गुरुवार, जनवरी 27, 2011

ये चाँद कैसे कैसे!!!

दीनानाथ, हमारा ड्राईवर.

उसका बेटा चोरी के इल्जाम में,जेल में एक साल की सजा काट रहा है।  . दीनानाथ का मानना है कि झूठा फँसाया है पुलिस ने उसे.

पिछले ह्फ्ते दीनानाथ ने बताया कि उसकी बहु रात गये चुपचाप भाग गई. कुलच्छनी थी. दीनानाथ का कहना है कि उसे शुरु से ही उसके चाल चलन ठीक नहीं दिखते थे.

परसों वो लौट आई. पता लगा कि उसके पिता जी की तबीयत एकाएक खराब हो गई. दीनानाथ जाने न देता सो वो चुपचाप बिना बताये ही चली गई.

आज दीनानाथ की लड़की भाग गई. कहता है कि गऊ है. गली के नुक्कड़ वाला धोबी का लड़का फुसला कर भगा ले गया. दुष्ट नहीं तो!!!

 

रात वही,

बात वही

चाँद ये 

अलग सा ऊग आया

और

देखो,

बात ……..

कितनी बदल जाती है.....

 

-समीर लाल ’समीर’

Indli - Hindi News, Blogs, Links

78 टिप्‍पणियां:

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

रात वही, चाँद वही, बात लेकिन बदल जाती है
जैसा पहना हो चश्मा वैसी सूरत नज़र आती है।

अरूण साथी ने कहा…

बस बौस

सही कहा, बात बदल जाती है. दूसरे की बेटी कुलछ्नी अपनी गौउ

मनोज कुमार ने कहा…

इंसानी चरित्र के दोमुंहेपन को खूब उजागर किया है आपने लघु कथा के माध्यम से।
लघु कविता भी अपनी अभिव्यंजना से आकर्षित करती है।

Coral ने कहा…

बात तो बहुत सच है हर बात के बहुत से पहलू होते है बस नजरिया कैसा है / या उस वक्त के हालत क्या है इस पर सब तय रहता है ....

रात वही,
बात वही
चाँद ये
अलग सा ऊग आया
और
देखो,
बात …….. कितनी बदल जाती है.....

daanish ने कहा…

कोई भी बात
कब कैसे कौन सी करवट ले सकती है
इस का बखूबी बयान किया आपने ...
कहानी की संक्षिप्तता ही कहानी की शान है
और
काव्य धारा भी
अपनी बात कह रही है ...
अभिवादन स्वीकारें .

खुशदीप सहगल ने कहा…

दीनानाथ सावन का अंधा है, इसलिए हरा-हरा ही देखता है...

मुझे तो झील में चांद नज़र आए, उनकी वो हसरत ही याद रहती है...

जय हिंद...

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

बेचारा दीन- अनाथ! वह खतरे में है, उसका अस्तित्व, धर्मं, उसकी अस्मिता खतरे में है| सारी दुनिया लट्ठ लेकर बस उसी के पीछे पडी है|

संजय भास्कर ने कहा…

आदरणीय समीर लाल जी
नमस्कार !
....ये चाँद कैसे कैसे
बहुत प्रेरणा देती हुई सुन्दर रचना ...
गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाइयाँ !!

Happy Republic Day.........Jai HIND

संजय भास्कर ने कहा…

आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ, क्षमा चाहूँगा,

ललित शर्मा ने कहा…


मिला जब भी मौका,साथ छोड़ गए अपने।
पल में चकनाचूर हुए,कच्चे शीशे के सपने।

बयार ही कुछ ऐसी चल रही है। दीनानाथ तो क्या? जगन्नाथ भी कुछ नहीं कर सकते।

घर घर में माटी का चूल्हा

seema gupta ने कहा…

देखो,
बात …….. कितनी बदल जाती है...

" कितने सरल शब्दों में कितनी गहरी बात..."

regards

सतीश सक्सेना ने कहा…

बेचारे दीनानाथ ...

Rajesh Kumar 'Nachiketa' ने कहा…

सही बात है.....अपनी बात किसी को बुरी नहीं लगती...
चन्दा मामा भी खूब हैं..

ali ने कहा…

आंख मूंद कर पत्थर फेंकिये ! जहां भी गिरेगा दीनानाथ ज़रूर मिलेंगे !

chirag ने कहा…

bahut khoob kaha sir aapane
aapake isi vichar par maine
ek natak likha hain jald hi post karunga use

chirag ने कहा…

sir maine apane poem vale blog ko delete kar dia hain ab se main apani poem sirf ek blog apr likhunga
kabhi visit kariyega and accha lage to follow kariyega
http://iamhereonlyforu.blogspot.com/

deepak saini ने कहा…

कितने सरल शब्दो मे आपने इतनी गहरी बात कह दी,
बधाई
ऐसा ही होता है औरो की बेटी कुलच्छनी, अपनी बेटी गऊ

kshama ने कहा…

Zahiran sundar aalekh!
Gantantr Diwas kee dheron badhayee!

