सोमवार, जून 08, 2009

मृत्यु का बुलावा जब भेजेगा तो आ जाऊँगा....

आज सुबह सुबह एक हृदय विदारक दुखद समाचार मिला.

एक सड़क दुर्घटना में मंच के लोकप्रिय कवि ओम प्रकाश आदित्य, नीरज पुरी और लाड सिंह गुज्जर का निधन हो गया और ओम व्यास तथा ज्ञानी बैरागी गंभीर रूप से घायल हुए हैं. सभी विदिशा से भोपाल एक इनोवा द्वारा म.प्र. संस्मृति विभाग द्वारा आयोजित कवि सम्मेलन में भाग ले कर वापस आ रहे थे.

एक शोक सूचना और- वरिष्ठ रंग-कर्मी हबीब तनवीर का भोपाल में ८६ वर्ष की उम्र में निधन हो गया. रंगमंच की एक महत्वपूर्ण कठपुतली को जगत-नियंता ने अपने पास वापस बुला लिया.

हबीब तनवीर जी, आदित्य जी, नीरज पुरी जी, और लाड सिंह गुज्जर जी को अश्रुपूरित श्रद्धांजलि

और

ओम व्यास तथा बैरागी जी शीघ्र स्वास्थय लाभ की कामना.

वाकई, आज का दिन "मंच" पर वज्रपात का दिन है.

आदित्य जी



नीरज पुरी जी




लाड सिंह गुज्जर जी



हबीब तनवीर जी



जब जब ख्याल आता है तो आदित्य जी की यह रचना उनकी विशिष्ट स्वर लहरी में कानों में गुँजने लगती है.


दाल रोटी दी तो दाल रोटी खाके सो गया मैं
आँसू तूने दिये आँसू पीये जा रहा हूँ मैं
दुख तूने दिये मैने कभी न शिकायत की
सुख दिये तूने सुख लिए जा रहा हूँ मैं
पतित हूँ मैं तो तू भी पतित पावन है
जो तू कराता है वही किए जा रहा हूँ मैं
मृत्यु का बुलावा जब भेजेगा तो आ जाऊँगा
तूने कहा जिये जा तो जिये जा रहा हूँ मैं

बचपन में खिलौने, जवानी में जोश
और बुढ़ापे में आदमी का धन साथ देता है
संपत्ति में साथ देने तो हजारों आ जाते हैं
विपत्ति में प्रभु का मनन साथ देता है
तन स्वस्थ रहे तो ये मन भी न होता पस्त
मन मस्त रहे तो ये तन साथ देता है
हिम्मत के हथियार हाथ से जो खिसके तो
तन साथ देता है न मन साथ देता है.


-बस, आज इतना ही. अगर इस रचना को आदित्य जी की आवाज में सुनने का मन हो तो यू ट्यूब पर यहाँ सुनें. Indli - Hindi News, Blogs, Links

72 टिप्‍पणियां:

पुरुषोत्तम आर्य ने कहा…

श्रद्धांजलि
मंच की यह अपूरणीय क्षति है।

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` ने कहा…

मेरी विनम्र श्रध्धांजलि -
दिवंगत आत्मा
ईश्वर का सान्निध्य प्राप्त करें
ये सदआशा सहीत ,
- लावण्या

अजय कुमार झा ने कहा…

आदरणीय समीर जी...हाँ सच कहा आपने दुःख बहुत बड़ा है...जैसा की मैंने पहले भी कहा की...कुछ दुर्घटनाएं कभी कभी बहुत बड़े दुक्त दे देती हैं....अपूरणीय क्षति है ये...

बेनामी ने कहा…

समीर भाई ,
बहुत ही दुखद समाचार है.
इस घडी में उनके परिवार
को ईश्वर इस दुख को सहने की शक्ति दे.

