गुरुवार, जून 30, 2011

माई.......

एक चार लाईन की कथा कहीं पढ़ता था, उसी से प्रेरित हो इस गीत का मुखड़ा उभरा और फिर ढल गया एक पूरे गीत में:

sunami

माँ को उसकी निगल गया था, सुनामी का ज्वार उबल कर
खड़ा किनारे वो दरिया के, लहरें छूती उछल उछल कर
कहता वो नादान सा बच्चा, कितना भी तुम पाँव को छू लो
मुआफी तुमको तभी मिलेगी, जब आयेगी माई निकल कर.

माँ मर कर भी जिंदा रहती, हर बच्चे के अहसासों मे
खुशबू बन कर महका करती, आती जाती हर सांसों में.
जीवन के इस कठिन सफर मे, यूँ चलना आसान नहीं है
माँ रहती है साया बन कर, मर कर भी आराम नहीं है...

हर बच्चे का सारा बचपन, उसके संग ही जाये फिसल कर
मुआफी तुमको तभी मिलेगी, जब आयेगी माई निकल कर.

हर मौसम माँ से होता था, माँ गर्मी की रातें थीं
माँ सर्दी की धूप सुनहरी, माँ रिमझिम बरसातें थीं
होली और दीवाली भी तो, माँ के संग आबाद रही
बच्चे की सारी खुशियाँ भी, उसके संग में साथ बही..

कोमल मन है कोमल तन है, क्या बीती है उसके दिल पर
मुआफी तुमको तभी मिलेगी, जब आयेगी माई निकल कर

माँ थी सुबह, माँ ही दुपहरी, माँ ही उसकी शामें थीं
अँधियारी रातों मे रोशन, माँ की ही मुस्कानें थी
सन्नाटा घर में पसरा है, माँ जब से उस पार गई
बाबू जी की हालत भी अब, बेबस और लाचार हुई

बच्चा एक उम्मीद को थामें, नित आता है दूर से चल कर
मुआफी तुमको तभी मिलेगी, जब आयेगी माई निकल कर.


-समीर लाल ’समीर’

इसे सुनना चाहें, तो यहाँ सुनें:



विडिओ यहाँ देखें:

Indli - Hindi News, Blogs, Links

86 टिप्‍पणियां:

Rahul Singh ने कहा…

बच्‍चा आगे चल कर एंग्री यंग मैन बनेगा, लगता है, समन्‍दर की छाती चीरेगा.

अजय कुमार ने कहा…

मां के प्रति असीम प्रेम को दर्शाती ,अच्छी रचना

Vaanbhatt ने कहा…

धरती पर अगर कहीं कोई परी है...तो वो माँ है...जो हमारी सभी इच्छाओं को पूरा करने का सामर्थ्य रखती है...वो किस्सों-कहानियों से हमें हिम्मत दिलाती है...पर कभी ना नहीं करती...इस बच्चे को भी शायद माँ के निकल आने पर विश्वास है...जब ज्यादा ज़रूरत हो...परियां आ ही जातीं हैं...

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार ने कहा…

आदरणीय समीर लाल ’समीर’ जी
सादर सस्नेहाभिवादन !

क्या बात है …आज कितनों की आंखें नम करने का इरादा है सर ?
( मेरी माताजी का अभी स्वास्थ्य उतार-चढ़ाव पर रहता है , इसीलिए तो आप सहित लगभग सबके यहां मेरी ग़ैरहाज़िरी लग रही है… )
मुझे तो भिगो गई आपकी रचना … … …

बहुत श्रेष्ठ रचना है …

माँ मर कर भी जिंदा रहती, हर बच्चे के अहसासों मे
खुशबू बन कर महका करती, आती जाती हर सांसों में.

हृदयस्पर्शी !


हर मौसम माँ से होता था, माँ गर्मी की रातें थीं
माँ सर्दी की धूप सुनहरी, माँ रिमझिम बरसातें थीं

बहुत ख़ूब !


