूंगा अपनी विकलांगता में खुश

अपने टूटे सपनों अधूरी इच्छाओं

और उखड़ी जड़ों के साथ!!

 


-समीर लाल ’समीर’

(नोट: इस रचना को अपनी पारखी नजरों से गुजारने और सुझावों के लिए मित्र शरद कोकस जी का आभार)

* गणतंत्र दिवस पर आपका हार्दिक अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ *

Indli - Hindi News, Blogs, Links

84 टिप्‍पणियां:

dhiru singh {धीरू सिंह} ने कहा…

जडो से दूर रहने की झट्पटाहट विक्लांगता में दिख रही है .

राजभाषा हिंदी ने कहा…

राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

खुशदीप सहगल ने कहा…

चल अकेला, चल अकेला, चल अकेला,
तेरा मेला पीछे छूटा राही,
चल अकेला...

हज़ारों मील लंबे रास्ते तुझको बुलाते,
यहां दुखड़े सहने के वास्ते तुझको बुलाते,
है कौन सा वो इंसान जिसने यहां दुख न झेला,

चल अकेला, चल अकेला, चल अकेला,
तेरा मेला पीछे छूटा राही,
चल अकेला...

तेरा कोई साथ न दे तो तू खुद से प्रीत जोड़ ले,
बिछोना धरती को करके, अरे आकाश ओ़ढ़ ले,
यहां पूरा खेल अभी जीवन का, कहां तूने खेला,

चल अकेला, चल अकेला, चल अकेला,
तेरा मेला पीछे छूटा राही,
चल अकेला...

जय हिंद...

Arvind Mishra ने कहा…

कैसी विकलांगता काहे की विकलांगता -जो हमारे समीर भाई को विकलांग काहे तो टांग न टोंड दूं उसकी महफूज स्टाईल में..
अब खुद तो मत कहिये महराज ...
मैं अपने इसी कमरे के कोने में पड़े सितार को निहार रहा हूँ फिर और फिर यह कविता पढ़ रहा हूँ .
कभी कभेकभी आप पर बेंइंतिहा गुस्सा आती है .....अगली पीढी जाय भाड़ में !

नरेश सिह राठौङ ने कहा…

सीधे मानस पटल पर उतरती है आपकी यह कविता | पीढियों के अन्तर का दर्द आपकी पक्तियो में झलक रहा है | नयी पीढ़ी जड़ो से जुड़े रहना पसंद नहीं करती है |

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

यह रचना बहुत चौंकाती है। लेकिन एक विद्रूप यथार्थ को सामने रख रही है। ऐसी रचना के लिए बधाई!

Kulwant Happy ने कहा…

फिर भी मुझे विश्वास है

पूर्णता देने वाले इन स्मृतिचिन्हों के साथ

मैं रहूंगा अपनी विकलांगता में खुश

अपने टूटे सपनों अधूरी इच्छाओं

और उखड़ी जड़ों के साथ!!

विश्वास पर जहान टिका है।


इसे भी पढ़ें : बस! एक गलती

Vivek Rastogi ने कहा…

हमारा भी दर्द समाहित है क्योंकि हम भी ऐसा ही महसूस करते हैं।

सुशीला पुरी ने कहा…

समीर जी बहुत बहुत बधाई !!! पर उन स्मृति चिन्हों को विकलांग कहने की जरुरत नही वे ही हमारे संबल हैं पथप्रदर्शक हैं ....हाँ अगली पीढ़ी क्या ले पायेगी या क्या नही ले पायेगी यह तो उसकी नियति पर निर्भर है .

अरूण साथी ने कहा…

फिर भी मुझे विश्वास है

पूर्णता देने वाले इन स्मृतिचिन्हों के साथ

मैं रहूंगा अपनी विकलांगता में खुश

अपने टूटे सपनों अधूरी इच्छाओं

और उखड़ी जड़ों के साथ!!
फिर से पिरोया दर्द को मोतियों की तरह।
यही तो आपकी खासियत हे बास
क्या सचमूच इतना ही बेचैन हैं, अपनी जमीं से दूर जाने के बाद.
हलंाकि यहां भी पुरखों की यादों को ढोने वाली पीढ़ी नहीं रही.

