सोमवार, अक्तूबर 04, 2010

गाँधी जी का जन्म दिवस समारोह मॉन्ट्रियल में

शुक्रवार से कुछ आवश्यक कार्यवश मॉन्ट्रियल जाना हुआ और आज याने सोमवार की शाम लौट कर आये. यही वजह हुई कि सोमवार सुबह की पोस्ट नहीं आ पाई. वो अब परसों ही आयेगी. मॉट्रियल यात्रा के दौरान ब्रोसार्ड सिटीहॉल के सामने स्थापित गाँधी जी की प्रतिमा स्थल पर गाँधी जी का जन्म दिवस का समारोह में शामिल होने का अवसर मिला, जिसमें वहाँ की मेम्बर ऑफ पार्लियामेन्ट से लेकर सिटी कॉन्सलर्स और डिप्टी मेयर एवं भारतीय समुदाय के अनेक लोग उपस्थित थे. उसी अवसर की कुछ तस्वीरें प्रस्तुत कर रहा हूँ.

इस पूरे कार्यक्रम के कर्ताधर्ता श्री उमाशंकर श्रीवास्तव थे, जिन्हें इस प्रतिमा को स्थापित कराने का भी श्रेय जाता है. उन्हीं के प्रयासों के चलते आज क्यूबेक के एसेम्बली हॉल में भी गाँधी जी की प्रतिमा स्थापित है. समारोह के उपरान्त समोसा, गुलाबजामुन, बर्फी आदि के स्वल्पाहार के साथ विदा ली गई.

 

 

 

 

 

Indli - Hindi News, Blogs, Links

66 टिप्‍पणियां:

अजय कुमार ने कहा…

राष्ट्रपिता को शत शत नमन ।

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

देस में भुलाए हुए बापू को बिदेस में याद करते हुए लोग पसंद आए!

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

wah.....aap sabko badhai...

arun c roy ने कहा…

गाँधी जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं !

ajit gupta ने कहा…

अपने गाँधी जी को कनाडा में पाकर अपार प्रसन्‍नता है। आपकी पोस्‍ट की इंतजार रहेगी।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

राष्ट्रपिता को नमन। अच्छा लगता है जब विदेश ही में सही, गाँधी का मान है।

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

बहुत ही बढ़िया फोटो सहित जानकारी दी है.... बहुत अच्छा लगा की विदेशों में आज भी हमारे महात्मा गांधीजी लोकप्रिय है और वहां के लोग जयंती अवसर पर उनका स्मरण करते हैं....आभार ....

खबरों की दुनियाँ , भाग्योत्कर्ष ने कहा…

शुभ कामनाएं ।

Shekhar Suman ने कहा…

महात्मा गाँधी तो शुरू से ही पूरी दुनिया के लिए आदर्श रहे हैं, यह तो बहुत अच्छी बात है की लोग उन्हें आज भी याद करते हैं... तस्वीरें बहुत अच्छी हैं और समोसे और गुलाबजामुन का नाम सुनकर मुंह में पानी आ गया |

Shekhar Suman ने कहा…

मेरे ब्लॉग पर इस बार ....
क्या बांटना चाहेंगे हमसे आपकी रचनायें...
अपनी टिप्पणी ज़रूर दें...
http://i555.blogspot.com/2010/10/blog-post_04.html
और मेरी नयी रचना.
http://i555.blogspot.com/2010/10/blog-post_05.html..

खुशदीप सहगल ने कहा…

गांधी वो विचार है जिसे जितनी बार पढ़ो, हर बार नए मायने समझ आते हैं...

गांधी बुतों से ज़्यादा दिल में बसाने की चीज़ हैं...

जय हिंद...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बढ़िया रही रिपोर्ट ...

पी.सी.गोदियाल ने कहा…

बहुत सुन्दर चित्रण समीर जी ! बापू को श्रधाजली !

Akshita (Pakhi) ने कहा…

बापू जी तो हम बच्चों को बहुत प्यार करते थे...उनकी चर्चा हर जगह.

Akshita (Pakhi) ने कहा…

बापू जी तो हम बच्चों को बहुत प्यार करते थे...उनकी चर्चा हर जगह.

_________________

'पाखी की दुनिया' में अंडमान के टेस्टी-टेस्टी केले .

विवेक सिंह ने कहा…

सचित्र रिपोर्टिंग के लिए आभार ।

DEEPAK BABA ने कहा…

ये आपका व्यक्तित्व है कि परदेश में होते हुवे भी वो सब कर लेते हैं जो यहाँ एक आम हिन्दुस्तानी सोचता भी नहीं है.