माँ थी सुबह, माँ ही दुपहरी, माँ ही उसकी शामें थीं
अँधियारी रातों मे रोशन, माँ की ही मुस्कानें थी

वाह वाह !

आपने अच्छा रचना पाठ किया है , आवाज़ में एक दर्द का एहसास होता है … इसके लिए अलग से बधाई !

# समय मिले तो नीचे दिये गए लिंक पर मेरी तीन रचनाएं जो मां के बारे में हैं , देख लीजिएगा । कृपया , संभव हो तो प्रतिक्रिया भी दीजिएगा …
मां ! तेरे क़दमों तले जन्नत …

- राजेन्द्र स्वर्णकार

विशाल ने कहा…

समीर जी,बहुत ही हृदय चीरने वाला दृश्य प्रस्तुत किया है आप ने एक त्रासदी का.
माँ को खोने से बड़ा दुखांत दुनिया में शायद ही हो.

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

मार्मिक रचना! त्सुनामी पीडितों के लिये मैने भी यहाँ कुछ काम किया था। एक दिन यूँ ही बातचीत में एक मित्र का सुझाव आया कि जिन पेरेंट्स ने अपने बच्चे खोये हैं, वे इन स्थानीय अनाथों को अपनाकर दोहरी कमी पूरी कर सकते हैं। य्यँ ही याद आ गयी वह बात!

इस्मत ज़ैदी ने कहा…

माँ सर्दी की धूप सुनहरी, माँ रिमझिम बरसातें थीं
होली और दीवाली भी तो, माँ के संग आबाद रही

bahut umda post !!
maan par jitna bhi likha jae kam hi hai ,us ke prashnsatmak bakhan ke liye shabd kam pad sakte hain lekin us ke gun tab bhi baqi rahenge .
achchhee ,bahut achchhi rachna ke liye badhaai.

Khushdeep Sehgal ने कहा…

चिट्ठिए वतना दिए, तैनू चुम अखियां नाल लावां,
किसने तैनू पाया डाके, किस लिखया सरनावां (पता),
मावां ठंडिया छावां, मावां ठंडियां छावां...

जय हिंद...

Udan Tashtari ने कहा…

indu puri goswami to me
show details 1:06 AM (8 minutes ago)
जानते हैं आज मैं बहुत खुश थी कि आज सबसे पहले मैं कमेन्ट करूंगी,किन्तु.....एरर ४०० शो हो रहा है. मेरे दादा की तरह ये नेट भी मुझसे रूठ गया लगता है.क्या करू?ऐसिच हूँ मैं तो अनजाने ही दिल दुख बैठती हूँ सबका.
'माई' जिस एस.एम.एस. से प्रेरित हो कार आपने यह मार्मिक कविता लिखी है.वो मुझे भी किसी ने भेजा था.सुनामी में अपनी माँ को खो चूका बच्चा लहरों के बार बार अपने कदमो पर आ कर गिरने पर भी वो उन्हें माफ करने को तैयार नही.इन लहरों ने उसकी मान को उससे छीन लिया था.जितना दर्द,पीड़ा उस को पढ़ कर महसूस किया था आज वो ही सब कुछ इसे पढ़ कर महसूस कर रही हूँ.मेरी माँ को किसी सुनामी ने मुझसे नही छीना था.उन्हें जाना था,वो अपनी पीडाओं से मुक्त हो गई.किन्तु.....मेरे माथे और गालों को उनका चूमना .....जबकि वो अपने सिर के सिवा कोई अंग नही हिला पाती थी,उनका कहना 'मेरे पास आ. झुक.अपना माता पास ला....अब गाल भी.'.....जैसे सब अभी की बात हो.अपने माथे और गाल पर हाथ फिरा कर उस स्पर्श को महसूस करती हूँ.
भीतर तक भीग गई मैं आज.नही लिखूंगी 'दिल को छू गई' आपकी कविता.
........................ मैं आज फिर खूब रोई दादा!
इसे मेरा कमेन्ट मान कर अपने ब्लॉग पर लगा देना.दादा! माँ को नही भूल पाते ना आप ? और मैं??? क्या कहूँ? समझ सकते हैं आप खुद ......... छुटकी

devendra gautam ने कहा…

मैं समझता था कि भावुकता से उबरकर अब व्यावहारिक जगत का प्राणी बन चुका हूं. दिल के जज्बात पर अक्ल का पहरा बिठा चुका हूं.....लेकिन आपने तो मेरा सारा भरम तोड़ दिया.