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

फिर भी मुझे विश्वास है

पूर्णता देने वाले इन स्मृतिचिन्हों के साथ

मैं रहूंगा अपनी विकलांगता में खुश

अपने टूटे सपनों अधूरी इच्छाओं

और उखड़ी जड़ों के साथ!!..

बेहतरीन ,यह रचना बहुत कुछ सोचनें पर विवश करती है .

Kusum Thakur ने कहा…

आपके मन के भाव पढ़कर मैं भी भाव विभोर हो गयी .....बहुत ही अच्छी रचना है !!

Rekhaa Prahalad ने कहा…

समय रहते कुछ ना कर पाने कि बेबसी:(

Prateek ने कहा…

ख़ूबसूरत कविता. भावों को खूबसूरती से अभिव्यक्त किया है आपने.

निर्मला कपिला ने कहा…

इसलिये कि वे जड़ों से बहुत दूर

बहुत दूर जा बसी हैं

एक ऐसी दुनिया में जिससे

मैं जुड़ नहीं पाया कभी

जिसका मुझे कोई अनुभव नहीं..
नई पीढी की संवेदन हीनता का दर्द है इस मे और फिर
फिर भी मुझे विश्वास है

पूर्णता देने वाले इन स्मृतिचिन्हों के साथ

मैं रहूंगा अपनी विकलांगता में खुश

अपने टूटे सपनों अधूरी इच्छाओं

और उखड़ी जड़ों के साथ!!

विश्वास पर जहान टिका है।
अपनी आस्था को किस खूबी से ले आये उसी राह पर जहाँ से चले थे हर दिल का दर्द ब्यां करती सुन्दर रचना बधाई

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

समीर लाल जी आदाब
गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
ये क्या सर...
सबको हंसाते हुए
आज आपने आंखें नम करने की ठान ली..!
लँगड़ी है दादा जी की छड़ी
दीवार का सहारा लिए खड़ी है
गूँगा है माँ का सितार
तहखाने के कोने में उदास पड़ा है
अँधी है बाबू जी की ऐनक.....
से लेकर.....अपने टूटे सपनों अधूरी इच्छाओं
और उखड़ी जड़ों के साथ.......
तक, हर लफ्ज़ अलग ही संसार में ले जाता है..
मुझे अपने गीत की लाइन याद आ रही है....
हंसते हुए चेहरों के पीछे दर्द की एक कहानी है....
शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

अजय कुमार ने कहा…

भावविभोर करने वाली रचना

पी.सी.गोदियाल ने कहा…

गूँगा है माँ का सितार

तहखाने के कोने में उदास पड़ा है

अँधी है बाबू जी की ऐनक

धूल खाती पुस्तकों की आलमारी में..

अति सुन्दर !

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

ये विकलांगता जिन्हें नसीब नहीं बे ही असल विकलांग हैं.

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

एक बेहतरीन रचना जो बहुत कुछ सोचने पर मजबूर कर देती है ..शुक्रिया

दिगम्बर नासवा ने कहा…

जड़ों से दूर रहने की छटपटाहट तो होती है पर अपनी विरासत नही छूटती .......... जैसे कोई पुराना सामान ........ पुरानी यादें ........ पुरानी डायरी ......... ऐसी ही पौरानी छड़ी, पुराना सितार ..........

सतीश सक्सेना ने कहा…

एक कडवी हकीकत बदलते मूल्यों की, कहीं न कहीं हमारी पीढी भी जिम्मेवार है, हम अपने नवांकुरों को अपने से जोड़ नहीं पाए ! जब दिल दुखे तो हमें अपनी भूलों पर पछतावा होना चाहिए !!
एक संवेदनशील ह्रदय से निकली इन पंक्तियों को प्रणाम !!