'श्री उमाशंकर श्रीवास्तव' वास्तव में बधाई के पात्र हैं. इश्वर उनको अच्छा स्वस्थ, दीर्घ आयु - और लक्ष्मी जी का आशीर्वाद प्रदान करें - ताकि ऐसे कार्यों में रत रहे.

साधुवाद.

और हाँ - आजकल चिट्ठाजगत को क्या हो गया है? शायद आप अगली पोस्ट में कुछ रौशनी डालेंगे.

सम्वेदना के स्वर ने कहा…

बन्दे में था दम,वन्दे मातरम्

रश्मि प्रभा... ने कहा…

aapke saath samaroh ka awlokan achha raha

Anand Rathore ने कहा…

श्री उमाशंकर श्रीवास्तव जी का प्रयास सराहनिए हैं ...

Sadhana Vaid ने कहा…

विदेश में गाँधी जी की प्रतिमा स्थापित देख कर मन हर्ष और गर्व से ऊँचा हो जाता है ! भारत के गौरव की रक्षा अपने अवसान के इतने वर्षों बाद भी गाँधी जी ही कर रहे हैं वरना आज के नेताओं ने तो देश की प्रतिष्ठा धूल में मिलाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है !

shikha varshney ने कहा…

क्या बात है .अच्छा लगा जानकार .शुक्रिया तस्वीरें दिखने का.

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

वाह बहुत सही .अच्छा लगा इसको पढना शुक्रिया

ali ने कहा…

विदेश में बापू के साथ अपनें लोगों को देखना अदभुत लगता है !

वन्दना ने कहा…

जानकर और देखकर बहुत अच्छा लगा……………आभार।

ashish ने कहा…

गर्वानुभूति हुई , आभार आपका .

cmpershad ने कहा…

कनाडा में गांधीजी के लिए अभी जगह है यह जानकर अच्छा लगा। यहां तो अन्य गांधियों के लिए जगह है... हवाई अड्डे से लेकर शराबी अड्डे तक:) पर महात्मा के लिए जगह नहीं बची है :(

विरेन्द्र सिंह चौहान ने कहा…

गांधी जी को नमन...और आपने जो चित्रों सहित शानदार रिपोर्टिंग की है.
उसके लिए आपको आभार .........

Enterprise Mobility Management ने कहा…

Mahatma Gandhi ke jaey..

निर्मला कपिला ने कहा…

बहुत बहुत बधाई। राष्ट्रपिता को शत शत नमन ।

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत ही सुंदर जी ओर सब से ज्यदा खुशी हुयी उस लेख पत्र को देख कर जिस मै सब कुछ हिन्दी मे लिखा है, भारत के नेताओ को यह पोस्ट पढनी चाहिये जो अग्रेजी मे पहले लिखते है, हिन्दी मै लिखने पर वो अनपढ बन जाते है, आज आप की पोस्ट ने मान से सर ऊंचा कर दिया, धन्यवाद

अभिषेक ओझा ने कहा…

जय गाँधी बाबा की !

hempandey अच्छी लगी |ndey ने कहा…

विदेश में गांधी जी को याद करने की सूचना अच्छी लगी |

मुन्नी बदनाम ने कहा…

very good Sameer darling.

ज्योति सिंह ने कहा…

yug ke gautam karuna dhaam
pyaare baapu koti pranaam .
raghupati raghav raja ram.....
hamare bapu poore vishw me priye rahe .sundar post

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

चित्रमय-पोस्ट के लिये आभार.

kshama ने कहा…

Dekhneme Bapu kee hastee chhoti thi,lekin us unchayi kee hastee shayad aajtak dooji bani nahi!Jiske aage himalay kee choti jhuktee ho,uske aage mai to roz natmastak hun!Na bhooto na bhavishyati....ye mahatma apne aapme ekhee tha!
Bahut achha laga aapka ye sachitr aalekh!

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

बापू को नमन.... बहुत अच्छा लगता है जब दुनिया में कहीं भी बापू का मान होता है....
उन्हें और उनके आदर्शों को याद किया जाता है..... आभार इस प्रस्तुति के लिए

वाणी गीत ने कहा…

गाँधी को याद किया जाता है ...अब तो इसी में खुश हो लेना चाहिए ...
पराये देश में बापू का सम्मान अच्छा लगा ..