पंकज सुबीर ने कहा…

आदरणीय आदित्‍य जी अब उम्र के उस मुकाम पर थे जिसे विदाई की वेला कहते हैं किन्‍तु ये विदाई ऐसी होगी किसी ने न सोचा था । वे काव्‍य मंच के सचमुच के आदित्‍य थे जिनके प्रकाश में मंच जगमगा उठता था । सबसे अच्‍छी बात ये थी कि हास्‍य के कवि थे किन्‍तु सारी बात हिंदी के व्‍याकरण में होती थी । छंदों के सम्राट थे वे । नीरज भाई के बारे में कुछ भी कहते हुए गला भर आता है । लाड़ सिंह गुर्जर तो मेरे शहर से लगे हुए कस्‍बे के थे । छोटे मोटे आयोजनों में भी आ जाते थे । ओम जी की हालत स्थिर है । ईश्‍वर से प्रार्थना है कि जो नुकसान किया सो किया अब आगे न करे । श्री अशोक चक्रधर जी ओम व्‍यास जी को भोपाल से दिल्‍ली के अपोलो अस्‍पताल ले जाने के प्रयास में हैं किन्‍तु वैंटीलेटर पर होने के कारण्‍ा डाक्‍टर नहीं ले जाने दे रहे हैं । हिंदी कविता के मंच के हास्‍य के ये सितारे एक ही गाड़ी में थे । दूसरी गाड़ी में श्री अशोक चक्रधर जी, श्री प्रदीप चौबे जी, श्री मदन मोहन समर जी, श्री विनीत चौहान जी बैठे थे । सबसे प्रार्थना है कि ओम जी के लिये एक बार ईश्‍वर से प्रार्थना करें किसी न किसी की तो वो सुनेगा इतना निष्‍ठुर नहीं है वो । ओम जी जैसे अच्‍छे इंसानों की अभी हमें जरूरत है । उन जैसे कवियों के कारण मंच की गरिमा बची हुई है ।

सुमन्त मिश्र ‘कात्यायन’ ने कहा…

सचमुच हिन्दी के लिए गहन शोक उपस्थित हो पड़ा है। एक साथ इतना बड़ा आघात असहनीय हो रहा है। हरि इच्छा!

रविकांत पाण्डेय ने कहा…

मंच को जो अपूरणीय क्षति हुई है इन सरस्वतीपुत्रों के जाने से वो अत्यंत दुखद है। दो साल पहले आदित्य जी कानपुर आए थे तब बिल्कुल सफ़ेद कपड़ों में थे। कुमार विश्वास ने चुटकी लेते हुये कहा था कि आदित्य जी आजकल पूरी तैयारी के साथ चलते हैं। कपड़े भी सफ़ेद पहनते हैं और उन्ही शहरों में कविसम्मेलन की अनुमति देते हैं जो गंगा के किनारे हों। क्या पता कब कहां जाना पड़ जाए! और अपनी बारी आई तो आदित्य जी ने उत्तर में यही छंद सुनाया था।

Ratan Singh Shekhawat ने कहा…

दिवंगत आत्माओं को विनम्र श्रद्धांजलि |

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

मृत्यु का बुलावा जब भेजेगा तो आ जाऊँगा..
यही एक -मेव सच है .काल की पुकार को कोई अनसुना नहीं कर सकता ,अब केवल यादें ही शेष है ,मंच सूना हुआ .परमपिता इन सभी को परमशान्ति प्रदान करें .

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

एक साथ इतनी क्षति! शक्ति बटोर रहा हूँ, सहन कर सकूँ!

अरुण पालीवाल ने कहा…

श्रद्धा सुमन

अरुण पालीवाल ने कहा…

श्रद्धा सुमन

अरुण पालीवाल ने कहा…

श्रद्धा सुमन

नितिन व्यास ने कहा…

श्रद्धांजलि
दिवंगत आत्मायें ईश्वर का सान्निध्य प्राप्त करें।

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

अपूर्णीय क्षति हुई है. कुछ भी नही कह पा रहा हूं. बस मौन हूं. मेरी श्रद्धांजलि.