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

रचना अपने आप मे परिपुर्ण है. अगर इसे रचनाकार की निजी हकीकत ना मानकर कवि कि कल्पना मानें तो ठीक है वर्ना हम तो अरविंद मिश्रा जी के साथ हैं.

रामराम.

रश्मि प्रभा... ने कहा…

bahut hi badhiyaa

shikha varshney ने कहा…

जैसे किसी दुखती राग पर हाथ रख दिया आपने..बहुत सुंदर

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

फिर भी मुझे विश्वास है

पूर्णता देने वाले इन स्मृतिचिन्हों के साथ

मैं रहूंगा अपनी विकलांगता में खुश

अपने टूटे सपनों अधूरी इच्छाओं

और उखड़ी जड़ों के साथ!!

बहुत खूब समीर जी. खुदा करे आने वाली नस्लें भी इस विकलांगता का महत्व समझें.

ali ने कहा…

तब तो शरद जी का विशेष आभार जो आपके विचारों गढ़नें में सहायक हुए !

amitabh shrivastava ने कहा…

sarva pratham- GANTANTRA KI SHUBHKAMANAYE
viklangata ke jariye nai pidi ki haqiqat. magar mujhe lagtaa he itanaa bhi nahi badlega jamana ki ham jeso ki pidiya use bhoola sake.., aakhir KHOON ka kuchh to asar rahega..sadiyo tak

डॉ० कुमारेन्द्र सिंह सेंगर ने कहा…

आखिर किसके लिए और क्यों हम अपनी जड़ों से दूर होना चाहते हैं?

ओम आर्य ने कहा…

वो जो आपके बाद आये हैं या आयेंगे, वे बस संभाल कर रख लें आपकी ऐसी ही कुछ चीजें और ये कविता भी...बस यही कामना है

साधवी ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति.

दिल को छूती.

राजेश स्वार्थी ने कहा…

विकलांगता-सोच का एक अलग आयाम.

संजय तिवारी ’संजू’ ने कहा…

क्या हुआ चाचा? आजकल बड़े दुखी रह रहे हो. कोई खास बात?

राज भाटिय़ा ने कहा…

समीर जी आप की कविता बहुत कुछ कह रही है, जाने वालो के बाद उन की चीजो को देख कर मन मै अनेक ऎसे ही विचार आते है, बहुत भाव पुर्ण लगी आप की यह कविता.
आप को गणतंत्र दिवस की मंगलमय कामना

प्रवीण शाह ने कहा…

.
.
.
दिल को छू गयी आपकी यह रचना,
आभार!

आशीष खंडेलवाल ने कहा…

बहुत मार्मिक रचना.

हैपी ब्लागिंग.

महफूज़ अली ने कहा…

बहुत सुंदर शब्दों के साथ .........बहुत सुंदर रचना.... सुंदर भावाभिव्यक्ति......

सादर

महफूज़....

दीपक "तिवारी साहब" ने कहा…

ढो रहा हूँ इनका अस्तित्व

मैं एकमात्र जीवित उत्तराधिकारी

टूटने को तत्पर

अपने झुकते काँधों पर..

बहुत दर्द झलक रहा है!