विष्णु बैरागी ने कहा…

इस समारोह में आपने हे भी शामिल कर दिया। आनन्‍द आ गया। शुक्रिया।

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बाबा जी को नमन.

रामराम.

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार ने कहा…

प्रियवर समीर जी
नमस्कार !
गांधीजी की मूर्ति के पास आपकी नवीनतम छवि देख कर अच्छा लगा ।

- राजेन्द्र स्वर्णकार

sada ने कहा…

बहुत ही सुन्‍दर सचित्र प्रस्‍तुति, राष्ट्रपिता को शत शत नमन के साथ-साथ आपका आभार ।

डॉ. हरदीप संधु ने कहा…

बढ़िया रिपोर्ट .....
राष्ट्रपिता को शत शत नमन ।

mukti ने कहा…

जब भी बापू को विदेश में सम्मान पाते देखती हूँ, तो सर गर्व से तन जाता है और आँखें बापू के प्रति श्रद्धा से झुक जाती हैं.

Mayank Bhardwaj ने कहा…

अच्छा लगा इसको पढना शुक्रिया

सुलभ § Sulabh ने कहा…

Sunadr Prastuti hai ye!!

राजेश उत्‍साही ने कहा…

चलिए आपको गांधी जी कहीं तो मिले।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

समीर भाई जाँच रहे हो बहुत ..... कहीं पर तो बापू को सम्मान मिलता ही है .... गाँधी जयंती की शुभकामनाएँ ...

डॉ टी एस दराल ने कहा…

दिलचस्प चित्रमय जानकारी ।

Ash Srivastava ने कहा…

Great. Thanks for bringing us the pics.

अल्पना ने कहा…

शुभ कामनाएं ।

अल्पना ने कहा…

शुभ कामनाएं ।

makrand ने कहा…

bahut badhiya laga jankar, gandhi ji ko naman.

makrand ने कहा…

bahut badhiya laga jankar, gandhi ji ko naman.

दीपक "तिवारी साहब" ने कहा…

बहुत जोरदार चित्र और शानदार जानकारी मिली. पोस्ट का इंतजार रहेगा.

ढपो्रशंख ने कहा…

गांधी जयंती पर ढपोरशंख का नमन स्वीकारें.

ढपो्रशंख ने कहा…

चित्र बहुत सुंदर लगे.

ढपो्रशंख ने कहा…

अगली पोस्ट का भी इंतजार रहेगा.

दीपक "तिवारी साहब" ने कहा…

बहुत जोरदार चित्र और शानदार जानकारी मिली. पोस्ट का इंतजार रहेगा.

दीपक "तिवारी साहब" ने कहा…

बहुत जोरदार चित्र और शानदार जानकारी मिली. पोस्ट का इंतजार रहेगा.

आशीष खंडेलवाल ने कहा…

गांधी जयंती की बधाई!

हप्पी ब्लागिंग

rashmi ravija ने कहा…

बढ़िया रहा सचित्र विवरण

dhiru singh {धीरू सिंह} ने कहा…

गांधी जयन्ती पर समोसे ,गुलाबजामुन ,बर्फ़ी वही मिलती है यहा तो ...............

Swarajya karun ने कहा…

मांट्रियल में गांधी जयन्ती मनाई गयी ,उसमे आप भी शामिल हुए और सचित्र समाचार ब्लॉग में लगाकर हमें भी यह जानने का मौका दिया कि भारतीय समाज सात समंदर पार आज भी हमारे राष्ट्र-पिता को उनकी पूरी गरिमा के साथ याद करता है .दूर देश में सार्वजनिक स्थल पर सम्मान पूर्वक उनकी प्रतिमा लगाई गयी है. गांधीजी की प्रतिमा स्थापना के लिए श्री उमाशंकर श्रीवास्तव को बधाई और धन्यवाद .दूसरे मुल्क में हमारे राष्ट्र-पिता की जयन्ती में वहां के सांसद,डिप्टी-मेयर भी शामिल हुए ,यह देखकर भे अच्छा लगा .आपने सचित्र जानकारी दी.बहुत -बहुत धन्यवाद . बहरहाल आपकी इस प्रस्तुति ने मुझे यह सोचने के लिए मजबूर कर दिया कि-
'दूर देश में आज भी उनका बड़ा नाम है /
पर अपने ही वतन में लोग उनसे कहते हैं-
मेरे अंगने में तुम्हारा क्या काम है !'

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

वाह कनाडा में गांधीजी का पुतला लगा । हमसे तो अच्छे विदेशी निकले ।