निर्मला कपिला ने कहा…

अदमी के दोचहरे । और जब बात अपनी बेती पर आयी तो गऊ और अगर बहु पर तो कुलच्छनी। अच्छी लगी लघु कथा। शुभकामनायें।

Learn By Watch ने कहा…

कहानी चार वाक्य की, पर अर्थ कितना गहरा है ...

इस्मत ज़ैदी ने कहा…

कथा और कविता अपनी जगह मुकम्मल होते हुए भी एक दूसरे की पूरक सी महसूस होती हैं ,
बहुत कम शब्दों में कही गई बहुत बड़ी बात ,
गागर में सागर भरने वाला मुहावरा चरितार्थ होता है यहां .

नीरज गोस्वामी ने कहा…

हम सब में एक दीनानाथ छुपा हुआ है...हमारे विचार व्यक्ति को देख कर बदलते हैं...इस बात को बहुत अच्छे से बताया है आपने...

नीरज ..

P.N. Subramanian ने कहा…

सही कह रहे हैं. बातों ही बातों में बात कितनी बदल जाती है.

sada ने कहा…

बहुत खूब कहा है आपने ...बेहतरीन ।

manukavya ने कहा…

चाँद तो एक ही है बस नज़र का फेर है.. अलग अलग रंग के चश्मे से दुनिया और हालात अलग ही दिखते हैं... छोटी सी लघुकथा लेकिन असर गहरा छोड़ती है..

satyendra... ने कहा…

good sight

shikha varshney ने कहा…

सच है बात कितनी बदल जाती है.
चेहरा वही है नजरें बदल जाती हैं..
चाँद और कविता दोनों सुन्दर...

: केवल राम : ने कहा…

सच में कैसे -कैसे हैं यह चाँद .....

अजय कुमार ने कहा…

asardaar laghu kathaa ,aabhaar

Akanksha~आकांक्षा ने कहा…

..अजब-गजब कहानी...

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

:))))..........sach me aisa hi hota hai...jo jitna kareeb, waisee soch khud nikalti hai...


ek nivedan sameer bhaiya : mera blog jindagikeerahen.blgospot.com pata nahi kahan gumm hoga, agar aap iske revive ke liye koi suggestion de sakte hain, to bahut kripa hogi..!!

Parul ने कहा…

khoob kahi sir :)
aisa hi hota hai !

Anjana (Gudia) ने कहा…

रात वही,

बात वही

चाँद ये

अलग सा ऊग आया

और

देखो,

बात ……..

कितनी बदल जाती है.....

:-) waah! zindagi ki sachchai to badi khoobsurati aur saadgi se bayaan kar diya!

दीप्ति शर्मा ने कहा…

ye kese kese chand
bahut khub
..

mukti ने कहा…

अलग-अलग घटनाओं को देखने के अलग-अलग नज़रिए. क्या खूब ढंग से कही आपने ये बात!

amrendra "amar" ने कहा…

is samaj ka yahi dastur hai apna bhala to jag bhala, koi dubta hai to doob jane do ......

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

क्या कहें दुनिया रंग बिरंगी .तरह तरह के चाँद .. संक्षिप्त पोस्ट मानो बहुत कुछ कह रही है ... आभार

दीपक 'मशाल' ने कहा…

Superb!!!!!!!1

cmpershad ने कहा…

‘दीनानाथ, हमारा ड्राईवर’

बेचारा अनाथ :(

रंजना ने कहा…

सही कहा...बात नजर और नजरिये की ही तो है...

डॉ टी एस दराल ने कहा…

कलयुग में ऐसे दीनानाथों की भरमार है ।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत संक्षेप में बता दिया कि कैसे मन में उपस्थित पूर्वविचार किस प्रकार शब्द ले लेते हैं।

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

अपनी बेटी और दूसरे की बेटी वाली मानसिकता का ये अन्तर चन्द्रमा के बेहतर प्रतीक माध्यमों से प्रतिबिंबित हुआ है । Great.

विजय तिवारी " किसलय " ने कहा…

सच दूसरों में दुर्गुण न होते हुए भी दिखाई पड़ते हैं लेकिन हमें अपने दिखाई नहीं देते,
यहाँ तक कि बताने के बाद भी लोग यकीन नहीं करते !!
काश ये बात सभी समझ लेते ....
- विजय तिवारी ' किसलय '

विजय तिवारी " किसलय " ने कहा…

सच दूसरों में दुर्गुण न होते हुए भी दिखाई पड़ते हैं लेकिन हमें अपने दिखाई नहीं देते,
यहाँ तक कि बताने के बाद भी लोग यकीन नहीं करते !!
काश ये बात सभी समझ लेते ....
- विजय तिवारी ' किसलय '

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

यही तो है स्थानीय मान..

क्षितिजा .... ने कहा…

वाह वाह !! क्या बात है ... सच कहा आपने ... बस नज़र का फर्क है ... :)

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

परिस्थितियां एक ही बात के भावों को बदल देती हैं ...सुन्दर अभिव्यक्ति

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…

रात वही, चाँद वही, बात लेकिन बदल जाती है
जैसा पहना हो चश्मा वैसी सूरत नज़र आती है।
--
अलंकारों से सुसज्जित सुन्दर रचना!