Suman ने कहा…

बहुत मार्मिक रचना है
सुनते हुये सचमुच आंखे नम हुई !

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

kya kahun....bas aapki chhutki aur hamari indu di ke shabd ki tarah mere andar bhi kuchh aisa hi ho raha hai...!!

sameer bhaiya aap sach me lajabab kar dete ho!

मीनाक्षी ने कहा…

बस एक 'माँ' ............. और मूक भाव..

निवेदिता ने कहा…

माँ से सम्बन्धित रचना ....बस सिर्फ़ माँ ......

सदा ने कहा…

माँ मर कर भी जिंदा रहती, हर बच्चे के अहसासों मे
खुशबू बन कर महका करती, आती जाती हर सांसों में.

मां के लिये जब कहीं कुछ पढ़ा मन भावुक ही हुआ है ...और आज भी इस रचना को पढ़कर ऐसा ही महसूस किया ...आभार इस रचना प्रस्‍तुति का ।

shikha varshney ने कहा…

माँ थी सुबह, माँ ही दुपहरी, माँ ही उसकी शामें थीं
अँधियारी रातों मे रोशन, माँ की ही मुस्कानें थी
सन्नाटा घर में पसरा है, माँ जब से उस पार गई
बाबू जी की हालत भी अब, बेबस और लाचार हुई

बच्चा एक उम्मीद को थामें, नित आता है दूर से चल कर
मुआफी तुमको तभी मिलेगी, जब आयेगी माई निकल कर

ओह ...बेहद मार्मिक.दिल को भिगो गया यह गीत.

Harshkant tripathi"Pawan" ने कहा…

बच्चा एक उम्मीद को थामें, नित आता है दूर से चल कर
मुआफी तुमको तभी मिलेगी, जब आयेगी माई निकल कर.
पोस्ट में लगी तस्वीर और इसमें वर्णित बातों का अच्छा समन्वय देखने को मिल रहा है,,,,,

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

माँ पर बहुत ही भावमयी कविता पढ़ी, फिर सुनी। शब्द नहीं हैं, व्यक्त करने के लिये।

anitakumar ने कहा…

बहुत ही मार्मिक रचना
कितना भी तुम पाँव को छू लो
मुआफी तुमको तभी मिलेगी, जब आयेगी माई निकल कर.

वाह

डॉ टी एस दराल ने कहा…

बच्चे के लिए मां की बहुत अहमियत है । उसके बिना तो अधूरा ही रहेगा ।

CS Devendra K Sharma "Man without Brain" ने कहा…

हर मौसम माँ से होता था, माँ गर्मी की रातें थीं
माँ सर्दी की धूप सुनहरी, माँ रिमझिम बरसातें थीं
होली और दीवाली भी तो, माँ के संग आबाद रही
बच्चे की सारी खुशियाँ भी, उसके संग में साथ बही..

waah!!

tum hi shakti, sahara tumhi ho
tumhi ho sansar, gur tumhi ho....

vande matram.....

शारदा अरोरा ने कहा…

माँ रहती है साया बन कर, मर कर भी आराम नहीं है... khoobsoorat abhivykti

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

अत्यंत मार्मिक और हॄदय सपर्शी रचना.

रामराम

चंद्रमौलेश्वर प्रसाद ने कहा…

मां पर लिखी हर कविता मन को छू लेती है ... और फिर कहते हैं समीर का है अंदाज़े बयां और :)

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

@
माँ थी सुबह, माँ ही दुपहरी, माँ ही उसकी शामें थीं
अँधियारी रातों मे रोशन, माँ की ही मुस्कानें थी
सन्नाटा घर में पसरा है, माँ जब से उस पार गई
बाबू जी की हालत भी अब, बेबस और लाचार हुई

बच्चा एक उम्मीद को थामें, नित आता है दूर से चल कर
मुआफी तुमको तभी मिलेगी, जब आयेगी माई निकल कर..............

