शुक्रवार, अक्तूबर 13, 2006

चलो आगे चलें..

कल कुछ पंक्तियां लिखी थीं, देश लगे शमशान अब थोड़ा आगे बढते हैं, इन्हें देखें. कहीं कुछ जुड़ा जुडा सा लगता है :

अपने दिल में ही तलाशो,
तह में सच को पाओगे.
खुद की नज़रों से भला,
तुम कब तलक बच पाओगे.

तख़्त फांसी से उतर के,
किस तरह जी पाओगे.
डूब कर निज ग्लानि में,
तुम खुद -ब-खुद मर जाओगे.



//१//


इस जहां मे अब नहीं, कोई खुदा रह पायेगा
वहशती चालों को तेरी, अब नहीं सह पायेगा.
बांध ले सामां तू अपना, गर खुदा से वास्ता
शातिराना बात अपनी कब तलक कह पायेगा.

//२//

हो खुदा ,भगवान हो या, एक ही तो बात है
चाहे घर कोई हो तोड़ा, सिर्फ़ उसकी मात है
तोड़ कर के एक घर को, दूसरा बनवाओगे
मानता हूँ मै निहायत, बेतुका जज्बात है.

सादर
समीर लाल 'समीर' Indli - Hindi News, Blogs, Links

12 टिप्‍पणियां:

Vijendra S. Vij ने कहा…

तख़्त फांसी से उतर के,
किस तरह जी पाओगे.
डूब कर निज ग्लानि में,
तुम खुद -ब-खुद मर जाओगे....
....एक कडवा सच कहा है आपने समीर जी..

सटीक और यथार्थ मे डूबे शब्द ...

कविता अछछी लगी.

शुभकामनाये.

गिरिराज जोशी ने कहा…

नहीं लगता अपनी नज़रों में,
वो कभी शर्मिन्दा होगा ॰॰॰
कितना ही चला जाए तह में,
सच उससे दूर ही होगा ॰॰॰
तख़्त फांसी से उतरना फिर,
दहशत का ना सर्वनाश होगा ॰॰॰
रोएगी पलक देख झुलता इंसान, पर
चैन-ओ-अमन का आगाज़ होगा ॰॰॰

राकेश खंडेलवाल ने कहा…

मिलना होता है तो मिलता है खुदा भी योंही
नकाब उलटते रहिये,माहजबीं नहीं मिलता
खोजते खोजते उम्र गुजर जाती है
आदमी को अंदर का आदमी नहीं मिलता

Pankaj Bengani ने कहा…

vah.....

Laxmi N. Gupta ने कहा…

समीर जी,

ग्लानि नहीं होती अफ़ज़ल जैसे लोगों को
काम पुण्य का है यह उनकी नज़रों में
मर के जायेंगे बहिश्त वे है उनको विश्वास
जहां ७२ हूरों के संग होगा भोग विलास

Sindhu ने कहा…

बहुत अच्छा लिखा हैं।

परमजीत सिहँ बाली ने कहा…

समीर जी,बहुत बेहतरीन।

तख़्त फांसी से उतर के,
किस तरह जी पाओगे.
डूब कर निज ग्लानि में,
तुम खुद -ब-खुद मर जाओगे.

मुकेश पाण्डेय चन्दन ने कहा…

हो खुदा ,भगवान हो या, एक ही तो बात है
चाहे घर कोई हो तोड़ा, सिर्फ़ उसकी मात है
तोड़ कर के एक घर को, दूसरा बनवाओगे
मानता हूँ मै निहायत, बेतुका जज्बात है.
har baar ki tarah dil se nikal dil ko chhoo gyi

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

यहाँ क्लिक करके आज ज़रूर डालें एक नज़र

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

यहाँ क्लिक करके आज ज़रूर डालें एक नज़र

Kulwant Happy "Unique Man" ने कहा…

उड़नतश्‍तरी का भी जवाब नहीं
कभी कभी सोचता हूं
ब्‍लॉगर के पास कमेंट के रूप में क्‍
यूं सुर्ख गुलाब नहीं

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

iss jahan me ab koi khuda nahi rah payega.. sau fisadi satya:)
behtareen to aap ho hi :)