रामराम.

संजय बेंगाणी ने कहा…

श्रद्धांजलि

mahashakti ने कहा…

बहुत ही दु:खद समाचार, यह हिन्‍दी और हिन्‍दुस्‍थान के लिये बहुत बड़ी क्षति है।

भगवान दिवगंत आत्‍माओं को शान्ति प्रदान करे।

AlbelaKhatri.com ने कहा…

mere liye ye gahra sadma hai.......kal se ek hi prarthna kar rahaa hoon ki bhai om vyas ko kuchh na ho.................aadityaji to hamaare munch k aise dadaji the jinke pas baith kar hum urjasvit hote the...neerajji meri hi pidhi k the lekin mujhse zyada tailented aor lokpriya hone k baavjood jab milte the toh daud k gale milte the..masti toh unke ang ang se footti thee..aur laadsing gurjar ko abhi toh bulaaya tha maine surat me...ve zara sharmile swabhaav k the lekin
unke maalvi geet bade mast hote the jin par darshak jhoom jhoom uthte the..........
hay hay re niyati! ye toone kya kiya ?
AAO HUM SAB PRARTHNA KAREN DIVANGAT AATMAAON KI SADGATI K LIYE AUR SANGHARSH RAT OMJI VA BHAI JANI BAIRAGI K SHEEGHRA SWASTHYA K LIYE___________

अक्षय-मन ने कहा…

यही तो हकीक़त है एक दुनिया जिसपर भरोसा मुझसे मिलने जरूर आएगी....
वैरागी जी और ओम जी के अच्छे स्वस्थ की कामना वो जल्दी से अच्छे हों.....
साथ ही साथ जो हमारे साथ होकर भी हमारे साथ नहीं....उनको श्रद्धांजलि.........
रचना दिल को पहुंचती है........शुभकामनाय......


अक्षय-मन

रंजन ने कहा…

इन सभी कवियों को मंच पर सुनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ सोचा न था कि एसा दुखःद समाचार आयेगा... बहुत दुखःद घटना..


श्रद्धांजलि

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र ने कहा…

ह्रदयविदारक दुर्घटना से साहित्य जगत को अपूरणीय क्षति हुई है . समाचार सुनकर स्तब्ध रह गया था . सभी दिवंगतों को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ, ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे.
ॐ शांति ॐ

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

वज्रपात!!!
लोकप्रिय कवि ओम प्रकाश आदित्य, नीरज पुरी, लाड सिंह गुज्जर और हबीब तनवीर को
भाब-भीनी श्रद्धांजलि।
ओम व्यास तथा बैरागी जी के शीघ्र स्वास्थय लाभ की कामना करता हूँ।

विनय ने कहा…

श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ

डॉ .अनुराग ने कहा…

अपूरणीय क्षति!!!!!

अनिल कान्त : ने कहा…

मेरी विनम्र श्रध्धांजलि

मीत ने कहा…

दिल में उतर गयी यह रचना...
मीत

मीत ने कहा…

हम उनके परिवार के गम में शरीक हैं....
बाकि सब इश्वर की मर्जी है...
मीत

मीत ने कहा…

इस्वर उन्हें शांति दें,,,
मीत

bhawna ने कहा…

इश्वर उनकी आत्मा को शान्ति प्रदान करे एवं उनके परिवार को इस असीम दुःख को सहने की क्षमता दे । श्रधान्जली
भावना

ज्ञानदत्त पाण्डेय | Gyandutt Pandey ने कहा…

अत्यन्त दुखद। नियति के सामने बेबसी महसूस होती है। श्रद्धांजलि।

कंचन सिंह चौहान ने कहा…

कल देर रात तक देखती रही कि शायद कोई टी०वी चैनेल हो जो इन तीनो कवियो को विशेष श्रद्धांजलि दे..मगर नही..! इस से टी०आर0पी भी तो न बढ़ती....!!!