भावपूर्ण लाइनें,आभार.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

आपकी इस उत्कृष्ट प्रवि्ष्टी की चर्चा कल शुक्रवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल उद्देश्य से दी जा रही है!

मनोज कुमार ने कहा…

माँ थी सुबह, माँ ही दुपहरी, माँ ही उसकी शामें थीं
अँधियारी रातों मे रोशन, माँ की ही मुस्कानें थी
सन्नाटा घर में पसरा है, माँ जब से उस पार गई
बाबू जी की हालत भी अब, बेबस और लाचार हुई
अद्भुत। बहुत अच्छी लगी यह रचना।

राज भाटिय़ा ने कहा…

मुआफी तुमको तभी मिलेगी, जब आयेगी माई निकल कर. बहुत भावूक ....

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

बच्चा एक उम्मीद को थामें, नित आता है दूर से चल कर

क्या कहूं..... बहुत संवेदनशील मन को छूते शब्द ....

वाणी गीत ने कहा…

बचपन या बचपन जैसा मन ही करता है माँ को इस तरह याद वर्ना तो माँ आँखों के सामने ही ओझल सी हो जाती है ...बिना सुनामी के भी !

Ashok Vyas ने कहा…

Bahut taazee see par santan samvedna ka sparsh karvaatee saarthak rachna.
Padhne ke saath saath sunne ka bhee anand aaya, dhanywaad

नीलांश ने कहा…

माँ मर कर भी जिंदा रहती, हर बच्चे के अहसासों मे
खुशबू बन कर महका करती, आती जाती हर सांसों में.
जीवन के इस कठिन सफर मे, यूँ चलना आसान नहीं है
माँ रहती है साया बन कर, मर कर भी आराम नहीं है...

हर बच्चे का सारा बचपन, उसके संग ही जाये फिसल कर
मुआफी तुमको तभी मिलेगी, जब आयेगी माई निकल कर.

bahut acchi rachna

vandana ने कहा…

माँ थी सुबह, माँ ही दुपहरी, माँ ही उसकी शामें थीं
अँधियारी रातों मे रोशन, माँ की ही मुस्कानें थी
सन्नाटा घर में पसरा है, माँ जब से उस पार गई
बाबू जी की हालत भी अब, बेबस और लाचार हुई

माँ को खो देना दुनिया का सबसे बड़ा दुःख है आपने उसे अच्छी तरह व्यक्त किया है

mehhekk ने कहा…

बच्चा एक उम्मीद को थामें, नित आता है दूर से चल कर
मुआफी तुमको तभी मिलेगी, जब आयेगी माई निकल कर.

vishal samandar ka dil bhi kahi kabhi kitna chota ho jata hai,jo nanhe bacche ki maa nigal gaya,bahut hi bhavuk rachana,dil ko chu gayi.

shekhar suman ने कहा…

कविता पढ़कर कुछ सीरियस हुआ, इंदु जी का कमेन्ट पढ़कर भावुकता चरम पर पहुँच गयी...
क्या लिखूं... कुछ लिख पाने की हालत में नहीं हूँ....

Dr.Bhawna ने कहा…

Dil bhar aaya aapki rachna padhkar uspar aapki dukhi si dardbhari si aavaj....