Devesh ने कहा…

उडऩ तश्तरी वाले संस्कारधानी के धनी समीर भाई को सलाम... आप मेरे ब्लाग पर आए बहुत शुक्रिया। आपने डिटेलिंग की बात कही तो ऐसे लगा जैसे किसी ने हौसला और चैलेंज एक साथ पेश कर दिया हो। दरअसल हर जगह ढकोसलों और बेवजह की जबानदाराजी के चिठ्ठों से ऊब कर मन नहीं हो पाता था कि रेगुलर ब्लागबाजी की जाए... लेकिन भला हो राहुल गांधी का, वे मप्र क्या आए विचारों को एक दिशा दे गए। आपकी अपेक्षानुरूप क्रम आगे बढ़ गया है, उम्मीद फिर ब्लाग पर आएंगे और इन आंखों से छूटते मंजरों से रूबरू कराएंगे। आपके ब्लाग पर लगा कि इतना भावुक व्यक्ति जब अपनी मट्टी से दूर होता है तो वह क्या देखता और सोचता है... सात समंदर पार यूं ही अपनों से नाता जोड़े रहें। हकीकत तो यह है कि पहले कभी आपके ब्लाग पर नहीं आया था, लेकिन अब लगता रेगुलर आना-जाना बना रहेगा। खैर... इस बीच एक बात और चूंकि आप हिंदी में भी लिखते हैं तो जाहिर है इसकी महिमा भी जानते हैं, लेकिन आपको एक दुखद तथ्य से अवगत कराए बगैर नहीं रह पा रहा हूं कि गणतंत्र दिवस की पूर्वसंध्या पर गुजरात हाईकोर्ट का राष्ट्रभाषा के संदर्भ में एक जनहित याचिका पर जो फैसला आया, उसमें नियमों और कानूनों से बंधी कोर्ट की बेबसी तड़पा देने वाली है। डिब्बाबंद सामग्री पर हिंदी में निर्देश न छपवा पाने के फैसले का आधार बना हिंदी का राष्ट्रभाषा न होना... कोर्ट ने कहा हिंदी को राजभाषा का दर्जा तो दिया गया है, लेकिन क्या इसे राष्ट्रभाषा घोषित करने वाला कोई नोटिफिकेशन मौजूद है? गणतंत्र दिवस की पूर्वसंध्या पर यह कालिमा आपको सप्रेम ताकि आप इस स्याही बना कर अपने जानने-पढऩे समझने वालों को जागरुक करने में एक और मजबूत कदम उठाएं। हिंदी की अलख के लिए शुभकामनाएं।

सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी ने कहा…

पीढ़ी-भेद को प्रतिबिम्बित करती विलक्षण कविता।
साधुवाद।

shama ने कहा…

Samajh nahee paa raheeki, is rachna pe kya tippanee dee jay...
Gantantr diwas kee dheron shubhkamnayen!

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

बदलते सामाजिक मूल्यों की कटु सच्चाई ब्यां करती आपकी ये रचना बहुत कुछ सोचने को विवश कर रही है......

अमृत कुमार तिवारी ने कहा…

हम जैसे युवाओं के लिए बेहद ही प्रेरणाप्रद है आपकी कविता।

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` ने कहा…

एक गुजराती कहावत है,
मुझ वीती , तुझ वीत्शे,
धीरी बापुडिया
मतलब - नयी पीढी कब पुरानी हो जायेगी
ये आप कालिका से पूछिए जो बहार में खिल रही है
और उस मुरझाये फूल से जो सुखकर धरती में समा जाने को है --
सुन्दर मनोमंथन लिए काव्य पर मुबारकबाद
गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में सभी भारत माता की संतानों को मेरी मंगल कामनाएं
स - स्नेह,
- लावण्या

दिलीप कवठेकर ने कहा…

क्या खयाल है,कि दिल में रुमाल की घडी की तरह तह करके रख लूं.

गणतंत्र दिवस पर हार्दिक शुभकामनायें...