खैर हम ब्लॉगर साहित्यकार न सही पत्रकार न सही लेकिन सब एख जुट हो कर तीनो दिवंगत आत्माओं की आत्मा की शांति और दोनो घायल कवियों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की हृदय से कामना करते हैं...!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

भगवान् उनके परिवार को दुःख सहने की शक्ति दे ............. कुछ नुक्सान ऐसे होते हैं जो पूरे नहीं हो सकते ......

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

अत्यंद दुखद.

अजित वडनेरकर ने कहा…

दुखद निधन की खबर से स्तब्ध हैं। सोमवार का दिन मंचीय कला की क्षति का रहा।

रानी पात्रिक ने कहा…

मन दुःखी है, शब्द नहीं हैं। पंकज जी विस्तार से लिखने के लिए धन्यवाद। एक बैचेनी सी थी बाकी लोगों के हाल चाल जानने की। हृदय से प्रार्थना बनी ही रहेगी।

संजीव गौतम ने कहा…

हिन्दी के लिए इतना बड़ा आघात असहनीय है

ओम आर्य ने कहा…

श्रद्धांजलि
यह मंच की क्षति है क्योकि ये शोभा हुआ करते थे.अत्यंत दुखद है.

ओम आर्य ने कहा…

श्रद्धांजलि
यह मंच की क्षति है क्योकि ये शोभा हुआ करते थे.अत्यंत दुखद है.

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

ईश्वर दिवंगत आत्माओं को शान्ती दे और जो जीवन मृ्त्यु के मध्य झूल रहे हैं, उन्हे शीघ्र स्वास्थय प्रदान करे।

अभिषेक ओझा ने कहा…

ओह ! दुखद !
श्रद्धांजलि.
ओमजी बैरागीजी के स्वास्थ्य लाभ की कामना.

रंजना ने कहा…

अत्यंत दुखद दुर्घटना है यह....

मेरी विनम्र श्रध्धांजलि -
दिवंगत आत्मा ईश्वर का सान्निध्य प्राप्त करें !!

Science Bloggers Association ने कहा…

उसको टालना किसके बस में है।
हार्दिक श्रद्धांजलि।
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

बहुत ही दुखद घटना है यह ..विनम्र श्रद्धांजलि

sada ने कहा…

साहित्‍य जगत में एक अपूरणीय क्षति, श्रद्धांजलि दिवंगत आत्‍माओं के लिये, मृत्‍यु एक परम सत्‍य है और यह खुद पर कभी दोष नहीं आने देती, जैसे यहां एक रूप उसने दुर्घटना का दिखाया और उन्‍हें ऐसे वक्‍त छीन लिया जब उनके अपने, घर पर उनकी प्रतीक्षा में थे . . . ।

अल्पना वर्मा ने कहा…

-यह अपूरणीय क्षति है
-कविवर हबीब तनवीर जी, आदित्य जी, नीरज पुरी जी, और लाड सिंह गुज्जर जी को हमारी तरफ से भी अश्रुपूरित श्रद्धांजलि
और
कविवर ओम व्यास जी शीघ्र स्वास्थ्य लाभ के लिए ईश्वर से परार्थना है.
[श्री बैरागी जी अब खतरे से बाहर हैं.]

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

मंच सूना हो गया.......अपना दुख व्यक्त करने के लिये शब्द नहीं हैं मेरे पास. दिवन्गतों को श्रद्धान्जलि.

डॉ० कुमारेन्द्र सिंह सेंगर ने कहा…

OM SHANTI, SHANTI, SHANTI......

SWAPN ने कहा…

shradhanjali.

ghayalon ke swasth hone ke liye shubh kaamna.