शिक्षामित्र ने कहा…

मां की कमी यों तो हमेशा खलती है,बचपन को वह दुख ज़्यादा सालता है।

Radhe Radhe Satak Bihari ने कहा…

एक चोरी के मामले की सूचना :- दीप्ति नवाल जैसी उम्दा अदाकारा और रचनाकार की अनेको कविताएं कुछ बेहया और बेशर्म लोगों ने खुले आम चोरी की हैं। इनमे एक महाकवि चोर शिरोमणी हैं शेखर सुमन । दीप्ति नवाल की यह कविता यहां उनके ब्लाग पर देखिये और इसी कविता को महाकवि चोर शिरोमणी शेखर सुमन ने अपनी बताते हुये वटवृक्ष ब्लाग पर हुबहू छपवाया है और बेशर्मी की हद देखिये कि वहीं पर चोर शिरोमणी शेखर सुमन ने टिप्पणी करके पाठकों और वटवृक्ष ब्लाग मालिकों का आभार माना है. इसी कविता के साथ कवि के रूप में उनका परिचय भी छपा है. इस तरह दूसरों की रचनाओं को उठाकर अपने नाम से छपवाना क्या मानसिक दिवालिये पन और दूसरों को बेवकूफ़ समझने के अलावा क्या है? सजग पाठक जानता है कि किसकी क्या औकात है और रचना कहां से मारी गई है? क्या इस महा चोर कवि की लानत मलामत ब्लाग जगत करेगा? या यूं ही वाहवाही करके और चोरीयां करवाने के लिये उत्साहित करेगा?

वन्दना ने कहा…

बहुत सुन्दर भावाव्यक्ति। इसी वेदना और चित्र पर मैने कुछ और लिखा था।

Chandra Bhushan Mishra 'Ghafil' ने कहा…

बच्चा एक उम्मीद को थामें, नित आता है दूर से चल कर
मुआफी तुमको तभी मिलेगी, जब आयेगी माई निकल कर.

बहुत ही मार्मिक प्रस्तुति...रुलाई आ जाय

rashmi ravija ने कहा…

हर मौसम माँ से होता था, माँ गर्मी की रातें थीं
माँ सर्दी की धूप सुनहरी, माँ रिमझिम बरसातें थीं

बड़ी ख़ूबसूरत बात कही है...पूरी रचना ही लाजबाब है.

pran sharma ने कहा…

ATYANT MAARMIK KAVITA .

PRAN SHARMA ने कहा…

ATYANT MAARMIK KAVITA HAI .

Archana ने कहा…

प्राकॄतिक आपदाओं से आहत होने पर ईश्वर को भी माफ़ करने का दिल नहीं करता.....दिल के बहुत करीब ये पंक्तियां.....क्या मुझे भी पॉडकास्ट की अनुमति मिलेगी..इसे "मिसफ़िट" या "मेरे मन की"पर लगाना चाहूंगी.....

Babli ने कहा…

हर मौसम माँ से होता था, माँ गर्मी की रातें थीं
माँ सर्दी की धूप सुनहरी, माँ रिमझिम बरसातें थीं
होली और दीवाली भी तो, माँ के संग आबाद रही
बच्चे की सारी खुशियाँ भी, उसके संग में साथ बही॥
भावपूर्ण पंक्तियाँ! दिल को छू गयी! मार्मिक रचना!

संत शर्मा ने कहा…

बच्चा एक उम्मीद को थामें, नित आता है दूर से चल कर
मुआफी तुमको तभी मिलेगी, जब आयेगी माई निकल कर.

Marmik prastuti.

रेखा ने कहा…

माँ को समर्पित यह भावुक रचना बहुत ही खास है.

Vaanbhatt ने कहा…

सुनने में कविता और अच्छी लगी...अच्छी भावपूर्ण तरीके से पढ़ी गई है...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

हर मौसम माँ से होता था, माँ गर्मी की रातें थीं
माँ सर्दी की धूप सुनहरी, माँ रिमझिम बरसातें थीं
होली और दीवाली भी तो, माँ के संग आबाद रही
बच्चे की सारी खुशियाँ भी, उसके संग में साथ बही..

बहुत मार्मिक अभिव्यक्ति ...

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

maa ke liye jitna kaha jaye kam hai. sunder rachna.

Navin C. Chaturvedi ने कहा…

भाव प्रवण और दिल को झकझोरती सुंदर मुक्तकीय प्रस्तुति के लिए बधाई स्वीकार करें समीर भाई|

Sachin Malhotra ने कहा…

bahut hi pyara likha hai...
Blind Devotion

mridula pradhan ने कहा…

bhawuk karti hui....atyant marmik rachna.