Apanatva ने कहा…

dil par nisha chodne walee rachana.
गणतंत्र दिवस की आपको बहुत शुभकामनाएं

दीपक 'मशाल' ने कहा…

लो जी आप तो आप ही हैं और उसपे भी शरद भैया को भी मिला लिया... मिल के कविता लिख डाली.. अब क्या होगा हम सबका??? सूरज और चंदा मिल गए एक नया ब्रह्माण्ड रच डाला... अब हम छोटे मोटे उपग्रहों कि बिसात क्या है कि.....
गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें....
जय हिंद... जय बुंदेलखंड...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

लँगड़ी है दादा जी की छड़ी
दीवार का सहारा लिए खड़ी है
गूँगा है माँ का सितार
तहखाने के कोने में उदास पड़ा है
अँधी है बाबू जी की ऐनक
धूल खाती पुस्तकों की आलमारी में..
ढो रहा हूँ इनका अस्तित्व
मैं एकमात्र जीवित उत्तराधिकारी
टूटने को तत्पर अपने झुकते काँधों पर..

बहुत ही सार्थक!

नया वर्ष स्वागत करता है , पहन नया परिधान ।
सारे जग से न्यारा अपना , है गणतंत्र महान ॥

गणतन्त्र-दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!

Rekhaa Prahalad ने कहा…

गणतंत्र दिवस पर हार्दिक शुभकामनायें.

योगेश स्वप्न ने कहा…

wah sameer , jadon se katne ki bahut sunder dard bhari abhivyakti, dikh rahi hai tees.

Hiral ने कहा…

bahut kuchh sochane ko badhya karti hai ye post.

gantantra divas ki badhai.

makrand ने कहा…

विछोह की पीडा झलक रही है.

गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं.

Manoj Bharti ने कहा…

गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ ... चलो हम भारत देश को वस्तुत: गण के तंत्र में विकसित करें ।

HEY PRABHU YEH TERA PATH ने कहा…

बहुत ही अच्छी रचना है
साधुवाद।

HEY PRABHU YEH TERA PATH ने कहा…

samirbhaishab
namskar.
गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥
♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥
♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥
♥ ♥ ♥ ♥ ♥






BLOG CHURCHAA MUNAA BHI KI
हे! प्रभु यह तेरापन्थ
मुम्बई-टाईगर
द फोटू गैलेरी
महाप्रेम
माई ब्लोग
SELECTION & COLLECTION

निपुण पाण्डेय ने कहा…

समीर जी ,
एक दूसरा ही भाव ! आपकी रचनाओ में कहीं इतनी गहरी बात और कहीं हास्य व्यंग !

सचमुच ये विकलांगता नहीं ! ये सौभाग्य है !
एक दर्द ......और सुदर अभिव्यक्ति ....:)

Saiyed Faiz Hasnain ने कहा…

aapne pushtaini viklaangta ka bakhubi apne shabdon me piroya hai ...
lekin yah bhi samaj ki wah burai hai jise ham dekhte to hai par maante nahi ........

डॉ टी एस दराल ने कहा…

विरासत में मिली विकलांगता में छुपा दर्द नज़र आ रहा है। लेकिन आज की युवा पीढ़ी शायद इसको समझ न पाए।
आपने सही कहा की वो जड़ों से बहुत दूर जा बसी हैं।
लेकिन समय के बदलाव को कौन रोक सका है।
बस एक टीस सी ही रह जाती है , सीने में।

गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें।

रवि कुमार, रावतभाटा ने कहा…

आपकी यह अभिव्यक्ति वाकई कविता हो गई है...
बेहतर कविता...

Babli ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना! आपको और आपके परिवार को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!

Etips-Blog Team ने कहा…

bahut hi badhiya ji ,par aap sab se anurodh hai ki is bahsh me bhag len,kripya is tippani ko prkasit karen
ब्लॉग बहस : क्या ब्लोग्वानी और चिठाजगत में इक सर्च इंजन होना चाहिए
kripya isse pahle wala tippni mita den....kyonki vo aashish bhai ke blog ke liye thi jo galti se aapke blog comments box me pest ho gyi thi.........

भूतनाथ ने कहा…

kyaa baat....kyaa baat....kyaa baat......!!!

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी ने कहा…

बहुत सुन्दर! आपको गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!