सुमन'मीत' ने कहा…

सच कहा समय के साथ हर चीज़ बदल जाती है ....

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

बेहतरीन रचना.

mridula pradhan ने कहा…

aapne ek aur dinanath se parichy kara diya.

PRAN SHARMA ने कहा…

laghu katha aur kavita dono hee
marmspashee hain . Seedhe - saade
shabdon badee baat kahne mein aap
maahir hain .

PRAN SHARMA ने कहा…

laghu katha aur kavita dono hee
marmspashee hain . Seedhe - saade
shabdon badee baat kahne mein aap
maahir hain .

राज भाटिय़ा ने कहा…

यह दीना नाथ बहुत झूठ बोलता हे जी, आप इस की बाते मत मानाना, बहुत सुंदर बात कह दी आप ने, धन्यवाद

सूर्यकान्त गुप्ता ने कहा…

"जाकी रही भावना जैसी…प्रभू मूरत देखी तिन्ह तैसी॥सुन्दर अभिव्यक्ति

"पलाश" ने कहा…

very true you said ..
apanaa wahi kaam kare to doosare k galti hum dekhe hai.

अमृत उपाध्याय ने कहा…

कोई रात बस यूं ही निकल जाती है, झट से,
और कोई पल भी नहीं कटता,
जैसे कई काली रातों की गहराई हो...

Abhishek Ojha ने कहा…

बेचारे दीनानाथ :)

सुज्ञ ने कहा…

सही है, दीनानाथ के लिये दृष्टि बदली तो सृष्टि बदली। और चांद भी!!

sanjay jha ने कहा…

sarthak.....

pranam.

neelima sukhija arora ने कहा…

थोड़े से शब्दों में बहुत बड़ी बात, आपकी नजर बड़ी गहराई से चीजों को पकड़ती है

वीना ने कहा…

सच ही है अपनी बेटी कोई गलत काम करे तो उसे फुसला लिया गया और वही काम करे तो कुलच्छनी...इसी को दोहरा चरित्र कहते हैं....
चांद तो सुंदर है ही कविता भी...

डॉ. नागेश पांडेय "संजय" ने कहा…

लघु कलेवर । गहरे तेवर । मान्यवर वाह ! www.abhinavsrijan.blogspot.com

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

आप भी न गज़ब करते हैं समीर जी ....

इस लघु कथा नें कितनी बड़ी बात कह दी ....
की बहु कभी बेटी का स्थान नहीं ले सकती ...
अपनी बेटी कुलक्षणी है तो भी भली और
बहु भली है तो भी कुलक्षणी ....
ये खाई हमेशा रहेगी ही .....
चाँद तो एक ही है ...
पर अलग अलग दृष्टिकोण से
अलग अलग देखा जाता है ....

Satish Chandra Satyarthi ने कहा…

गज़ब.... कविता दीनानाथ सहित अन्य कई घटनाओं और चरित्रों पर सही बैठती है.....

हरीश जोशी ने कहा…

नमस्कार........ आपकी कविता मन को छु गयी......
मैं ब्लॉग जगत में नया हूँ, कृपया मेरा मार्गदर्शन करें......

http://harish-joshi.blogspot.com/

आभार.

Laxmi N. Gupta ने कहा…

बिलकुल ठीक कहा है। एक घटना याद आ रही है: मेरे एक भारतीय मित्र ने दूर से देखा दो काले व्यक्तियों को तो सोचा कि इस मुहल्ले में कुछ काले लोग रहने आ गए हैं। पास आने पर पता लगा कि उसी के दोनों बेटे हैं!

Pratik Maheshwari ने कहा…

अपना पराया का फरक तो इंसान कर ही जाता है कहीं ना कहीं..
बहुत खूब बयां किया है आपने..

संजय @ मो सम कौन ? ने कहा…

माथा देखकर तिलक लगाना इसी को कहते हैं।

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

सच में बात बहुत बदल जाती है..... देखने का नज़रिया और कहने का ढंग इस बदलाव को बता देता है.... संक्षिप्त ..सटीक बात

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

सच में बात बहुत बदल जाती है..... देखने का नज़रिया और कहने का ढंग इस बदलाव को बता देता है.... संक्षिप्त ..सटीक बात

सिद्धार्थ जोशी Sidharth Joshi ने कहा…

छोटी और सटीक बात...

विष्णु बैरागी ने कहा…

बात नहीं बदलती। लोग अपनी बात बदल देते हैं। वैसे, बदलाव ही जीवन है।

ppaliwal ने कहा…

आदरणीय समीर लाल जी

हम आप के पंखे (FAN) है
बहुत दिन हो गए आप से कोई व्यंग रचना नहीं सुनी .

Shikha Deepak ने कहा…

यही फितरत है आज ज़माने की..........सरल शब्दों में लिखी हुई गहरी बात।

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

मोह-बुद्धि !दुनिया इसी का नाम है .

pv.kanpur ने कहा…

chaand par gulzar ka nazariya :
kisi bhikhari ka toota hua katora hai,
gale main dale jise asman pe raat chale...