Ankur jain ने कहा…

हर मौसम माँ से होता था, माँ गर्मी की रातें थीं
माँ सर्दी की धूप सुनहरी, माँ रिमझिम बरसातें थीं
होली और दीवाली भी तो, माँ के संग आबाद रही
बच्चे की सारी खुशियाँ भी, उसके संग में साथ बही..

जगत की समस्त माताओं के चरणों में वंदन...सुन्दर दिल को छूने वाली प्रस्तुति....

Vivek Jain ने कहा…

आंखें नम करने वाली रचना,
विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

Surendra shukla" Bhramar"5 ने कहा…

समीर जी मन में समां गयी ये रचना बच्चे का भोला मन माँ बिन सब अधूरा सूना -बेहद सुन्दर कृति

माँ थी सुबह, माँ ही दुपहरी, माँ ही उसकी शामें थीं
अँधियारी रातों मे रोशन, माँ की ही मुस्कानें थी
सन्नाटा घर में पसरा है, माँ जब से उस पार गई
बाबू जी की हालत भी अब, बेबस और लाचार हुई

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

इस रचना के लिए क्या कहूँ ,सोचने में ही जी भर आता है -उस पर आवाज़ की मन को हिलाती गूँज!
निःशब्द हूँ !

Kailash C Sharma ने कहा…

माँ थी सुबह, माँ ही दुपहरी, माँ ही उसकी शामें थीं
अँधियारी रातों मे रोशन, माँ की ही मुस्कानें थी ...
माँ के प्रेम का कोई ज़वाब नहीं होता..बहुत भावुक कर गयी आपकी प्रस्तुति..भावों की प्रस्तुति बहुत उत्कृष्ट..आभार

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

आपका स्वागत है "नयी पुरानी हलचल" पर...यहाँ आपके पोस्ट की है हलचल...जानिये आपका कौन सा पुराना या नया पोस्ट कल होगा यहाँ...........
नयी पुरानी हलचल

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

माँ मर कर भी जिंदा रहती, हर बच्चे के अहसासों मे
खुशबू बन कर महका करती, आती जाती हर सांसों में.
सच कहा । माफी तुमको तभी मिलेगी जब आयेगी माई निकल कर ।

संतोष त्रिवेदी ने कहा…

समन्दर भी रोया होगा,बच्चे की "माँ-माँ" सुनकर !

दिगम्बर नासवा ने कहा…

माँ मर कर भी जिंदा रहती, हर बच्चे के अहसासों मे
खुशबू बन कर महका करती, आती जाती हर सांसों में....
समीर भाई ... सुन नहीं पा रहा ... पर कितनी करुण .. कितनी भावोक कर देने वाली रचना है ...

दिगम्बर नासवा ने कहा…

अरे आवाज़ भी मिल गयी ... बहुत अच्छा लग रहा है समीर भाई ...

Mired Mirage ने कहा…

वाह, क्या कल्पना है समीर जी! बहुत ही सुंदर!
घुघूती बासूती

seema gupta ने कहा…

हर मौसम माँ से होता था, माँ गर्मी की रातें थीं
माँ सर्दी की धूप सुनहरी, माँ रिमझिम बरसातें थीं
होली और दीवाली भी तो, माँ के संग आबाद रही
बच्चे की सारी खुशियाँ भी, उसके संग में साथ बही..
"kitna dard bhara hai.....dil me jaise uthal puthal ho gyi.."
regards

निर्मला कपिला ने कहा…

एक बच्चे की वेदना देख कर आँखें नम हो गयी। दिल को छूने वाली रचना। शुभकामनायें।

Amrita Tanmay ने कहा…

अवाक हूँ...बस दर्द है...

डॉ. हरदीप संधु ने कहा…

समीर जी,
अच्छी रचना..
माँ सर्दी की धूप सुनहरी, माँ रिमझिम बरसातें थीं ...माँ पर बहुत ही भावमयी कविता....
आभार !