Priya ने कहा…

Sharad ji ka sahyog hi kaafi hai..lekin viklangta shabd thoda akhra......Pravasi hai aap isliya.....Happy sovereign Republic to You....lekin India mein iska mazaak hi udaya ja raha hai

अभिषेक ओझा ने कहा…

कितने दिलों का यथार्थ समेटती हैं ये लाइने !

सर्वत एम० ने कहा…

आप हंसाते हंसाते अक्सर रुलाने लगते हो. धरोहरें ढोना हमारी, सिर्फ हमारी पीढ़ी तक ही सीमित रह जाएगा. इस बात की जो कसक आपने महसूस की है, हम सभी उस से दुखी भले हों लेकिन एक संतोष भी है कि जो हम ने भोगा, शायद नई पीढ़ी उस सुख या दुःख से वंचित रहे.

sada ने कहा…

फिर भी मुझे विश्वास है

पूर्णता देने वाले इन स्मृतिचिन्हों के साथ

मैं रहूंगा अपनी विकलांगता में खुश

अपने टूटे सपनों अधूरी इच्छाओं

और उखड़ी जड़ों के साथ!!..

बहुत ही गहरे भाव लिये हुये यह विकलांगता, झकझोर गई अन्‍तर्मन को, बधाई के साथ आभार ।

mrityunjay kumar rai ने कहा…

समीर सर आपकी ये रचना बेमिशाल है . दिल करता है कभी आपसे मिलने का पर क्या करू पासपोर्ट नहीं है मेरे पास , पर आपकी लेखनी मुझे हमेशा आपके पास कनाडा भेज ही देता है , सच कहा है , यादों को किसी पासपोर्ट की जरुरत नहीं होती है .जेनेरेसन गैप का दर्द आपकी रचनाओं में झलकता है.हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान महान है .मैंने पढ़ा है की जब देवकी नंदन खत्री ने चन्द्रकान्ता लिखी थी तो लोगों ने वो नोवेल पढने के लिए हिन्दी सीखी थी , आज के दौर में आपको पढने के लिए लोगों को कम्पुटर सीखना पडेगा .मै आपका महिमा मंडन नहीं कर रहा हूँ बल्कि यह सत्य है . मैंने कुछ लोगों को जो कम्पुटर नहीं जानते है उन्हें आपकी कुछ रचनाएं दिखाई /सुनाई , वे लोग आपकी रचनाओं को पढ़कर /सुनकर बहुत भाव विभोर हो गए .

ऐसी रचना के लिए बधाई

नीरज गोस्वामी ने कहा…

मर्म स्पर्शी रचना...
नीरज

Murari Pareek ने कहा…

वैसे तो हमने इस सुन्दर रचना को पढ़ दिया पर याहां भी हाजिरी लगा ही देते हैं!!!

mukesh ने कहा…

sameer ji
har baar ki tarah aapne fir se dil ko chhoo liya . sach aaj ki pidhi jado se bahut door ho gyi hai ..
फिर भी मुझे विश्वास है

पूर्णता देने वाले इन स्मृतिचिन्हों के साथ

मैं रहूंगा अपनी विकलांगता में खुश

अपने टूटे सपनों अधूरी इच्छाओं

और उखड़ी जड़ों के साथ!!

विश्वास पर जहान टिका है।

sadhuwad !!
jai hind jai bharat
aaj ki shayad desh ko bhi bhool jaye kyonki desh ne bhi abhi apne gantantra ke sathiyane (yani 60 varas ki ) ki umra pa li hai

श्रद्धा जैन ने कहा…

समीर जी
विकलन्गता जडो से जुड्ने मे नही है
जो लोग नही जुड पाते है वो लोग विकलान्ग होते है
आपने बहुत सुन्दर कविता लिखी है
भावुक कर गयी

गिरीश बिल्लोरे 'मुकुल' ने कहा…

Adbhut bimb pesh kiye hain
salaam saheb

sanjay vyas ने कहा…

कविता में एक विरासत को सहेजने का निश्चय है साथ ही आगे इस विरासत को न दे पाने की पीड़ा भी.