संजय सिंह ने कहा…

दिवंगत आत्माओं को विनम्र श्रद्धांजलि
बहुत ही दुखद समाचार है.
ओम जी और वैरागी जी के अच्छे स्वस्थ की कामना वो जल्दी से अच्छे हों.....

पंगेबाज ने कहा…

हिंदी मंच की गडगडाती ये आवाजे अभी भी कानो मे गूंज रही है . वे अमर है अमिट है हिंदी जगत मे हमेशा विराजे रहेंगे .वे कही नही गये . ना जा सकते है . बस जो और सुनाते वो हमारे ही कानो के भाग्य मे सुनना नही था. भगवान से प्रार्थना है कि हिंदी मंच को अभी और खाली ना करे. हमे इस मंच पर सुनाने वाले कम है उसेके पास पहली ही बहुत आवाजे जा चुकी है

Vaibhav ने कहा…

दुखःद घटना

श्रद्धांजलि

डुबेजी ने कहा…

kya kahoon sir....jab se ye khabar mili hai .....kuch soojh hi nahi raha......

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

समीर जी, अभी भी यक़ीन नहीं हो रहा. हालांकि कल से इसी सक़ते में हूं. बस.... ऒम भाई ठीक हों यही कामना है. जानी खतरे से बाहर है ये खबर सांत्वना दे रही है... ऒह..

अविनाश वाचस्पति ने कहा…

बिना बुलावे के गए हैं
दो को साथ ले गए हैं
एक तो भारी भरकम है
दूसरा हास्‍य की सरगम है

Ashish Shrivastava ने कहा…

भगवान दिवगंत आत्‍माओं को शान्ति प्रदान करे। लोकप्रिय कवि ओम प्रकाश आदित्य, नीरज पुरी, लाड सिंह गुज्जर और हबीब तनवीर को
भाब-भीनी श्रद्धांजलि।

VIJAY TIWARI " KISLAY " ने कहा…

समीर जी,
वाकई आज का दिन रंगमंच और साहित्य जगत के लिए काला दिवस जैसा है.
जाना तो सबको होता है, लेकिन एक साथ रंगमंच और हिंदी साहित्य के सुविख्यात हस्ताक्षरों का हमारे बीच से चले जाना असामयिक ही नहीं हृदय को विदीर्ण करने वाली घटना है.
एक लम्बे अरसे तक आज का दिन हमें याद आ आ कर कचोटता रहेगा.
हमारी सभी को विनम्र श्रद्धांजलि.
- विजय

dhiru singh {धीरू सिंह} ने कहा…

मृत्यु का बुलावा जब भेजेगा तो आ जाऊँगा
तूने कहा जिये जा तो जिये जा रहा हूँ मैं

इन पंक्तियों ने हिम्मत बड़ा दी .
शोक ,शोक ,शोक

"अर्श" ने कहा…

IS APURANIYA KSHATI KE LIYE KYA KAHAA JAYE... IN CHAARO KALAM KE JAADUGARON KO MERA SHRADHAA SUMAN SHRADHAANJALI ARPIT KARTA HUN...HRIDAY AAHAT AUR SHOK SE BHARA HUA HAI....


ARSH

राज भाटिय़ा ने कहा…

हमारी तरफ़ से भी हबीब तनवीर जी, आदित्य जी, नीरज पुरी जी, और लाड सिंह गुज्जर जी को श्रद्धांजलि .
ओर बाकी सभी घायलो को भगवान जल्द ठीक करे, इस से ज्यादा इंसान कुछ नही कर सकता, यह सब उस ऊपर वाले की लीला है, वोही जाने,
धन्यवाद

Hill Goat ने कहा…

Very nice blog. I have started reading Hindi blogs recently, and I am heartened by the quality and content of Hindi writing online. Such powerful words, so delicately set! Keep up the good work, chief.

Shefali Pande ने कहा…

बहुत दुखद घटना ....सभी दिवंगत कवियों को श्रद्धांजलि .