Vishal ने कहा…

Is geet ke liye badhayi ... Bohot achha laga!!
Vishal

राजेंद्र अवस्थी (कांड) ने कहा…

उसको नहीं देखा हमने कभी,पर इसकी ज़रूरत क्या होगी,ऐ माँ ऐ माँ तेरी सूरत से अलग भगवान की सूरत क्या होगी.."माई" रचना पढ़ कर नेत्र नीरित हो गए, माँ की याद आई,अपने बचपन से मैंने माँ को नही देखा, ह्रदय द्रवित हो गया, बहुत बढ़िया कहूँगा क्योंकि माँ की महिमा से बढ़ कर और कुछ भी नहीं,अति उत्तम रचना..

दीपक जैन ने कहा…

आपका जवाब नहीं

कविता रावत ने कहा…

मां के प्रति असीम प्रेम दर्शाती बहुत मार्मिक प्रस्तुति!

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

शब्द-शब्द संवेदना से भरी एवं अत्यंत मार्मिक रचना....

KK Yadav ने कहा…

माँ को उसकी निगल गया था, सुनामी का ज्वार उबल कर
खड़ा किनारे वो दरिया के, लहरें छूती उछल उछल कर
...वाकई यह सच है. अंडमान -निकोबार में ऐसे कुछेक हादसे सुनामी के दौरान हुए थे...मर्मस्पर्शी कविता..बधाई.

Udan Tashtari ने कहा…

Pooja Goswami to me

जीवन के इस कठिन सफर मे, यूँ चलना आसान नहीं है
माँ रहती है साया बन कर, मर कर भी आराम नहीं है...

बेहद अच्छी प्रस्तुति...

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) ने कहा…

माँ मर कर भी जिंदा रहती, हर बच्चे के अहसासों मे
खुशबू बन कर महका करती, आती जाती हर सांसों में.
जीवन के इस कठिन सफर मे, यूँ चलना आसान नहीं है
माँ रहती है साया बन कर, मर कर भी आराम नहीं है.......
सुंदर सम्वेदनाओं का चित्र

neelima sukhija arora ने कहा…

इतने दिन हो गए समीर जी और कोई पोस्ट नहीं, ये तो बहुत बुरी बात है। मैं टिप्पणियां करने में आलसी हूं लेकिन ब्लाग पढ़ने में नहीं

परमजीत सिँह बाली ने कहा…

बहुत मार्मिक रचना है....हृदयस्पर्शी !

बवाल ने कहा…

माँ थी सुबह, माँ ही दुपहरी, माँ ही उसकी शामें थीं
अँधियारी रातों मे रोशन, माँ की ही मुस्कानें थी
सन्नाटा घर में पसरा है, माँ जब से उस पार गई
बाबू जी की हालत भी अब, बेबस और लाचार हुई
कुछ कहते ही नहीं बन रहा है महाराज। मालिक किसी को किसी के परिवार से न बिछुड़ाए। आह!

Manish ने कहा…

ऐसे भाव वो भी इस सूनी सी रात में.. :(

Rachana ने कहा…

kitna sunder geet hai man bhar aaya aankhen chhalki aur dil ne kaha bahut achchha likha hai
saader
rachana

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ (Zakir Ali 'Rajnish') ने कहा…

मां के प्रेम से सराबोर सार्थक रचना।

------
TOP HINDI BLOGS !

Anjana (Gudia) ने कहा…

हर बच्चे का सारा बचपन, उसके संग ही जाये फिसल कर
मुआफी तुमको तभी मिलेगी, जब आयेगी माई निकल कर.

dil tham sa gaya padte padte... un bachchon ke chehre yaad aaye jinke saath 2004 tsunami ke baad kaam kiya tha... maa se alag hone ka dukh zindagi mein hawa ki tarah ghul jata hai... kabhi alag hi nahi hota...

Kulwant Happy ने कहा…

हर पंक्‍ित दिल को छूती है, जज्‍बातों से लबालब है आपकी रचना।

P.N. Subramanian ने कहा…

एक भावनात्मक उत्तम रचना. आभार.

अनुपमा पाठक ने कहा…

मर्मस्पर्शी!