अद्भुत है ये कविता. एक हूक सी उठती है...

गिरीश पंकज ने कहा…

nihshakt hamaare hi parijan hai,
unka ham kalyaan karen.
apne jeevan ke jaisa hi,
ham unka uttaan karen.

sunar rachana..prerak bhi

दिनेश शर्मा ने कहा…

आपने सही कहा ।

शरद कोकास ने कहा…

समीर भाई, बहुत खूबसूरत कविता लिखी है आपने , मुझे लगा कि मेरे मन के ही भाव हैं , शायद हम लोग ही एकमात्र उत्तराधिकारी हैं पूर्वजों की इस विरासत के.. हमारे बाद की पीढ़ी शायद इतनी संवेदनशील न हो .. जो हमारी वस्तुओं को सहेज कर रख सके .लेकिन अभी भी समय है यह आनेवाली पीढ़ी ज़रूर समझेगी कि वस्तुएँ सिर्फ वस्तुएँ नहीं होती उनमे भी सजीवों की संवेदना अंतर्निहित होती है । यह कविता शायद उन्हे इस बात के लिये प्रेरित करे ।

शहरोज़ ने कहा…

बेहद मार्मिक!!
कुछ पंक्तियाँ तो ऐसी हैं कि गर बिना नाम लिखे किसी नामी आलोचक को दिखाएँ तो निश्चित ही वो किसी बड़े कवि का लिखा हुआ बताएं.

बहुत प्रभावी अंकन !!आज का!!badal रहे समय और समाज का!!

गौतम राजरिशी ने कहा…

एक बेहतरीन कविता सरकार...उफ़्फ़्फ़ कुछ बेहर ही दुर्लभ बिम्बों का प्रयोग और "कवितापन" को बरकरार रखते हुये सटीक कटाक्ष आज के इस "जेन एक्स" पर।

शरद जी को भी शुक्रिया...

वाणी गीत ने कहा…

जड़ों से दूर बसे बच्चों को इसे ढोने की जरुरत से मुक्त कर देना सच ही बहुत साहसिक कार्य है ....वैसे भी उनसे सब संभालता नहीं ... !!

anupam mishra ने कहा…

अपनी ज़मी से दूर हुए तो क्या
बस इतना न दूर होना
कि माटी की सुगंध का अहसास ही मिट जाए।

हिमांशु जोशी ने कहा…

काफी अच्छी कविता है ...
आज के इस दौर में बहुत कम हैं जो की अच्छे साहित्य को समझते हैं और उसे लिखते हैं |

ऐसे ही अच्छा लिखते रहिये बस यही आशा है|

pawan ने कहा…

बेहतरीन रचना का आस्वादन कराने के लिए धन्यवाद !!

परंतु भारत की नई पीढी के कुछ लोग अंग्रेजी स्ंस्कृति की पोलियो वैक्सीन प्राप्त करने से चूक गये ...और विंकलांग होने से बच गये ।

क्या है न कि जनसंख्या ही इतनी है कितनों को विकंलाग करेंगे :)

आप व्यर्थ की चिंता न करे। भविष्य भी समृद्द होगा ।

बेनामी ने कहा…

खरगोश का संगीत राग रागेश्री
पर आधारित है जो कि खमाज
थाट का सांध्यकालीन राग है,
स्वरों में कोमल निशाद और बाकी स्वर शुद्ध लगते हैं, पंचम
इसमें वर्जित है, पर हमने इसमें अंत में पंचम का प्रयोग भी किया है, जिससे इसमें राग बागेश्री भी झलकता
है...

हमारी फिल्म का संगीत वेद नायेर ने दिया है.
.. वेद जी को अपने संगीत कि प्रेरणा जंगल
में चिड़ियों कि चहचाहट से मिलती है.
..
Look into my web site :: खरगोश