मीनाक्षी ने कहा…

स्तब्ध...मृत्यु जब अचानक आ कर अपने आगोश में ले लेती है तो कुछ कहते नही बनता...उनकी कमी कोई पूरी नही कर सकता..सभी के परिवार को इस दुख को सहने की शक्ति मिले...

परमजीत बाली ने कहा…

बहुत ही दुखद।
दिवंगत आत्माओं को विनम्र श्रद्धांजलि |

दिलीप कवठेकर ने कहा…

मेरी मौन श्रद्धांजली...

गौतम राजरिशी ने कहा…

मूक हूँ...

Anil Pusadkar ने कहा…

श्रद्धासुमन अर्पित करता हूं।

Nitish Raj ने कहा…

सच कहा आपने बीता दिन वज्रपात था मंच के लिए।
मृत्यु का बुलावा जब भेजेगा तो आ जाऊँगा
तूने कहा जिये जा तो जिये जा रहा हूँ मैं
..........
हिम्मत के हथियार हाथ से जो खिसके तो
तन साथ देता है न मन साथ देता है.

प्रार्थना करता हूं कि जो क्षति हुई सो हुई भगवान हमसे ओमजी का ना छीनना।
भगवान जल्द ठीक करें ओम जी को।
जो चार हीरे चले गए उनको दिवंगत आत्मा को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि।

नीरज गोस्वामी ने कहा…

दाग तुझमें है कि मुझमें ये पता तब होगा
मौत जब आएगी कपडे लिए धोबिन की तरह

महान कवि गोपाल दस नीरज जी की ये पंक्तियाँ और उसे सुन कर ओम प्रकाश आदित्य जी का झूमना आँखों के सामने घूम गया...किसे मालूम था की मौत उन्हें इस तरह हमसे छीन कर ले जायेगी... "आदित्य जी " आम जन के कवि थे , किसी विवाद और अकादमी के पुरुस्कारों से दूर...तभी इस उम्र में भी उन्हें सुनने लोग दौडे चले आते थे...हंसते हंसते रुलाने की कला में दक्ष आदित्य जी हमेशा अपने चाहने वालों के दिलों में रहेंगे...उनके साथ युवा नीरज पुरी जी और लाड सिंह जी का जाना मन को अन्दर तक हिला गया है...इश्वर इनकी आत्मा को शांति दे...

हबीब तनवीर जी मंच को समर्पित ऐसे शक्श थे जिनकी मिसाल ढूंढें नहीं मिल सकती...आदिवासियों के समूह में से उन्होंने ऐसे विलक्षण कलाकार ढूंढ निकाले की उनका अभिनय दांतों तले उंगलियाँ दबाने पर मजबूर करता है...यकीन ना हो तो कभी "आगरा बाज़ार" या "चरण दास चोर " नाटक देखें... उन्हें अश्रु पूरित श्रधांजलि...

नीरज

Kashif Arif ने कहा…

मेरी विनम्र श्रध्धांजलि -

बहुत ही दुखद समाचार है. ऊपर वाला उनके परिवार और सगे - सम्बन्धियॊं को ये दु:ख सहने की शक्ति दे

Priya ने कहा…

humne to bes naam hi suna hain inka ... aur kabhi kabhi t.v.par dekha... but blogger bananey ke baad to jiase ek parivaar sa ho gaya hai....dukh to aaj bhi hain..... but yahi par to hum haar jate hain.....

priyambara ने कहा…

श्रद्धांजलि
सच में मंच की अपूरणीय क्षति.

chhatrapal shivaji ने कहा…

It's very bad, I am sad sad sad.
by CHHATRAPAL SHIVAJI
Gowari, Sagwara, Dungarpar, Rajasthan-314025
(manch sanchalak & kavi- hasya, vyangya, oj)
Mob.9929468650, 9783372474
E-mail: chhatrapal.shivaji@yahoo.com